Posted in राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki

“देश की चिंता”


“देश की चिंता”

अगर इन सभी लोगो के लिए देश सबसे पहले होता या इनके खून में रत्ति भर भी देश का नमक होता तो –
● मायावती – दलितों की नहीं देश की चिंता करती।
● लालू – चारा खाता नहीं, पशुओ को खिलाता।
● केजरीवाल – जनता को आम नहीं, ख़ास बनाने की कोशिश करता।
● सोनिया – विदेश में इलाज नहीं करवाती, देश में अच्छे सरकारी अस्पताल बनवाती।
● राहुल – दो रोटी खाने की बात नहीं, दो टाइम के खाने की बात करता।
● प्रशांत भूषण – कश्मीर देने के लिए नहीं, पाकिस्तान लेने के लिए जनमत संग्रह करवाना चाहता।
● रोबट वाड्रा – जमीने छीनता नहीं, गरीबो को रहने के लिए जमीने दान देता।
● नितीश कुमार – देशभक्त मोदी का विरोध नहीं, समर्थन करता।
● अखिलेश यादव – अपने बाप की सोच को नहीं, विकास की नई सोच को सामने लाता।
● मुलायम सिह यादव – कारसेवको पर नहीं, कार चोरो पर गोलिया चलवाता।
● आज़म खान – पॉवर का गलत नहीं, सही इस्तमाल करता।
● ओवैसी – हिन्दुओ को नहीं, देशद्रोहियो को काटने की बात करता।
● दिग्विजय सिह – आरएसएस का नहीं, सिमी का विरोध करता।

Posted in भारत गौरव - Mera Bharat Mahan

भारत को विश्व गुरु बनाने के पन्द्रह महामंत्र


भारत को विश्व गुरु बनाने के पन्द्रह महामंत्र
1 . भारतीय शिक्षा पद्धति (गुरूकुली शिक्षा और भारतीय भाषाओं में शिक्षा) को अपनाना।
2 . अंग्रेजियत का बहिष्कार, तथा भारतीय संस्कृति को अपनाना और प्रचार प्रसार करना ।
3 . स्वदेशी बस्तु का इस्तेमाल करना ।
4 . स्वदेशी शासन पध्दति लाना ।
5 . स्वदेशी चिकित्सा पद्धति को प्रचलित करना ।
6 . स्वदेशी तकनीक का विकास करना।
7 . जैविक खेती को बढावा देना।
8 . शाकाहारी भोजन का प्रचार और प्रसार, तथा मांसाहार का बहिष्कार करना।
9 . नशा और शराब पर पाबंदी लगाना ।
10. चलचित्र, अखबार, पोस्टर और ऐसे ही सार्वजनिक स्थानों में नग्नता प्रदर्शन पर रोक लगाना ।
11. कर (टैक्स) को कम करना और खेती को करमुक्त करना ।
12. अपराधियों को और भ्रष्टाचारियों को जल्द से जल्द और कडी सजा देना और उनके संपत्ति को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करना ।
13. हिंदू धर्म का प्रचार – प्रसार, तथा हिंदू राष्ट्र निर्माण और धर्म परिवर्तन पर रोक लगाना ।
14. नेता और मन्त्री के धन के उपर कडी नजर और उनको साधारण नागरिक जैसा लाभ देना ।
15. विकास की योजना सबसे कम विकसित गांव में शुरू करना तथा सबसे गरीब लोगों को पहले सुविधा देना ।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

