Posted in हिन्दू पतन

आचार्य चाणक्य के नगर अफगानिस्तान से हिंदू मिट गया ?


आचार्य चाणक्य के नगर अफगानिस्तान से हिंदू मिट गया ?
काबुल जो भगवान राम के पुत्र कुश का बनाया शहर था आज
वहाँ एक भी मंदिर नही बचा
गंधार जिसका विवरण महाभारत मे है जो चाणक्य के अखंड भारत
की सीमा हुआ
करता था जो रानी गांधारी का मायका था। आज
उसका नाम कंधार हो चूका है और वहाँ आज एक
भी हिंदू नही बचा
कम्बोडिया जहां राजा सूर्य देव बर्मन ने दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर
अंकोरवाट बनाया आज वहा भी हिंदू
नही है
बाली द्वीप मे २० साल पहले तक
९०%हिंदू थे आज सिर्फ २०% बचे
कश्मीर घाटी मे सिर्फ २० साल पहले५०%
हिंदू थे , आज एक भी हिंदू नही बचा
केरल मे १० साल पहले तक ६०% जनसंख्या हिन्दुओ
की थी आज सिर्फ १०% हिंदू केरल मे है
नोर्थ ईस्ट जैसे सिक्किम, नागालैंड , आसाम आदि मे हिंदू हर रोज
मारे या भगाए जाते है या उनका धर्मपरिवर्तन हो रहा है
1569 तक ईरान का नाम पारस या पर्शिया होता था और वहाँ एक
भी मुस्लिम नही था सिर्फ
पारसी रहते थे .. जब पारस पर मुस्लिमो का आक्रमण
होता था तब पारसी बूढ़े बुजुर्ग अपने नौजवान
को यही सिखाते थे की हमे कोई
मिटा नही सकता . लेकिन ईरान से सारे के
सारेपारसी मिटा दिये गए ..
धीरे धीरे उनका कत्लेआम और
धर्मपरिवर्तन होता रहा ..
एक नाव मे बैठकर २१ पारसी किसी तरह
गुजरात के नवसारी जिले के उद्वावाडा गांव मे पहुचे और
आज पारसी सिर्फ भारत मे
ही गिनती की संख्या मे बचे है
अफनिस्तान मेँ हिन्दू खत्म हो गया पाकिस्तान बाँग्लादेश मेँ हिन्दू
खत्म होने की कगार पर है और भारत मेँ
भी हिन्दु घट ही रहा है इसके कारण
क्या है ????
अभी जवाब नहीं दिया तो.?
आने वाले समय में जवाब देनेलायक रहोगे
भी नहीं।………..
जागो हिन्दुओ जागो !!- हिंदुत्व शंखनाद। विकास शुक्ला । राष्टवादी हिन्दू ।

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

मांस का मूल्य


मांस का मूल्य

मगध के सम्राट् श्रेणिक ने एक बार अपनी राज्य-सभा में पूछा कि देश की खाद्य समस्या को सुलझाने के लिए सबसे सस्ती वस्तु क्या है?

मंत्रि-परिषद् के तथा अन्य सदस्य सोच में पड़ गये। चावल, गेहूं, आदि पदार्थ बहुत मेहनत बाद मिलते हैं और वह भी तब, जबकि प्रकृति का प्रकोप न हो। ऐसी हालत में अन्न तो सस्ता हो नहीं सकता। शिकार का शौक होने के कारण एक अधिकारी ने सोचा कि मांस ही ऐसी चीज है, जिसे बिना कुछ खर्च किये प्राप्त किया जा सकता है।

उसने मुस्कराते हुए कहा, “राजन्! सबसे सस्ता खाद्य पदार्थ तो मांस है। इसे पाने में पैसा नहीं लगता और पौष्टिक वस्तु खाने को मिल जाती है।”

सबने इसका समर्थन किया, लेकिन मगध का प्रधान मंत्री अभय कुमार चुप रहा।

श्रेणिक ने उससे कहा, “तुम चुप क्यों हो? बोलो, तुम्हारा इस बारे में क्या विचार है?”

