Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Madurai


 

History of Madurai Meenakshi Amman temple

According to legend, the sacred Suyambulingam discovered by the king of Gods indira at Kadambavanam, was later enshrined by him in Madurai. The fact that the Lord is seen on the vehicle of Indira in this temple is said to be proof for this.

Many historical evidences of the temple have been found dating back from early A.D. The temple was almost completely destroyed in the year 1310 following the invasion of the Islamic conqueror Malikkapur.As kings who were followers of Islam were noted for their intolerance towards other religions, the invaders destroyed most of the ancient sculptures of the temple.

Thirugnanasambandar the Hindu Saint has mentioned the temple in his songs which go back to early 7th century. The Lord has been described as Alavai Iraivan in his songs.The temple was restored to its pristine glory in the late 14th century when the Hindu Kings came back to power in Madurai.This can also be termed as a new beginning of a new era in the history of the temple, when it was almost rebuilt. The King Thirumalai Naicker played an important role in the construction of the new form of the temple according to records.

Deities

The presiding Lord of this sacred shrine was in the times of yore known as Chockanathar, and Chockalinga Perumal.

Now the deity is known as Sundareswarar, Meenakshi Sundarar, Somasundarar, Kalyana Sundarar, Shanbaga Sundarar, Attavai Shevagan, Chockalingam, Adiyarku Nallan, Adhiraveesi, Vilayaduvan, Abhideka Chockar, Azhagiya Chockar, Kadambavana Chockar, Puzhugu Neidhu Chockar, Kadambavaneswarar, Karpoora Chockar, Madureswarar, Irayanar, Peralavayar and other names.

Stone Inscriptions

There are about 44 stone inscriptions on the walls of the corridors of the Sundareswarar shrine and that of Meenakshi Amma shrine.

These inscriptions contain details of lands donated to the temple, the rituals for worship, the list of articles used for performing food offerings, the religious status of the people in ancient days, government procedures and social habits

Structure

The temple which has five entrances, covers an area 847 feet (254.1 meters) long and 792 feet (237.6 meters) wide in the North South direction, the circumference of the Adi Veedhi which is the path within the great walls is 830 feet (249 meters) on the east west and , measuring 730 feet (219 meters) from North South direction.

If the devotees bathe in the waters of this pond of Golden Lotus on Amavasya (new moon) day, the first day of the month, days of eclipse and other auspicious days and worship the Lord, they will be blessed with all their aspirations for success.

Halls & Sculptures

This mandapam which is the eastern entrance of the Amman Sannithi is said to have been constructed by the queens Uruthirapathiammal and Tholiammal (1623-1659) who were the wives of Thirumalainaicker.

The eight forms of Goddess Sakthi the consort of Lord Shiva, Kaumari, Rowthiri, Vaishnavi, Mahalakshmi, Yangnarubini, Shyamala, Maheswari and Manonmani have been sculptured into the pillars of the mandapam individually.

There are drawings depicting the life of Meenakshi Amman on the roof of the mandapam.

There are statues of Vallaba Vinayagar and Murugan at the entrance of this mandapam.

Meenakshi Naicker Mandapam

This mandapam which is seen next to the Ashta Sakthi mandapam was constructed by Meenakshi Naicker belonging to the Naicker clan in the year 1708.

There are sculptures depicting Goddess Meenakshi and Lord Shiva who took the form of a hunter and huntress to rid a Brahmin of his sin.

The twelve Sun signs of zodiac have been depicted in a square shape structure on top of the mandapam.

This mandapam is 160 feet in length and has pillars that have been arranged in six rows.

Muthupillai Mandapam or Iruttumandapam

It was constructed by Kadanthai Mudaliar in 1613.

There are statues of Pitchanar, Munivars or saints of the Tharukavanam and wives of the saints.

Mythology has it that Lord Shiva took the form of Pitchanar to preach to the Munivars of Tharukavanam.

The statues of Munivar, Mohini and Kadanthai Mudaliar are seen at the southern side of the mandapam.

The Museum

Since 1966, the thousand pillars hall is also doubling as the museum of the temple. Among those items of artistic elegance and cultural excellence are:

Paintings explaining the quintesscence of the ancient arts of archtecture, sculpture, painting, music, dance and other forms of aesthetic importance.

