Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

Much of the Hindu Dharma civilization was either destroyed or converted from approximately the First Century


Survival of Sanatana Dharma

Much of the Hindu Dharma civilization was either destroyed or converted from approximately the First Century on, by Christian and Moslem zealots, who were out to gain wealth and power in the name of religion. Rulers all over the world have repeatedly obliterated world history with a view to subjugating the masses, since knowledge is power. In this context, thousands of manuscripts have been burned, millions of people tortured, thousands of buildings and cities converted into modern religious sites, with their artifacts buried in the dusts of time. Some famous expungings include: 

240 BC: The Chinese Emperor Dic Huyang destroyed all of the books on history and science he had access to; 

146 BC: The Romans burnt the Library in Carthage which contained 500,000 manuscripts. It burned for 17 days; 

? BC: Library at the Temple of Ptah, the Divine Lord in Memphis was burned destroying many palm-leaf manuscripts; 

In Asia Minor the library at Peragmus was burnt containing 200,000 texts; 

48 BC: Julius Ceaser burned the famous library in Alexandria, Egypt which contained 700,000 manuscripts; 

6 BC: Pisistratus in Athens was burnt; only Homer's epics were salvaged; 

The Bibractis Druid College's Library in Autun, France was destroyed by Roman troops; 

Emperor Tsin-She Hwangeti of China had thousands of ancient manuscripts burned; 

Leo Isarus burned down a library of 300,000 volumes in Istanbul;

296 AD: Dioclisian burned a large number of Aegyptian and Greek manuscripts; 

312 AD (approximately): The first neo-convert Roman Christian Emperor Constantine swooped down on the Vatican

(then Vedican) destroying a number of Vedic manuscripts. It is believed that he also slew the Vedic pontiff and installed a Christian in his place. 

1555 AD: A European Christian ruler, Franciso Telod, in Peru destroyed all the records and manuscripts throwing light on the ancient civilization of the Americas in his access. 

1600 AD: Bishop Diago de Landa destroyed most of the ancient literature and sacred books of Mexico(2) 

1860-1940 AD: British rule in India effectively destroyed the public educational system and robbed thousands of valuable manuscripts, destroying the rest. Even with all of this, there are numerous facts which still point to the glory of the Vedic Age.

Survival of Sanatana Dharma

Much of the Hindu Dharma civilization was either destroyed or converted from approximately the First Century on, by Christian and Moslem zealots, who were out to gain wealth and power in the name of religion. Rulers all over the world have repeatedly obliterated world history with a view to subjugating the masses, since knowledge is power. In this context, thousands of manuscripts have been burned, millions of people tortured, thousands of buildings and cities converted into modern religious sites, with their artifacts buried in the dusts of time. Some famous expungings include:

240 BC: The Chinese Emperor Dic Huyang destroyed all of the books on history and science he had access to;

146 BC: The Romans burnt the Library in Carthage which contained 500,000 manuscripts. It burned for 17 days;

? BC: Library at the Temple of Ptah, the Divine Lord in Memphis was burned destroying many palm-leaf manuscripts;

In Asia Minor the library at Peragmus was burnt containing 200,000 texts;

48 BC: Julius Ceaser burned the famous library in Alexandria, Egypt which contained 700,000 manuscripts;

6 BC: Pisistratus in Athens was burnt; only Homer’s epics were salvaged;

The Bibractis Druid College’s Library in Autun, France was destroyed by Roman troops;

Emperor Tsin-She Hwangeti of China had thousands of ancient manuscripts burned;

Leo Isarus burned down a library of 300,000 volumes in Istanbul;

296 AD: Dioclisian burned a large number of Aegyptian and Greek manuscripts;

312 AD (approximately): The first neo-convert Roman Christian Emperor Constantine swooped down on the Vatican

(then Vedican) destroying a number of Vedic manuscripts. It is believed that he also slew the Vedic pontiff and installed a Christian in his place.

1555 AD: A European Christian ruler, Franciso Telod, in Peru destroyed all the records and manuscripts throwing light on the ancient civilization of the Americas in his access.

1600 AD: Bishop Diago de Landa destroyed most of the ancient literature and sacred books of Mexico(2)

1860-1940 AD: British rule in India effectively destroyed the public educational system and robbed thousands of valuable manuscripts, destroying the rest. Even with all of this, there are numerous facts which still point to the glory of the Vedic Age.

  • Faris Eddo Indian subcontinent has a history which dates back to more than 5000 years back. Its origins lie on the banks of the The Ajanta and Ellora Cavesriver Indus and thus came to be known as the Indus Valley Civilization. The roots of numerous ideas and philosophies can still be traced back to India.

    Soon after the Indus Valley Civilization laid down the foundation of India and Indian history, the Dravidians came in as the inhabitants of this civilization which was called the Harappan culture and flourished for 1000 years. Gradually, Aryan tribes started infiltrating from Afghanistan and Central Asia, around 1500 B.C. They occupied the whole of the northern parts of India up to the Vindhya Hills. Thus the Dravidians were urged to move to the southern parts of India. The Aryans brought new ideas, new technology and new gods with them and this became an important era in the history of India. The Aryan tribe started expanding and was grouped into sixteen kingdoms, of which Kosala and Magadha were the most powerful ones in the 5th century B.C.

    Around 500 BC, Invasion by Persians followed by Maurya Dynasty:

    The next great invasion was around 500 BC by the Persian kings Cyrus and Darius. They conquered the Indus valley but then India went through times of speculation and indefiniteness. Then in 327 BC India again came into light due to the invasions of Alexander the great, from Macedonia. Although, he was not able to extend his powers into India.

    After the Greek power receded there was a phase of uncertainty and that was when Indian history’s first imperial dynasty, the Maurya Dynasty came into power. Founded by Chandragupta Maurya, this dynasty reached its height under King Ashoka. He has given many historical monuments and inscriptions. But after his death there came no other kings as powerful as him and so there was chaos again fragmenting India into smaller kingdom.

    1000 AD, Decline of Chandragupta & rise in Muslim Invasions:

    The Indian warriorsIt was during this time that Chandragupta II became the unifying force in northern India. India is said to have enjoyed its golden period during this time – under the Gupta dynasty. Though not as big as the Mauryan Empire, it saw huge developments in the field of art and architecture, the highlight being the Ajanta and Ellora caves. There was confusion again after the Gupta Dynasty and many regional powers rose until the Muslim invasions in 1000 AD.

    Indian History, in the meantime, also saw the rise of some powerful kingdoms like the Satavahanas, kalingas and Vakatakas in the southern part of India. Later the dynasties like Cholas, Pandyas, Cheras, Chalukyas and Pallavas came into prominence.

    The political instability gave opportunity to the Muslim invaders who raided the North India successfully under Mahmud of Ghazni. The next invasion was by Mahmud of Ghauri who established foreign rule in India. Many of the famous dynasties like the Slave Dynasty, Khilji Dynasty, Tughlaq Dynasty, Saiyyid and Lodhi, Bahmani Dynasty, and Others came after that.

    Faris Eddo's photo.
  • Maharaj Krishan Nehru thanks –indus valley is nearly 8to 10 thousand years –5000 years before bhagwan Krishna ruled bharata –foriegners have made many distortions in indian history -kashmiris written history starts from nearly 3000 years bc but many a mnuscripts were destroyed by muslim rulers –sikander butshikan is a common name for that–recently a ganesha iodol has been found in Kuwait –we can omagine the extention of Hinduism world over in ancient times
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

नालंदा विश्वविद्यालयन को क्यों जलाया गया था..? जानिए सच्चाई …??