आपको बता दें कि भानगड़ किले के बारें में प्रसिद्व एक कहानी


आपको बता दें कि भानगड़ किले के बारें में प्रसिद्व एक कहानी के अनुसार भागगड़ की राजकुमारी रत्नावती जो कि नाम के ही अनुरूप बेहद खुबसुरत थी। उस समय उनके रूप की चर्चा पूरे राज्य में थी और साथ देश कोने कोने के राजकुमार उनसे विवाह करने के इच्छुक थे।
उस समय उनकी उम्र महज 18 वर्ष ही थी और उनका यौवन उनके रूप में और निखार ला चुका था। उस समय कई राज्यो से उनके लिए विवाह के प्रस्ताव आ रहे थे। उसी दौरान वो एक बार किले से अपनी सखियों के साथ बाजार में निकती थीं। राजकुमारी रत्नावती एक इत्र कीदुकान पर पहुंची और वो इत्रों को हाथों में लेकर उसकी खुशबू ले रही थी। उसी समय उस दुकान से कुछ ही दूरी एक सिंघीया नाम व्यक्ति खड़ा होकर उन्हे बहुत ही गौर से देख रहा था।
सिंघीया उसी राज्य में रहता था और वो काले जादू का महारथी था। ऐसा बताया जाता है कि वो राजकुमारी के रूप का दिवाना था और उनसे प्रगाण प्रेम करता था। वो किसी भी तरह राजकुमारी को हासिल करना चाहता था। इसलिए उसने उस दुकान के पास आकर एक इत्र के बोतल जिसे रानी पसंद कर रही थी उसने उस बोतल पर काला जादू कर दिया जो राजकुमारी के वशीकरण के लिए किया था।
क्या हुआ राजकुमारी रत्नावती के साथ
राजकुमारी रत्नावती ने उस इत्र के बोतल को उठाया, लेकिन उसे वही पास के एक पत्थर पर पटक दिया। पत्थर पर पटकते ही वो बोतल टूट गया और सारा इत्र उस पत्थर पर बिखर गया। इसके बाद से ही वो पत्थर फिसलते हुए उस तांत्रिक सिंघीया के पीछे चल पड़ा और तांत्रिक को कुलद दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। मरने से पहले तांत्रिक ने शाप दिया कि इस किले में रहने वालें सभी लोग जल्द ही मर जायेंगे और वो दोबारा जन्म नहीं ले सकेंगे और ताउम्र उनकी आत्माएं इस किले में भटकती रहेंगी।
उस तांत्रिक के मौत के कुछ दिनों के बाद ही भानगडं और अजबगढ़ के बीच युद्व हुआ जिसमें किले में रहने वाले सारे लोग मारे गये। यहां तक की राजकुमारी रत्नावती भी उस शाप से नहीं बच सकी और उनकी भी मौत हो गयी। एक ही किले में एक साथ इतने बड़े कत्लेआम के बाद वहां मौत की चींखें गूंज गयी और आज भी उस किले में उनकी रूहें घुमती हैं।
किलें में सूर्यास्त के बाद प्रवेश निषेध
फिलहाल इस किले की देख रेख भारत सरकार द्वारा की जाती है। किले के चारों तरफ आर्कियोंलाजिकल सर्वे आफ इंडिया (एएसआई) की टीम मौजूद रहती हैं। एएसआई ने सख्त हिदायत दे रखा है कि सूर्यास्त के बाद इस इलाके किसी भी व्यक्ति के रूकने के लिए मनाही है।

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

दरबार साहिब (जो स्वर्ण मंदिर के नाम से प्रचलित है) की लंगर सेवा..


Hindu Mahasabha Jodhpur added 2 new photos.

ज़रूर पड़े
दरबार साहिब (जो स्वर्ण मंदिर के नाम से प्रचलित है) की लंगर सेवा….
यह सिखों के पवित्र स्थल का वह निशुल्क रसोई घर है जहाँ एक लाख (1,00,000) लोग प्रति दिन लंगर छकते है। भारत का पहला ऐसा मुफ्त रसोई घर जहाँ 2 लाख (2,00,000) रोटियाँ और 1.5 टन दाल रोज़ाना बनती है।
2 लाख रोटियाँ और 1.5 टन दाल का लंगर तकरीबन 1 लाख संगत एवं श्रद्धालुओं द्वारा छका जाता है।
हर रोज़ इतना लंगर उत्पादन और छकने वाला यह आंकड़ा पश्चिमी भारत के अमृतसर शहर के पवित्र गुरुद्वारा दरबार साहिब के इस निशुल्क रसोई घर को सब श्रेणियों से महान एवं श्रेष्ठ रखता है।
यह आंकड़ा विशेष मौकों एवं छुट्टियों के दिनों में दोगुना भी हो जाता है। परन्तु लंगर में कभी कमी नहीं आती।
सामान्य तौर पर लंगर में लगने वाली सामग्री 7000 किलो आटा, 1200 किलो चावल, 1300 किलो दाल, 500 किलो शुद्ध देसी घी रोज़ाना इस्तेमाल होता है।
इस रसोई घर में लंगर बनाने के लिए तरह तरह की तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है जैसे लकड़ी का, LPG गैस का, और इलेक्ट्रॉनिक रोटी बनाने की मशीन का
तकरीबन 100 सिलिंडर एवं 500 किलो लकड़ी प्रति दिन इस्तेमाल होती है। एवं तकरीबन 450 सेवादार इस निशुल्क रसोई घर में सेवा करते है। जिसमे अन्य बाहर से आयी संगत भी सेवा में लग जाती है।
इस रसोई घर का सालाना बजट हजारों करोड़ो में है। इस सन्देश को सब को बताये
वाहेगुरु जी का खालसा
वाहेगुरु जी की फ़तेह

Hindu Mahasabha Jodhpur's photo.
Hindu Mahasabha Jodhpur's photo.
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार हाथ की पाँचों उंगलियों में


एक बार हाथ की पाँचों उंगलियों में आपस में झगड़ा हो गया| वे पाँचों खुद को एक दूसरे से बड़ा सिद्ध करने की कोशिश में लगे थे | अंगूठा बोला की मैं सबसे बड़ा हूँ, उसके पास वाली उंगली बोली मैं सबसे बड़ी हूँ इसी तरह सारे खुद को बड़ा सिद्ध करने में लगे थे जब निर्णय नहीं हो पाया तो वे सब अदालत में गये |

