Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

The great Trichur Pooram, considered


Lord Shiva is beloved to those who are philosophically inclined.

The great Trichur Pooram, considered by UNESCO as one of the most beautiful sights in the world, takes place here.

This temple is known as Then Kailasam or the Abode of Lord Shiva in the South. Trichur is derived from Tri Siva Perur, the big town of the Lord !

After retrieving Kerala from the sea, Sage Parasurama did his first consecration here. He requested the Lord to show him the proper place to build a temple and the Lord showed him this spot. This is a huge temple, surrounded by 18 acres of teakwood trees ( Thekkin Kadu ) and the total area is 64 acres.

The parents of Sankara came to this Temple and prayed for a genius son. The Lord took incarnation as Bhagavan Sankara and wrote the famous Soundarya Lahari, a master treatise on Tantra Sastra, here.

When the great Vaishnavite poet-Seer Poonthanam came here from Guruvayur, the Lord showed Himself as Vishnu and told him all gods are one and the same.

When Sankara came here, he extolled Lord Shiva, but could not walk up to the temple of Parvathy. Then a baby girl came and offered him a cup of milk. Sankara told her that he doesnt have the Sakthi ( strength ) to receive the cup. The baby girl told him thus ” It is so because you have forgotten all about Sakthi ! “. Then Sankara realised his mistake and wrote the master treatise, the Soundarya Lahiri, extolling the Sacred Feminine, Shakti !

The photo given is that of Betelgeuse or Aridra. When the Moon tenants Aridra, Thiruvathira Festival is celebrated here. More info about this mighty Temple at

http://www.guruvayur4u.com/html/spiritualtourism16.htm

Spiritual Tourism XVI- Heavens on Earth – The Vadakkunnathan Siva Temple,Trichur
GURUVAYUR4U.COM
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

Some Hidden Mystery ……Sati Ma Location – Islamkot,Pakisatan


Some Hidden Mystery ……Sati Ma
Location – Islamkot,Pakisatan
In the Pakisan The Hindu Rajput community also worships the Kasu Ma Sati who is better known as Satimata (Mother Sati). Her memorial stone is located some five kilometers northeast of Vejhiar in Islamkot. Kasu Ma immolated herself with her son and became Satimata (Mother Sati) in the eighteenth century. She is the kulsati (lineage Sati) of Dohat Rathors of Tharparkar. Legend has it that Kasu Ma immolated herself with her son Harnath Dohat Rathor Rajput, who died in battle. It was the custom among the Rajputs that women would be mmolated with their dead husbands on the funeral pyre. Trial by fire was an act of truth (sat). The woman proved her satitva (sati-hood) by showing no physical pain at the time of the ordeal. According to Hindu belief, the sat protects the sati like an unguent, coating or armour. Death on the pyre is compared to the fire- bath agnisnan (fire-bath). When Harnath died in battle, his wife who belonged to the Kelan lineage of the Sodha Rajputs refused to become a sati. Her refusal to immolate herself with her husband earned a bad name for her and her caste. According to Rajput traditions and customs, it was a bad women not to become a sati. So, to compensate, the mother of Harnath, Kasu Ma, decided to cremate herself with her son and became Satimata.

Some Hidden Mystery ......Sati Ma 
Location - Islamkot,Pakisatan 
In the Pakisan The Hindu Rajput community also worships the Kasu Ma Sati who is better known as Satimata (Mother Sati). Her memorial stone is located some five kilometers northeast of Vejhiar in Islamkot. Kasu Ma immolated herself with her son and became Satimata (Mother Sati) in the eighteenth century. She is the kulsati (lineage Sati) of Dohat Rathors of Tharparkar. Legend has it that Kasu Ma immolated herself with her son Harnath Dohat Rathor Rajput, who died in battle. It was the custom among the Rajputs that women would be mmolated with their dead husbands on the funeral pyre. Trial by fire was an act of truth (sat). The woman proved her satitva (sati-hood) by showing no physical pain at the time of the ordeal. According to Hindu belief, the sat protects the sati like an unguent, coating or armour. Death on the pyre is compared to the fire- bath agnisnan (fire-bath). When Harnath died in battle, his wife who belonged to the Kelan lineage of the Sodha Rajputs refused  to become a sati. Her refusal to immolate herself with her husband earned a bad name for her and her caste. According to Rajput traditions and customs, it was a bad women not to become a sati. So, to compensate, the mother of Harnath, Kasu Ma, decided to cremate herself with her son and became Satimata.
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

British left due to INA, not Quit India


'The Indian National Army was a greater reason for Indian independence than the Quit India Movement,' argues the writer. Photo: On the fore, Bose inspecting INA troops in Singapore; Gandhi (inset) presiding over a prayer meeting.‘The Indian National Army was a greater reason for Indian independence than the Quit India Movement,’ argues the writer. Photo: On the fore, Bose inspecting INA troops in Singapore; Gandhi (inset) presiding over a prayer meeting.

Seven pieces of evidence bear it out.


Anuj DharWriting in his much-acclaimed book Indian Struggle, Subhas Chandra Bose stated, “Mahatma Gandhi has rendered and will continue to render phenomenal service to his country.” “But”, he added, “India’s salvation will not be achieved under his leadership.”

Nearly 70 years after power was transferred to Indian hands, sufficient information has come on record to give a new thrust to the old question: “Who brought India freedom — Gandhi or Bose?”

Of course, in attempting to answer this mother of all vexed queries, I am not committing the sacrilege of postulating that either of the two did not play a pivotal role in the struggle for freedom. It’s just an attempt to rank the No 1 — “the man of the match” in cricket parlance.

Well, I am sticking my neck out and batting for Subhas Chandra Bose. Not because some right wing historian has enlightened me, but because I see some relevant pieces of information which became known several years after Independence. Taking a look at them has shaped my thinking to arrive at this conclusion. If you disagree and have data negating the cumulating effect of following citations, please do offer your point of view. But make sure you stay away from argumentum ad hominem or simply reiterating your beliefs. Let the facts speak for themselves.

The people who were best positioned to answer the question were those who had an inside knowledge of the situation as it prevailed in India from 1942 to 1947. In 1942, Gandhi launched the Quit India movement. The view from the Bose’s side was that it was his suggestion in 1939 to serve a 6-month’s ultimatum on the British Government, which was accepted by Gandhi in totality in his Quit India resolution of August 1942. Prior to this, Gandhi was, as Bose himself stated repeatedly, most reluctant to launch a movement. This is what he wrote in Indian Struggle.

“On 6 September(1939), Mahatma Gandhi, after meeting the Viceroy, Lord Linlithgow, issued a press statement saying that in spite of the differences between India and Britain on the question of Indian independence, India should cooperate with Britain in her hour of danger. This statement came as a bombshell to the Indian people, who since 1927 had been taught by the Congress leaders to regard the next war as a unique opportunity for winning freedom.”

Be that as it may, the Quit India movement was launched in good earnest. Bose praised Gandhi’s stirring speech as he launched it. But, unfortunately, the movement was “crushed within 3 weeks”. Thus spake Khushwant Singh, someone who was not a fan of Subhas Bose. Anyhow, having lived through those times, Singh further explained: “The British were not evicted from India; they found it increasingly difficult to rule it and decided to call it a day.”

