Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक दंपत्ति की शादी को साठ वर्ष हो चुके


एक दंपत्ति की शादी को साठ वर्ष हो चुके थे। उनकी आपसी समझ इतनी अच्छी थी कि इन साठ वर्षोँ में उनमें कभी झगड़ा तक नहीं हुआ। वे एक दूजे से कभी कुछ भी छिपाते नहीं थे।
हां, पत्नी के पास उसके मायके से लाया हुआ एक डिब्बा था जो उसने अपने पति के सामने कभी खोला नहीं था। उस डिब्बे में क्या है वह नहीं जानता था। कभी उसने जानने की कोशिश भी की तो पत्नी ने यह कह कर टाल दिया कि सही समय आने पर बता दूंगी।
आखिर एक दिन बुढ़िया बहुत बीमार हो गई और उसके बचने की आशा न रही। उसके पति को तभी खयाल आया कि उस डिब्बे का रहस्य जाना जाये। बुढ़िया बताने को राजी हो गई।
पति ने जब उस डिब्बे को खोला तो उसमें हाथ से बुने हुये दो रूमाल और 50,000 रूपये निकले। उसने पत्नी से पूछा, यह सब क्या है ?
पत्नी ने बताया कि जब उसकी शादी हुई थी तो उसकी दादी मां ने उससे कहा था कि ससुराल में कभी किसी से झगड़ना नहीं । यदि कभी किसी पर क्रोध आये तो अपने हाथ से एक रूमाल बुनना और इस डिब्बे में रखना।
बूढ़े की आंखों में यह सोचकर खुशी के मारे आंसू आ गये कि उसकी पत्नी को साठ वर्षोँ के लम्बे वैवाहिक जीवन के दौरान सिर्फ दो बार ही क्रोध आया था।
उसे अपनी पत्नी पर सचमुच गर्व हुआ। खुद को संभाल कर उसने रूपयों के बारे में पूछा, इतनी बड़ी रकम तो उसने अपनी पत्नी को कभी दी ही नहीं थी, फिर ये कहां से आये ?
रूपये !
वे तो मैंने रूमाल बेच बेच कर इकठ्ठे किये हैं। पत्नी ने मासूमियत से जबाब दिया |

एक दंपत्ति की शादी को साठ वर्ष हो चुके थे। उनकी आपसी समझ इतनी अच्छी थी कि इन साठ वर्षोँ में उनमें कभी झगड़ा तक नहीं हुआ। वे एक दूजे से कभी कुछ भी छिपाते नहीं थे। 
हां, पत्नी के पास उसके मायके से लाया हुआ एक डिब्बा था जो उसने अपने पति के सामने कभी खोला नहीं था। उस डिब्बे में क्या है वह नहीं जानता था। कभी उसने जानने की कोशिश भी की तो पत्नी ने यह कह कर टाल दिया कि सही समय आने पर बता दूंगी। 
आखिर एक दिन बुढ़िया बहुत बीमार हो गई और उसके बचने की आशा न रही। उसके पति को तभी खयाल आया कि उस डिब्बे का रहस्य जाना जाये। बुढ़िया बताने को राजी हो गई।
पति ने जब उस डिब्बे को खोला तो उसमें हाथ से बुने हुये दो रूमाल और 50,000 रूपये निकले। उसने पत्नी से पूछा, यह सब क्या है ?
पत्नी ने बताया कि जब उसकी शादी हुई थी तो उसकी दादी मां ने उससे कहा था कि ससुराल में कभी किसी से झगड़ना नहीं । यदि कभी किसी पर क्रोध आये तो अपने हाथ से एक रूमाल बुनना और इस डिब्बे में रखना। 
बूढ़े की आंखों में यह सोचकर खुशी के मारे आंसू आ गये कि उसकी पत्नी को साठ वर्षोँ के लम्बे वैवाहिक जीवन के दौरान सिर्फ दो बार ही क्रोध आया था। 
उसे अपनी पत्नी पर सचमुच गर्व हुआ। खुद को संभाल कर उसने रूपयों के बारे में पूछा, इतनी बड़ी रकम तो उसने अपनी पत्नी को कभी दी ही नहीं थी, फिर ये कहां से आये ?
रूपये !
वे तो मैंने रूमाल बेच बेच कर इकठ्ठे किये हैं। पत्नी ने मासूमियत से जबाब दिया |
Posted in AAP

केजरीवाल जी की तलवंडी


केजरीवाल जी की तलवंडी (पंजाब) रैली की तस्वीर गोर कीजियेगा ,,, आप की रैली में एक भी तिरंगा झंडा क्यों नहीं?
और तो और भगवंत मान साब ने ना तो तिरंगा फेहराया।
और न ही fb पे wish की (15 अगस्त ) को।
क्या ऐसे खालिस्तानी , नक्सली ,isis के दीवानों को वोट दोगे??