प्रधान मंत्री ने कहा, “यह कथन कि मांस सबसे सस्ता है, एकदम गलत है। मैं अपने विचार आपके सामने कल रखूंगा।”

रात होने पर प्रधानमंत्री सीधा उस सामन्त के महल पर पहुंचा, जिसने सबसे पहले अपना प्रस्ताव रखा था। उसने द्वारा खटखटाया।

सामन्त ने द्वार खोला। इतनी रात गये प्रधान मंत्री को देखकर वह घबरा गया। उसका स्वागत करते हुए उसने आने का कारण पूछा।

प्रधान मंत्री ने कहा, “शाम को महाराज श्रेणिक बीमार हो गए हैं। उनकी हालत खराब है। राजवैद्य ने कहा है कि किसी बड़े आदमी के हृदय का दो तोला मांस मिल जाय तो राजा के प्राण बच सकते हैं। आप महाराज के विश्ववास-पात्र सामन्त हैं। इसलिए मैं आपके पास आपके हृदय का दो तोला मांस लेने आया हूं। इसके लिए आप जो भी मूल्य लेना चाहें, ले सकते हैं। कहें तो लाख स्वर्ण मुद्राएं दे सकता हूं।”

यह सुनते ही सामान्त के चेहरे का रंग फीका पड़ गया। वह सोचने लगा कि जब जीवन ही नहीं रहेगा, तब लाख स्वर्ण मुद्राएं भी किस काम आयंगी!

उसने प्रधान मंत्री के पैर पकड़ कर माफी चाही और अपनी तिजौरी से एक लाख स्वर्ण मुद्राएं देकर कहा कि इस धन से वह किसी और सामन्त हृदय का मांस खरीद लें।

मुद्राएं लेकर प्रधानमंत्री बारी-बारी से सभी सामन्तों के द्वार पर पहुंचा और सबसे राजा के लिए हृदय का दो तोला मांस मांगा, लेकिन कोई भी राजी न हुआ। सबने अपने बचाव के लिए प्रधानमंत्री को एक लाख, दो लाख और किसी ने पांच लाख स्वर्ण मुद्राएं दे दीं। इस प्रकार एक करोड़ से ऊपर स्वर्ण मुद्राएं लेकर प्रधान मंत्री सवेरा होने से पहले अपने महल पहुंच गया और राजा-सभी की बैठक में उसने राजा के सामने एक करोड़ स्वर्ण मुद्राएं रख दीं।

श्रेणिक ने पूछा, “ये मुद्राएं किसलिए हैं?”

प्रधानमंत्री ने सारा हाल कह सुनाया। फिर बोला, “अपने बचाव के लिए सामन्तों ने ये मुद्राएं दी हैं। अब आप सोच सकते हैं कि मांस कितना सस्ता है?”

जीवन का मूल्य अनन्त है। हम यह न भूलें कि जिस तरह हमें अपनी जान प्यारी होती है, उसी तरह सबको अपनी जान प्यारी होती है।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

I.K Gujral Born in 4 December 1919


I.K Gujral Born in 4 December 1919 in Jhelum City he was 12th Prime Minister of the India in 1997 . His Father name is Avatar Narian Gujral and he Born in village Pari Darwaza . Pari Darwaza 25km faway rom City Chakwal and close to Souhawa on GT road Jhelum to Rawalpindi . He was Hindu Reformist and Inspired by Arya Samaj Movement and he was Grate Lawyer .
Indra Kumar Gujral was born on 4th December, 1919 in the town of Jhelum which was earlier in Punjab and now in Pakistan. He was the eldest son of late Shri Avtar Narain Gujral and Late Smt. Pushpa Gujral. He was born in a family of freedom fighters and his parents actively took part in the fight for independence in the state of Punjab. In 1931, he at the age of eleven, with his brother Satish, who is a famous painter and sister Uma, took part in the freedom struggle. In 1942, he was sent to jail during the Quit India Movement. He finished his schooling at his home town and pursued his intermediate education at the Forman Christian College and finished his graduation at the Hailey College of Commerce, Lahore. In 1945, on 26th May, Indra married Shiela Bhasin, who was his friend from college and a poet. He has two sons, Naresh Gujral and Vishal Gujral.
He started his political career from his college days. He was a member of the Students Union of Lahore and in his college days he became the President of this union. Along with this, he became a part of the Communist Party. When he was about to finish his basic education, I.K. Gujral became a card holding member of the Communist Party.
One more Interesting thing Sardar Manmohan Singh Ex Prime Minister,s Mother belong to this village Pari Darwaza . In local Language People Called Padi Darvezan .
One more story related with Pari Darwaza

Rescuing Punjab From The Mists of Memory

By Shauna Singh Baldwin
Hindustan,s Time
28/10/1999

The Partition did not only re-draw the map of the subcontinent, it upset forever a way of life that existed before, took away the locales from the stories, the lilt from the music. In the void, it left bitter memories, incredible sagas, half-forgotten nightmares. A shattered generation struggled with the broken pieces and even now it needs only a casual scratch to bring out the most painful of memories and the bitter sweetness of nostalgia.