So what happened between 1942 and 1947 that made the British take the call? Conventional wisdom can be explained by way of 1954 Bollywood hit “दे दी हमें आज़ादी बिना खडग बिना ढाल/साबरमती के संत तू ने कर दिया कमाल”, which extols Gandhi for having singlehandedly delivered freedom to India solely through the non-violent means. Celebrated historians and researchers with all their experience and exposure (which doesn’t come easily to those who go against the current) can put it better. Prime Minister Narendra Modi seems to back it every now and then.

But how does one gloss over the other side of the story as it comes from records and statements crediting Bose with creating a situation that made the British take the decision?

There is a ground rule in journalism — and also in intelligence — that if 3 informed reliable sources independent of each other make similar statements, the sum of their statements has to as close to truth as one gets it.

So let’s try and connect some dots and see what story they tell.

  1. As late as 1946, Gandhi stated, “We shall be able to win freedom only through the principles the Congress has adopted for the past 30 years.” Gandhi’s own three pet principles were “truth, ahimsa and brahmacharya”. The first 2 are well-espoused by Gandhians, who rather not speak about the third for it is a blot on the Gandhian legacy.
  2. No one knew India’s internal situation better than the Director, Intelligence Bureau. One who thinks it’s the editor of some newspaper is superficial. Here’s what Sir Norman Smith, DIB, noted in a secret report of November 1945 that was declassified in the 1970s: “The situation in respect of the Indian National Army is one which warrants disquiet. There has seldom been a matter which has attracted so much Indian public interest and, it is safe to say, sympathy… the threat to the security of the Indian Army is one which it would be unwise to ignore.”
  3. An agreement of sort came from Lt General SK Sinha, former Governor of Jammu & Kashmir and Assam, who was one of the only 3 Indian officers posted in the Directorate of Military Operations in New Delhi in 1946. “There was considerable sympathy for the INA within the Army… It is true that fears of another 1857 had begun to haunt the British in 1946.” Sinha wrote this in 1976.
  4. Agreeing with this contention were a number of British MPs who met British Prime Minister Clement Attlee in February 1946. “There are two alternative ways of meeting this common desire (a) that we should arrange to get out, (b) that we should wait to be driven out. In regard to (b), the loyalty of the Indian Army is open to question; the INA have become national heroes….” This minute too was declassified in the 1970s.
  5. A most valuable light on the role of the INA was thrown by Bhimrao Ambedkar in February 1956, a few months before he passed away, in a tell-all interview to the BBC. “I don’t know how Mr Attlee suddenly agreed to give India independence… It seems to me from my own analysis that two things led the Labour party to take this decision: 1. The national army that was raised by Subhas Chandra Bose. The British had been ruling the country in the firm belief that whatever may happen in the country or whatever the politicians do, they will never be able to change the loyalty of soldiers. That was one prop on which they were carrying on the administration. And that was completely dashed to pieces.”
  6. The clincher of an argument came from Earl Attlee himself as he visited India in October 1956. Some 2 decades later, PB Chakravarty, Chief Justice of Calcutta High Court and acting Governor of West Bengal in 1956, recalled his talks with the former British PM in the following words: “Toward the end of our discussion I asked Attlee what was the extent of Gandhi’s influence upon the British decision to quit India. Hearing this question, Attlee’s lips became twisted in a sarcastic smile as he slowly chewed out the word, ‘m-i-n-i-m-a-l!”
  7. British historian Michael Edwardes fairly summed this up in his 1964 book, The Last Years of British India. “It slowly dawned upon the Government of India that the backbone of the British rule, the Indian Army, might now no longer be trustworthy. The ghost of Subhas Bose, like Hamlet’s father, walked the battlements of the Red Fort (where the INA soldiers were being tried), and his suddenly amplified figure overawed the conference that was to lead to Independence.”

These are a few of the many factoids that I’d like you to factor in to make your own assessment. As for me, I have been haunted by a lament of Bose which appears in a letter of his dated 21 November 1940. “In the past, it is we who have toiled and suffered and others have reaped the harvest. But how long will this go on?”

As Jawaharlal Nehru delivered his famous “Tryst with destiny” speech, not a word in it was devoted to Bose or his INA, but for whom the transfer of power wouldn’t have taken place in 1947.

Anuj Dhar is the author of bestseller India’s biggest cover-up (नेताजी रहस्य गाथा in Hindi).

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

भारतीयों की ताकत का राज़ उनकी उन्नत कृषि और गाय है जिसे वे गौमाता कह कर पुकारते है- रोबर्ट क्लाइव


 

भारतीयों की ताकत का राज़ उनकी उन्नत कृषि और गाय है जिसे वे गौमाता कह कर पुकारते है- रोबर्ट क्लाइव

हमारा देश लम्बे समय तक अंग्रेंजो का गुलाम रहा ,सेकड़ो वर्षो तक इस देश को अंग्रेंजो ने गुलाम बनाने की काफी तैयारी की थी
सन 1813 में अंग्रेंजो की संसद हाउस ऑफ़ कॉमन्स में एक बहस चली 24 जुन 1813 को वो बहस पूरी हुई और वहाँ से एक प्रस्ताव पारित किया
भारत में गरीबी पैदा करनी है भुखमरी लानी है भारत की समृदि को तोडन है इनको यदि शारीरिक और मानसिक रूप से कमज़ोर करना है
तो भारत की अर्थव्यवस्था को कमज़ोर करना पड़ेगा इसे बरबाद करना पड़ेगा
इसके लिय भारत का केन्द्र बिन्दु भारत की कृषि पद्धति को भी बरबाद करना पड़ेगा । भारत की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि पर टिकी हुई है
इनकी कृषि गाय पर टिकी हुई है गाय के बिना भारतीय कृषि हो नहीं सकती
दूसरा इनको ये पता चला के भारत के कोने कोने में गाय की पूजा होती है इनके 33 करोड़ देवी देवता इसमें वास करते है

तब उन्होंने एक बढ़ा फैसला लिया यदि भारतीय कृषि को बरबाद करना है भारतीय संस्कृति का नाश करना है तो गाय का नाश करना चाहिय
भारत मे पहला गौ का कत्लखाना 1707 ईस्वी में रॉबर्ट क्लाएव ने खोला था जिसमें गाय को काट कर उसके मॉस को अंग्रेंजी फोज़ को खिलाया जाने लगा
गो वंश का नाश शुरू हो गया।

बीच दौर में अंग्रेंजो को एक और महत्वपूर्ण बात पता चली के यदि गो वंश का नाश करना है तो उसके लिय जहाँ से इसकी उत्पति होती है उस नन्दी को मरवाना होगा
तो अग्रेंजो ने गाय से ज्यादा नन्दी का कत्ल करवाना शुरू किया।
1857 में मंगल पाण्डे को जब फांसी सजा हुई थी इसका मूल प्रश्न गाय का ही था इसी मूल प्रश्न से हिन्दुस्तान में क्रांति की शुरुआत हुई थी
उस जमाने में अंग्रेंजो ने पुरे भारत में लगभग 350 कत्लखाने खुलवाये|
1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा

1939 में लाहोर शहर में अंग्रेंजो ने एक मशीनी कत्लखाना खोला बढे पैमाने में वहाँ गो और नंदी का कत्ल हो सकत था
इस कत्ल खाने को बंद करने के लिय सबसे जबरदस्त आंदोलन किया पंडित नेहरू ने और आंदोलन सफल भी हुआ
कत्लखाना बंद हो गया पंडित नेहरू ने कहा यदि वो अज़ाद हिंदुस्तान के किसी महत्वपूर्ण पद पर पहुंचे तो वो ऐसा कानून बना देंगे जिसे हिंदुस्तान में गाय का कत्ल बंद हो जायेगा
चांस की बात नेहरू भारत के सबसे उँचे शिखर पर बैठे और डॉ राजेन्द्र प्रसाद भारत के राष्ट्रपति बने