केजरीवाल जी की तलवंडी (पंजाब) रैली की तस्वीर गोर कीजियेगा ,,, आप की रैली में एक भी तिरंगा झंडा क्यों नहीं?
और तो और भगवंत मान साब ने ना तो तिरंगा फेहराया।
और न ही fb पे wish की (15 अगस्त ) को।
क्या ऐसे खालिस्तानी , नक्सली ,isis के दीवानों को वोट दोगे??
Posted in हिन्दू पतन, P N Oak

If there is a heaven, it is here (in red fort): Shahjahan


If there is a heaven, it is here (in red fort): Shahjahan

(Please note the years carefully)

Our (hi) story Book: Red Fort was made by Shah Jahan (between 1638 to) in 1648. Md Ghori conquered Delhi in 1192 and saw a fort of huge size. (Writes Hassan Nizami in his “Taz-Ul-Mashr”

My Question: Who, when and why demolished that fort.? The fort would have not been stolen/ vanished during Mughal and British rule.

2. M.G. and Kutubuddin subsequently conquers Forts at Ajmer ( Ajayameru), Gwalior, Ranthambod, Meerut, Varanasi. (Our history books)

MQ: Hindu kings had so many forts and none in Delhi? (Which was under Indrapath (Indrapeaastha) mauza when Mughal took over- meaning continuous capital city for many centuries?)

3. Ziauddin Burni writes in his “Tahriq–E-Ferozshahi” that Alauddin Khilji enters Delhi in1296 and rests at Daulatkhana-e-Juluus and then moves to “Kushk-e-lal (red Palace) (H.M. Elliot and J. Dowson –History of India, vol-8 and III/160)
MQ: Where was/is that red palace? 2. If Purana killa was made by Shershah Suri ( during 1541-43) then what was/is that Dauatkhana e julus?

(Based on Dr Radheyshaym Brahmachary, Historian).

 
Subhas Mitra's photo.
Subhas Mitra's photo.
Subhas Mitra added 2 new photos.

If there is a heaven, it is here (in red fort): Shahjahan

(Please note the years carefully)

Our (hi) story Book: Red Fort was made by Shah Jahan (between 1638 to) in 1648. Md Ghori conquered Delhi in 1192 and saw a fort of huge size. (Writes Hassan Nizami in his “Taz-Ul-Mashr”

My Question: Who, when and why demolished that fort.? The fort would have not been stolen/ vanished during Mughal and British rule.

2. M.G. and Kutubuddin subsequently conquers Forts at Ajmer ( Ajayameru), Gwalior, Ranthambod, Meerut, Varanasi. (Our history books)

MQ: Hindu kings had so many forts and none in Delhi? (Which was under Indrapath (Indrapeaastha) mauza when Mughal took over- meaning continuous capital city for many centuries?)

3. Ziauddin Burni writes in his “Tahriq–E-Ferozshahi” that Alauddin Khilji enters Delhi in1296 and rests at Daulatkhana-e-Juluus and then moves to “Kushk-e-lal (red Palace) (H.M. Elliot and J. Dowson –History of India, vol-8 and III/160)
MQ: Where was/is that red palace? 2. If Purana killa was made by Shershah Suri ( during 1541-43) then what was/is that Dauatkhana e julus?

(Based on Dr Radheyshaym Brahmachary, Historian).

Rajyashree Tripathi Rajyashree Chaudhuri Diwakar Methil Shailendra PrasadPrasun Maitra Anang Pal Malik Gaurav Chaubey Parag Chitré Tilak SarkarMeenakshi Srivastava Apurbajyoti MajumdarSuman Gupta Ananthakrishnan Ramanathan

Posted in Uncategorized

Sthree Varsha Women Kingdom Rishi Varsha Russia Hindu Texts


Ramani's blog

Russia was known as Rishi Varsha an it surrounded the Bharata Varsha as described in the Puranas.