नालंदा विश्वविद्यालयन को क्यों जलाया गया था..?
जानिए सच्चाई …??
एक सनकी और चिड़चिड़े स्वभाव वाला तुर्क लूटेरा था….बख्तियार खिलजी.
इसने ११९९ इसे जला कर पूर्णतः नष्ट कर दिया।
उसने उत्तर भारत में बौद्धों द्वारा शासित
कुछ क्षेत्रों पर कब्ज़ा कर लिया था.
एक बार वह बहुत बीमार पड़ा उसके हकीमों ने
उसको बचाने की पूरी कोशिश कर ली …
मगर वह ठीक नहीं हो सका.
किसी ने उसको सलाह दी…
नालंदा विश्वविद्यालय के आयुर्वेद विभाग के
प्रमुख आचार्य राहुल श्रीभद्र
जी को बुलाया जाय और उनसे भारतीय
विधियों से इलाज कराया जाय
उसे यह सलाह पसंद नहीं थी कि कोई भारतीय
वैद्य …
उसके हकीमों से उत्तम ज्ञान रखते हो और
वह किसी काफ़िर से .उसका इलाज करवाए
फिर भी उसे अपनी जान बचाने के लिए
उनको बुलाना पड़ा
उसने वैद्यराज के सामने शर्त रखी…
मैं तुम्हारी दी हुई कोई दवा नहीं खाऊंगा…
किसी भी तरह मुझे ठीक करों …
वर्ना …मरने के लिए तैयार रहो.
बेचारे वैद्यराज को नींद नहीं आई… बहुत
उपाय सोचा…
अगले दिन उस सनकी के पास कुरान लेकर
चले गए..
कहा…इस कुरान की पृष्ठ संख्या … इतने से
इतने तक पढ़ लीजिये… ठीक हो जायेंगे…!
उसने पढ़ा और ठीक हो गया ..
जी गया…
उसको बड़ी झुंझलाहट
हुई…उसको ख़ुशी नहीं हुई
उसको बहुत गुस्सा आया कि … उसके
मुसलमानी हकीमों से इन भारतीय
वैद्यों का ज्ञान श्रेष्ठ क्यों है…!
बौद्ध धर्म और आयुर्वेद का एहसान मानने
के बदले …उनको पुरस्कार देना तो दूर …
उसने नालंदा विश्वविद्यालय में ही आग
लगवा दिया …पुस्तकालयों को ही जला के
राख कर दिया…!
वहां इतनी पुस्तकें थीं कि …आग
लगी भी तो तीन माह तक पुस्तकें धू धू करके
जलती रहीं
उसने अनेक धर्माचार्य और बौद्ध भिक्षु मार
डाले.
आज भी बेशरम सरकारें…उस नालायक
बख्तियार खिलजी के नाम पर रेलवे स्टेशन
बनाये पड़ी हैं… !
उखाड़ फेंको इन अपमानजनक नामों को…
मैंने यह तो बताया ही नहीं… कुरान पढ़ के वह
कैसे ठीक हुआ था.
हम हिन्दू किसी भी धर्म ग्रन्थ को जमीन पर
रख के नहीं पढ़ते…
थूक लगा के उसके पृष्ठ नहीं पलटते
मिएँ ठीक उलटा करते हैं….. कुरान के हर पेज
को थूक लगा लगा के पलटते हैं…!
बस…
वैद्यराज राहुल श्रीभद्र जी ने कुरान के कुछ
पृष्ठों के कोने पर एक दवा का अदृश्य लेप
लगा दिया था…
वह थूक के साथ मात्र दस बीस पेज चाट
गया…ठीक हो गया और उसने इस एहसान
का बदला नालंदा को नेस्तनाबूत करके दिया
आईये अब थोड़ा नालंदा के बारे में भी जान
लेते है
यह प्राचीन भारत में उच्च्
शिक्षा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण और
विख्यात केन्द्र था। महायान बौद्ध धर्म के
इस शिक्षा-केन्द्र में हीनयान बौद्ध-धर्म के
साथ ही अन्य धर्मों के तथा अनेक देशों के
छात्र पढ़ते थे। वर्तमान बिहार राज्य में
पटना से 88.5 किलोमीटर दक्षिण–पूर्व
और राजगीर से 11.5 किलोमीटर उत्तर में
एक गाँव के पास अलेक्जेंडर कनिंघम
द्वारा खोजे गए इस महान बौद्ध
विश्वविद्यालय के भग्नावशेष इसके प्राचीन
वैभव का बहुत कुछ अंदाज़ करा देते हैं। अनेक
पुराभिलेखों और सातवीं शती में भारत भ्रमण
के लिए आये चीनी यात्री ह्वेनसांग
तथा इत्सिंग के यात्रा विवरणों से इस
विश्वविद्यालय के बारे में विस्तृत
जानकारी प्राप्त होती है। प्रसिद्ध
चीनी यात्री ह्वेनसांग ने 7वीं शताब्दी में
यहाँ जीवन का महत्त्वपूर्ण एक वर्ष एक
विद्यार्थी और एक शिक्षक के रूप में व्यतीत
किया था। प्रसिद्ध ‘बौद्ध सारिपुत्र’
का जन्म यहीं पर हुआ था।
स्थापना व संरक्षण
इस विश्वविद्यालय की स्थापना का श्रेय
गुप्त शासक कुमारगुप्त प्रथम ४५०-४७०
को प्राप्त है। इस विश्वविद्यालय को कुमार
गुप्त के उत्तराधिकारियों का पूरा सहयोग
मिला। गुप्तवंश के पतन के बाद भी आने वाले
सभी शासक वंशों ने इसकी समृद्धि में
अपना योगदान जारी रखा। इसे महान सम्राट
हर्षवर्द्धन और पाल
शासकों का भी संरक्षण मिला। स्थानिए
शासकों तथा भारत के विभिन्न क्षेत्रों के
साथ ही इसे अनेक विदेशी शासकों से
भी अनुदान मिला।
स्वरूप
यह विश्व का प्रथम पूर्णतः आवासीय
विश्वविद्यालय था। विकसित स्थिति में इसमें
विद्यार्थियों की संख्या करीब १०,००० एवं
अध्यापकों की संख्या २००० थी। इस
विश्वविद्यालय में भारत के विभिन्न
क्षेत्रों से ही नहीं बल्कि कोरिया, जापान,
चीन, तिब्बत, इंडोनेशिया, फारस
तथा तुर्की से भी विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण
करने आते थे। नालंदा के विशिष्ट
शिक्षाप्राप्त स्नातक बाहर जाकर बौद्ध
धर्म का प्रचार करते थे। इस विश्वविद्यालय
की नौवीं शती से बारहवीं शती तक
अंतरर्राष्ट्रीय ख्याति रही थी।
परिसर
अत्यंत सुनियोजित ढंग से और विस्तृत क्षेत्र
में बना हुआ यह विश्वविद्यालय स्थापत्य
कला का अद्भुत नमूना था।
इसका पूरा परिसर एक विशाल दीवार से
घिरा हुआ था जिसमें प्रवेश के लिए एक मुख्य
द्वार था। उत्तर से दक्षिण की ओर
मठों की कतार थी और उनके सामने अनेक
भव्य स्तूप और मंदिर थे। मंदिरों में बुद्ध
भगवान की सुन्दर मूर्तियाँ स्थापित थीं।
केन्द्रीय विद्यालय में सात बड़े कक्ष थे और
इसके अलावा तीन सौ अन्य कमरे थे। इनमें
व्याख्यान हुआ करते थे। अभी तक खुदाई में
तेरह मठ मिले हैं। वैसे इससे भी अधिक मठों के
होने ही संभावना है। मठ एक से अधिक मंजिल
के होते थे। कमरे में सोने के लिए पत्थर
की चौकी होती थी। दीपक, पुस्तक
इत्यादि रखने के लिए आले बने हुए थे।
प्रत्येक मठ के आँगन में एक कुआँ बना था।
आठ विशाल भवन, दस मंदिर, अनेक
प्रार्थना कक्ष तथा अध्ययन कक्ष के
अलावा इस परिसर में सुंदर बगीचे तथा झीलें
भी थी।
प्रबंधन
समस्त विश्वविद्यालय का प्रबंध
कुलपति या प्रमुख आचार्य करते थे
जो भिक्षुओं द्वारा निर्वाचित होते थे।
कुलपति दो परामर्शदात्री समितियों के
परामर्श से सारा प्रबंध करते थे। प्रथम
समिति शिक्षा तथा पाठ्यक्रम संबंधी कार्य
देखती थी और द्वितीय समिति सारे
विश्वविद्यालय की आर्थिक
व्यवस्था तथा प्रशासन की देख–भाल
करती थी। विश्वविद्यालय को दान में मिले
दो सौ गाँवों से प्राप्त उपज और आय
की देख–रेख यही समिति करती थी। इसी से
सहस्त्रों विद्यार्थियों के भोजन, कपड़े
तथा आवास का प्रबंध होता था।
आचार्य
इस विश्वविद्यालय में तीन श्रेणियों के
आचार्य थे जो अपनी योग्यतानुसार प्रथम,
द्वितीय और तृतीय श्रेणी में आते थे।
नालंदा के प्रसिद्ध आचार्यों में शीलभद्र,
धर्मपाल, चंद्रपाल, गुणमति और
स्थिरमति प्रमुख थे। 7वीं सदी में ह्वेनसांग
के समय इस विश्व विद्यालय के प्रमुख
शीलभद्र थे जो एक महान आचार्य, शिक्षक
और विद्वान थे। एक प्राचीन श्लोक से
ज्ञात होता है, प्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ
एवं खगोलज्ञ आर्यभट भी इस
विश्वविद्यालय के प्रमुख रहे थे। उनके लिखे
जिन तीन ग्रंथों की जानकारी भी उपलब्ध है
वे हैं: दशगीतिका, आर्यभट्टीय और तंत्र।
ज्ञाता बताते हैं, कि उनका एक अन्य ग्रन्थ
आर्यभट्ट सिद्धांत भी था, जिसके आज मात्र
३४ श्लोक ही उपलब्ध हैं। इस ग्रंथ
का ७वीं शताब्दी में बहुत उपयोग होता था।
प्रवेश के नियम
प्रवेश परीक्षा अत्यंत कठिन होती थी और
उसके कारण
प्रतिभाशाली विद्यार्थी ही प्रवेश पा सकते
थे। उन्हें तीन कठिन
परीक्षा स्तरों को उत्तीर्ण करना होता था।
यह विश्व का प्रथम ऐसा दृष्टांत है। शुद्ध
आचरण और संघ के नियमों का पालन
करना अत्यंत आवश्यक था।
अध्ययन-अध्यापन पद्धति
इस विश्वविद्यालय में आचार्य
छात्रों को मौखिक व्याख्यान
द्वारा शिक्षा देते थे। इसके अतिरिक्त
पुस्तकों की व्याख्या भी होती थी।
शास्त्रार्थ होता रहता था। दिन के हर पहर
में अध्ययन तथा शंका समाधान
चलता रहता था।
अध्ययन क्षेत्र
यहाँ महायान के प्रवर्तक नागार्जुन,
वसुबन्धु, असंग तथा धर्मकीर्ति की रचनाओं
का सविस्तार अध्ययन होता था। वेद, वेदांत
और सांख्य भी पढ़ाये जाते थे। व्याकरण,
दर्शन, शल्यविद्या, ज्योतिष, योगशास्त्र
तथा चिकित्साशास्त्र भी पाठ्यक्रम के
अन्तर्गत थे। नालंदा कि खुदाई में मिलि अनेक
काँसे की मूर्तियोँ के आधार पर कुछ
विद्वानों का मत है कि कदाचित् धातु
की मूर्तियाँ बनाने के विज्ञान
का भी अध्ययन होता था। यहाँ खगोलशास्त्र
अध्ययन के लिए एक विशेष विभाग था।
पुस्तकालय
नालंदा में सहस्रों विद्यार्थियों और
आचार्यों के अध्ययन के लिए, नौ तल का एक
विराट पुस्तकालय था जिसमें ३ लाख से
अधिक पुस्तकों का अनुपम संग्रह था। इस
पुस्तकालय में सभी विषयों से संबंधित पुस्तकें
थी। यह ‘रत्नरंजक’ ‘रत्नोदधि’ ‘रत्नसागर’
नामक तीन विशाल भवनों में स्थित था।
‘रत्नोदधि’ पुस्तकालय में अनेक अप्राप्य
हस्तलिखित पुस्तकें संग्रहीत थी। इनमें से
अनेक
पुस्तकों की प्रतिलिपियाँ चीनी यात्री अपने
साथ ले गये थे।