दुःख की बात ये है दोनों अपने शासन काल में गो के लिय ऐसा कोई कानून ही नहीं बना पाये| बाकी बहुत सारे कानून उन्होंने बनाये
आज अज़ादी के 67 साल में पुरे भारत में लगभग 36000 कत्लखाने है जिसमें कुछ कत्लखाने ऐसे है जिसमें 10 हज़ार पशु रोज़ काटे जाते है
भारत वर्तमान में विश्व का 3 नम्बर गो मॉस निर्यात करने वाला देश बन गया है
भविष्य में इन कत्ल खानो को हाई टेक किया जाना है
अंग्रेंजो ने 1910 से 1940 तक लगभग 10 करोड़ से ज्यादा गो वंश को खत्म किया गया ।

अज़ादी के 50 साल बाद 1947 से 1997 तक लगभग 48 करोड़ गो वंश का नाश किया जा चूका है
अगर भारत में इन 48 करोड़ गो वंश को यदि बचा लिया गया होता तो भारत में सम्पति और सम्पदा कितनी होती पैसा कितना होता
एक गाय 1 साल में 25 हज़ार रुपय का फ़र्टिलाइज़र (खाद ) पैदा करती है जो हम फ़र्टिलाइज़र करोडो रुपय का आयात करते है वो करोडो रूपया बचता
यदि 48 करोड़ गाय बचती तो हमने कितनी खाद का नुकसान किया है
1 गाय यदि 1 साल में 10 से 15 हज़ार रुपय का दूध देती हो तो कितने रुपय का नुकसान हुआ है गाय के दूध,मूत्र से 108 तरह की दवाये बनती है
कैंसर,मधुमेह तक का इलाज़ है गाय के मूत्र में
भारत को पेट्रोल और डीज़ल बहार से आयात करना पढ़ता है
बायो गैस से भारत की पेट्रोल, डीज़ल,गैस सिलेंडर और बेरोज़गारी की समस्या को भी ख़त्म किया जा सकता है ये पशुधन कितनी बचत कर सकता है आप सोचिय जरा ??

और अधिक जानकारी के लिय लिंक पर क्लिक करे
http://www.youtube.com/watch?v=fesnFAGYK4A

10665877_871581589528468_2445818551969231671_n

Posted in रामायण - Ramayan

Mentioned in RAMAYANA :The Trident of Peru Mysteries Revealed


‪#‎SHARE‬ with Great Pride
Mentioned in RAMAYANA :The Trident of Peru Mysteries Revealed
(Scroll down for Hindi )

Source: Vaastav Ramayana By Dr. Vartak / ‪#‎AIUFO‬ Admin team
Dr. P. V. Vartak from Pune has written a researched version of Ramayana which is titled Vastav Ramayan (Real Ramayana). According to this version, South America was known during the Ramayan era. Indians migrated to South America which is called “Patal Lok” in sanskrit.

The book highlights many places in South America which reflect Indian culture, such as a Sun Temple, Elephants, Lord Ganesha, snakes carved on ancient monuments and even Lord Hanuman, etc.

In Ramayan, when King Sugriv directs his men in all directions in search of Sita, the wife of Sri Rama (who ruled India from the city of Ayodhya), after she is abducted by Ravana, the king of the mighty Lanka kingdom. He instructs one group to go towards the east direction and asked them to look for a Trident etched on a mountain. King Surgive says that the Trident is “A long Golden flag-stick with three limbs stuck on top. It always glitters in when seen from sky”.
This trident is on the west coast of Peru – Lima and it really can be seen glittering from the sky even today! Trident is called The Paracas Candelabra of the Andes. The Ramayana refers to the Andes as the ‘Udaya’ Mountains. ‘Udaya’ (उदय) is Sanskrit for ‘Sunrise’.

The perfect description can only mean that either Sugriv or somebody even earlier must have seen this trident from the sky, probably from an airplane (Vimana)! Around 100 miles from this hill with the Trident, there are the now well known Nazca lines, massive geometric shapes drawn on land spread over miles. These can be seen only from the sky. Was it an ancient airport?

Dr. Vartak says that the trident, a sign of the east was created by Lord Vishnu around 15000 – 17000 years ago. And the Nazca lines, according to him, are the signs of the ancient airport of King Bali, Sugriva’s brother, around 15000 years ago! It may be also be noted that Maya, who started the Mayan civilization, is also mentioned in Ramayan as Ravana’s friend who eventually assisted him in the war with Ram. Ravana, as is well-known was a friend of Bali too. So were Bali and Maya close associates too?

In Ramayana, Sage Valmiki describes about a circular city which is towards west of bharata khanda (India). This could be the city of Yerevan in Armenia, which is one of the oldest continually inhabited cities of the world.

In ‪#‎Hindi‬ : महान गर्व साथ #SHARE
रामायण में उल्लेख किया: पेरू रहस्यों का पता चला की ट्रिडेंट

स्रोत: वास्तव रामायण द्वारा डा. Vartak / #AIUFO व्यवस्थापक टीम
डॉ. पी. वी. Vartak पुणे से रामायण Vastav रामायण (असली रामायण) शीर्षक से है जो की एक शोध संस्करण में लिखा है। इस संस्करण के अनुसार, रामायण युग के दौरान दक्षिण अमेरिका जाना जाता था। भारतीयों दक्षिण अमेरिका, जो संस्कृत में “Patal लोक” कहा जाता है के लिए चले गए।

ऐसे एक सूर्य मंदिर, हाथियों, गणेशजी, खुदी पर प्राचीन स्मारकों और यहां तक कि प्रभु हनुमान, साँप के रूप में किताब जो भारतीय संस्कृति को प्रतिबिंबित दक्षिण अमेरिका में कई जगहों पर प्रकाश डाला गया आदि।

रामायण, जब राजा Sugriv सीता, श्री रामा, (जो भारत के शहर अयोध्या से शासन) की पत्नी की तलाश में सभी दिशाओं में उनके पुरुषों के निर्देशन में करने के बाद वह रावण, पराक्रमी किंगडम लंका के राजा द्वारा अपहरण कर लिया है। वह एक समूह को पूर्व दिशा की ओर जाने के लिए निर्देश देता है और एक त्रिशूल एक पहाड़ पर etched के लिए देखो करने के लिए उन से पूछा। राजा Surgive का कहना है कि ट्रिडेंट “एक लंबे समय गोल्डन झंडा-छड़ी के साथ तीन अंग शीर्ष पर अटक गया। यह हमेशा में जब देखा आसमान से चमकती है”।
पेरू के पश्चिम तट पर इस त्रिशूल है-लीमा और यह वास्तव में शानदार आसमान से आज भी देखा जा सकता है! ट्रिडेंट Andes के Paracas Candelabra कहा जाता है। रामायण के Andes के रूप में ‘उदय’ पहाड़ों को संदर्भित करता है। ‘उदय’ (उदय) संस्कृत के लिए ‘सूर्योदय’ है।

परिपूर्ण वर्णन केवल मतलब कर सकते हैं कि या तो Sugriv या किसी ने पहले भी इस त्रिशूल से आकाश, एक हवाई जहाज (Vimana) से शायद देखा होगा! ट्रिडेंट के साथ इस पहाड़ी से लगभग 100 मील की दूरी पर वहाँ हैं अब अच्छी तरह से ज्ञात Nazca लाइन्स, बड़े पैमाने पर ज्यामितीय आकृतियों से अधिक मील की दूरी पर फैला भूमि पर खींचा। ये आसमान से ही देखा जा सकता है। यह प्राचीन हवाई अड्डा था?