There have migrations from India, from the Sarasvati Valley Civilization,from the Dravida Kingdoms, and from the North again.

There is enough evidence in the present Russia right from the names of Rivers,Olga,Moksha from which Moscow is derived,Karaggana, Utkaraganga,

People living in the valley of the River Moksha spoke a language Moksha!

Place Arkaim, the name of Surya, Sun is Arka.

Arkaim is an important archeological site .

Many Hindu Ritual signs are found here.

One finds the designs of swastika here and this site is dated 4500BC!

Arkaim, Russia.bmp Arkaim, Russia.

Arkaim.

But reasonable reactions notwithstanding, why have people who are looking for their roots in the direction of Vedic ancestry been more suspect than any other indigenous people curious about their heritage? After all, it would appear to be an uncommonly large area upon which…

View original post 421 more words

Posted in भारत गौरव - Mera Bharat Mahan

Göbekli Tepe


Göbekli Tepe (Currently considered to be the oldest temple in the world at c. 9,500 BC).Located in Turkey.
This is currently known oldest shrine or temple complex in the world, and the planet’s oldest known example of monumental architecture.
The local limestone was carved into numerous statues and smaller sculptures, including a more than life-sized bare human head with a snake or sikha-like tuft.
This particular sculpture (right) is claimed to be the head of an Indian Vedic priest by B. G. Sidhartha, who whilst researching the early (similar) date of the Rig Veda, came across it in the archaeological literature. He said of it:
“Even a not-too-well informed Indian can make this out to be the sculpture of a Vedic priest, because such a hairstyle is a dying, but still alive tradition in India today”.
Gobleki Tepi is the first stonehenge of the planet.All Stonehenges on this planet are Hindu in origin– used for Agnihotra Havanams.
The Yazidis were the Hindu brahmin priests at Gobleki Tepi
Indian empire was spread from Arab in east to Vietnam in the West. Hindu relicts are found all over the world like Africa, Australia , South America , to get more such updates like our Page Aryavart
Sources :
http://www.ancient-wisdom.co.uk/turkeynevali.htm
http://bharatkalyan97.blogspot.in/2012/12/gobekli-tepe-and-nevali-cori-astronomy.html
http://ajitvadakayil.blogspot.in/2011/12/stonehenge-of-arkaim-russia-capt-ajit.html

Göbekli Tepe (Currently considered to be the oldest temple in the world at c. 9,500 BC).Located in Turkey.
This is currently known oldest shrine or temple complex in the world, and the planet's oldest known example of monumental architecture.
The local limestone was carved into numerous statues and smaller sculptures, including a more than life-sized bare human head with a snake or sikha-like tuft.
This particular sculpture (right) is claimed to be the head of an Indian Vedic priest by B. G. Sidhartha, who whilst researching the early (similar) date of the Rig Veda, came across it in the archaeological literature. He said of it:
"Even a not-too-well informed Indian can make this out to be the sculpture of a Vedic priest, because such a hairstyle is a dying, but still alive tradition in India today".
Gobleki Tepi is the first stonehenge of the planet.All Stonehenges on this planet are Hindu in origin-- used for Agnihotra Havanams.
The Yazidis were the Hindu brahmin priests at Gobleki Tepi
Indian empire was spread from Arab in east to Vietnam in the West. Hindu relicts are found all over the world like Africa, Australia , South America , to get more such updates like our Page Aryavart
Sources :
http://www.ancient-wisdom.co.uk/turkeynevali.htm
http://bharatkalyan97.blogspot.in/2012/12/gobekli-tepe-and-nevali-cori-astronomy.html
http://ajitvadakayil.blogspot.in/2011/12/stonehenge-of-arkaim-russia-capt-ajit.html
Posted in Secular

Secular


मोदी जी ने भगवा टोपी पहन कर देश का अपमान किया : लालू यादव

अरे मियाँ लालू जी आपकी पत्नी राबड़ी जी ने तो देश का सर ऊँचा कर दिया मजार पर माथा टेककर …

सुधर जाओ वोट बैंक के दलालों ,, तुम्हारा बस चले तो तुम मक्का में भी हज करके आ जाओ ,