Pre-Partition Punjab, for instance, exists only in the fading memories of our parents. Villages like Pari Darwaza, where Roop, the novel’s protagonist, grows up, cannot be found any longer. Such villages with a Sikh lambardar and Muslim cultivators living in easy camaraderie that stopped short of breaking bread with each other were lost forever in the holocaust that came with the birth of Pakistan. Any work of fiction, like Shauna Singh Baldwin’s book, that bring back those days, that gathers full tales from elusive snippets of memory, therefore, is valuable. All the more so since it also mirrors the cultural life of Punjab of those days and, through the tale of a Sikh girl, brings into focus the community’s way of life.

Baldwin has chosen her historical swathe well and dealt with it using considerable skill and compassion. The three decades before Partition ware a period of dramatic events, of heightened idealism and nationalism of an inevitable, if reluctant, realization of communal divides-“For its only when a fish is pulled from water that it truly understands it is not fowl.” She explores expertly the deep wells of racial memory- everything that the body remembers- that which has been felt- the fervour or fear, the whispers and the howls, of our fathers and mothers and theirs before that. And running through the book is a thinly veiled feminist dub-theme, of the place of women, of sisterhood, of survival.

Roop’s journey from childhood in Pari Darwaza to adulthood in the riot-torn Delhi of 1947 meanders through many themes and moods, making the book in many ways a multi-coloured and multi-layered phulkari, the kind Roop keeps, like so many of our Punjabi mothers, as a memory of her mother. She marries, as a second wife, as a memory of her mother. She marries, as a second wife, an Oxford-educated Sikh engineer working in the lrrigation Department of the British Raj and travels with him to the canal colonies of Punjab, to Lahore, and to the hill station of Simla. She learns to live with, counter and finally respect his childless first wife Satya. The two wives rival each other for the love of their husband, Sardarji, One acquiesces with his efforts to further his career with the Englishmen; the other never leaves a chance to remind him of where he truly belongs. Incidentally, there is something irksome about the husband being referred throughout the book as Sardarji- a main character could usefully have a name. Especially a character otherwise convincing and well-formed, working as a good professional with the British, woken up to history’s realities, tormented by torn loyalties. He still thinks of his working-class English girlfriend of yore and sings: “Kitty, isn’t it a pity / In the city / You work so hard? / Baley, Baley. / Yes, baley, baley, as in Daler Mehndi.”

Soon, the juggernaut of historical events takes up the characters of the book and involves them willy-nilly in its unstoppable currents. Like so many millions, they, too, must escape and run, survive of be killed, fight or simply give up. The indomitable spirit that so many showed after 1947 is well caught in a cameo, towards the end of the book, of a gutsy young Sikh boy selling umbrellas on a railway platform crowded with people who, suddenly and inexplicably, had became refugees in their own land.

Of the various technical devices used by Baldwin, particularly interesting is the use of Cunningham, an alter ego, or an English gentleman-inside, that Sardarji has carried with him since his Oxford days, who keeps reminding him, using British standards, of what is done and what is simply not done. Sardarji keeps only 10 per cent away from him- “his turban, his faith, the untranslated, untranslatable residue of his being,” In the throes of Partition, Cunningham, no longer able or willing to use British standards, falls silent and the 10 per cent takes over.

Shauna Singh Baldwin’s novel is well-conceived and by and large well-executed. There are some fine points where one can differ and which one would have ignored in a less-accomplished work. One is the use of Punjabi words and this must be a dilemma faced by all authors writing of an Indian milieu in English. Of course, these words lends authenticity, atmosphere and punch. But some are virtually untranslatable and if they are followed inevitably by an English translation, the process gets tiresome-“Bari Sardarni… Bari means larger,” (Incidentally, in this case it means elder of the two.) There is also an implausible scene in which Roop’s husband and brother-both Sikhs-fight in English in a per-Partition Punjabi village, translating every now and then for the village audience. But the one that takes the cake is the sentence, “It is a siapa.” Siapa is Punjabi for mourning and I wonder how a western or non-Punjabi reader is going to figure that out. But, as I said, one can sympathise with Baldwin’s dilemma on this count.