डॉ. Vartak का कहना है कि ट्रिडेंट, पूर्व का संकेत लगभग 15000-17000 साल पहले भगवान विष्णु द्वारा बनाया गया था। और Nazca लाइन्स, उसके अनुसार, 15000 साल पहले के आसपास के प्राचीन हवाई अड्डे के राजा बाली, Sugriva के भाई, संकेत मिल रहे हैं! यह हो सकता हो भी ध्यान दिया जाना माया, जो Mayan सभ्यता है शुरू कर दिया, भी रामायण में रावण के दोस्त है जो अंततः उसे युद्ध में राम के साथ की सहायता के रूप में उल्लेख किया है कि। के रूप में अच्छी तरह से जाना जाता है रावण, बाली के एक दोस्त भी था। तो बाली थे और माया एसोसिएट्स भी बंद कर दें?

रामायण में ऋषि वाल्मीकि एक परिपत्र शहर जो भरत khanda (भारत) के पश्चिम की ओर है के बारे में बताता है। यह येरेवन के शहर में आर्मेनिया, जो दुनिया का सबसे पुराना लगातार आबाद शहरों में से एक है हो सकता है।

In #Hindi : महान गर्व साथ #SHARE
रामायण में उल्लेख किया: पेरू रहस्यों का पता चला की ट्रिडेंट (Scroll down for #English)

स्रोत: वास्तव रामायण द्वारा डा. Vartak / #AIUFO व्यवस्थापक टीम
डॉ. पी. वी. Vartak पुणे से रामायण Vastav रामायण (असली रामायण) शीर्षक से है जो की एक शोध संस्करण में लिखा है। इस संस्करण के अनुसार, रामायण युग के दौरान दक्षिण अमेरिका जाना जाता था। भारतीयों दक्षिण अमेरिका, जो संस्कृत में "Patal लोक" कहा जाता है के लिए चले गए।

ऐसे एक सूर्य मंदिर, हाथियों, गणेशजी, खुदी पर प्राचीन स्मारकों और यहां तक कि प्रभु हनुमान, साँप के रूप में किताब जो भारतीय संस्कृति को प्रतिबिंबित दक्षिण अमेरिका में कई जगहों पर प्रकाश डाला गया आदि।

रामायण, जब राजा Sugriv सीता, श्री रामा, (जो भारत के शहर अयोध्या से शासन) की पत्नी की तलाश में सभी दिशाओं में उनके पुरुषों के निर्देशन में करने के बाद वह रावण, पराक्रमी किंगडम लंका के राजा द्वारा अपहरण कर लिया है। वह एक समूह को पूर्व दिशा की ओर जाने के लिए निर्देश देता है और एक त्रिशूल एक पहाड़ पर etched के लिए देखो करने के लिए उन से पूछा। राजा Surgive का कहना है कि ट्रिडेंट "एक लंबे समय गोल्डन झंडा-छड़ी के साथ तीन अंग शीर्ष पर अटक गया। यह हमेशा में जब देखा आसमान से चमकती है"।
पेरू के पश्चिम तट पर इस त्रिशूल है-लीमा और यह वास्तव में शानदार आसमान से आज भी देखा जा सकता है! ट्रिडेंट Andes के Paracas Candelabra कहा जाता है। रामायण के Andes के रूप में 'उदय' पहाड़ों को संदर्भित करता है। 'उदय' (उदय) संस्कृत के लिए 'सूर्योदय' है।

परिपूर्ण वर्णन केवल मतलब कर सकते हैं कि या तो Sugriv या किसी ने पहले भी इस त्रिशूल से आकाश, एक हवाई जहाज (Vimana) से शायद देखा होगा! ट्रिडेंट के साथ इस पहाड़ी से लगभग 100 मील की दूरी पर वहाँ हैं अब अच्छी तरह से ज्ञात Nazca लाइन्स, बड़े पैमाने पर ज्यामितीय आकृतियों से अधिक मील की दूरी पर फैला भूमि पर खींचा। ये आसमान से ही देखा जा सकता है। यह प्राचीन हवाई अड्डा था?

डॉ. Vartak का कहना है कि ट्रिडेंट, पूर्व का संकेत लगभग 15000-17000 साल पहले भगवान विष्णु द्वारा बनाया गया था। और Nazca लाइन्स, उसके अनुसार, 15000 साल पहले के आसपास के प्राचीन हवाई अड्डे के राजा बाली, Sugriva के भाई, संकेत मिल रहे हैं! यह हो सकता हो भी ध्यान दिया जाना माया, जो Mayan सभ्यता है शुरू कर दिया, भी रामायण में रावण के दोस्त है जो अंततः उसे युद्ध में राम के साथ की सहायता के रूप में उल्लेख किया है कि। के रूप में अच्छी तरह से जाना जाता है रावण, बाली के एक दोस्त भी था। तो बाली थे और माया एसोसिएट्स भी बंद कर दें?

रामायण में ऋषि वाल्मीकि एक परिपत्र शहर जो भरत khanda (भारत) के पश्चिम की ओर है के बारे में बताता है। यह येरेवन के शहर में आर्मेनिया, जो दुनिया का सबसे पुराना लगातार आबाद शहरों में से एक है हो सकता है। 

#SHARE with Great Pride 
Mentioned in RAMAYANA :The Trident of Peru Mysteries Revealed 
(Scroll down for Hindi )

Source: Vaastav Ramayana By  Dr. Vartak / #AIUFO Admin team
Dr. P. V. Vartak from Pune has written a researched version of Ramayana which is titled Vastav Ramayan (Real Ramayana). According to this version, South America was known during the Ramayan era. Indians migrated to South America which is called “Patal Lok” in sanskrit.

The book highlights many places in South America which reflect Indian culture, such as a Sun Temple, Elephants, Lord Ganesha, snakes carved on ancient monuments and even Lord Hanuman, etc.

In Ramayan, when King Sugriv directs his men in all directions in search of Sita, the wife of Sri Rama (who ruled India from the city of Ayodhya), after she is abducted by Ravana, the king of the mighty Lanka kingdom. He instructs one group to go towards the east direction and asked them to look for a Trident etched on a mountain.  King Surgive says that the Trident is “A long Golden flag-stick with three limbs stuck on top. It always glitters in when seen from sky”.
This trident is on the west coast of Peru – Lima and it really can be seen glittering from the sky even today! Trident is called The Paracas Candelabra of the Andes. The Ramayana refers to the Andes as the ‘Udaya’ Mountains. ‘Udaya’ (उदय) is Sanskrit for ‘Sunrise’.

The perfect description can only mean that either Sugriv or somebody even earlier must have seen this trident from the sky, probably from an airplane (Vimana)! Around 100 miles from this hill with the Trident, there are the now well known Nazca lines, massive geometric shapes drawn on land spread over miles. These can be seen only from the sky. Was it an ancient airport?

Dr. Vartak says that the trident, a sign of the east was created by Lord Vishnu around 15000 – 17000 years ago. And the Nazca lines, according to him, are the signs of the ancient airport of King Bali, Sugriva’s brother, around 15000 years ago! It may be also be noted that Maya, who started the Mayan civilization, is also mentioned in Ramayan as Ravana’s friend who eventually assisted him in the war with Ram. Ravana, as is well-known was a friend of Bali too. So were Bali and Maya close associates too?