Posted in Rape

ये दिल्ली है मेरी जान, इसमे कोई शक नहीं


Aditi Gupta added 5 new photos.
2 hrs ·

ये दिल्ली है मेरी जान, इसमे कोई शक नहीं कि ऐतिहासिक विरासत और शान-शौकत से भरपूर दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान प्रगति की जो आंधी आई उससे दिल्ली की तस्वीर और तकदीर दोनों ही बदल गई। पर इसी चकाचौंध के पीछे एक ऐसा दाग भी है जो सदियों से दिल्ली का नासूर बना हुआ है। और वह है दिल्ली का रेड लाईट एरिया जीबी रोड। देश की आज़ादी के पहले से ही अंग्रेजों के जमाने में यहां मुजरे सुनने का चलन था और मुजरा करने वाली तवायफों को लाइसेंस भी मिला हुआ था। उस समय दिल्ली के चारों ओर फैले जिस्म के इस कारोबार को एक जगह इकट्ठा कर दिया गया और जीबी रोड बन गया जिस्म के कारोबार का अड्डा। जीबी रोड का पुरा नाम ग्रेस्टीस बेसीन रोड हैं, ऩई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 100 मीटर की दुरी पर यह एरिया हैं ।पहले तयावफों का बाजार चावड़ी बाजार मे था बाद मे इसे शहर से बाहर कर दिया गया आज का जीबी रोड उस समय के वर्लड सिटी से बाहर का इलाका था ।
यह जी बी रोड पर मेरी तीसरी रिपोर्टिंग थी रविवार का दिन था नई दिल्ली पुलिस स्टेशन के एसएचओ सुरेन्द्र कौड़ से इजाजत लेने पुलिस थाने मैं जिस सोंच के साथ गयी थी बिल्कुल उसके उल्टा हुआ और जितना सुना था उनके बारे मे बिल्कुल वैसी हीं थी, क्योंकी मेरे पास कोई विडीयो कैमरा नहीं था इसलिए मुझे इजाजत मिल गइ, उन्होने एक सिपाही को मेरे साथ भेज दिया, मैं और उनका सिपाही दोनो लोग पहुंचे उस इलाके मे सिपाही ने वहां के पुलिस बुथ मे बैठे एक सिपाही से बात कि और मुझे लेकर वह एक कोठे के पास गया मेरे साथ उपर तक तो नहीं गया लेकिन एक लड़के को मेरे साथ भेज दिया उसे सारी बातें समझा दीं उसने वह लड़का अब मेरे साथ था । जिस दिल्ली पर लोग जान लुटा देते हैं हम उसी दिल्ली के एक ऐसे इलाके की बात कर रहे हैं जहां हर रोज ना जाने कितनी जानें जानें लुट जाती हैं, बैलगाडी से लेकर bmw तक इस रोड पर दिख जाती हैं बताने वाले ये बताते हैं कि 30 साल पहले जब यहां कि दुकानों के शटर बंद होते थे तब उनके शटर खुलते थे लेकिन अब यहां 27*7 सर्विस दी जाती हैं । 100 साल से भी पुरानी इमारतों मे बने तहखाने और कबुरतरखाने जैसी खिड़कियों से झांकती महिलाएं सड़क पर आने जाने वाले हर मुसाफिर मे अपना ग्राहक ढ़ुढ़ती हैं. हमने भी ये जानने की कोशिश की यह कौन सी जगह जहां रहने वालों की जिंदगी अंधेरे कमरो तक सिमट कर रह गई हैं यहां रहने वाले ना तो अपना नाम बता सकती हैं ना हीं अपना चेहरा किसी को दिखा सकती हैं आखिर वो कौन सी मजबुरी हैं जहां सबको अपनी पहचान छुपा कर रखनी पड़ती हैं, यकिन नहीं होता की हमारे इस महानगर मे एक ऐसा छेत्र भी हैं जहां से गुजरना अपने आप मे कइ तरह के सवालों से होकर गुजरना हैं, लगभग 100 से 200 मीटर लंबी सड़क हैं जीबी रोड लेकिन देह ब्यापार के धंधे ने इसे बाकी दिल्ली से जुदा कर दिया हैं ऐसा लगता हैं अपने हीं समाज से यह बिलकुल अलग हैं यहा रहने बाले लोगो को हेय दृष्टि से देखा जाता हैं
सड़क के दुसरी तरफ हर दो दुकान के बीच मे उपर जाने के लिए एक सिढ़ी मिल जाएगी जहां पहले हीं आपको दलालों से बचने की चेतावनी दिवारों पर लिखी मिल जाएगी पुरे जीबी रोड मे लगभग 28 सिढीयों मे 108 कोठें चल रहे हैं । सिढीयों के रास्ते मे बने बरामदेनुमे हॉल मे घुसा ज्यादातर औरतें सो रही थी, 2/4 के बक्सेनुमा कमरे मे रहना आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जिंदगी कैसे गुजर रही हैं उसी बक्से मे दो से तीन महिलाएं सो रही थी बक्सों के बीच मे एक कमरा दिखा जिसमे तमाम मजहबों के देवी देवताओं की तस्वीरें और एक पलंग के साथ दो कुर्सियां और जरुरत की तमाम चिजें उपल्ब्ध थी, देखने से ही समझ मे आ गया कि वो कमरा मालकिन हैं, आश्चर्य हुआ कि ये भी न्युज चैनलों पर न्यूज भी देखती हैं, पुछने पर पता चला कि देखना पड़ता हैं कि कहीं रेड तो नहीं पड़ा वैसे रेड डालने से पहले इनके पास खबर न्युज चैनलों से भी पहले पहुंच जाती हैं ।सड़क से उपर कि तरफ देखने पर जिस खिड़की पर महिलाएं इशारे करते दिखती हैं मैं भी वहीं जाकर खड़ी हो गयी निचे देखा तो कइयों की निगाह इस खिड़की पर टीकी थी, वही खड़ी एक लड़की से बात करने लगी , उसने बताया कि रेट ठिक ना मिलने पर या ज्यादा परेशानी होने पर वे कोठे बदल लेती हैं