Some other finer points of Sikh culture have been somewhat loosely handled-the man leads all four times around the Holy Book on a Sikh wedding and not only in the first three; the Kirtan Sohila, though part of the prayers after cremation, is not the prayer for the dead, but part of the daily prayers, recited before going to sleep; it was Guru Gobind Singh’s mother, Mata Gujri, and not his wife, Mata Sundari, who was with his two younger sons when they were bricked up alive in Sirhind. These points notwithstanding, I enjoyed the novel and read it straight through on a trans- Atlantic flight

Door of I.K Gujral Father,s House in Pari Darwaza village Punjab
I.K Gujral Father,s House in Pari Darwaza village Punjab
I.K Gujral Father,s House in Pari Darwaza village Punjab
I.K Gujral Father,s House in Pari Darwaza village Punjab
Posted in हिन्दू पतन

13th century Cham Hindu temple in Vietnam named Po Klong Garai


13th century Cham Hindu temple in Vietnam named Po Klong Garai

13th century Cham Hindu temple in Vietnam named Po Klong Garai

Posted in Media

देशद्रोही मीडिया


आए दिन जहर उगलने वाले इन देशद्रोही मीडिया चेन्नल्स को देखना बंद कर ब्लॉक करें, क्योंकि ये सिर्फ और सिर्फ पैसे और TRP की भूख रखते हैं ! फिर चाहे लोगों को झूठी खबर ही क्यों न दिखानी पड़े !

ईसाई चर्चों और अरबी देशों के मुल्ला शेखों द्वारा पोषित होने वाले इन तथाकथित भारतीय मीडिया चेन्नल्स के लिए हिंदुस्तान की जनता के जनहित को नजरअंदाज करते हुए सिर्फ अपनी TRP के लिए गलत न्यूज़ दिखाना अब आम बात है, और असल में हुए गलत कार्यों को रिश्वत खाकर जनता के सामने न लाना भी इनके लिए आम बात ही है !
आज के इस समय में “सुदर्शन न्यूज़” और “A2Z न्यूज़” जैसे कुछ ऐसे राष्ट्रवादी चेन्नल्स भी हैं, जिन्होनें आजतक हमेशा सच्चाई का साथ दिया और “पूज्य बापुजी” के साथ हुए अन्याय रूपी षड्यंत्र का पर्दाफाश किया !

नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करके देखिये वो सच्चाई, जो आजतक फोटो में दिये ऐसे देशद्रोही चेन्नलों के कारण जनता तक नहीं पहोंच पाई !
https://www.youtube.com/watch?feature=player_detailpage&v=crdN-NrnHJY

आए दिन जहर उगलने वाले इन देशद्रोही मीडिया चेन्नल्स को देखना बंद कर ब्लॉक करें, क्योंकि ये सिर्फ और सिर्फ पैसे और TRP की भूख रखते हैं ! फिर चाहे लोगों को झूठी खबर ही क्यों न दिखानी पड़े !

ईसाई चर्चों और अरबी देशों के मुल्ला शेखों द्वारा पोषित होने वाले इन तथाकथित भारतीय मीडिया चेन्नल्स के लिए हिंदुस्तान की जनता के जनहित को नजरअंदाज करते हुए सिर्फ अपनी TRP के लिए गलत न्यूज़ दिखाना अब आम बात है, और असल में हुए गलत कार्यों को रिश्वत खाकर जनता के सामने न लाना भी इनके लिए आम बात ही है !
 आज के इस समय में "सुदर्शन न्यूज़" और "A2Z न्यूज़" जैसे कुछ ऐसे राष्ट्रवादी चेन्नल्स भी हैं, जिन्होनें आजतक हमेशा सच्चाई का साथ दिया और "पूज्य बापुजी" के साथ हुए अन्याय रूपी षड्यंत्र का पर्दाफाश किया !

नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करके देखिये वो सच्चाई, जो आजतक फोटो में दिये ऐसे देशद्रोही चेन्नलों के कारण जनता तक नहीं पहोंच पाई !
https://www.youtube.com/watch?feature=player_detailpage&v=crdN-NrnHJY
Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Why Should We Visit Temple?