In Ramayana, Sage Valmiki describes about a circular city which is towards west of bharata khanda (India). This could be the city of Yerevan in Armenia, which is one of the oldest continually inhabited cities of the world.

In #Hindi : महान गर्व साथ #SHARE
रामायण में उल्लेख किया: पेरू रहस्यों का पता चला की ट्रिडेंट

स्रोत: वास्तव रामायण द्वारा डा. Vartak / #AIUFO व्यवस्थापक टीम
डॉ. पी. वी. Vartak पुणे से रामायण Vastav रामायण (असली रामायण) शीर्षक से है जो की एक शोध संस्करण में लिखा है। इस संस्करण के अनुसार, रामायण युग के दौरान दक्षिण अमेरिका जाना जाता था। भारतीयों दक्षिण अमेरिका, जो संस्कृत में "Patal लोक" कहा जाता है के लिए चले गए।

ऐसे एक सूर्य मंदिर, हाथियों, गणेशजी, खुदी पर प्राचीन स्मारकों और यहां तक कि प्रभु हनुमान, साँप के रूप में किताब जो भारतीय संस्कृति को प्रतिबिंबित दक्षिण अमेरिका में कई जगहों पर प्रकाश डाला गया आदि।

रामायण, जब राजा Sugriv सीता, श्री रामा, (जो भारत के शहर अयोध्या से शासन) की पत्नी की तलाश में सभी दिशाओं में उनके पुरुषों के निर्देशन में करने के बाद वह रावण, पराक्रमी किंगडम लंका के राजा द्वारा अपहरण कर लिया है। वह एक समूह को पूर्व दिशा की ओर जाने के लिए निर्देश देता है और एक त्रिशूल एक पहाड़ पर etched के लिए देखो करने के लिए उन से पूछा। राजा Surgive का कहना है कि ट्रिडेंट "एक लंबे समय गोल्डन झंडा-छड़ी के साथ तीन अंग शीर्ष पर अटक गया। यह हमेशा में जब देखा आसमान से चमकती है"।
पेरू के पश्चिम तट पर इस त्रिशूल है-लीमा और यह वास्तव में शानदार आसमान से आज भी देखा जा सकता है! ट्रिडेंट Andes के Paracas Candelabra कहा जाता है। रामायण के Andes के रूप में 'उदय' पहाड़ों को संदर्भित करता है। 'उदय' (उदय) संस्कृत के लिए 'सूर्योदय' है।

परिपूर्ण वर्णन केवल मतलब कर सकते हैं कि या तो Sugriv या किसी ने पहले भी इस त्रिशूल से आकाश, एक हवाई जहाज (Vimana) से शायद देखा होगा! ट्रिडेंट के साथ इस पहाड़ी से लगभग 100 मील की दूरी पर वहाँ हैं अब अच्छी तरह से ज्ञात Nazca लाइन्स, बड़े पैमाने पर ज्यामितीय आकृतियों से अधिक मील की दूरी पर फैला भूमि पर खींचा। ये आसमान से ही देखा जा सकता है। यह प्राचीन हवाई अड्डा था?

डॉ. Vartak का कहना है कि ट्रिडेंट, पूर्व का संकेत लगभग 15000-17000 साल पहले भगवान विष्णु द्वारा बनाया गया था। और Nazca लाइन्स, उसके अनुसार, 15000 साल पहले के आसपास के प्राचीन हवाई अड्डे के राजा बाली, Sugriva के भाई, संकेत मिल रहे हैं! यह हो सकता हो भी ध्यान दिया जाना माया, जो Mayan सभ्यता है शुरू कर दिया, भी रामायण में रावण के दोस्त है जो अंततः उसे युद्ध में राम के साथ की सहायता के रूप में उल्लेख किया है कि। के रूप में अच्छी तरह से जाना जाता है रावण, बाली के एक दोस्त भी था। तो बाली थे और माया एसोसिएट्स भी बंद कर दें?

रामायण में ऋषि वाल्मीकि एक परिपत्र शहर जो भरत khanda (भारत) के पश्चिम की ओर है के बारे में बताता है। यह येरेवन के शहर में आर्मेनिया, जो दुनिया का सबसे पुराना लगातार आबाद शहरों में से एक है हो सकता है।
The Sanskrit shloka, from the Valmiki Ramayan is the one in which these instructions can be seen: (Kishkindha-39/47-48)
Ancient Indian UFO's photo.
Nazca lines
Posted in संस्कृत साहित्य

शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है क्या है इसमें वैज्ञानिक पक्ष ?


“शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है क्या है इसमें वैज्ञानिक पक्ष ?

भगवान शिव को विश्वास का प्रतीक माना गया है क्योंकि उनका अपना चरित्र अनेक विरोधाभासों से भरा हुआ है जैसे शिव का अर्थ है जो शुभकर व कल्याणकारी हो, जबकि शिवजी का अपना व्यक्तित्व इससे जरा भी मेल नहीं खाता, क्योंकि वे अपने शरीर में इत्र के स्थान पर चिता की राख मलते हैं तथा गले में फूल-मालाओं के स्थान पर विषैले सर्पों को धारण करते हैं | वे अकेले ही ऐसे देवता हैं जो लिंग के रूप में पूजे जाते हैं | सावन में शिवलिंग पर दूध चढ़ाने का विशेष महत्व माना गया है | इसीलिए शिव भक्त सावन के महीने में शिवजी को प्रसन्न करने के लिए उन पर दूध की धार अर्पित करते हैं |

पुराणों में भी कहा गया है कि इससे पाप क्षीण होते हैं | लेकिन सावन में शिवलिंग पर दूध चढ़ाने का सिर्फ धार्मिक ही नहीं वैज्ञानिक महत्व भी है | सावन के महीने में दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। शिव ऐसे देव हैं जो दूसरों के कल्याण के लिए हलाहल भी पी सकते हैं | इसीलिए सावन में शिव को दूध अर्पित करने की प्रथा बनाई गई है क्योंकि सावन के महीने में गाय या भैस घास के साथ कई ऐसे कीड़े-मकोड़ो को भी खा जाती है | जो दूध को स्वास्थ्य के लिए गुणकारी के बजाय हानिकारक बना देती है | इसीलिए सावन मास में दूध का सेवन न करते हुए उसे शिव को अर्पित करने का विधान बनाया गया है |
आयुर्वेद कहता है कि वात-पित्त-कफ इनके असंतुलन से बीमारियाँ होती हैं और श्रावण के महीने में वात की बीमारियाँ सबसे ज्यादा होती हैं| श्रावण के महीने में ऋतू परिवर्तन के कारण शरीर मे वात बढ़ता है| इस वात को कम करने के लिए क्या करना पड़ता है ? ऐसी चीज़ें नहीं खानी चाहिएं जिनसे वात बढे, इसलिए पत्ते वाली सब्जियां नहीं खानी चाहिएं और उस समय पशु क्या खाते हैं ?
सब घास और पत्तियां ही तो खाते हैं| इस कारण उनका दूध भी वात को बढाता है | इसलिए आयुर्वेद कहता है कि श्रावण के महीने में दूध नहीं पीना चाहिए| इसलिए श्रावण मास में जब हर जगह शिव रात्रि पर दूध चढ़ता था तो लोग समझ जाया करते थे कि इस महीने मे दूध विष के सामान है, स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है, इस समय दूध पिएंगे तो वाइरल इन्फेक्शन से बरसात की बीमारियाँ फैलेंगी और वो दूध नहीं पिया करते थे |

बरसात में भी बहुत सारी चीज़ें होती हैं लेकिन हम उनको दीवाली के बाद अन्नकूट में कृष्ण भोग लगाने के बाद ही खाते थे (क्यूंकि तब वर्षा ऋतू समाप्त हो चुकी होती थी)| एलोपैथ कहता है कि गाजर मे विटामिन ए होता है आयरन होता है लेकिन आयुर्वेद कहता है कि शिव रात्रि के बाद गाजर नहीं खाना चाहिए इस ऋतू में खाया गाजर पित्त को बढाता है तो बताओ अब तो मानोगे ना कि वो शिवलिंग पर दूध चढाना समझदारी है ?