 
लालू जी और मियां नितीश जी के अद्भुत मिलन की मन्नत पूरी होने के बाद राबड़ी जी अपने नए सेकुलर कुल देवता 'अल्लाह जी' का सुक्रिया अदा करती हुयीं , =D

लालू जी और मियां नितीश जी के अद्भुत मिलन की मन्नत पूरी होने के बाद राबड़ी जी अपने नए सेकुलर कुल देवता ‘अल्लाह जी’ का सुक्रिया अदा करती हुयीं ,

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

●जैसलमेर का कुलधरा●


●जैसलमेर का कुलधरा●

राजस्थान के जैसलमेर शहर से 18 किमी दूर स्थित कुलधरा गांव आज से 500 साल पहले 600 घरों और 85 गावों का पालीवाल ब्राह्मणों का साम्राज्य ऐसा राज्य था जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती हे…

रेगिस्तान के बंजर धोरो में पानी नहीं मिलता वहां पालीवाल ब्राह्मणों ने ऐसा चमत्कार किया जो इंसानी दिमाग से बहुत परे है .

पालीवाल समुदाय के इस इलाक़े में चौरासी गांव थे और यह उनमें से एक था । मेहनती और रईस पालीवाल ब्राम्‍हणों की कुलधार शाखा ने सन 1291 में तकरीबन छह सौ घरों वाले इस गांव को बसाया था। कुलधरा गाँव पूर्ण रूप से वैज्ञानिक तौर पर बना था। ईट पत्थर से बने इस गांव की बनावट ऐसी थी कि यहां कभी गर्मी का अहसास नहीं होता था।

कहते हैं कि इस कोण में घर बनाए गये थे कि हवाएं सीधे घर के भीतर होकर गुज़रती थीं । कुलधरा के ये घर रेगिस्‍तान में भी वातानुकूलन का अहसास देते थे । इस जगह गर्मियों में तापमान 45 डिग्री रहता हैं पर आप यदि अब भी भरी गर्मी में इन वीरान पडे मकानो में जायेंगे तो आपको शीतलता का अनुभव होगा।

गांव के तमाम घर झरोखों के ज़रिए आपस में जुड़े थे इसलिए एक सिरे वाले घर से दूसरे सिरे तक अपनी बात आसानी से पहुंचाई जा सकती थी। घरों के भीतर पानी के कुंड, ताक और सीढि़यां कमाल के हैं ।

उन्होंने जमीन में उपलब्ध पानी का प्रयोग नहीं किया, ना ही बारिश के पानी को संग्रहित किया बल्कि रेगिस्तान के मिटटी में मौजूद पानी के कण को खोजा और अपना गाव जिप्सम की सतह के ऊपर बनाया, उन्होंने उस समय जिप्सम की जमीन खोजी ताकि बारिश का पानी जमीन सोखे नहीं.

और आवाज के लिए गांव ऐसा बसाया कि दूर से अगर दुश्मन आये तो उसकी आवाज उससे 4 गुना पहले गांव के भीतर आ जाती थी. हर घर के बीच में आवाज का ऐसा मेल था जैसे आज के समय में टेलीफोन होते हैं.

जैसलमेर के दीवान ये बात हजम नहीं हुई की ब्राह्मण इतने आधुनिक तरीके से खेती करके अपना जीवन यापन कर रहे हैं तो उन्होंने खेती पर कर लगा दिया पर पालीवाल ब्राह्मणों ने कर देने से मना कर दिया.

उसके बाद दीवान सलीम सिंह को गाँव के मुखिया की बेटी पसंद आ गयी तो उसने कह दिया या तो बेटी दीवान को दे दो या सजा भुगतने के लिए तैयार रहो.

ब्राह्मणों को अपने आत्मसम्मान से समझौता बिलकुल बर्दाश्त नहीं था इसलिए रातोरात 85 गावों की एक महापंचायत बैठी और निर्णय हुआ की रातोरात कुलधरा खाली करके वो चले जायेंगे.

रातोरात 85 गाँव के ब्राह्मण कहाँ गए कैसे गए और कब गए इस चीज का पता आजतक कोई पता नहीं लगा है. पर जाते जाते पालीवाल ब्राह्मण शाप दे गए की ये कुलधरा हमेशा वीरान रहेगा इस जमीन पर कोई फिर से आके नहीं बस पायेगा.