न्यायाधीश ने सारा माजरा सुना और उन पाँचों से बोला की आप लोग सिद्ध करो की कैसे तुम सबसे बड़े हो? अंगूठा बोला मैं सबसे ज़्यादा पढ़ा लिखा हूँ क्यूंकी लोग मुझे हस्ताक्षर के स्थान पर प्रयोग करते हैं| पास वाली उंगली बोली की लोग मुझे किसी इंसान की पहचान के तौर पर इस्तेमाल करते हैं| उसके पास वाली उंगली ने कहा की आप लोगों ने मुझे नापा नहीं अन्यथा मैं ही सबसे बड़ी हूँ | उसके पास वाली उंगली बोली मैं सबसे ज़्यादा अमीर हूँ क्यूंकी लोग हीरे और जवाहरात और अंगूठी मुझी में पहनते हैं| इसी तरह सभी ने अपनी अलग अलग प्रसन्शा की |

न्यायाधीश ने अब एक रसगुल्ला मंगाया और अंगूठे से कहा की इसे उठाओ, अंगूठे ने भरपूर ज़ोर लगाया लेकिन रसगुल्ले को नहीं उठा सका | इसके बाद सारी उंगलियों ने एक एक करके कोशिश की लेकिन सभी विफल रहे| अंत में न्यायाधीश ने सबको मिलकर रसगुल्ला उठाने का आदेश दिया तो झट से सबने मिलकर रसगुल्ला उठा दिया | फ़ैसला हो चुका था, न्यायाधीश ने फ़ैसला सुनाया कि तुम सभी एक दूसरे के बिना अधूरे हो और अकेले रहकर तुम्हारी शक्ति का कोई अस्तित्व नहीं है, जबकि संगठित रहकर तुम कठिन से कठिन काम आसानी से कर सकते हो|

तो मित्रों, संगठन में बहुत शक्ति होती है यही इस कहानी की शिक्षा है, एक अकेला चना कभी भाड़ नहीं फोड़ सकता..

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक बार एक मछुआरा समुद्र किनारे आराम से छांवमें बैठकर शांति से बैठा था ।


एक बार एक मछुआरा समुद्र किनारे आराम से छांवमें बैठकर शांति से बैठा था ।
अचानक एक बिजनैसमैन ( कंप्यूटर/ IT फील्ड वाला )
वहाँ से गुजरा और उसने मछुआरे से पूछा “तुम काम करने के बजाय आराम क्यों फरमा रहे हो?”

इस पर गरीब मछुआरे ने कहा “मैने आज के लिये पर्याप्त मछलियाँ पकड चुका हूँ ।”

यह सुनकर बिज़नेसमैन गुस्से में आकर बोला” यहाँ बैठकर समय बर्बाद करने से बेहतर है कि तुम क्यों ना और मछलियाँ पकडो ।”

मछुआरे ने पूछा “और मछलियाँ पकडने से क्या होगा ?”

बिज़नेसमैन : उन्हे बेंचकर तुम और ज्यादा पैसे कमा सकते हो और एक बडी बोट भी ले सकते हो ।

मछुआरा :- उससे क्या होगा ?

बिज़नेसमैन :- उससे तुम समुद्र में और दूर तक जाकर और मछलियाँ पकड सकते हो और ज्यादा पैसे कमा सकते हो ।

मछुआरा :- “उससे क्या होगा ?”

बिज़नेसमैन : “तुम और अधिक बोट खरीद सकते हो और कर्मचारी रखकर और अधिक पैसे कमा सकते हो ।”

मछुआरा : “उससे क्या होगा ?”

बिज़नेसमैन : “उससे तुम मेरी तरह अमीर बिज़नेसमैन बन जाओगे ।”

मछुआरा :- “उससे क्या होगा ?”

बिज़नेसमैन : “अरे बेवकूफ उससे तू अपना जीवन शांति से व्यतीत कर सकेगा ।”

मछुआरा :- “तो आपको क्या लगता है, अभी मैं क्या कर रहा हूँ ?!!”

बिज़नेसमैन निरुत्तर हो गया ।

मोरल – “जीवन का आनंद लेने के लिये कल का इंतजार करने की आवश्यकता नहीं ।
और ना ही सुख और शांति के लिये और अधिक धनवान बनने की आवश्यकता है । जो इस क्षण है, वही जीवन है।