ज़रा गौर करो, हमारी परम्पराओं के पीछे कितना गहन विज्ञान छिपा हुआ है | ये इस देश का दुर्भाग्य है कि हमारी परम्पराओं को समझने के लिए जिस विज्ञान की आवश्यकता है वो हमें पढ़ाया नहीं जाता और विज्ञान के नाम पर जो हमें पढ़ाया जा रहा है उस से हम अपनी परम्पराओं को समझ नहीं सकते |

जिस संस्कृति की कोख से हमने जन्म लिया है वो सनातन है, विज्ञान को परम्पराओं का जामा इसलिए पहनाया गया है ताकि वो प्रचलन बन जाए और हम भारतवासी सदा वैज्ञानिक जीवन जीते रहें | ”

Posted in भारत गौरव - Mera Bharat Mahan

जागो भारत के शेर, अपनी महिमा को जानों….. MUST share


मित्रों इस विडियो को इतना शेयर करो की हर भारतीय तक पहुचे

जागो भारत के शेर, अपनी महिमा को जानों….. MUST share
प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है कि अति प्राचीन हिन्दू सनातन धर्म की महिमा से सभी को अवगत करायें ।।
{So That Pls. Share}
(जरूर देखें विडियो)
हिन्दुस्तान का “प्राचीनतम इतिहास” “MODERN SCIENCE” से भी आगे है ।
— जब साँईस नाम भी नहीं था तब भारत में नवग्रहों की पूजा होती थी ।
— जब पश्चिम के लोग कपडे पहनना नहीं जानते थे तब भारत रेशम के कपडों का व्यापार करता था ।
— जब कहीं भ्रमण करने का कोई साधन स्कूटर मोटर साईकल, जहाज वगैरह नहीं थे तब भारत के पास बडे बडे वायु विमान हुआ करते थे ।
(इसका उदाहरण आज भी अमेरिका में निकला महाभारत कालीन विमान है जिसके पास जाते ही वहाँ के सैनिक गायब हो जाते हैं । जिसे देखकर आज का विज्ञान भी हैरान है) ।
— जब डाक्टर्स नहीं थे तब सहज में स्वस्थ होने की बहुत सी औषधियों का ज्ञाता था भारत देश सौर ऊर्जा की शक्ति का ज्ञाता था भारत देश । चरक और धनवंतरी जैसे महान आयुर्वेद के आचार्य थे भारत देश में ।
— जब लोगों के पास हथियार के नाम पर लकडी के टुकडे हुआ करते थे उस समय भारत देश ने आग्नेयास्त्र, प्राक्षेपास्त्र, वायव्यअस्त्र बडे-बडे परमाणूँ भयंकर हथियारों का ज्ञाता था भारत ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके अल्बर्ट आईंसटाईन पातंजली योग विज्ञान पद्धती से अणु परमाणु खोज सकता है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके नासा अंतरिक्ष में ग्रहों की खोज कर रहा है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके रशिया और अमेरीका बडे बडे हथियार बना रहा है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके रूस, ब्रिटेन, अमेरीका, थाईलैंड, इंडोनेशिया बडे बडे देश बचपन से ही बच्चों को संस्कृत सिखा रहे हैं स्कूलों में ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके वहाँ के डाक्टर्स बिना इंजेक्शन, बिना अंग्रेजी दवाईयों के केवल ओमकार का जप करने से लोगों के हार्ट अटैक, बीपी, पेट, सिर, गले छाती की बडी बडी बिमारियाँ ठीक कर रहे हैं । ओमकार थैरपी का नाम देकर इस नाम से बडे बडे होस्पिटल खोल रहे हैं ।
— और हम किस दुनिया में जी रहे हैं अपने इतिहास पर गौरव करने की बजाय हम अपने इतिहास को भूलते जा रहे हैं । हम अपनी महिमा को भूलते जा रहे हैं । हम अपने संस्कारों को भूलते जा रहे हैं । हम अपने संतों, शास्त्रों, पुराणों, महापुरुषों का अनादर कर रहे हैं । जागों हिन्दू वीरों आज देश की आन तुम्हें बुला रही है ।
इतिहास हमारा, शक्ति हमारी, रिसर्च हमारी, आयुर्वेद हमारा, योग हमारा, दिव्य शक्तियाँ हमारी पाश्चात्य खोज कर रहा है हम पर और हम अपने आप की महिमा को भूल चूके हैं जब वो हम पर रिसर्च करके हमसे तगडा बन सकता है तो हम तो इसी मिट्टी के लाल हैं जागो और ढूँढो अपने गौरवशाली इतिहास को दिखा दो देश को के हिन्दूस्तान से बढकर कोई नहीं ।
गर्व करो आप हिन्दूस्तान में जन्में हो । हजारों लाखों साल पूरे विश्व का सिरमौर था ये भारत देश 100 साल अंग्रेज आये 500 साल मुगल आये पर लाखों करोडों वर्षों से हिन्दूस्तान ने पूरे विश्व पर शासन किया है आप उस विश्व की सबसे प्राचिन शक्तिशाली धरा के वंशज हो । क्यों भूल गये अपनी महिमा को ।
जागो भारत के शेर, अपनी महिमा को जानों……
हिन्दुस्तान का प्राचीनतम इतिहास Mordand Saince से भी आगे है ।

— जब साँईस नाम भी नहीं था तब भारत में नवग्रहों की पूजा होती थी ।
— जब पश्चिम के लोग कपडे पहनना नहीं जानते थे तब भारत रेशम के कपडों का व्यापार करता था ।
— जब कहीं भ्रमण करने का कोई साधन स्कूटर मोटर साईकल, जहाज वगैरह नहीं थे तब भारत के पास बडे बडे वायु विमान हुआ करते थे । (इसका उदाहरण आज भी अमेरिका में निकला महाभारत कालीन विमान है जिसके पास जाते ही वहाँ के सैनिक गायब हो जाते हैं । जिसे देखकर आज का विज्ञान भी हैरान है) ।
— जब डाक्टर्स नहीं थे तब सहज में स्वस्थ होने की बहुत सी औषधियों का ज्ञाता था भारत देश सौर ऊर्जा की शक्ति का ज्ञाता था भारत देश । चरक और धनवंतरी जैसे महान आयुर्वेद के आचार्य थे भारत देश में ।
— जब लोगों के पास हथियार के नाम पर लकडी के टुकडे हुआ करते थे उस समय भारत देश ने आग्नेयास्त्र, प्राक्षेपास्त्र, वायव्यअस्त्र बडे बडे परमाणूँ भयंकर हथियारों का ज्ञाता था भारत ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके अल्बर्ट आईंसटाईन पातंजली योग विज्ञान पद्धती से अणु परमाणु खोज सकता है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके नासा अंतरिक्ष में ग्रहों की खोज कर रहा है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके रशिया और अमेरीका बडे बडे हथियार बना रहा है ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके रूस, ब्रिटेन, अमेरीका, थाईलैंड, इंडोनेशिया बडे बडे देश बचपन से ही बच्चों को संस्कृत सिखा रहे हैं स्कूलों में ।
— आज हमारे इतिहास पर रिसर्च करके वहाँ के डाक्टर्स बिना इंजेक्शन, बिना अंग्रेजी दवाईयों के केवल ओमकार का जप करने से लोगों के हार्ट अटैक, बीपी, पेट, सिर, गले छाती की बडी बडी बिमारियाँ ठीक कर रहे हैं । ओमकार थैरपी का नाम देकर इस नाम से बडे बडे होस्पिटल खोल रहे हैं ।

