Posted in Ebooks & Blogspot

सूत्रधार मण्‍डन का राजवल्‍लभ वास्‍तुशास्‍त्रम़


सूत्रधार मण्‍डन का राजवल्‍लभ वास्‍तुशास्‍त्रम़

आज मेरे संपादन में ”राजवल्‍लभ वास्‍तुशास्‍त्रम़” का अंग्रे‍जी अनुवाद प्रकाशित होकर मेरे हाथ तक पहुंचा है। अनुवाद आदरणीय प्रो. भंवर शर्मा ने किया है। यह ग्रंथ सूत्रधार मंडन द्वारा लिखा गया हे जिसको कुंभलगढ जैसे अजेय दुर्ग के स्‍थापत्‍य शास्‍त्री होने का गौरव रहा है। महाराणा कुंभा के दरबार के इस सूत्रधार के कुल ने मेवाड में सोमपुरा स्‍थापत्‍य की नींव डाली और उस दौर में जबकि भारतीय कला और स्‍थापत्‍य पर विदेशी प्रभाव पड रहा था, भारतीय शिल्‍प ग्रंथों की रचना कर लक्षणों को अद्भुत ढंग से बचाने में पूरी ताकत लगा दी। राजवल्‍लभ के अतिरिक्‍त् उसकी देवता मूर्तिप्रकरणम्, प्रासादमण्‍डनम्, रूपमण्‍डनम्, वास्‍तुमण्‍डनम्, वास्‍तुशास्‍त्रम्, वास्‍तुसार मण्‍डनम़, आयतत्‍वम् आदि ग्रंथ हैं। इन सभी का अनुवाद मैंने 2003 में प्रारंभकर प्रकाशित करवाए हैं।

राजवल्‍लभ वास्‍तुशास्‍त्रम़ ग्रंथ मूलत: कुंभलगढ में लिखा गया है। मंडन की मौलिक रचना है। चौदह अध्‍यायों में कुल 1472 श्‍लोक हैं। इसमें वास्‍तु के तमान अंगों सहित ज्‍योतिष, शकुन, गणित आदि पर पर्याप्‍त विचार मिलता है। यह ग्रंथ भारत में पहली बार 1854 में प्रकाशित हुआ था। इसका आमूल आलोचना पाठ सहित उचित हिंदी अनुवाद 2005 में मैंने परिमल पब्लिकेशंस के लिए किया था। उसमें मेरी करीब 210 पेज की गंभीर भूमिका थी। इस ग्रंथ की यह विशेषता रही कि देश में अनेक स्‍थानों पर वास्‍तु विज्ञान के अध्‍येताओं ने उसको पाठयक्रम में शामिल कर लिया। विदेशी मित्रों और देश के अन्‍य भाषाभाषियों की लगातार मांग के कारण इसका पहली बार अंग्रेजी अनुवाद किया गया। परिमल पब्लिकेशंस (27-28 शक्तिनगर, दिल्‍ली11007, order@parimalpublication.com) ने ही इसका प्रकाशन किया है। परिमल जोशी (01123845456) को आभार कि इसका युगानुरूप अच्‍छा प्रकाशन किया है। कुल 216 पेज और 450 रुपए मूल्‍य के इस ग्रंथ में विषयोपयोगी अनेक रंगीन चित्र व रेखाचित्र दिए गए हैं।

— at Fateh Sagar lake Udaipur

Shri Krishan Jugnu's photo.
Shri Krishan Jugnu's photo.
Shri Krishan Jugnu's photo.

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s