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

आपदा से पहले ही संकेत दे देता है ये कुंड


आपदा से पहले ही संकेत दे देता है ये कुंड
*******************************************
गुजरात में आए भूकंप के दौरान भी यहां का जलस्तर बढ़ा था। सुनामी के दौरान तो कुण्ड का जल 15 फीट ऊपर तक आ गया था।
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
मध्य प्रदेश का ये कुंड वैसे तो देखने में एक साधारण कुण्ड लगता है, लेकिन इसकी खासियत है कि जब भी एशियाई महाद्वीप में कोई प्राकृतिक आपदा घटने वाली होती है तो इस कुण्ड का जलस्तर पहले ही खुद-ब-खुद बढ़ने लगता है। इस कुण्ड का पुराणों में नीलकुण्ड के नाम से जिक्र है, जबकि
लोग अब इसे भीमकुण्ड के नाम से जानते हैं।
अब तक मापी नहीं जा सकी है कुंड की गहराई
==============================
भीमकुण्ड की गहराई अब तक नहीं मापी जा सकी है। कुण्ड के चमत्कारिक गुणों का पता चलते ही डिस्कवरी चैनल की एक टीम कुण्ड की गहराई मापने के लिए आई थी, लेकिन ये इतना गहरा है कि वे जितना नीचे गए उतना ही अंदर और इसका पानी दिखाई दिया। बाद में टीम वापिस लौट गई।
रोचक है इतिहास
============
कहते हैं अज्ञातवास के दौरान एक बार भीम को प्यास लगी, काफी तलाशने के बाद भी जब पानी नहीं मिला तो भीम ने जमीन में अपनी गदा पूरी शक्ति से मारी, जिससे इस कुण्ड से पानी निकल आया। इसलिए इसे भीमकुण्ड कहा जाता है।
भौगोलिक घटना से पहले देता है संकेत
=========================
जब भी कोई भौगोलिक घटना होने वाली होती है यहां का जलस्तर बढ़ने लगता है, जिससे क्षेत्रीय लोग प्राकृतिक आपदा का पहले ही अनुमान लगा लेते हैं। नोएडा और गुजरात में आए भूकंप के दौरान भी यहां का जलस्तर बढ़ा था। सुनामी के दौरान तो कुण्ड का जल 15 फीट ऊपर तक आ गया था।

आपदा से पहले ही संकेत दे देता है ये कुंड 
******************************************* 
गुजरात में आए भूकंप के दौरान भी यहां का जलस्तर बढ़ा था। सुनामी के दौरान तो कुण्ड का जल 15 फीट ऊपर तक आ गया था। 
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^ 
मध्य प्रदेश का ये कुंड वैसे तो देखने में एक साधारण कुण्ड लगता है, लेकिन इसकी खासियत है कि जब भी एशियाई महाद्वीप में कोई प्राकृतिक आपदा घटने वाली होती है तो इस कुण्ड का जलस्तर पहले ही खुद-ब-खुद बढ़ने लगता है। इस कुण्ड का पुराणों में नीलकुण्ड के नाम से जिक्र है, जबकि 
लोग अब इसे भीमकुण्ड के नाम से जानते हैं। 
अब तक मापी नहीं जा सकी है कुंड की गहराई 
============================== 
भीमकुण्ड की गहराई अब तक नहीं मापी जा सकी है। कुण्ड के चमत्कारिक गुणों का पता चलते ही डिस्कवरी चैनल की एक टीम कुण्ड की गहराई मापने के लिए आई थी, लेकिन ये इतना गहरा है कि वे जितना नीचे गए उतना ही अंदर और इसका पानी दिखाई दिया। बाद में टीम वापिस लौट गई। 
रोचक है इतिहास 
============ 
कहते हैं अज्ञातवास के दौरान एक बार भीम को प्यास लगी, काफी तलाशने के बाद भी जब पानी नहीं मिला तो भीम ने जमीन में अपनी गदा पूरी शक्ति से मारी, जिससे इस कुण्ड से पानी निकल आया। इसलिए इसे भीमकुण्ड कहा जाता है। 
भौगोलिक घटना से पहले देता है संकेत 
========================= 
जब भी कोई भौगोलिक घटना होने वाली होती है यहां का जलस्तर बढ़ने लगता है, जिससे क्षेत्रीय लोग प्राकृतिक आपदा का पहले ही अनुमान लगा लेते हैं। नोएडा और गुजरात में आए भूकंप के दौरान भी यहां का जलस्तर बढ़ा था। सुनामी के दौरान तो कुण्ड का जल 15 फीट ऊपर तक आ गया था।
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

अशोक स्तम्भ भारत का राष्ट्रीय प्रतीक है।


अशोक स्तम्भ भारत का राष्ट्रीय प्रतीक है।
यह सर्वविदित है कि अशोक स्तम्भ भारत
का राष्ट्रीय प्रतीक है। आजादी के पश्चात भारत
सरकार ने सत्य, अहिंसा और प्रेम का प्रतीक अशोक
स्तम्भ को ही अपने देश का राष्ट्रीय प्रतीक मान कर
सम्मान दिया। सभी लोग यह भी जानते हैं
कि राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करने से राष्ट्र
का अपमान होता है। अशोक स्तम्भ भारत
का राष्ट्रीय प्रतीक है। फिर भी दुर्भाग्य है
कि हमारे स्वार्थी सत्तालोलुप नेतालोग अबतक
गोवंश की हत्या बन्द कर अपने ही देश का राष्ट्रीय
प्रतीक अशोक स्तम्भ का सम्मान नहीं किये। गोवंश
की हत्या होने से राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तम्भ
का घोर अपमान हो रहा है जिससे राष्ट्र
का भी घोर अपमान हो रहा है। पूरा संसार
जानता है कि नन्दी (बैल) भारत का राष्ट्रीय
प्रतीक अशोक स्तम्भ का एक अभिन्न अंग है और उस अंग
का घोर अपमान हो रहा है। अशोक स्तम्भ के उपर में
बाघ है जिसकी हत्या करने में प्रतिबन्ध लगा हुआ है।
निचे बायी ओर घोड़ा है जिसकी हत्या कोई
नहीं करता है। लेकिन अशोक स्तम्भ के निचे
दाहिनी ओर बैल (नन्दी) है जिसकी हत्या सरकार
स्वयं करवा रही है। गोवंश की हत्या करने के लिये
सरकार स्वीकृति लाइसेंस देती है।
अरबों की धनराशी अनुदान भी देती है। प्रोत्साहन
देती है। इस प्रकार हमारा दुर्भाग्य है कि सरकार स्वयं
गोवंश की हत्या करवा कर अशोक स्तम्भ का घोर
अपमान कर रही है मैं केन्द्र सरकार से सविनय विनय
करता हूँ कि अतिशीघ्र गोवंश की हत्या बन्द कर
अशोक स्तम्भ का सम्मान करे अथवा भारत सरकार यह
घोषणा करे कि अब अशोक स्तम्भ भारत का राष्ट्रीय
प्रतीक नहीं है और सभी सरकारी कागजातों,
सरकारी भवनो, सिपाहियों के बैज, रूपया, सिक्का,
स्टाम्प पेपर, और विधायकों, सांसदों, मंत्रियों के
लेटर पैड से अशोक स्तम्भ को हटा दिया जाय।
हसना और गाय फूलाना दोनो एक साथ
हो नहीं सकता।