यहां आकर पता चला कि सेक्स वर्कर के उत्थान के नाम पर करोड़ो की कमाइ करने वाले एनजीओ असल मे कितने सजग हैं इनकी बेहतरी के लिए जहां इंसान को बोरे मे ठुंस कर रहने को मजबुर कर दिया गया हो, छत पर बने पानी की टंकियों मे ताला लगा रहता हैं यकिन मानीए उन 2 बाई चार के कमरों मे दिन गुजारते अपनी पहचान छिपाने को मजबुर इन महिलाओं को सब उनकी जवानी की नजर से देखते हैं उन ग्राहकों के से कम नहीं हैं वे लोग जो इनके उत्थान और पुनर्वास की बात करते हैं । हर कोठे मे ताला लगा फ्रिज दिख जाएगा मतलब जर्जर मकानो मे भी फाइव स्टार होटलों की ब्यवस्था करने की इमानदार कोशिश नजर आती हैं, लता दीदी के साथ-साथ मुजरों की भी तस्वीरें दिखेगी और पहली बार जाना की यहां मुजरा भी होता हैं और ये बताती हैं मुजरों के शौकिन आज भी हैं लेकिन शाम होते ही मुजरे के का रंग बदल जाती हैं । जीबी रोड में हर रात नौ बजे के बाद मुजरा पेश करने वाली, उम्र की 45 वीं दहलीज पर पहुंच चुकी शहनाज कहती हैं, ‘मुझे आज भी वो दिन याद है, जब कोठा लोगों से गुलजार रहता था. आज हमारे लिए काफी कठिन समय है.’ राजस्थान की मूल निवासी शहनाज उन हसीन दिनों की याद करते हुए कहती हैं, ‘वह समय था जब हमें पार्टियों और शादियों में मुजरा के लिए कहा जाता था, आज इसके कुछ ही कद्रदान हैं. हर आदमी की ख्वाहिश है कि उसकी पार्टी में विदेशी महिला नृत्य करे और यह स्टेटस दिखाने की भी बात तो है. । हमारे साथ कैमरा नहीं था इसलिए जो भी मिली अपनी भाषा अपने लहजे मे खुलकर बात की, हमने उनके इस धंधे मे आने का कारण जानना चाहा और लगभग वही सुना जो पहले सुन रखा था इसलिए वो बताने का कोई तात्पर्य नहीं बनता । .
एक कोठे पर दो तीन लड़कियों से बात करते-करते एक लड़की ने कहा कि दीदी आप अपने दर्द से दोस्ती कर लिजीए आपकी जिंदगी आसान हो जाएगी, मैं भौचक रह गयी की कितनी बड़ी बात उसने की उस लड़की का नाम तो नहीं लिख सकती लेकिन मुझे मालुम था कि वो सही कह रही हैं और इसी उम्र मे इतनी बड़ी बात करना जैसे वो अपनी पुरी जिंदगी जी ली हो और एक लंबा अनुभव हो । मुझे जितना पता था कि जीबी रोड मे ज्यादातर बंगाल, झारखंड, और आसाम कि लड़कियां रहती हैं लेकिन सिर्फ तीन कोठें पर जाने के बाद देश के लगभग हर कोने कि लड़कियां और महिलाएं मिली, आंध्र प्रदेश से लेकर मुंबई और गुजरात हर राज्य कि मजबूरीयां इन कोठों मे कैद हैं । वहां कि कई महिलाएं अपने बच्चों को हॉस्टल मे रखती हैं औऱ हफ्ते मे एक दिन या महिने मे एक दिन उनसे मिलती हैं, एक महिला बताने लगी कि मैडम कोई नहीं चाहता कि उसके औलाद पर इसकी परछाई भी पड़े, उन्होने बताया कि कैसे नोंचा उनको जाता हैं और 100 रु मे सिर्फ 20 से 25 रु उनके हिस्से आती है बाकी सब अलग-अलग लोगों मे बंट जाती हैं । वे कहने लगी की कितनों दिनो से ये बात आपलोग भी कर रहे हैं और तमाम संस्थाएं कर रही हैं की इसे कानुनी अधिकार दे दिए जाए लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ, अगर हमे कानुनी अधिकार मिल जाएगा तो हमारी कमीशन कम हो जाएगी और पैसे भी ज्यादा बचेंगें तब हो सकता हैं कि हमारी स्थीति कुछ अच्छी हो जाए।
अंदर का मुआयना कर छत पर जाने पर देखा एक ब्यक्ति बर्तन धो रहा था पुछने पर पता चला वो रसोइया हैं, उसने बताया खाने का समय निर्धारित हैं दोपहर के 2 या 3 बजे और रात ढलने के बाद ठिक उसी समय इस बीच उन महिलाओं को कोई और खा रहा होता हैं । अनजानी लड़की को देखते हीं रसोइयां पुछ बैठा कौन हो यह क्या कर रही हो कोई चक्कर तो नहीं हैं, मैने उसे बताया कि नहीं ऐसा कुछ नहीं हैं मेरे साथ कोई और नहीं था । निचे आई तो वहां के दुकानदार बताने लगे कि सस्ता सामान बेचने के बावजुद दिन भर ग्राहकों का इंतजार रहता हैं, लोग इस इलाके मे आने के डर से महंगा समान खरिदना मंजुर करते हैं, जर्जर मकानों के निचे बने दुकानों मे एसी लगे होने के बाबजुद ग्राहकों का नहीं आना उस इलाके कि पहचान बयां करती हैं । दुकानदार ने बात करते हुए बताया कि अगर कोई रिस्तेदार पुछ ले कि आपकी दुकान कहां पर हैं तब बताते हुए भी शर्म आती हैं । तभी मेरे मन मे आया कि इसके आसपास के इलाके को जाने कि वहां रहने वाले लोग क्या कहते हैं मैने नीचे आकर सिपाही जी को कहा कि अब आप जा सकते हैं फिर मैं वहां से निकल पड़ी ।
जीबी रोड के ठिक पिछे का मोहल्ला हैं शाहगंज वहा पर यहां 400 साल पुरानी मस्जीद हैं और मुस्लीम बहुल इलाका हैं । यहां आकर जीबी रोड का असली दर्द आपको मालुम पड़ेगा । कइ लोगों से बात करने पर रहमान मुझे अपने घर ले गए, चाय मंगाइ और उनके अम्मीजान और दोनो बहने शादिया और फातिमा से बात करने लगा, शादिया दिल्ली युनीवर्सीटी की बीए की छात्रा हैं और बताने लगी की कैसे वो अपने दोस्तो को अपने घर नहीं बुला सकती, शादियां बताती हैं कि शुरु-शुरु मे तो जिसने भी मेरे घर का पता जाना तो सबने अजीब तरीके ब्यहार किया और पुछा कि तुम्हारा घर वहां हैं ऐसे चौंके जैसे हम किसी तरिपाड़ इलाके से आए हैं लेकिन सच ये भी हैं कि तरीपाड़ वाला इलाका भी इससे बेहतर हैं, उनकी अम्मी जान बोल पड़ी की शाम होने से पहले हमलोग घर आ जाते हैं भले हीं हमारा काम खत्म हो ना हो । शादिया बताने लगी कि उनके दोस्त इसलिए उसके घर नहीं आते की वे अपने घरवालों से क्या बताएंगें की कहां जा रहे हैं । एक बुजुर्ग मिले जो बताने लगे की शादी के कार्ड मे जीबी रोड का जिक्र नहीं करने से हमारे रिस्तेदार पहले ही मना कर देते हैं। इनका दर्द ऐसा हैं जो आज अपनी पहचान ढुढ रहे हैं, उनको तो अपने घर से भगा दिया गया इसलिए उनकी पहचान गुम हो गई लेकिन शाहगंज के निवासी तो समाजिक धारणाओं की वजह से अपनी पहचान छिपाने को मजबुर हैं आज के इस सफर मे हमने यहां आकर एक नई दुनीया और उसमे रहने वाले प्राणीयों को जानने का मौका मिला और एक सिख यहां हमे मिली की अगर आपको तकलीफ हैं, दर्द हैं, तो आप उससे दोस्ती कर ले आपकी जींदगी आसान बन जाएगी.

Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Aditi Gupta's photo.
Posted in रामायण - Ramayan

भगवान रामचन्द्र जी के १४ वर्षों के वनवास यात्रा का विवरण ::


भगवान रामचन्द्र जी के १४ वर्षों के वनवास यात्रा का विवरण ::

अब हम श्री राम से जुडे कुछ अहम् सबुत पेश करने जा रहे हैं……..
जिसे पढ़ के नास्तिक भी सोच में पड जायेंगे की रामायण सच्ची हैं या काल्पनिक ||

भगवान रामचन्द्र जी के १४ वर्षों के वनवास यात्रा का विवरण >>>>
पुराने उपलब्ध प्रमाणों और राम अवतार जी के शोध और अनुशंधानों के अनुसार कुल १९५ स्थानों पर राम और सीता जी के पुख्ता प्रमाण मिले हैं जिन्हें ५ भागों में वर्णित कर रहा हूँ

१.>>>वनवास का प्रथम चरण गंगा का अंचल >>>
सबसे पहले राम जी अयोध्या से चलकर तमसा नदी (गौराघाट,फैजाबाद,उत्तर प्रदेश) को पार किया जो अयोध्या से २० किमी की दूरी पर है |
आगे बढ़ते हुए राम जी ने गोमती नदी को पर किया और श्रिंगवेरपुर (वर्त्तमान सिंगरोर,जिला इलाहाबाद )पहुंचे …आगे 2 किलोमीटर पर गंगा जी थीं और यहाँ से सुमंत को राम जी ने वापस कर दिया |
बस यही जगह केवट प्रसंग के लिए प्रसिद्ध है |
इसके बाद यमुना नदी को संगम के निकट पार कर के राम जी चित्रकूट में प्रवेश करते हैं|
वाल्मीकि आश्रम,मंडव्य आश्रम,भारत कूप आज भी इन प्रसंगों की गाथा का गान कर रहे हैं |
भारत मिलाप के बाद राम जी का चित्रकूट से प्रस्थान ,भारत चरण पादुका लेकर अयोध्या जी वापस |
अगला पड़ाव श्री अत्रि मुनि का आश्रम

२.बनवास का द्वितीय चरण दंडक वन(दंडकारन्य)>>>
घने जंगलों और बरसात वाले जीवन को जीते हुए राम जी सीता और लक्षमण सहित सरभंग और सुतीक्षण मुनि के आश्रमों में पहुचते हैं |
नर्मदा और महानदी के अंचल में उन्होंने अपना ज्यादा जीवन बिताया ,पन्ना ,रायपुर,बस्तर और जगदलपुर में
तमाम जंगलों ,झीलों पहाड़ों और नदियों को पारकर राम जी अगस्त्य मुनि के आश्रम नाशिक पहुँचते हैं |
जहाँ उन्हें अगस्त्य मुनि, अग्निशाला में बनाये हुए अपने अशत्र शस्त्र प्रदान करते हैं |

३.वनवास का तृतीय चरण गोदावरी अंचल >>>
अगस्त्य मुनि से मिलन के पश्चात राम जी पंचवटी (पांच वट वृक्षों से घिरा क्षेत्र ) जो आज भी नाशिक में गोदावरी के तट पर है यहाँ अपना निवास स्थान बनाये |यहीं आपने तड़का ,खर और दूषण का वध किया |
यही वो “जनस्थान” है जो वाल्मीकि रामायण में कहा गया है …आज भी स्थित है नाशिक में
जहाँ मारीच का वध हुआ वह स्थान मृग व्यघेश्वर और बानेश्वर नाम से आज भी मौजूद है नाशिक में |
इसके बाद ही सीता हरण हुआ ….जटायु की मृत्यु सर्वतीर्थ नाम के स्थान पार हुई जो इगतपुरी तालुका नाशिक के ताकीद गाँव में मौजूद है |दूरी ५६ किमी नाशिक से |
>>>>>>>
>>>>>>>
इस स्थान को सर्वतीर्थ इसलिए कहा गया क्यों की यहीं पर मरणसन्न जटायु ने बताया था की सम्राट दशरथ की मृत्यु हो गई है …और राम जी ने यहाँ जटायु का अंतिम संस्कार कर के पिता और जटायु का श्राद्ध तर्पण किया था |
यद्यपि भारत ने भी अयोध्या में किया था श्राद्ध ,मानस में प्रसंग है “भरत किन्ही दस्गात्र विधाना ”
>>>>>>>
>>>>>>>

४.वनवास का चतुर्थ चरण तुंगभद्रा और कावेरी के अंचल में >>>>
सीता की तलाश में राम लक्षमण जटायु मिलन और कबंध बाहुछेद कर के ऋष्यमूक पर्वत की ओर बढे ….|
रास्ते में पंपा सरोवर के पास शबरी से मुलाकात हुई और नवधा भक्ति से शबरी को मुक्ति मिली |जो आज कल बेलगाँव का सुरेवन का इलाका है और आज भी ये बेर के कटीले वृक्षों के लिए ही प्रसिद्ध है |
चन्दन के जंगलों को पार कर राम जी ऋष्यमूक की ओर बढ़ते हुए हनुमान और सुग्रीव से मिले ,सीता के आभूषण प्राप्त हुए और बाली का वध हुआ ….ये स्थान आज भी कर्णाटक के बेल्लारी के हम्पी में स्थित है |

५.बनवास का पंचम चरण समुद्र का अंचल >>>>
कावेरी नदी के किनारे चलते ,चन्दन के वनों को पार करते कोड्डीकराई पहुचे पर पुनः पुल के निर्माण हेतु रामेश्वर आये जिसके हर प्रमाण छेदुकराई में उपलब्ध है |सागर तट के तीन दिनों तक अन्वेषण और शोध के बाद राम जी ने कोड्डीकराई और छेदुकराई को छोड़ सागर पर पुल निर्माण की सबसे उत्तम स्थिति रामेश्वरम की पाई ….और चौथे दिन इंजिनियर नल और नील ने पुल बंधन का कार्य प्रारम्भ किया |

Posted in रामायण - Ramayan

महर्षि बाल्मीकि एक परिचय


महर्षि बाल्मीकि
एक परिचय

प्राचीन वैदिक काल के महान ऋषियों कि श्रेणी में महर्षि वाल्मीकि को प्रमुख स्थान प्राप्त है। वह संस्कृत भाषा के आदि कवि और हिन्दुओं के आदि काव्य ‘रामायण’ के रचयिता के रूप में प्रसिद्ध हैं।

महर्षि कश्यप और अदिति के नवम पुत्र वरुण (आदित्य) से इनका जन्म हुआ। इनकी माता चर्षणी और भाई भृगु थे। वरुण का एक नाम प्रचेत भी है, इसलिए इन्हें प्राचेतस् नाम से उल्लेखित किया जाता है। उपनिषद के विवरण के अनुसार यह भी अपने भाई भृगु की भांति परम ज्ञानी थे।

एक बार ध्यान में बैठे हुए वरुण-पुत्र के शरीर को दीमकों ने अपना घर बनाकर ढंक लिया था। साधना पूरी करके जब यह दीमकों के घर, जिसे वाल्मीकि कहते हैं, से बाहर निकले तो लोग इन्हें वाल्मीकि कहने लगे।

एक पौराणिक कथा के अनुसार महर्षि बनने से पूर्व वाल्मीकि रत्नाकर के नाम से जाने जाते थे तथा परिवार के पालन हेतु लोगों को लूटा करते थे।

एक बार उन्हें निर्जन वन में नारद मुनि मिले, तो रत्नाकर ने उन्हें लूटने का प्रयास किया। तब नारद जी ने रत्नाकर से पूछा कि- तुम यह निम्न कार्य किसलिए करते हो, इस पर रत्नाकर ने जवाब दिया कि अपने परिवार को पालने के लिए।

इस पर नारद ने प्रश्न किया कि तुम जो भी अपराध करते हो और जिस परिवार के पालन के लिए तुम इतने अपराध करते हो, क्या वह तुम्हारे पापों का भागीदार बनने को तैयार होंगे। इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए रत्नाकर, नारद को पेड़ से बांधकर अपने घर गए। वहां जाकर वह यह जानकर स्तब्ध रह गए कि परिवार का कोई भी व्यक्ति उसके पाप का भागीदार बनने को तैयार नहीं है। लौटकर उन्होंने नारद के चरण पकड़ लिए।

तब नारद मुनि ने कहा कि- हे रत्नाकर, यदि तुम्हारे परिवार वाले इस कार्य में तुम्हारे भागीदार नहीं बनना चाहते तो फिर क्यों उनके लिए यह पाप करते हो। इस तरह नारद जी ने इन्हें सत्य के ज्ञान से परिचित करवाया और उन्हें राम-नाम के जप का उपदेश भी दिया था, परंतु वह ‘राम’ नाम का उच्चारण नहीं कर पाते थे।

तब नारद जी ने विचार करके उनसे मरा-मरा जपने के लिए कहा और मरा रटते-रटते यही ‘राम’ हो गया और निरंतर जप करते-करते हुए वह ऋषि वाल्मीकि बन गए।