Antique panchaloka (five metal) idols.

Collection of rare photographs.

Rare antique items.

Articles of Saiva and Vaishnava religions.

Antique coins.

Carvings in tusks and antique items.

Paintings from the Nayakka period depicting the 64 miracles performed by Lord Sokkanathar.

This mandapam is now being renovated and modernised using latest techniques.

The saying that one needs thousand eyes to view the hall of thousand pillars is not without truth.

Swamy Sannidhi(sanctum sanctrom) – Dhakshinamoorthy,Lingothpavar,Durga Mandapams:

On the walls of the sanctum sanctorum of the Lord are the Dhakshinamoorthy Mandam with a pinnacle, the Lingothpavar mandapam has sculptures of Maal and Ayan unable to find the feet and crown of the Lord and the Durga mandapam.

These mandapams were built by Kambavarayar.

The celestial wedding hall:

The sacred wedding hall to the south of Veeravasantharayar mandapam was built by Vijayaranga Sokkanatha Nayakkar (1706 – 1732). His sculpture is etched on a pillar.

The ceiling of the sacred wedding hall are covered with teak planks with exquisite art work. The 64 miracles of Lord Sivaperuman have also been painted on the dome of the mandapam. There are also paintings depicting the twin worlds and fourteen worlds.

Earlier the celestial wedding of the Lord and Goddess used to be solemnized in this mandapam. Now the wedding takes place at the new wedding hall where the North Aadi street and West Aadi street meet. After the wedding, the Lord and Goddess would proceed to the old wedding hall to bless the devotees.

A scene from the wedding of the celestial couple form the backdrop of the wedding dais in the mandapam. Sculptures of the Meenakshi and Sokkanathar are found at Kambathadi mandapam and new mandapam.. Paintings of the celestial weddings adorn the walls of entrance to Amman Sannidhi and the western wall of the parrot cage mandapam.

The golden chariot of the temple is kept in this mandapam. During the festivals the Lord and Godess would be taken out in procession from this mandapam. The golden chariot procession also starts from this mandapam.

Mangayarkarasi mandapam and sculpture:

This mandapam is situated opposite the old wedding hall.

In view of the kumbabishekam. this mandapam was renovated according to the present style between 1960-63.

This mandapam houses statues of Arikesari, Maravarman, his consort Mangayarkarasiyar, Minister Kulachirayar and Thirugnanasambar in poses worshipping Lord Sivaperuman.

Servaikarar Mandapam

Situated opposite the old wedding hall, this mandapam was built in 1795 by Marudhappa Servaikarar.

Muthuramayyar mandapam:

Situated near the Servaikarar mandapam, this mandapam was built by Muthuramayyar.

One of the pillars in this mandapam bears the statue of Muthramayyar.

Kasiviswanathar and Visalakshi Amman shrines are situated in this mandapam.

In a pillar opposite there is a statue of Sarabeswarar.

It is in the mandapam opposite this hall, that the sacred task of Annadhan is distributed everyday. About 250 persons are fed free every day.

Nagara Mandapam

Nagara mandapam situated opposite the Amman sanctum in East Chitra street was built in the year 1635 by Achutharayan, minister of Rani Mangammal.

This mandapam was built for the purpose of sounding the Nagara drum toannounce important events and festivals to the devotees. Even though many shops are situated in the premises, the practice of beating the Nagara drum continues.

New Mandapam:

The New Mandapam, situated opposite the East Rajagopuram was built by King Thirumalai Naicker with the work starting in 1626 and ending in 1645.

The dimensions of this mandapam known as Vasantha mandapam and Thirumalai Naickerr Choultry are: length – 333 feet (100 meters), width 105 feet (31.5 meters) and height 25 feet (7.5 meters).

On both sides of this mandapam have been carved the statues of ten famous kings of Naicker dynasty. These statues which range from King Viswantha Naicker to Thrimalai Naicker had been chiseled in a life like manner.

On the pillars surrounding the mandapam, along the first six rows on the eastern side are carved figures of equestrian heroes, yalis, Ekapathamoorthy and that of Gajasankarar. In the adjacent inteior are sculptures of Thadagapirattiar, her tours (dikvijayam), Lord Shiva facing her, feeding of piglets, moon, sun, tiger feeding fawns and two dwarapalakars.