आज भी जैसलमेर में जो तापमान रहता है गर्मी हो या सर्दी, कुलधरा गाव में आते ही तापमान में 4 डिग्री की बढ़ोतरी हो जाती है. वैज्ञानिकों की टीम जब पहुची तो उनकी मशीनो में आवाज और तरंगों की रिकॉर्डिंग हुई जिससे ये पता चलता हे की कुलधरा में आज भी कुछ शक्तियाँ मौजूद हैं जो इस गांव में किसी को रहने नहीं देती. मशीनो में रिकॉर्ड तरंगे ये बताती हैं की वहां मौजूद शक्तियां कुछ संकेत देती हैं.

आज भी कुलधरा गांव की सीमा में आते हैं मोबाइल नेटवर्क और रेडियो काम करना बंद कर देते हैं पर जैसे ही गावं की सीमा से बाहर आते हे मोबाइल और रेडियो शुरू हो जाते हैं |

आज भी कुलधरा शाम होते ही खाली हो जाता है और कोई इन्सान वहां जाने की हिम्मत नहीं करता. जैसलमेर जब भी जाना हो तो कुलधरा जरुर जाएं |

Hinduism: The scientific way of life.'s photo.
Hinduism: The scientific way of life.'s photo.
Hinduism: The scientific way of life.'s photo.
Hinduism: The scientific way of life.'s photo.
Posted in जीवन चरित्र

कालिदास


कालिदास

कालिदास संस्कृत भाषा के सबसे महान कवि और नाटककार थे। कालिदास नाम का शाब्दिक अर्थ है, “काली का सेवक”। कालिदास शिव के भक्त थे। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर रचनाएं की। कलिदास अपनी अलंकार युक्त सुंदर सरल और मधुर भाषा के लिये विशेष रूप से जाने जाते हैं। उनके ऋतु वर्णन अद्वितीय हैं और उनकी उपमाएं बेमिसाल। संगीत उनके साहित्य का प्रमुख अंग है और रस का सृजन करने में उनकी कोई उपमा नहीं। उन्होंने अपने शृंगार रस प्रधान साहित्य में भी साहित्यिक सौन्दर्य के साथ साथ आदर्शवादी परंपरा और नैतिक मूल्यों का समुचित ध्यान रखा है। उनका नाम अमर है और उनका स्थान वाल्मीकि और व्यास की परम्परा में है।

