Posted in Rape

Deepak K Bhatt हमें समस्या की जड़ तक पहुँचना है। समस्या के मूल कारणों को, जन सहयोग और जनचेतना के माध्यम से, उखाड़ फेंकना है।
ये सब घटनाएँ मानसिक विकृतियों का परिणाम है। और ये मानसिक विकृतियाँ, विकास के नाम पर भौतिकता वादी पाश्चात्य संस्कृति के अंधे अनुसरण की देन है। भौ
तिकतावादी पाश्चात्य संस्कृति में नारी भी उपभोग की एक वस्तु मात्र रह गयी है। भौतिकवादी संस्कृति में जीने वाले लोगों की नज़र में हर चीज़ बिकाऊ है। कोई ज़रा सस्ते में, कोई ज़रा महंगे में, खरीदो, इस्तेमाल करो और फेंक दो, बस। यहाँ आदर्शों मूल्यों और नैतिकता का कोई स्थान नहीं।
आज इन्टरनेट पर पोर्नोग्राफी विडियो, पोर्नोग्राफिक मूवी खुले आम उपलब्ध है। जिसे हमारे देश के immature youth देख देख के कामोत्तेजना में आकर बिना सोचे समझे आसानी से उपलब्ध छोटी छोटी बच्चियों का बलात्कार कर डालते हैं और फिर उसे छुपाने के लिए उसकी हत्या जैसा घृणित और दुर्दान्त अपराध कर डालते हैं।ये है हमारे दिशाहीन विकास का विनाशकारी परिणाम जिसमे हमारे आदर्श, संस्कृति और नैतिक मूल्य अपना दम तोड़ रहे हैं और हम बस भौतिकतावादी विकास की अंधी दौड़ में दौड़ते जा रहे हैं, बगैर यह सोचे की इस विकास की दौड़ की हम क्या कीमत चुका रहे हैं।
आज का हिंदुस्तान दो संस्कृतियो के संक्रमण काल से गुजर रहा है। जिसके कारण लोगों में मानसिक विकृतियाँ उपज रहीं है। इन चीजों का विश्लेषण इतना आसान होता तो मेरे मष्तिष्क में इस समस्या का समाधान खोजने के लिए इतनी उलझन क्यों होती?
मै आप लोगों के सामने समाधान सोचने के लिए यह समस्या रखता ही क्यों?
राजनैतिक लोग तो अपनी राजनीति चमकाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं, कुछ भी कह सकते हैं। मीडिया का उद्देश्य पैसा कमाना मात्र ही रह गया गया है, उनसे सामाजिक दायित्वों की आशा रखना फ़िज़ूल है। हमको आपको समाज में चेतना जगानी है। इसमें किसे से उम्मीद करना बेकार है। आइये हम आप ही समाज में जन जागरण जगाएं। हम पहल करें। लो जुड़ते जायेंगे कारवाँ बढ़ता जायेगा। दुष्यन्त कुमार के शब्दों में,
” कौन कहता है आसमां में सुराख़ हो नहीं सकता।
एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों।”
” सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मक़सद नहीं,
मेरी कोशिश है कि सूरत बदलनी चाहिए।”
जयहिन्द।

Author:

Buy, sell, exchange books

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s