अशोक स्तम्भ भारत का राष्ट्रीय प्रतीक है।
यह सर्वविदित है कि अशोक स्तम्भ भारत
का राष्ट्रीय प्रतीक है। आजादी के पश्चात भारत
सरकार ने सत्य, अहिंसा और प्रेम का प्रतीक अशोक
स्तम्भ को ही अपने देश का राष्ट्रीय प्रतीक मान कर
सम्मान दिया। सभी लोग यह भी जानते हैं
कि राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करने से राष्ट्र
का अपमान होता है। अशोक स्तम्भ भारत
का राष्ट्रीय प्रतीक है। फिर भी दुर्भाग्य है
कि हमारे स्वार्थी सत्तालोलुप नेतालोग अबतक
गोवंश की हत्या बन्द कर अपने ही देश का राष्ट्रीय
प्रतीक अशोक स्तम्भ का सम्मान नहीं किये। गोवंश
की हत्या होने से राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तम्भ
का घोर अपमान हो रहा है जिससे राष्ट्र
का भी घोर अपमान हो रहा है। पूरा संसार
जानता है कि नन्दी (बैल) भारत का राष्ट्रीय
प्रतीक अशोक स्तम्भ का एक अभिन्न अंग है और उस अंग
का घोर अपमान हो रहा है। अशोक स्तम्भ के उपर में
बाघ है जिसकी हत्या करने में प्रतिबन्ध लगा हुआ है।
निचे बायी ओर घोड़ा है जिसकी हत्या कोई
नहीं करता है। लेकिन अशोक स्तम्भ के निचे
दाहिनी ओर बैल (नन्दी) है जिसकी हत्या सरकार
स्वयं करवा रही है। गोवंश की हत्या करने के लिये
सरकार स्वीकृति लाइसेंस देती है।
अरबों की धनराशी अनुदान भी देती है। प्रोत्साहन
देती है। इस प्रकार हमारा दुर्भाग्य है कि सरकार स्वयं
गोवंश की हत्या करवा कर अशोक स्तम्भ का घोर
अपमान कर रही है मैं केन्द्र सरकार से सविनय विनय
करता हूँ कि अतिशीघ्र गोवंश की हत्या बन्द कर
अशोक स्तम्भ का सम्मान करे अथवा भारत सरकार यह
घोषणा करे कि अब अशोक स्तम्भ भारत का राष्ट्रीय
प्रतीक नहीं है और सभी सरकारी कागजातों,
सरकारी भवनो, सिपाहियों के बैज, रूपया, सिक्का,
स्टाम्प पेपर, और विधायकों, सांसदों, मंत्रियों के
लेटर पैड से अशोक स्तम्भ को हटा दिया जाय।
हसना और गाय फूलाना दोनो एक साथ
हो नहीं सकता।
Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