On the six pillars next to the western entrance to the mandapam, there are sculptures of Thiripurasankarar, four heroes on horses, Ravana trying to lift Mount Kailash and others.

In the interior of the mandapam, there are scenes of Meenakshi celestial wedding, Indra, Bramha, Sankaranarayanan, Arthanareeswarar, Oorthandavar, Kali, feeding the granite elephant with sugarcane and other sculptures.

On the pillars are 25 poses of Lord Shiva,

According to the work Thiruppani Maalai all the sculptures in the mandapam were executed by Sumandira Moorthy Asari.

Since the sculptures were new at the time the mandapam was built, it was called Pudhu Mandapam(New Mandapam). There are interesting episodes of events that took place while the sculptures were being carved.

Theradi Mandapams(the Mandapam at the foot of chariot shed):

Theradi Mandapams are situated along the East Masi street.

During the Chitra Festival, the procession deities Meenakshi and Sundareswarar arrive at this mandapam on the day of car festival before being taken out in procession. in their chariots.

The shed housing the car of Amman was built by Pappu Chettiar. Now the cars of Amman and the Lord have been renovated with modern technology.

The shed of the Lord was built in the year 1795 by Anandazhvan Ayyan.

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

बादशाह को एक नौकर की आवश्यकता थी


बादशाह को एक नौकर की आवश्यकता थी। तीन उम्मीदवार सामने पेश किये गये।

बादशाह ने पूछा-यदि मेरी और तुम्हारी दाढ़ी में साथ-साथ आग लगे तो पहले किसकी बुझाओगे?”

एक ने कहा-पहले आपकी बुझाऊँगा।” दूसरे ने कहा-पहले अपनी बुझाऊँगा।” तीसरे ने कहा-एक हाथ से अपनी और दूसरे हाथ से आपकी बुझाऊँगा।”

बादशाह ने तीसरे आदमी की नियुक्ति कर दी और दरबारियों से कहा-जो अपनी उपेक्षा करके दूसरों का भला करता है वह अव्यावहारिक है। जो स्वार्थ को ही सर्वोपरि समझता है, नीच है और जो अपनी और दूसरों की भलाई का समान रूप से ध्यान रखता है, उसे ही सज्जन कहना चाहिए। मुझे सज्जन की आवश्यकता थी, सो उस तीसरे आदमी की नियुक्ति की गई।

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

WTO


हिन्दू राष्ट्रवादी, लोह पुरुष मोदी जी ने देश और देश के किसानो के हीत में WTO पर हस्ताक्षर न करके देश को बचा लिया. कांग्रेस ने तो देश को बेचने का पूरा प्लान बना ही चुके था. लेकिन 31 जुलाई 2014 की तारीख आते आते मोदीराज आ गया और देश बच गया. जय मोदी राज…. वन्दे मातरम…..

Copy-Pasted from Uma Singh…..
पश्चिमी देशो के नेता और मिडीया झूठी तारीफों के पुल बांधकर या धमकाने वाले अंदाज की वार्ता कर मनमोहन सिहं से खूब अपना उल्लू सीधा करवाया. वैसी ही गोट अमेरिका ने WTO समझाते पर भारत का हस्ताक्षर कराने के मोदी जी के लिए भी बिछाई थी…..
1. समझाते की अंतिम तारीख के 31जुलाई के दिन अमेरिकी विदेश मंत्री और विदेश व्यापार मंत्री को नई दिल्ली में अलग-अलग मामलो पर वार्ता करने की पूर्व निर्धारित तिथि निर्धारित कर भेजा हुआ था……
2. अमेरिकी विदेश व्यापार मंत्री ने तो भारत के प्रमुख अंग्रेजी समाचार पत्रों में 3 दिन पहले हि धामाकी भरा अपना लेख छपवाया था कि भारत के द्वारा ह्स्ताक्षर न करने पर भारत को भविष्य में गंभीर परिणाम भुगतने होगे…..
3. 28 जुलाई को विदेश मंत्री जानकेरी ने जर्मनी में और अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने वाशिंगटन में एक साथ मोदी जी की तारीफ़ करते हुए उनके नारे “सबका साथ-सबका विकास” को अंत्यंत उपयोगी और दूर द्दृष्टि वाला बताया था…..