Super Sunday posts-10
Why Should We Visit Temple?
Temples are located strategically at a place where the positive energy is abundantly available from the magnetic and electric wave distributions of north/south pole thrust.
The main idol is placed in the core center of the temple, known as “*Garbhagriha*” or *Moolasthanam*. In fact, the temple structure is built after the idol has been placed.
This *Moolasthanam* is where earth’s magnetic waves are found to be maximum. We know that there are some copper plates, inscribed with Vedic scripts, buried beneath the Main Idol. What are they really? No, they are not God’s / priests’ flash cards when they forget the *shlokas*. The copper plate absorbs earth’s magnetic waves and radiates it to the surroundings.
Thus a person regularly visiting a temple and walking clockwise around the Main Idol receives the beamed magnetic waves and his body absorbs it.
This is a very slow process and a regular visit will let him absorb more of this positive energy. Scientifically, it is the positive energy that we all require to have a healthy life.

Super Sunday posts-10
Why Should We Visit Temple?
Temples are located strategically at a place where the positive energy is abundantly available from the magnetic and electric wave distributions of north/south pole thrust. 
The main idol is placed in the core center of the temple, known as “*Garbhagriha*” or *Moolasthanam*. In fact, the temple structure is built after the idol has been placed. 
This *Moolasthanam* is where earth’s magnetic waves are found to be maximum. We know that there are some copper plates, inscribed with Vedic scripts, buried beneath the Main Idol. What are they really? No, they are not God’s / priests’ flash cards when they forget the *shlokas*. The copper plate absorbs earth’s magnetic waves and radiates it to the surroundings. 
Thus a person regularly visiting a temple and walking clockwise around the Main Idol receives the beamed magnetic waves and his body absorbs it. 
This is a very slow process and a regular visit will let him absorb more of this positive energy. Scientifically, it is the positive energy that we all require to have a healthy life.
Posted in हिन्दू पतन

देश और धर्म पर कुठाराघात कैसे हो रहा है ?


देश और धर्म पर कुठाराघात कैसे हो रहा है ?

(१) विदेशी कम्पनियाँ सामान बेचने की आड़ में नंगेपन को बढ़ावा देकर स्त्री जाती का पतन कर रही है । क्योंकि हमारे देश में स्त्रीयाँ आज भी पतिव्रता हैं । तो यहीं मूल पर विदेशीयों द्वारा कुहाड़ा चलाया जा रहा है ।

(२) बालिवुड ने देश के युवाओं का चरित्र भ्रष्ट किया हुआ है । जिससे कि लड़के लड़कियाँ देश हित में सोचने के बजाए काल्पनिक फिल्मों को देख देख चरित्रहीन अभिनेताओं और अभिनेत्रीयों के पीछे पागल हो रहे हैं और इन चरित्रहीनों को अपना आदर्श मान रहे हैं ।

(३) सत्य सनातन वेद मत का प्रचार करने के बजाए प्रत्येक दिन नए नए धर्म गुरू स्त्रीयों और धन के मोह में नए नए मत स्थापित करके जाती को तोड़ रहे हैं । जैसे रामपाल, सत्य नारायण साईं, आसाराम, निर्मल बाबा, सुधाँशु महाराज आदि ।

(४) संस्कृत भाषा का गौरव अति न्यून है और अंग्रेज़ी जैसी महाभ्रष्ट भाषा को व्यर्थ ही बढ़ाया जा रहा है । इतना ही नहीं अब तो CBSE जैसा सरकारी बोर्ड भी संस्कृत को बढ़ावा देने के बजाये चीनी, जापानी, जर्मन आदि जैसी विदेशी भाषाओं को अधिक महत्व दे रहा है ।

(५) आधे और फटे कपड़े पहनकर फैशन के नाम पर युवा और युवतियाँ कूल ड्यूड और हौट बेब बन रहे हैं । और अधकचरी भाषा बोलकर गालियाँ बक कर अपनी उच्चता का परिचय देना चाहते हैं ।

(६) स्वदेशीय खेल जैसे कुश्ती, कबड्डी, घोड़सवारी, धनुरभ्यास आदि के स्थान पर क्रिकेट जैसे विदेशी खेल को झाड़ पर चढ़ाया हुआ है । और कुछ मूर्ख युवा लोग किसी स्थान पर खड़े खड़े ही हवा में हाथ घुमा कर बाल की पिच की कल्पना करके पिच देते नज़र आते हैं ।