पत्तल में भोजन करने के अद्भुत लाभ


पत्तल में भोजन करने के अद्भुत लाभ
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हमारे देश मे 2000 से अधिक वनस्पतियों की पत्तियों से तैयार किये जाने वाले पत्तलों और उनसे होने वाले लाभों के विषय मे पारम्परिक चिकित्सकीय ज्ञान उपलब्ध है पर मुश्किल से पाँच प्रकार की वनस्पतियों का प्रयोग हम अपनी दिनचर्या मे करते है।
आम तौर पर केले की पत्तियो मे खाना परोसा जाता है। प्राचीन ग्रंथों मे केले की पत्तियो पर परोसे गये भोजन को स्वास्थ्य के लिये लाभदायक बताया गया है। आजकल महंगे होटलों और रिसोर्ट मे भी केले की पत्तियो का यह प्रयोग होने लगा है।
* पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है ।
* केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
* रक्त की अशुद्धता के कारण होने वाली बीमारियों के लिये पलाश से तैयार पत्तल को उपयोगी माना जाता है। पाचन तंत्र सम्बन्धी रोगों के लिये भी इसका उपयोग होता है। आम तौर पर लाल फूलो वाले पलाश को हम जानते हैं पर सफेद फूलों वाला पलाश भी उपलब्ध है। इस दुर्लभ पलाश से तैयार पत्तल को बवासिर (पाइल्स) के रोगियों के लिये उपयोगी माना जाता है।
* जोडो के दर्द के लिये करंज की पत्तियों से तैयार पत्तल उपयोगी माना जाता है। पुरानी पत्तियों को नयी पत्तियों की तुलना मे अधिक उपयोगी माना जाता है।
* लकवा (पैरालिसिस) होने पर अमलतास की पत्तियों से तैयार पत्तलो को उपयोगी माना जाता है।
इसके अन्य लाभ :
1. सबसे पहले तो उसे धोना नहीं पड़ेगा, इसको हम सीधा मिटटी में दबा सकते है l
2. न पानी नष्ट होगा l
3. न ही कामवाली रखनी पड़ेगी, मासिक खर्च भी बचेगा l
4. न केमिकल उपयोग करने पड़ेंगे l
5. न केमिकल द्वारा शरीर को आंतरिक हानि पहुंचेगी l
6. अधिक से अधिक वृक्ष उगाये जायेंगे, जिससे कि अधिक आक्सीजन भी मिलेगी l
7. प्रदूषण भी घटेगा ।
8. सबसे महत्वपूर्ण झूठे पत्तलों को एक जगह गाड़ने पर, खाद का निर्माण किया जा सकता है, एवं मिटटी की उपजाऊ क्षमता को भी बढ़ाया जा सकता है l
9. पत्तल बनाए वालों को भी रोजगार प्राप्त होगा l
10. सबसे मुख्य लाभ, आप नदियों को दूषित होने से बहुत बड़े स्तर पर बचा
सकते हैं, जैसे कि आप जानते ही हैं कि जो पानी आप बर्तन धोने में उपयोग कर रहे हो, वो केमिकल वाला पानी, पहले नाले में जायेगा, फिर आगे जाकर नदियों में ही छोड़ दिया जायेगा l जो जल प्रदूषण में आपको सहयोगी बनाता है

— with Nagendra Dikshit Maholi.

पत्तल में भोजन करने के अद्भुत लाभ
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हमारे देश मे 2000 से अधिक वनस्पतियों की पत्तियों से तैयार किये जाने वाले पत्तलों और उनसे होने वाले लाभों के विषय मे पारम्परिक चिकित्सकीय ज्ञान उपलब्ध है पर मुश्किल से पाँच प्रकार की वनस्पतियों का प्रयोग हम अपनी दिनचर्या मे करते है।
आम तौर पर केले की पत्तियो मे खाना परोसा जाता है। प्राचीन ग्रंथों मे केले की पत्तियो पर परोसे गये भोजन को स्वास्थ्य के लिये लाभदायक बताया गया है। आजकल महंगे होटलों और रिसोर्ट मे भी केले की पत्तियो का यह प्रयोग होने लगा है।
* पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है ।
* केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
* रक्त की अशुद्धता के कारण होने वाली बीमारियों के लिये पलाश से तैयार पत्तल को उपयोगी माना जाता है। पाचन तंत्र सम्बन्धी रोगों के लिये भी इसका उपयोग होता है। आम तौर पर लाल फूलो वाले पलाश को हम जानते हैं पर सफेद फूलों वाला पलाश भी उपलब्ध है। इस दुर्लभ पलाश से तैयार पत्तल को बवासिर (पाइल्स) के रोगियों के लिये उपयोगी माना जाता है।
* जोडो के दर्द के लिये करंज की पत्तियों से तैयार पत्तल उपयोगी माना जाता है। पुरानी पत्तियों को नयी पत्तियों की तुलना मे अधिक उपयोगी माना जाता है।
* लकवा (पैरालिसिस) होने पर अमलतास की पत्तियों से तैयार पत्तलो को उपयोगी माना जाता है।
इसके अन्य लाभ :
1. सबसे पहले तो उसे धोना नहीं पड़ेगा, इसको हम सीधा मिटटी में दबा सकते है l
2. न पानी नष्ट होगा l
3. न ही कामवाली रखनी पड़ेगी, मासिक खर्च भी बचेगा l
4. न केमिकल उपयोग करने पड़ेंगे l
5. न केमिकल द्वारा शरीर को आंतरिक हानि पहुंचेगी l
6. अधिक से अधिक वृक्ष उगाये जायेंगे, जिससे कि अधिक आक्सीजन भी मिलेगी l
7. प्रदूषण भी घटेगा ।
8. सबसे महत्वपूर्ण झूठे पत्तलों को एक जगह गाड़ने पर, खाद का निर्माण किया जा सकता है, एवं मिटटी की उपजाऊ क्षमता को भी बढ़ाया जा सकता है l
9. पत्तल बनाए वालों को भी रोजगार प्राप्त होगा l
10. सबसे मुख्य लाभ, आप नदियों को दूषित होने से बहुत बड़े स्तर पर बचा
सकते हैं, जैसे कि आप जानते ही हैं कि जो पानी आप बर्तन धोने में उपयोग कर रहे हो, वो केमिकल वाला पानी, पहले नाले में जायेगा, फिर आगे जाकर नदियों में ही छोड़ दिया जायेगा l जो जल प्रदूषण में आपको सहयोगी बनाता है
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