महर्षि बाल्मीकि एक परिचय प्राचीन वैदिक काल के महान ऋषियों कि श्रेणी में महर्षि वाल्मीकि को प्रमुख स्थान प्राप्त है। वह संस्कृत भाषा के आदि कवि और हिन्दुओं के आदि काव्य 'रामायण' के रचयिता के रूप में प्रसिद्ध हैं। महर्षि कश्यप और अदिति के नवम पुत्र वरुण (आदित्य) से इनका जन्म हुआ। इनकी माता चर्षणी और भाई भृगु थे। वरुण का एक नाम प्रचेत भी है, इसलिए इन्हें प्राचेतस् नाम से उल्लेखित किया जाता है। उपनिषद के विवरण के अनुसार यह भी अपने भाई भृगु की भांति परम ज्ञानी थे। एक बार ध्यान में बैठे हुए वरुण-पुत्र के शरीर को दीमकों ने अपना घर बनाकर ढंक लिया था। साधना पूरी करके जब यह दीमकों के घर, जिसे वाल्मीकि कहते हैं, से बाहर निकले तो लोग इन्हें वाल्मीकि कहने लगे। एक पौराणिक कथा के अनुसार महर्षि बनने से पूर्व वाल्मीकि रत्नाकर के नाम से जाने जाते थे तथा परिवार के पालन हेतु लोगों को लूटा करते थे। एक बार उन्हें निर्जन वन में नारद मुनि मिले, तो रत्नाकर ने उन्हें लूटने का प्रयास किया। तब नारद जी ने रत्नाकर से पूछा कि- तुम यह निम्न कार्य किसलिए करते हो, इस पर रत्नाकर ने जवाब दिया कि अपने परिवार को पालने के लिए। इस पर नारद ने प्रश्न किया कि तुम जो भी अपराध करते हो और जिस परिवार के पालन के लिए तुम इतने अपराध करते हो, क्या वह तुम्हारे पापों का भागीदार बनने को तैयार होंगे। इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए रत्नाकर, नारद को पेड़ से बांधकर अपने घर गए। वहां जाकर वह यह जानकर स्तब्ध रह गए कि परिवार का कोई भी व्यक्ति उसके पाप का भागीदार बनने को तैयार नहीं है। लौटकर उन्होंने नारद के चरण पकड़ लिए। तब नारद मुनि ने कहा कि- हे रत्नाकर, यदि तुम्हारे परिवार वाले इस कार्य में तुम्हारे भागीदार नहीं बनना चाहते तो फिर क्यों उनके लिए यह पाप करते हो। इस तरह नारद जी ने इन्हें सत्य के ज्ञान से परिचित करवाया और उन्हें राम-नाम के जप का उपदेश भी दिया था, परंतु वह 'राम' नाम का उच्चारण नहीं कर पाते थे। तब नारद जी ने विचार करके उनसे मरा-मरा जपने के लिए कहा और मरा रटते-रटते यही 'राम' हो गया और निरंतर जप करते-करते हुए वह ऋषि वाल्मीकि बन गए।
Posted in रामायण - Ramayan

The Janmadin of the Adi Kavi (the First Poet), Valmiki is celebrated on the full moon day of Ashvin maasa. Valmiki is the author of Ramayana in Sanskrit. The invention of the Shloka (epic meter) is attributed to Valmiki.


The Janmadin of the Adi Kavi (the First Poet), Valmiki is celebrated on the full moon day of Ashvin maasa. Valmiki is the author of Ramayana in Sanskrit. The invention of the Shloka (epic meter) is attributed to Valmiki.

Vālmīki was going to the river Ganges for his daily ablutions. A disciple by the name Bharadvāja was carrying his clothes. On the way, they came across the Tamasa Stream. Looking at the stream, Vālmīki said to his disciple, “Look, how clear is this water, like the mind of a good man! I will bathe here today.” When he was looking for a suitable place to step into the stream, he saw a crane couple. Vālmīki felt very pleased on seeing the birds. Suddenly, hit by
an arrow, the male bird died on the spot. Filled by sorrow, its mate screamed in agony and died of shock. Vālmīki’s heart melted at this pitiful sight. He looked around to find out who had shot the bird. He saw a hunter with a bow and arrows, nearby. Vālmīki became very angry. His lips opened and he cried out,
मां निषाद प्रतिष्ठां त्वमगमः शाश्वतीः समाः। यत्क्रौंचमिथुनादेकम् अवधीः काममोहितम्॥’
mā niṣāda pratiṣṭhāṁ tvamagamaḥ śāśvatīḥ samāḥ
yat krauñcamithunādekam avadhīḥ kāmamohitam
You will find no rest for the long years of Eternity
For you killed a bird in love and unsuspecting

In one way it is a death-bringing curse, and arranged in another way the very same words mean glory to Adinarayana. O abode of Mahalakshmi, may you be glorified forever and ever. Why? Yat krouncha mithunadekam sokam avadhim kama mohitam: Because you have been a conduit for bringing an end to Ravana, who was attached in a sensuous manner to objects. You brought an end to this crude way of living. May you live long. May you live long. May your glory be immortalised, O Narayana, the abode of Lakshmi.

The Vishnudharmottara Purana says that Valmiki was born in the Tetrayuga as a form of Vishnu who composed the Ramayana, and that people desirous of earning knowledge should worship Valmiki.

Posted in जीवन चरित्र

लाइक जरुर करे और गर्व हे तो कमेंट में ।जय महाराणा। लिखे


लाइक जरुर करे और गर्व हे तो कमेंट में ।जय महाराणा। लिखे
अकबर को धूल चटाने वाले वीर योद्धा महाराणा प्रताप ने घास की रोटियां खाकर कुछ दिन बिताए थे। यह वो प्रतापी विरासत है जिसे प्रताप ने अपना शस्त्रागार बनाया था। आईए जानते हैं इस गुफा की कहानी।

हम बात कर रहे हैं मेवाड़ की विरासतों में शुमार मायरा की गुफा के बारे में। प्रकृति ने इस दोहरी कंदरा को कुछ इस तरह गढ़ा है मानो शरीर में नसें। इस गुफा में प्रवेश के तीन रास्ते हैं, जो किसी भूल-भुलैया से कम नहीं। इसकी खासियत यह भी है कि बाहर से देखने में इसके रास्ते का द्वार किसी पत्थर के टीले की तरह दिखाई पड़ता है। लेकिन जैसे-जैसे हम अंदर जाते हैं रास्ते भी निकलता जाता हैं। यही कारण है कि यह अभी तक हर तरफ से सुरक्षित है। यही तो कारण था कि महाराणा प्रताप ने इसे अपना शस्त्रागार बनाया था।

दरअसल, जब महाराणा प्रताप का जन्म हुआ उस समय दिल्ली सम्राट अकबर का शासन था। वह सभी राजा-महाराजाओं को अपने अधीन कर मुगल साम्राज्य का ध्वज फहराना चाहता था। वहीं मेवाड़ की भूमि को मुगल आधिपत्य से बचाने के लिए महाराणा प्रताप ने प्रतिज्ञा की थी कि जब तक मेवाड़ आजाद नहीं होगा, मैं महलों को छोड़ जंगलों में निवास करूंगा। अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है तो आधे हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे पर बादशाहत अकबर कि रहेगी। जवाब में प्रताप ने कहा था कि स्वादिष्ट भोजन को त्याग कंदमूल फलों से ही पेट भरूंगा लेकिन अकबर का अधिपत्य कभी स्वीकार नहीं करूंगा।

हल्दी घाटी में अकबर और प्रताप के बीच हुए युद्ध के दौरान इसी गुफा को प्रताप ने अपना शस्त्रागार बनाया था। यह युद्ध आज भी पूरे विश्व के लिए आज एक मिसाल है। इसका पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस युद्ध में अकबर के 85 हजार और प्रताप के केवल 20 हजार सैनिक थे। इसके बावजूद प्रताप ने अकबर को धूल चटा दिया था। प्रताप का पराक्रम ऐसा था कि उनकी मृत्यु पर उनकी बहादुरी को याद कर अकबर भी रो पड़ा था।

हालांकि प्रताप की जीत में उनके घोड़े का भी अहम योगदान था। एक पांव चोटिल होने के बाद भी प्रताप को पीठ पर लिए वह नाले को पार कर गया लेकिन मुगल सैनिक उसे पार न कर सके। हल्दी घाटी के युद्ध की याद दिलाती यह गुफा इतनी बड़ी है कि इसके अंदर घोड़ो को बांधने वाली अश्वशाला और रसोई घर भी है। इस गुफा के अंदर वही अश्वशाला है जहां चेतक को बांधा जाता था, इसलिए यह जगह आज भी पूजा जाता है। पास ही मां हिंगलाज का स्थान है। प्रकृति और इतिहास की यह विरासत अरसे से अनदेखी का शिकार है।