समय

कालिदास के जीवनकाल के बारे में थोड़ा विवाद है। अशोक और अग्निमित्र के शासनकाल से प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार, कालिदास का जीवनकाल पहली शताब्दी से तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के बीच माना जाता है। कालिदास ने द्वितीय शुंग शासक अग्निमित्र को नायक बनाकर मालविकाग्निमित्रम् नाटक लिखा। अग्निमित्र ने १७० ईसापू्र्व में शासन किया था, अतः कालिदास का जीवनकाल इसके बाद माना जाता है। भारतीय परम्परा में कालिदास और विक्रमादित्य से जुड़ी कई कहानियां हैं। इन्हें विक्रमादित्य के नवरत्नों में से एक माना जाता है। इतिहासकार कालिदास को गुप्त शासक चंद्रगुप्त विक्रमादित्य और उनके उत्तराधिकारी कुमारगुप्त से जोड़ते हैं, जिनका शासनकाल चौथी शताब्दी में था। ऐसा माना जाता है कि चंद्रगुप्त द्वितीय ने विक्रमादित्य की उपाधि ली और उनके शासनकाल को स्वर्णयुग माना जाता है। यहां यह उल्लेखनीय है कि कालिदास ने शुंग राजाओं के छोड़कर अपनी रचनाओं में अपने आश्रयदाता या किसी साम्राज्य का उल्लेख नहीं किया। सच्चाई तो ये है कि उन्होंने पुरुरवा और उर्वशी पर आधारित अपने नाटक का नाम विक्रमोर्वशीयम् रखा। कालिदास ने किसी गुप्त शासक का उल्लेख नहीं किया। विक्रमादित्य नाम के कई शासक हुए, संभव है कि कालिदास इनमें से किसी एक के दरबार में कवि रहे हों। अधिकांश विद्वानों का मानना है कि कालिदास शुंग वंश के शासनकाल में थे, जिनका शासनकाल १०० सदी ईसापू्र्व था।
जीवनी
कालिदास शक्लो-सूरत से सुंदर थे और विक्रमादित्य के दरबार के नवरत्नों में एक थे। लेकिन कहा जाता है कि प्रारंभिक जीवन में कालिदास अनपढ़ और मूर्ख थे। कालिदास की शादी विद्योत्तमा नाम की राजकुमारी से हुई। ऐसा कहा जाता है कि विद्योत्तमा ने प्रतिज्ञा की थी कि जो कोई उसे शास्त्रार्थ में हरा देगा, वह उसी के साथ शादी करेगी। जब विद्योत्तमा ने शास्त्रार्थ में सभी विद्वानों को हरा दिया तो अपमान से दुखी कुछ विद्वानों ने कालिदास से उसका शास्त्रार्थ कराया। विद्योत्तमा मौन शब्दावली में गूढ़ प्रश्न पूछती थी, जिसे कालिदास अपनी बुद्धि से मौन संकेतों से ही जवाब दे देते थे। विद्योत्तमा को लगता था कि कालिदास गूढ़ प्रश्न का गूढ़ जवाब दे रहे हैं। उदाहरण के लिए विद्योत्तमा ने प्रश्न के रूप में खुला हाथ दिखाया तो कालिदास को लगा कि यह थप्पड़ मारने की धमकी दे रही है। उसके जवाब में कालिदास ने घूंसा दिखाया तो विद्योत्तमा को लगा कि वह कह रहा है कि पाँचों इन्द्रियाँ भले ही अलग हों, सभी एक मन के द्वारा संचालित हैं। विद्योत्तमा और कालिदास का विवाह हो गया तब विद्योत्तमा को सच्चाई का पता चला कि कालिदास अनपढ़ हैं। उसने कालिदास को धिक्कारा और यह कह कर घर से निकाल दिया कि सच्चे पंडित बने बिना घर वापिस नहीं आना। कालिदास ने सच्चे मन से काली देवी की आराधना की और उनके आशीर्वाद से वे ज्ञानी और धनवान बन गए। ज्ञान प्राप्ति के बाद जब वे घर लौटे तो उन्होंने दरवाजा खड़का कर कहा – कपाटम् उद्घाट्य सुन्दरि (दरवाजा खोलो, सुन्दरी)। विद्योत्तमा ने चकित होकर कहा — अस्ति कश्चिद् वाग्विशेषः (कोई विद्वान लगता है)। कालिदास ने विद्योत्तमा को अपना पथप्रदर्शक गुरू माना और उसके इस वाक्य को उन्होंने अपने काव्यों में जगह दी। कुमारसंभवम् का प्रारंभ होता है- अस्तोत्तरस्याम् दिशि से, मेघदूतम् का पहला शब्द है- कश्चित्कांता, और रघुवंशम् की शुरुआत होती है- वागर्थविवा से।
कालिदास के जन्मस्थान के बारे में भी विवाद है, लेकिन उज्जैन के प्रति उनकी विशेष प्रेम को देखते हुए लोग उन्हें उज्जैन का निवासी मानते हैं। कहते हैं कि कालिदास की श्रीलंका में हत्या कर दी गई थी।

रचनाएं

कालिदास की प्रमुख रचनाएंनाटक: अभिज्ञान शाकुन्तलम्, विक्रमोवशीर्यम् और मालविकाग्निमित्रम्।महाकाव्य: रघुवंशम् और कुमारसंभवम्खण्डकाव्य: मेघदूतम् और ऋतुसंहार
नाटककालिदास के प्रमुख नाटक हैं- मालविकाग्निमित्रम् (मालविका और अग्निमित्र), विक्रमोर्वशीयम् (विक्रम और उर्वशी), और अभिज्ञान शाकुन्तलम् (शकुंतला की पहचान)।
मालविकाग्निमित्रम् कालिदास की पहली रचना है, जिसमें राजा अग्निमित्र की कहानी है। अग्निमित्र एक निर्वासित नौकर की बेटी मालविका के चित्र के प्रेम करने लगता है। जब अग्निमित्र की पत्नी को इस बात का पता चलता है तो वह मालविका को जेल में डलवा देती है। मगर संयोग से मालविका राजकुमारी साबित होती है, और उसके प्रेम-संबंध को स्वीकार कर लिया जाता है।