हमारा देश लम्बे समय तक अंग्रेंजो का गुलाम रहा ,सेकड़ो वर्षो तक इस


हमारा देश लम्बे समय तक अंग्रेंजो का गुलाम रहा ,सेकड़ो वर्षो तक इस
देश को अंग्रेंजो ने गुलाम बनाने
की काफी तैयारी की थी
सन 1813 में अंग्रेंजो की संसद हाउस ऑफ़ कॉमन्स में एक
बहस चली 24 जुन 1813 को वो बहस पूरी हुई
और वहाँ से एक प्रस्ताव पारित किया
भारत में गरीबी पैदा करनी है
भुखमरी लानी है भारत
की समृदि को तोडन है इनको यदि शारीरिक और
मानसिक रूप से कमज़ोर करना है
तो भारत की अर्थव्यवस्था को कमज़ोर करना पड़ेगा इसे बरबाद
करना पड़ेगा
इसके लिय भारत का केन्द्र बिन्दु भारत
की कृषि पद्धति को भी बरबाद करना पड़ेगा । भारत
की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि पर
टिकी हुई है
इनकी कृषि गाय पर टिकी हुई है गाय के
बिना भारतीय कृषि हो नहीं सकती
दूसरा इनको ये पता चला के भारत के कोने कोने में गाय
की पूजा होती है इनके 33 करोड़
देवी देवता इसमें वास करते है
तब उन्होंने एक बढ़ा फैसला लिया यदि भारतीय कृषि को बरबाद
करना है भारतीय संस्कृति का नाश करना है तो गाय का नाश
करना चाहिय
भारत मे पहला गौ का कत्लखाना 1707 ईस्वी में रॉबर्ट क्लाएव
ने खोला था जिसमें गाय को काट कर उसके मॉस को अंग्रेंजी फोज़
को खिलाया जाने लगा
गो वंश का नाश शुरू हो गया।
बीच दौर में अंग्रेंजो को एक और महत्वपूर्ण बात
पता चली के यदि गो वंश का नाश करना है तो उसके लिय जहाँ से
इसकी उत्पति होती है उस
नन्दी को मरवाना होगा
तो अग्रेंजो ने गाय से ज्यादा नन्दी का कत्ल करवाना शुरू किया।
1857 में मंगल पाण्डे को जब फांसी सजा हुई
थी इसका मूल प्रश्न गाय
का ही था इसी मूल प्रश्न से हिन्दुस्तान में
क्रांति की शुरुआत हुई थी
उस जमाने में अंग्रेंजो ने पुरे भारत में लगभग 350 कत्लखाने खुलवाये|
1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक
मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और
नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित
नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के
किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे
हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा
1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक
मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और
नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित
नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के
किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे
हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा
चांस की बात नेहरू भारत के सबसे उँचे शिखर पर बैठे और
डॉ राजेन्द्र प्रसाद भारत के राष्ट्रपति बने
दुःख की बात ये है दोनों अपने शासन काल में गो के लिय ऐसा कोई
कानून ही नहीं बना पाये| बाकी बहुत
सारे कानून उन्होंने बनाये
आज अज़ादी के 67 साल में पुरे भारत में लगभग 36000
कत्लखाने है जिसमें कुछ कत्लखाने ऐसे है जिसमें 10 हज़ार पशु रोज़
काटे जाते है
भारत वर्तमान में विश्व का 3 नम्बर गो मॉस निर्यात करने वाला देश बन
गया है
भविष्य में इन कत्ल खानो को हाई टेक किया जाना है
अंग्रेंजो ने 1910 से 1940 तक लगभग 10 करोड़ से ज्यादा गो वंश
को खत्म किया गया ।
अज़ादी के 50 साल बाद 1947 से 1997 तक लगभग 48
करोड़ गो वंश का नाश किया जा चूका है
अगर भारत में इन 48 करोड़ गो वंश को यदि बचा लिया गया होता तो भारत में
सम्पति और सम्पदा कितनी होती पैसा कितना होता
एक गाय 1 साल में 25 हज़ार रुपय का फ़र्टिलाइज़र (खाद )
पैदा करती है जो हम फ़र्टिलाइज़र करोडो रुपय का आयात करते
है वो करोडो रूपया बचता
यदि 48 करोड़ गाय बचती तो हमने कितनी खाद
का नुकसान किया है
1 गाय यदि 1 साल में 10 से 15 हज़ार रुपय का दूध
देती हो तो कितने रुपय का नुकसान हुआ है गाय के दूध,मूत्र
से 108 तरह की दवाये बनती है
कैंसर,मधुमेह तक का इलाज़ है गाय के मूत्र में
भारत को पेट्रोल और डीज़ल बहार से आयात करना पढ़ता है
बायो गैस से भारत की पेट्रोल, डीज़ल,गैस सिलेंडर
और बेरोज़गारी की समस्या को भी ख़त्म
किया जा सकता है ये पशुधन