(७) वेदों के यथार्थ विज्ञान पर शोध करने की बजाए । विदेशी वैज्ञानिक Stefen Hawkins जैसों की हाँ में हाँ मिलाते हैं । यानि कि किसी भी बात को प्रमाणित करने के लिए विदेशियों का सर्टिफिकेट लेना पड़ रहा है ।

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Mari bersama-sama tunjukkan CINTA kita terhadap ajaran Hindu yang penuh KEDAMAIAN


Mari bersama-sama tunjukkan CINTA kita terhadap ajaran Hindu yang penuh KEDAMAIAN

Mari bersama-sama tunjukkan CINTA kita terhadap ajaran Hindu yang penuh KEDAMAIAN

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

Join with me on www.scribd.com.


To,
All Friends,
Join with me on http://www.scribd.com.
Everday get ebooks on Geeta,Ramayan, Niti, Mahabhart learn sanskrit,sanskrit dictionary.etc.
1) Make your user Id on http://www.scribd.com
2) search Harshad Ashodiya
3) Join with me. & get thousand of ebooks
Harshad Ashodiya
4) You can join my harshad30.wordpress.com
Regards
Harshad Ashodiya
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

लकड़ी का कटोरा


लकड़ी का कटोरा

एक वृद्ध व्यक्ति अपने बहु – बेटे के यहाँ शहर रहने गया . उम्र के इस पड़ाव पर वह अत्यंत कमजोर हो चुका था , उसके हाथ कांपते थे और दिखाई भी कम देता था . वो एक छोटे से घर में रहते थे , पूरा परिवार और उसका चार वर्षीया पोता एक साथ डिनर टेबल पर खाना खाते थे . लेकिन वृद्ध होने के कारण उस व्यक्ति को खाने में बड़ी दिक्कत होती थी . कभी मटर के दाने उसकी चम्मच से निकल कर फर्श पे बिखर जाते तो कभी हाँथ से दूध छलक कर मेजपोश पर गिर जाता .

बहु -बेटे एक -दो दिन ये सब सहन करते रहे पर अब उन्हें अपने पिता की इस काम से चिढ होने लगी . “ हमें इनका कुछ करना पड़ेगा ”, लड़के ने कहा . बहु ने भी हाँ में हाँ मिलाई और बोली ,” आखिर कब तक हम इनकी वजह से अपने खाने का मजा किरकिरा रहेंगे , और हम इस तरह चीजों का नुक्सान होते हुए भी नहीं देख सकते .”

अगले दिन जब खाने का वक़्त हुआ तो बेटे ने एक पुरानी मेज को कमरे के कोने में लगा दिया , अब बूढ़े पिता को वहीँ अकेले बैठ कर अपना भोजन करना था . यहाँ तक की उनके खाने के बर्तनों की जगह एक लकड़ी का कटोरा दे दिया गया था , ताकि अब और बर्तन ना टूट -फूट सकें . बाकी लोग पहले की तरह ही आराम से बैठ कर खाते और जब कभी -कभार उस बुजुर्ग की तरफ देखते तो उनकी आँखों में आंसू दिखाई देते . यह देखकर भी बहु-बेटे का मन नहीं पिघलता ,वो उनकी छोटी से छोटी गलती पर ढेरों बातें सुना देते . वहां बैठा बालक भी यह सब बड़े ध्यान से देखता रहता , और अपने में मस्त रहता .

एक रात खाने से पहले , उस छोटे बालक को उसके माता -पिता ने ज़मीन पर बैठ कर कुछ करते हुए देखा , “तुम क्या बना रहे हो ?” पिता ने पूछा ,
बच्चे ने मासूमियत के साथ उत्तर दिया , “ अरे मैं तो आप लोगों के लिए एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ , ताकि जब मैं बड़ा हो जाऊं तो आप लोग इसमें खा सकें .” ,और वह पुनः अपने काम में लग गया . पर इस बात का उसके माता -पिता पर बहुत गहरा असर हुआ ,उनके मुंह से एक भी शब्द नहीं निकला और आँखों से आंसू बहने लगे . वो दोनों बिना बोले ही समझ चुके थे कि अब उन्हें क्या करना है . उस रात वो अपने बूढ़े पिता को वापस डिनर टेबल पर ले आये , और फिर कभी उनके साथ अभद्र व्यवहार नहीं किया