WTO समझौता वसेरश 2017से लागू होता। इससे भारत को क्या नुकसान और पश्चिमी देशो को क्या लाभ है?….

1. भारत अपने सरकारी भण्डारण के लिए छोटे किसानो या बड़े किसान किसी से भी कोई भी अनाज नहीं खरीद सकता. किसानो को अपना अन्न बेचने के लिए अन्तराष्ट्रीय मंडियों में जाना पड़ेगा….
2. गरीबी रेखा से निचे या गरीबी का जीवन बिता रहे लोगो को सब्सीडी वाला खाद्यान देने के लिए भारत को अंतर्राष्ट्रीय मंडियों का अन्न खरीदना पडेगा और यह सब्सिडी देने के लिए भी WTO से अनुमति लेनी पड़ती…..
3. इन सब कामो की निगरानी के लिए देश में विदेशी लोग तैनात होते. मतलब हमारे लोगो की जगह विदेशियों को ही रोजगार मिलता…..
4. अमेरिका, कनाडा और आष्ट्रेलिया जैसे गेंहू उत्पादक देशो के अन्न अन्तराष्ट्रीय मूल्य पर भारत के लोगो का पेट भरने के लिए खरीदना पड़ता और हमारे किसानो के अन्न को खरीदने वाला नहीं मिलता और किसान भुखमरी का शिकार हो होता…..
खेल बिलकुल वहीं था, जो सदियों पहले कभी अंग्रेजों ने हमारे साथ खेला था…..

देश हित का सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या युपीए सरकार के पूर्व वाणिज्य मंत्री आनंद शर्मा को WTO की इन पाबंदियों की जानकारी नहीं थी? और यदि थी तो उन्होंने बाली में WTO की पिछली बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए उस बैठक में सिद्धान्ततः यह सहमती क्यों दे दी थी की भारत WTO समझौते का पालन करेगा?? कांग्रेस पार्टी इसका जबाब दे……

मोदी जी ने WTO के समझौते पर 31 जुलाई को हस्ताक्षर न करवाकर देश हित में भारतीय इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा काम किया है. अब अमेरिका और दुसरे पश्चिमी देश कोई और रास्ता तलासेंगे, जिसके लिए देश को तैयार रहना होगा…….
मित्रों, ये पोस्ट को सोशल मीडिया में वायरल करें और भारतीय जनता को जागरुक करते रहे…..

Posted in Media

media


* इस्लाम और इस्लामिक आतंकवाद से अगर कोई सबसे ज्यादा डरता है तो वो है INDIAN ELECTRONIC MEDIA CHANNELS
* आज तक किसी MEDIA CHANNEL ने इस्लामी ढोंगियो की पोल नहीं खोली।
* आज तक किसी MEDIA CHANNEL ने मदरसों में मोलावियों द्वारा हो रहे लड़कियों के शारीरिक शोषण (Sexual Abuse) को उजागर नहीं किया।
* INDIAN MEDIA किसी मुस्लिम बलात्कारी का नाम नहीं बताता।
* MEDIA किसी मुस्लिम भ्रष्टाचारी का नाम नहीं बताता।
* INDIAN MEDIA आज तक किसी इस्लामिक आतंकवादी के अड्डे तक नहीं पंहुचा।
* INDIAN MEDIA आतंकी घटानाओं में पकडे जाने वाले आतंकियों के नाम नहीं बताता।
* INDIAN MEDIA गैर इस्लामिक लोगों के धर्म परिवर्तन की पोल नहीं खोलता।
* यदि किसी मुस्लिम को रोटी खिलाने जैसा काम हो जाय तो INDIAN MEDIA विधवा विलाप करने लग जाता हैं, लेकिन यदि किसी हिन्दू लड़की के साथ कोई मुस्लिम मेरठ काण्ड की तरह बलात्कार कर दे तो INDIAN MEDIA SILENT हो जाता है।
* हिन्दुस्तान में गौ कत्लखाने की सही जानकारी INDIAN MEDIA को भी नहीं है।
* ये सारे CRIME INDIA में हो रहे हैं, लेकिन MEDIA COVERAGE न मिलने के कारण लोगों को लगता है कि वास्तव में इस्लाम शान्ति का धर्म है और मुसलमान लोग अच्छे होते हैं।