— और हम किस दुनिया में जी रहे हैं अपने इतिहास पर गौरव करने की बजाय हम अपने इतिहास को भूलते जा रहे हैं । हम अपनी महिमा को भूलते जा रहे हैं । हम अपने संस्कारों को भूलते जा रहे हैं । हम अपने संतों, शास्त्रों, पुराणों, महापुरुषों का अनादर कर रहे हैं । जागों हिन्दू वीरों आज देश की आन तुम्हें बुला रही है ।

इतिहास हमारा, शक्ति हमारी, रिसर्च हमारी, आयुर्वेद हमारा, योग हमारा, दिव्य शक्तियाँ हमारी पाश्चात्य खोज कर रहा है हम पर और हम अपने आप की महिमा को भूल चूके हैं जब वो हम पर रिसर्च करके हमसे तगडा बन सकता है तो हम तो इसी मिट्टी के लाल हैं जागो और ढूँढो अपने गौरवशाली इतिहास को दिखा दो देश को के हिन्दूस्तान से बढकर कोई नहीं ।

गर्व करो आप हिन्दूस्तान में जन्में हो । हजारों लाखों साल पूरे विश्व का सिरमौर था ये भारत देश 100 साल अंग्रेज आये 500 साल मुगल आये पर लाखों करोडों वर्षों से हिन्दूस्तान ने पूरे विश्व पर शासन किया है आप उस विश्व की सबसे प्राचिन शक्तिशाली धरा के वंशज हो । क्यों भूल गये अपनी महिमा को ।

Posted in हिन्दू पतन

कुछ जानने और समझने योग्य कटु सत्य—


कुछ जानने और समझने योग्य कटु सत्य—
क्या आप समझ सकते हैं …????

1 )

अगर आप खोटालेबाज है आपने कितना चारा खाया तो कोई फर्क नही पड़ता । आपको जमानत मिल सकता है ।
|
लालूप्रसाद

( 2 )

अगर आपने अवैध हथियार रखा है और पकड़े गए तो भी आपको पेरोल पे छूटकर मौज कर सकते है ।
|
संजय दत्त

( 3 )

अगर आप अपने महिला सहयोगी से छेड़छाड़ करते है और cctv फुटेज में साबित हो जाता है तो भी आपको जमानत मिल जायेगा ।
|
तरुण तेजपाल

1) 2) 3 )4)

लेकिन

आप अगर एक सच्चे संत है और कोई भी सबूत आपके खिलाफ न हो, और आप
75 वर्ष के हो और बीमार भी हो तो आपको इलाज के लिए भी इजाजत नही मिलेगा और न ही आपको जमानत भी मिलेगा ।क्यों कि आप भारत के संत हैं और हिन्दू संस्कृति की रक्षा की आपने जिम्मेदारी ली है ।
|
संत श्री आशाराम बापू

??????????????????????????????????

ये है हमारे जागरूक भारत का न्याय !!!…..???

क्या यह न्याय सही है ???

अगर नही — !!
तो —
आप खुलकर इस समस्या का विरोध करे और
मांग करे कि निर्दोष लोगों को जेल क्यों और भ्रष्टाचारी, आतंकवादी और फरेबियों को बेल क्यों ???

अगर आप विरोध नही करते हैं तो आप भ्रष्टाचारी ,क्रिमनल ,और रेपिस्ट को समर्थन करते है और आप उससे कम गुनाहगार नही हैं ।

*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*
*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*

॥ॐ॥ हिन्दुत्व ॥ॐ॥ भारतीय संस्कृति, साहित्य, समाज और भारत के संत ।'s photo.
॥ॐ॥ हिन्दुत्व ॥ॐ॥ भारतीय संस्कृति, साहित्य, समाज और भारत के संत ।'s photo.
॥ॐ॥ हिन्दुत्व ॥ॐ॥ भारतीय संस्कृति, साहित्य, समाज और भारत के संत ।'s photo.
॥ॐ॥ हिन्दुत्व ॥ॐ॥ भारतीय संस्कृति, साहित्य, समाज और भारत के संत ।'s photo.
Posted in Media

राजदीप सरदेसाई और उसकी पत्नी सागरिका घोष का काला सच ….


राजदीप सरदेसाई और उसकी पत्नी सागरिका घोष का काला सच ....

टाइम्स ऑफ इंडिया के मालिक समीर जैन के उपर एक ताकतवर नौकरशाह प्रसार भारती के महानिदेशक भाष्कर घोष का बार बार दबाव आता था की मेरी बेटी सागरिका घोष और मेरे दामाद राजदीप सरदेसाई को टाइम्स ऑफ़ इंडिया का सम्पादक बनाओ ..बदले में सरकारी फायदा लो .. अपने सम्पादक को बुलाया और कहा- ‘‘पडगांवकर जी, अब आपकी छुट्टी की जाती है .... क्योकि मुझे भी अपना बिजनस चलाना है .. एक नौकरशाह की बेटी और उसके बेरोजगार पति जिससे उसने प्रेम विवाह किया है उसे नौकरी देनी है वरना सरकारी विज्ञापन मिलने बंद हो जायेंगे ....

भाष्कर घोष का एक और सगा रिश्तेदार था प्रणव रॉय ... ये प्रणव रॉय अपने अंकल भाष्कर घोष की मेहरबानी से दूरदर्शन पर हर रविवार "इंडिया दिस वीक" नामक कार्यक्रम करते थे .... उसकी पत्नी घोर वामपंथी नेता वृंदा करात की सगी बहन थी ...

उस समय दूरदर्शन के लिए खूब सारे नये नये उपकरण और साजोसमान खरीदे जा रहे थे ..उस समय विपक्ष के नाम पर सिर्फ वामपथी पार्टी ही थी बीजेपी के सिर्फ दो सांसद थे ..
प्रणव रॉय ने अपने अंकल भाष्कर घोष के कहने पर न्यू देहली टेलीविजन कम्पनी लिमिटेड [एनडीटीवी] नामक कम्पनी बनाई और दूरदर्शन के लिए खरीदे जा रहे तमाम उपकरण धीरे धीरे एनडीटीवी के दफ्तर में लगने लगे ... और एक दिन अचानक एनडीटीवी नामक चैनेल बन गया ... बाद में भाष्कर घोष पर भ्रष्टाचार के तमाम आरोप लगे जिससे उन्हें पद छोड़ना पड़ा लेकिन जाते जाते उन्होंने अपनी बेटी सागरिका और उसके बेरोजगार नालायक प्रेमी से पति बने राजदीप सरदेसाई की जिन्दगी बना दी थी ...