हमारा देश लम्बे समय तक अंग्रेंजो का गुलाम रहा ,सेकड़ो वर्षो तक इस
देश को अंग्रेंजो ने गुलाम बनाने
की काफी तैयारी की थी
सन 1813 में अंग्रेंजो की संसद हाउस ऑफ़ कॉमन्स में एक
बहस चली 24 जुन 1813 को वो बहस पूरी हुई
और वहाँ से एक प्रस्ताव पारित किया
भारत में गरीबी पैदा करनी है
भुखमरी लानी है भारत
की समृदि को तोडन है इनको यदि शारीरिक और
मानसिक रूप से कमज़ोर करना है
तो भारत की अर्थव्यवस्था को कमज़ोर करना पड़ेगा इसे बरबाद
करना पड़ेगा
इसके लिय भारत का केन्द्र बिन्दु भारत
की कृषि पद्धति को भी बरबाद करना पड़ेगा । भारत
की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि पर
टिकी हुई है
इनकी कृषि गाय पर टिकी हुई है गाय के
बिना भारतीय कृषि हो नहीं सकती
दूसरा इनको ये पता चला के भारत के कोने कोने में गाय
की पूजा होती है इनके 33 करोड़
देवी देवता इसमें वास करते है
तब उन्होंने एक बढ़ा फैसला लिया यदि भारतीय कृषि को बरबाद
करना है भारतीय संस्कृति का नाश करना है तो गाय का नाश
करना चाहिय
भारत मे पहला गौ का कत्लखाना 1707 ईस्वी में रॉबर्ट क्लाएव
ने खोला था जिसमें गाय को काट कर उसके मॉस को अंग्रेंजी फोज़
को खिलाया जाने लगा
गो वंश का नाश शुरू हो गया।
बीच दौर में अंग्रेंजो को एक और महत्वपूर्ण बात
पता चली के यदि गो वंश का नाश करना है तो उसके लिय जहाँ से
इसकी उत्पति होती है उस
नन्दी को मरवाना होगा
तो अग्रेंजो ने गाय से ज्यादा नन्दी का कत्ल करवाना शुरू किया।
1857 में मंगल पाण्डे को जब फांसी सजा हुई
थी इसका मूल प्रश्न गाय
का ही था इसी मूल प्रश्न से हिन्दुस्तान में
क्रांति की शुरुआत हुई थी
उस जमाने में अंग्रेंजो ने पुरे भारत में लगभग 350 कत्लखाने खुलवाये|
1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक
मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और
नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित
नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के
किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे
हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा
1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक
मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और
नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित
नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के
किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे
हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा
चांस की बात नेहरू भारत के सबसे उँचे शिखर पर बैठे और
डॉ राजेन्द्र प्रसाद भारत के राष्ट्रपति बने
दुःख की बात ये है दोनों अपने शासन काल में गो के लिय ऐसा कोई
कानून ही नहीं बना पाये| बाकी बहुत
सारे कानून उन्होंने बनाये
आज अज़ादी के 67 साल में पुरे भारत में लगभग 36000
कत्लखाने है जिसमें कुछ कत्लखाने ऐसे है जिसमें 10 हज़ार पशु रोज़
काटे जाते है
भारत वर्तमान में विश्व का 3 नम्बर गो मॉस निर्यात करने वाला देश बन
गया है
भविष्य में इन कत्ल खानो को हाई टेक किया जाना है
अंग्रेंजो ने 1910 से 1940 तक लगभग 10 करोड़ से ज्यादा गो वंश
को खत्म किया गया ।
अज़ादी के 50 साल बाद 1947 से 1997 तक लगभग 48
करोड़ गो वंश का नाश किया जा चूका है
अगर भारत में इन 48 करोड़ गो वंश को यदि बचा लिया गया होता तो भारत में
सम्पति और सम्पदा कितनी होती पैसा कितना होता
एक गाय 1 साल में 25 हज़ार रुपय का फ़र्टिलाइज़र (खाद )
पैदा करती है जो हम फ़र्टिलाइज़र करोडो रुपय का आयात करते
है वो करोडो रूपया बचता
यदि 48 करोड़ गाय बचती तो हमने कितनी खाद
का नुकसान किया है
1 गाय यदि 1 साल में 10 से 15 हज़ार रुपय का दूध
देती हो तो कितने रुपय का नुकसान हुआ है गाय के दूध,मूत्र
से 108 तरह की दवाये बनती है
कैंसर,मधुमेह तक का इलाज़ है गाय के मूत्र में
भारत को पेट्रोल और डीज़ल बहार से आयात करना पढ़ता है
बायो गैस से भारत की पेट्रोल, डीज़ल,गैस सिलेंडर
और बेरोज़गारी की समस्या को भी ख़त्म
किया जा सकता है ये पशुधन