Posted in हिन्दू पतन

पाकिस्तान शब्द का जन्म सन् 1933 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के छात्र चौधरी रहमत अली के द्वारा हुआ ।


पाकिस्तान शब्द का जन्म सन् 1933 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के छात्र चौधरी रहमत अली के द्वारा हुआ । इसके पहले सन् 1930 में शायर मुहम्मद इक़बाल ने भारत के उत्तर-पश्चिमी चार प्रान्तों -सिन्ध, बलूचिस्तान, पंजाब तथा अफ़गान (सूबा-ए-सरहद)- को मिलाकर एक अलग राष्ट्र का मांग की थी । 1947 अगस्त में भारत के विभाजन के फलस्वरूप पाकिस्तान का जन्म हुआ । उस समय पाकिस्तान में वर्तमान पाकिस्तान और बांग्लादेश दोनों सम्मिलित थे । सन् 1971 में भारत के साथ हुए युद्ध में पाकिस्तान का पूर्वी हिस्सा (जिसे उस समय तक पूर्वी पाकिस्तान कहा जाता था) बांग्लादेश के रूप में स्वतंत्र हो गया । आज का पाकिस्तानी भूभाग कई संस्कृतियों का गवाह रहा है ।

आज के पाकिस्तानी भूभाग में ईसा के 3000 साल पहले सिन्धुघाटी सभ्यता का जन्म हुआ । यह 1500 ईसापूर्व के आसपास नष्ट हो गई और 1200 ईसापूर्व के आसपास आर्यों की एक शाखा भारत आई । ईसापूर्व सन् 543 में यह फारस के हखामनी शासकों के साम्राज्य का अंग बना । सिकन्दर ने 330 ईसापूर्व के आसपास हखामनी शासक दारा तृतीय को हराकर उसके सम्पूर्ण साम्राज्य पर कब्जा कर लिया । उसके साम्राज्य को उसके सेनापतियों ने बाँट लिया और इस क्षेत्र मे एक अभूतपूर्व यूनानी-बैक्टियन संस्कृति का अंग बना । इसके बाद यह मौर्य साम्राज्य का अंग बना । इसके बाद शक (सीथियनों की भारतीय शाखा) और फिर कुषाणों की शाखा यहाँ आई ।

सन् 712 में फारस के एक अरब सेनापति मुहम्मद-बिन-क़ासिम ने सिन्ध के नरेश को हरा दिया । इसके बाद यहाँ इस्लाम का आगमन हुआ । इस क्षेत्र पर गजनवियों का अधिकार बारहवीं सदी में हुआ और 1206 में यह दिल्ली सल्तनत का अंग बन गया । सन् 1526 में दिल्ली की सत्ता पर मुगलों का अधिकार हो गया और 1857 के बाद यहाँ अंग्रेजों का शासन आया ।

14 अगस्त 1947 को मुसलमानो ने अखंड भारत माता का अंगभंग कर पाकिस्तान बनाया

Posted in हिन्दू पतन

1,50,000 Yazidis


1,50,000 Yazidis, decedents Hindus now face imminent death as they are stranded on a mountain surrounded by Islamic Extremist ISIS.
Yazidis originated in India, they worship Peacock Angel Tawsi Melek (Peacocks are not found in or around Middle east).
The Hindus know Tawsi Melek as Murugan, the legendary son of Shiva and Shakti. Among his numerous alternate titles are Skanda, Sanat Kumara, Karttikeya, and Subramaniya. Like the Yezidis Tawsi Melek, the Hindu Murugan is the king of the universe and moves through his domain as a young boy astride a peacock, or simply as a peacock.

Murugan’s identity as one of seven angelic beings is manifest within some Hindu scriptures that refer to him as Sanat Kumara, the leader of the Seven Kumaras. Yezidis believe in One GOD who created the world and entrusted it into the care of seven Holy Beings , the prominent one being Peacock Angel.