फिर कुछ दिन दोनों मियां बीबी एनडीटीवी में रहे .. बाद में राघव बहल नामक एक कारोबारी ने "चैनेल-सेवेन" जो बाद में आईबीएन सेवेन बना उसे लांच किया और ये दोनों मियां बीबी आईबीएन सेवेन में आ गये ... इन दोनों बंटी और बबली की जोड़ी ने अपने पारिवारिक रसूख का खूब फायदा उठाया ...आईबीएन में सागरिका घोष की मर्जी के बिना पत्ता भी नही हिलता था क्योकि सागरिका घोष की सगी आंटी अरुंधती घोष हैं -अरुंधती घोष संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थाई प्रतिनिधि थी -CNN-IBN का “ग्लोबल बिजनेस नेटवर्क” (GBN) से व्यावसायिक समझौता है। -GBN टर्नर इंटरनेशनल और नेटवर्क-18 की एक कम्पनी है। भारत में सीएनएन के पीछे अरुंधती घोष की ही लाबिंग थी जिसका फायदा राजदीप और सागरिका ने खूब उठाया |

सागरिका घोष की बड़ी आंटी रुमा पाल थी जिनके रसूख का फायदा भी इन दोनों बंटी और बबली की जोड़ी ने कांग्रेसी नेताओ के बीच पैठ जमाकर उठाया ... रुमा पाल भले ही सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ जज थी लेकिन उनके फैसले के पीछे सागरिका घोष और राजदीप की दलाली होती थी ...

बाद में वक्त का पहिया घुमा ... देश में मोदीवाद उभरा .. आईबीएन को मुकेश अंबानी ने खरीद लिया .. और इन दोनों दलालों बंटी राजदीप और बबली सागरिका को लात मारकर भगा दिया ... कुछ दिनों तक दोनों गायब रहे फिर बाद में अरुण पूरी के चैनेल आजतक पर नजर आने लगे ....

राजदीप सरदेसाई और उसकी पत्नी सागरिका घोष का काला सच ….

टाइम्स ऑफ इंडिया के मालिक समीर जैन के उपर एक ताकतवर नौकरशाह प्रसार भारती के महानिदेशक भाष्कर घोष का बार बार दबाव आता था की मेरी बेटी सागरिका घोष और मेरे दामाद राजदीप सरदेसाई को टाइम्स ऑफ़ इंडिया का सम्पादक बनाओ ..बदले में सरकारी फायदा लो .. अपने सम्पादक को बुलाया और कहा- ‘‘पडगांवकर जी, अब आपकी छुट्टी की जाती है …. क्योकि मुझे भी अपना बिजनस चलाना है .. एक नौकरशाह की बेटी और उसके बेरोजगार पति जिससे उसने प्रेम विवाह किया है उसे नौकरी देनी है वरना सरकारी विज्ञापन मिलने बंद हो जायेंगे ….

भाष्कर घोष का एक और सगा रिश्तेदार था प्रणव रॉय … ये प्रणव रॉय अपने अंकल भाष्कर घोष की मेहरबानी से दूरदर्शन पर हर रविवार “इंडिया दिस वीक” नामक कार्यक्रम करते थे …. उसकी पत्नी घोर वामपंथी नेता वृंदा करात की सगी बहन थी …

उस समय दूरदर्शन के लिए खूब सारे नये नये उपकरण और साजोसमान खरीदे जा रहे थे ..उस समय विपक्ष के नाम पर सिर्फ वामपथी पार्टी ही थी बीजेपी के सिर्फ दो सांसद थे ..
प्रणव रॉय ने अपने अंकल भाष्कर घोष के कहने पर न्यू देहली टेलीविजन कम्पनी लिमिटेड [एनडीटीवी] नामक कम्पनी बनाई और दूरदर्शन के लिए खरीदे जा रहे तमाम उपकरण धीरे धीरे एनडीटीवी के दफ्तर में लगने लगे … और एक दिन अचानक एनडीटीवी नामक चैनेल बन गया … बाद में भाष्कर घोष पर भ्रष्टाचार के तमाम आरोप लगे जिससे उन्हें पद छोड़ना पड़ा लेकिन जाते जाते उन्होंने अपनी बेटी सागरिका और उसके बेरोजगार नालायक प्रेमी से पति बने राजदीप सरदेसाई की जिन्दगी बना दी थी …

फिर कुछ दिन दोनों मियां बीबी एनडीटीवी में रहे .. बाद में राघव बहल नामक एक कारोबारी ने “चैनेल-सेवेन” जो बाद में आईबीएन सेवेन बना उसे लांच किया और ये दोनों मियां बीबी आईबीएन सेवेन में आ गये … इन दोनों बंटी और बबली की जोड़ी ने अपने पारिवारिक रसूख का खूब फायदा उठाया …आईबीएन में सागरिका घोष की मर्जी के बिना पत्ता भी नही हिलता था क्योकि सागरिका घोष की सगी आंटी अरुंधती घोष हैं -अरुंधती घोष संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थाई प्रतिनिधि थी -CNN-IBN का “ग्लोबल बिजनेस नेटवर्क” (GBN) से व्यावसायिक समझौता है। -GBN टर्नर इंटरनेशनल और नेटवर्क-18 की एक कम्पनी है। भारत में सीएनएन के पीछे अरुंधती घोष की ही लाबिंग थी जिसका फायदा राजदीप और सागरिका ने खूब उठाया |

सागरिका घोष की बड़ी आंटी रुमा पाल थी जिनके रसूख का फायदा भी इन दोनों बंटी और बबली की जोड़ी ने कांग्रेसी नेताओ के बीच पैठ जमाकर उठाया … रुमा पाल भले ही सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ जज थी लेकिन उनके फैसले के पीछे सागरिका घोष और राजदीप की दलाली होती थी …

बाद में वक्त का पहिया घुमा … देश में मोदीवाद उभरा .. आईबीएन को मुकेश अंबानी ने खरीद लिया .. और इन दोनों दलालों बंटी राजदीप और बबली सागरिका को लात मारकर भगा दिया … कुछ दिनों तक दोनों गायब रहे फिर बाद में अरुण पूरी के चैनेल आजतक पर नजर आने लगे ….

Posted in Sai conspiracy

यह साईं के धूर्त भक्त इतना ज़्यादा गिर जायेंगे, कभी नहीं सोचा था. दिल्ली के पश्चिम विहार स्थित साईं धाम की वेबसाइट पर कहा गया है कि साईं सत्चरित्र में दिया हुआ ज्ञान वेदों और गीता में दिए ज्ञान से भी ऊपर है! हद्द हो गयी अब तो इनकी नीचता की.

Pulkit Arora
जय सियाराम
धर्मो रक्षति रक्षितः
धर्म की जय हो अधर्म का नाश हो |

यह साईं के धूर्त भक्त इतना ज़्यादा गिर जायेंगे, कभी नहीं सोचा था. दिल्ली के पश्चिम विहार स्थित साईं धाम की वेबसाइट पर कहा गया है कि साईं सत्चरित्र में दिया हुआ ज्ञान वेदों और गीता में दिए ज्ञान से भी ऊपर है! हद्द हो गयी अब तो इनकी नीचता की.

Pulkit Arora
जय सियाराम 
धर्मो रक्षति रक्षितः
धर्म की जय हो अधर्म का नाश हो |

#ExposeShirdisai #Bhaktijihad #FraudSai 
#बहरूपिया_साई #शिर्डी_साई_बेनकाब #भक्ति_जिहाद

(y) Shirdi Sai Baba - भारत के इतिहास का सबसे बड़ा पाखंड (y)