लाइक जरुर करे और गर्व हे तो कमेंट में ।जय महाराणा। लिखे<br />
अकबर को धूल चटाने वाले वीर योद्धा महाराणा प्रताप ने घास की रोटियां खाकर कुछ दिन बिताए थे। यह वो प्रतापी विरासत है जिसे प्रताप ने अपना शस्त्रागार बनाया था। आईए जानते हैं इस गुफा की कहानी।</p>
<p>हम बात कर रहे हैं मेवाड़ की विरासतों में शुमार मायरा की गुफा के बारे में। प्रकृति ने इस दोहरी कंदरा को कुछ इस तरह गढ़ा है मानो शरीर में नसें। इस गुफा में प्रवेश के तीन रास्ते हैं, जो किसी भूल-भुलैया से कम नहीं। इसकी खासियत यह भी है कि बाहर से देखने में इसके रास्ते का द्वार किसी पत्थर के टीले की तरह दिखाई पड़ता है। लेकिन जैसे-जैसे हम अंदर जाते हैं रास्ते भी निकलता जाता हैं। यही कारण है कि यह अभी तक हर तरफ से सुरक्षित है। यही तो कारण था कि महाराणा प्रताप ने इसे अपना शस्त्रागार बनाया था।</p>
<p>दरअसल, जब महाराणा प्रताप का जन्म हुआ उस समय दिल्ली सम्राट अकबर का शासन था। वह सभी राजा-महाराजाओं को अपने अधीन कर मुगल साम्राज्य का ध्वज फहराना चाहता था। वहीं मेवाड़ की भूमि को मुगल आधिपत्य से बचाने के लिए महाराणा प्रताप ने प्रतिज्ञा की थी कि जब तक मेवाड़ आजाद नहीं होगा, मैं महलों को छोड़ जंगलों में निवास करूंगा। अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है तो आधे हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे पर बादशाहत अकबर कि रहेगी। जवाब में प्रताप ने कहा था कि स्वादिष्ट भोजन को त्याग कंदमूल फलों से ही पेट भरूंगा लेकिन अकबर का अधिपत्य कभी स्वीकार नहीं करूंगा।</p>
<p>हल्दी घाटी में अकबर और प्रताप के बीच हुए युद्ध के दौरान इसी गुफा को प्रताप ने अपना शस्त्रागार बनाया था। यह युद्ध आज भी पूरे विश्व के लिए आज एक मिसाल है। इसका पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस युद्ध में अकबर के 85 हजार और प्रताप के केवल 20 हजार सैनिक थे। इसके बावजूद प्रताप ने अकबर को धूल चटा दिया था। प्रताप का पराक्रम ऐसा था कि उनकी मृत्यु पर उनकी बहादुरी को याद कर अकबर भी रो पड़ा था।</p>
<p>हालांकि प्रताप की जीत में उनके घोड़े का भी अहम योगदान था। एक पांव चोटिल होने के बाद भी प्रताप को पीठ पर लिए वह नाले को पार कर गया लेकिन मुगल सैनिक उसे पार न कर सके। हल्दी घाटी के युद्ध की याद दिलाती यह गुफा इतनी बड़ी है कि इसके अंदर घोड़ो को बांधने वाली अश्वशाला और रसोई घर भी है। इस गुफा के अंदर वही अश्वशाला है जहां चेतक को बांधा जाता था, इसलिए यह जगह आज भी पूजा जाता है। पास ही मां हिंगलाज का स्थान है। प्रकृति और इतिहास की यह विरासत अरसे से अनदेखी का शिकार है।
Posted in रामायण - Ramayan

महर्षि वाल्मीकि


महर्षि वाल्मीकि संस्कृत भाषा के आदि कवि और ‘रामायण’ के रचयिता के रूप में प्रसिद्ध है। महर्षि कश्यप और अदिति के नवम पुत्र वरुण (आदित्य) से इनका जन्म हुआ। आदिकवि शब्द ‘आदि’ और ‘कवि’ के मेल से बना है। ‘आदि’ का अर्थ होता है ‘प्रथम’ और ‘कवि’ का अर्थ होता है ‘काव्य का रचयिता’। वाल्मीकि ऋषि ने संस्कृत के प्रथम महाकाव्य की रचना की थी जो रामायण के नाम से प्रसिद्ध है। प्रथम संस्कृत महाकाव्य की रचना करने के कारण वाल्मीकि आदिकवि कहलाये।

तमसा नदी के तट पर व्याध द्वारा कोंच पक्षी के जोड़े में से एक को मार डालने पर वाल्मीकि के मुंह से व्याध के लिए शाप के जो उद्गार निकले वे लौकिक छंद में एक श्लोक के रूप में थे। इसी छंद में उन्होंने नारद से सुनी राम की कथा के आधार पर रामायण की रचना की।

पौराणिक कथाओ के अनुसार यह रत्नाकर नाम का दस्यु था और यात्रियों को मारकर उनके धन से अपना परिवार पालता था। एक दिन नारदजी भी इनके चक्कर में पड़ गए। जब रत्नाकर ने उन्हें भी मारना चाहा तो नारद ने पूछा-जिस परिवार के लिए तुम इतने अपराध करते हो, क्या वह तुम्हारे पापों का भागीदार बनने को तैयार है ? रत्नाकर नारद को पेड़ से बांधकर इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए घर गया। वह यह जानकर स्तब्ध रह गया कि परिवार का कोई भी व्यक्ति उसके पाप का भागीदार बनने को तैयार नहीं है। लौटकर उसने नारद के चरण पकड़ लिए और डाकू का जीवन छोड़कर तपस्या करने लगा। इसी में उसके शरीर को दीमकों ने अपना घर बनाकर ढक लिया, जिसके कारण यह भी वाल्मीकि के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

वनवास के समय भगवान श्री राम ने स्वयं इन्हें दर्शन देकर कृतार्थ किया। सीता जी ने अपने वनवास का अन्तिम काल इनके आश्रम पर व्यतीत किया। वहीं पर लव और कुश का जन्म हुआ।

महर्षि वाल्मीकि संस्कृत भाषा के आदि कवि और 'रामायण' के रचयिता के रूप में प्रसिद्ध है। महर्षि कश्यप और अदिति के नवम पुत्र वरुण (आदित्य) से इनका जन्म हुआ। आदिकवि शब्द 'आदि' और 'कवि' के मेल से बना है। 'आदि' का अर्थ होता है 'प्रथम' और 'कवि' का अर्थ होता है 'काव्य का रचयिता'। वाल्मीकि ऋषि ने संस्कृत के प्रथम महाकाव्य की रचना की थी जो रामायण के नाम से प्रसिद्ध है। प्रथम संस्कृत महाकाव्य की रचना करने के कारण वाल्मीकि आदिकवि कहलाये।

तमसा नदी के तट पर व्याध द्वारा कोंच पक्षी के जोड़े में से एक को मार डालने पर वाल्मीकि के मुंह से व्याध के लिए शाप के जो उद्गार निकले वे लौकिक छंद में एक श्लोक के रूप में थे। इसी छंद में उन्होंने नारद से सुनी राम की कथा के आधार पर रामायण की रचना की।

पौराणिक कथाओ के अनुसार यह रत्नाकर नाम का दस्यु था और यात्रियों को मारकर उनके धन से अपना परिवार पालता था। एक दिन नारदजी भी इनके चक्कर में पड़ गए। जब रत्नाकर ने उन्हें भी मारना चाहा तो नारद ने पूछा-जिस परिवार के लिए तुम इतने अपराध करते हो, क्या वह तुम्हारे पापों का भागीदार बनने को तैयार है ? रत्नाकर नारद को पेड़ से बांधकर इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए घर गया। वह यह जानकर स्तब्ध रह गया कि परिवार का कोई भी व्यक्ति उसके पाप का भागीदार बनने को तैयार नहीं है। लौटकर उसने नारद के चरण पकड़ लिए और डाकू का जीवन छोड़कर तपस्या करने लगा। इसी में उसके शरीर को दीमकों ने अपना घर बनाकर ढक लिया, जिसके कारण यह भी वाल्मीकि के नाम से प्रसिद्ध हुआ। 

वनवास के समय भगवान श्री राम ने स्वयं इन्हें दर्शन देकर कृतार्थ किया। सीता जी ने अपने वनवास का अन्तिम काल इनके आश्रम पर व्यतीत किया। वहीं पर लव और कुश का जन्म हुआ।
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

“”जब एक मुस्लिम शहजादी सती हुए राजपूत योद्धा के पीछे “”