अभिज्ञान शाकुन्तलम् कालिदास की दूसरी रचना है जो उनकी जगतप्रसिद्धि का कारण बना। इस नाटक का अनुवाद अंग्रेजी और जर्मन के अलावा दुनिया के अनेक भाषाओं में हुआ है। इसमें राजा दुष्यंत की कहानी है जो वन में एक परित्यक्त ऋषि पुत्री शकुन्तला (विश्वामित्र और मेनका की बेटी) से प्रेम करने लगता है। दोनों जंगल में गंधर्व विवाह कर लेते हैं। राजा दुष्यंत अपनी राजधानी लौट आते हैं। इसी बीच ऋषि दुर्वासा शकुंतला को शाप दे देते हैं कि जिसके वियोग में उसने ऋषि का अपमान किया वही उसे भूल जाएगा। काफी क्षमाप्रार्थना के बाद ऋषि ने शाप को थोड़ा नरम करते हुए कहा कि राजा की अंगूठी उन्हें दिखाते ही सब कुछ याद आ जाएगा। लेकिन राजधानी जाते हुए रास्ते में वह अंगूठी खो जाती है। स्थिति तब और गंभीर हो गई जब शकुंतला को पता चला कि वह गर्भवती है। शकुंतला लाख गिड़गिड़ाई लेकिन राजा ने उसे पहचानने से इनकार कर दिया। जब एक मछुआरे ने वह अंगूठी दिखायी तो राजा को सब कुछ याद आया और राजा ने शकुंतला को अपना लिया। शकुंतला शृंगार रस से भरे सुंदर काव्यों का एक अनुपम नाटक है। कहा जाता है काव्येषु नाटकं रम्यं तत्र रम्या शकुन्तला (कविता के अनेक रूपों में अगर सबसे सुन्दर नाटक है तो नाटकों में सबसे अनुपम शकुन्तला है।)

कालिदास का नाटक विक्रमोर्वशीयम बहुत रहस्यों भरा है। इसमें पुरूरवा इंद्रलोक की अप्सरा उर्वशी से प्रेम करने लगते हैं। पुरूरवा के प्रेम को देखकर उर्वशी भी उनसे प्रेम करने लगती है। इंद्र की सभा में जब उर्वशी नृत्य करने जाती है तो पुरूरवा से प्रेम के कारण वह वहां अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाती है। इससे इंद्र गुस्से में उसे शापित कर धरती पर भेज देते हैं। हालांकि, उसका प्रेमी अगर उससे होने वाले पुत्र को देख ले तो वह फिर स्वर्ग लौट सकेगी। विक्रमोर्वशीयम् काव्यगत सौंदर्य और शिल्प से भरपूर है।

महाकाव्य

इन नाटकों के अलावा कालिदास ने दो महाकाव्यों और दो गीतिकाव्यों की भी रचना की। रघुवंशम् और कुमारसंभवम् उनके महाकाव्यों के नाम है।
रघुवंशम् में सम्पूर्ण रघुवंश के राजाओं की गाथाएँ हैं, तो कुमारसंभवम् में शिव-पार्वती की प्रेमकथा और कार्तिकेय के जन्म की कहानी है।
मेघदूतम् और ऋतुसंहारः उनके गीतिकाव्य हैं। मेघदूतम् में एक विरह-पीड़ित निर्वासित यक्ष एक मेघ से अनुरोध करता है कि वह उसका संदेश अलकापुरी उसकी प्रेमिका तक लेकर जाए, और मेघ को रिझाने के लिए रास्ते में पड़ने वाले सभी अनुपम दृश्यों का वर्णन करता है। ऋतुसंहार में सभी ऋतुओं में प्रकृति के विभिन्न रूपों का विस्तार से वर्णन किया गया है।

अन्य

इनके अलावा कई छिटपुट रचनाओं का श्रेय कालिदास को दिया जाता है, लेकिन विद्वानों का मत है कि ये रचनाएं अन्य कवियों ने कालिदास के नाम से की। नाटककार और कवि के अलावा कालिदास ज्योतिष के भी विशेषज्ञ माने जाते हैं। उत्तर कालामृतम् नामक ज्योतिष पुस्तिका की रचना का श्रेय कालिदास को दिया जाता है। ऐसा माना जाता है कि काली देवी की पूजा से उन्हें ज्योतिष का ज्ञान मिला। इस पुस्तिका में की गई भविष्यवाणी सत्य साबित हुईं।