“”जब एक मुस्लिम शहजादी सती हुए राजपूत योद्धा के पीछे “”
==महारावल वीरमदेव सोनिगरा चौहान (जालौर)=====
राजस्थान का इतिहास शोर्य और बलिदानी गाथाओ से भरा है राजस्थान मे जहाँ भी जाऐँगे आपको वीरो कि शौर्य गाथाए सूनने को मिलेगी ऐसे स्थलो मे से एक है जालोर का स्वर्णगिरी दुर्ग जो देश भर मे अभेध दुर्गो मे गिना जाता है
“आभ फटे धर उलटे कटे बखत रा कोर सिर कटे धर लडपडे जद छूटे जालोर ”

12 वीँ शताब्दी के अँतिम वर्षो मे जालोर दुर्ग पर चौहान राजा कान्हडदेव का शासन था इनका पुत्र कूँवर वीरमदेव चौहान समस्त राजपूताना मे कुश्ती का प्रसिद्ध पहलवान था एवँ कूशल यौद्धा था छोटी आयू मे भी कई यूद्धो मे कुशल सैन्य सँचालन कर अपनी सैना को विजय दिलाई थी वीरमदेव कि ख्याति सुनकर उसके प्रभावशाली व्यक्तित्व को देख कर दिल्ली के बादशाह अल्लाउदिन खिलजी कि बेटी शहजादी फिरोजा(सताई) का दिल विरमदेव पर आ गया तथा शहजादी ने किसी भी किमत पर विरमदेव से विवाह करने तथा अपनाने कि जिद पकड ली “वर वरुँ तो विरमदेव ना तो रहुँगी अकन कूँवारी ” शहजादी कि हठ सूनकर दिल्ली दरबार मे कौहराम मच गया काफी सोच विचार के बाद अपना राजनैतिक फायदा देख बादशाह खिलजी इसके लिए तैयार हुआ शादी का प्रस्ताव जालोर दुर्ग पहुँचाया गया मगर विरमदेव ने तूरँत प्रस्ताव ठुकरा दिया और कहा “मामा लाजै भाटियाँ कूल लाजै चौह्वान जौ मे परणुँ तुरकाणी तो पश्चिम उगे भान” (मतलब मेरे मामा भाटी वंश से है में खुद चौहान एक तुर्कन से कैसे शादी करू मेरा वंश अपवित्र हो जायेगा ऐसा तभी संभव है जब सूरज पश्चिम से उगेगा )

परिणामत युद्ध का ऐलान हुआ लगभग एक वर्ष तक तुर्को कि सैना जालोर पर घेरा लगाए बैठी रही फिर युद्ध प्रारँभ हुआ किल्ले की राजपूतनियो ने जौहर की रस्म निभायी मात्र 22 वर्ष कि अल्पायू मे खुद विरमदेव केसरिया बाना पहन कर सबसे आगे सैना का नैतृत्व कर रहा था और इस भयँकर यूद्ध मे विरमदेव विरगति को प्राप्त हो गया तूर्कि सैना विरमदेव का सिर दिल्ली ले गयी तथा शहजादी के सामने रख दिया जब शहजादी ने मस्तक को थाली मे रखवाया और मस्तक से शादी करने की बात कही तो मस्तक अपने आप थाली से पलट गया लेकिन शहजादी भी अपने वादे पर अडीग थी शादी करुँगी तो विरमदेव से वर्ना कूँवारी मर जाऊँगी अतँत शहजादी मस्तक को अपने हाथ मे लेकर यमूना नदी मे कूद कर विरमदेव के पिछे सती हो गयी”……………।
वीरमदेव ने अपना कर्तव्य निभाया और एक हिन्दू होने के नाते मरने को तैयार हुआ पर एक तूर्कि मुस्लिम शहजादी से शादी नही की वही एक मुस्लिम शहजादी एक हिन्दू राजा के प्रेम मे इतनी कायल हुई कि उसके लिए अपनी जान तक दे दी अतँत शहजादी मस्तक को अपने हाथ मे लेकर यमूना नदी मे कूद कर विरमदेव के पिछे सती हो गयी”

""जब एक मुस्लिम शहजादी सती हुए राजपूत योद्धा के पीछे ""
==महारावल वीरमदेव सोनिगरा चौहान (जालौर)=====
राजस्थान का इतिहास शोर्य और बलिदानी गाथाओ से भरा है राजस्थान मे जहाँ भी जाऐँगे आपको वीरो कि शौर्य गाथाए सूनने को मिलेगी ऐसे स्थलो मे से एक है जालोर का स्वर्णगिरी दुर्ग जो देश भर मे अभेध दुर्गो मे गिना जाता है
“आभ फटे धर उलटे कटे बखत रा कोर सिर कटे धर लडपडे जद छूटे जालोर ”

12 वीँ शताब्दी के अँतिम वर्षो मे जालोर दुर्ग पर चौहान राजा कान्हडदेव का शासन था इनका पुत्र कूँवर वीरमदेव चौहान समस्त राजपूताना मे कुश्ती का प्रसिद्ध पहलवान था एवँ कूशल यौद्धा था छोटी आयू मे भी कई यूद्धो मे कुशल सैन्य सँचालन कर अपनी सैना को विजय दिलाई थी वीरमदेव कि ख्याति सुनकर उसके प्रभावशाली व्यक्तित्व को देख कर दिल्ली के बादशाह अल्लाउदिन खिलजी कि बेटी शहजादी फिरोजा(सताई) का दिल विरमदेव पर आ गया तथा शहजादी ने किसी भी किमत पर विरमदेव से विवाह करने तथा अपनाने कि जिद पकड ली “वर वरुँ तो विरमदेव ना तो रहुँगी अकन कूँवारी ” शहजादी कि हठ सूनकर दिल्ली दरबार मे कौहराम मच गया काफी सोच विचार के बाद अपना राजनैतिक फायदा देख बादशाह खिलजी इसके लिए तैयार हुआ शादी का प्रस्ताव जालोर दुर्ग पहुँचाया गया मगर विरमदेव ने तूरँत प्रस्ताव ठुकरा दिया और कहा “मामा लाजै भाटियाँ कूल लाजै चौह्वान जौ मे परणुँ तुरकाणी तो पश्चिम उगे भान” (मतलब मेरे मामा भाटी वंश से है में खुद चौहान एक तुर्कन से कैसे शादी करू मेरा वंश अपवित्र हो जायेगा ऐसा तभी संभव है जब सूरज पश्चिम से उगेगा ) 

परिणामत युद्ध का ऐलान हुआ लगभग एक वर्ष तक तुर्को कि सैना जालोर पर घेरा लगाए बैठी रही फिर युद्ध प्रारँभ हुआ किल्ले की राजपूतनियो ने जौहर की रस्म निभायी मात्र 22 वर्ष कि अल्पायू मे खुद विरमदेव केसरिया बाना पहन कर सबसे आगे सैना का नैतृत्व कर रहा था और इस भयँकर यूद्ध मे विरमदेव विरगति को प्राप्त हो गया तूर्कि सैना विरमदेव का सिर दिल्ली ले गयी तथा शहजादी के सामने रख दिया जब शहजादी ने मस्तक को थाली मे रखवाया और मस्तक से शादी करने की बात कही तो मस्तक अपने आप थाली से पलट गया लेकिन शहजादी भी अपने वादे पर अडीग थी शादी करुँगी तो विरमदेव से वर्ना कूँवारी मर जाऊँगी अतँत शहजादी मस्तक को अपने हाथ मे लेकर यमूना नदी मे कूद कर विरमदेव के पिछे सती हो गयी”……………।
वीरमदेव ने अपना कर्तव्य निभाया और एक हिन्दू होने के नाते मरने को तैयार हुआ पर एक तूर्कि मुस्लिम शहजादी से शादी नही की वही एक मुस्लिम शहजादी एक हिन्दू राजा के प्रेम मे इतनी कायल हुई कि उसके लिए अपनी जान तक दे दी अतँत शहजादी मस्तक को अपने हाथ मे लेकर यमूना नदी मे कूद कर विरमदेव के पिछे सती हो गयी”
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

अकबर को धूल चटाने वाले राणा प्रताप ने इस गुफा में खाई थीं घास की रोटियां, देखिए तस्वीरें


अकबर को धूल चटाने वाले राणा प्रताप ने इस गुफा में खाई थीं घास की रोटियां, देखिए तस्वीरें... #MaharanaPratap 

http://www.bhaskar.com/news-hf/RAJ-UDA-cave-of-maharana-pratap-who-fought-with-akbar-in-haldi-ghati-4768899-PHO.html

अकबर को धूल चटाने वाले राणा प्रताप ने इस गुफा में खाई थीं घास की रोटियां, देखिए तस्वीरें…‪#‎MaharanaPratap‬

http://www.bhaskar.com/news-hf/RAJ-UDA-cave-of-maharana-pratap-who-fought-with-akbar-in-haldi-ghati-4768899-PHO.html