Though Yazidis are mostly unaware of their heritage and history, they’re being exterminated for exactly the same –
as is the case with rise of Islamic majority in any state, these Yazidis are now facing ethnic cleansing in hands of followers of ‘Religion of Peace’. ISIS has declared the Yazidi are SHAITAN ( pagan ) worshipers. Women and children have been buried ALIVE. AT least 300 women have been taken captive as sex slaves. Thousands of Yezidis have already lost their lives due to lack of food and water , seems like another sect of Sanatan Dharm is ready to be exterminated from the world.
__________________
Sources :
http://www.yeziditruth.org/the-peacock-angel-in-other-religions

http://ajitvadakayil.blogspot.in/2014/08/the-yazidis-of-iraq-ethnic-cleansing-by.html

http://www.independent.co.uk/news/world/middle-east/iraq-crisis-islamic-militants-buried-alive-yazidi-women-and-children-in-attack-that-killed-500-9659695.html

1,50,000 Yazidis, decedents of Hindus, now face imminent death as they are stranded on a mountain surrounded by Islamic Extremist ISIS.
Yazidis originated in India, they worship Peacock Angel Tawsi Melek (Peacocks are not found in or around Middle east).
The Hindus know Tawsi Melek as Murugan, the legendary son of Shiva and Shakti. Among his numerous alternate titles are Skanda, Sanat Kumara, Karttikeya, and Subramaniya. Like the Yezidis Tawsi Melek, the Hindu Murugan is the king of the universe and moves through his domain as a young boy astride a peacock, or simply as a peacock.

Murugan’s identity as one of seven angelic beings is manifest within some Hindu scriptures that refer to him as Sanat Kumara, the leader of the Seven Kumaras. Yezidis believe in One GOD who created the world and entrusted it into the care of seven Holy Beings , the prominent one being Peacock Angel.

Though Yazidis are mostly unaware of their heritage and history, they're being exterminated for exactly the same -
as is the case with rise of Islamic majority in any state, these Yazidis are now facing ethnic cleansing in hands of followers of 'Religion of Peace'. ISIS has declared the Yazidi are SHAITAN ( pagan ) worshipers. Women and children have been buried ALIVE. AT least 300 women have been taken captive as sex slaves. Thousands of Yezidis have already lost their lives due to lack of food and water , seems like another sect of Sanatan Dharm is ready to be exterminated from the world.
__________________
Sources :
http://www.yeziditruth.org/the-peacock-angel-in-other-religions

http://ajitvadakayil.blogspot.in/2014/08/the-yazidis-of-iraq-ethnic-cleansing-by.html

http://www.independent.co.uk/news/world/middle-east/iraq-crisis-islamic-militants-buried-alive-yazidi-women-and-children-in-attack-that-killed-500-9659695.html

1,50,000 Yazidis, decedents of Hindus, now face imminent death as they are stranded on a mountain surrounded by Islamic Extremist ISIS.
Yazidis originated in India, they worship Peacock Angel Tawsi Melek (Peacocks are not found in or around Middle east).
The Hindus know Tawsi Melek as Murugan, the legendary son of Shiva and Shakti. Among his numerous alternate titles are Skanda, Sanat Kumara, Karttikeya, and Subramaniya. Like the Yezidis Tawsi Melek, the Hindu Murugan is the king of the universe and moves through his domain as a young boy astride a peacock, or simply as a peacock.

Murugan’s identity as one of seven angelic beings is manifest within some Hindu scriptures that refer to him as Sanat Kumara, the leader of the Seven Kumaras. Yezidis believe in One GOD who created the world and entrusted it into the care of seven Holy Beings , the prominent one being Peacock Angel.

Though Yazidis are mostly unaware of their heritage and history, they’re being exterminated for exactly the same –
as is the case with rise of Islamic majority in any state, these Yazidis are now facing ethnic cleansing in hands of followers of ‘Religion of Peace’. ISIS has declared the Yazidi are SHAITAN ( pagan ) worshipers. Women and children have been buried ALIVE. AT least 300 women have been taken captive as sex slaves. Thousands of Yezidis have already lost their lives due to lack of food and water , seems like another sect of Sanatan Dharm is ready to be exterminated from the world.
__________________
Sources :
http://www.yeziditruth.org/the-peacock-angel-in-other-religions

http://ajitvadakayil.blogspot.in/2014/08/the-yazidis-of-iraq-ethnic-cleansing-by.html

http://www.independent.co.uk/news/world/middle-east/iraq-crisis-islamic-militants-buried-alive-yazidi-women-and-children-in-attack-that-killed-500-9659695.html

Posted in हिन्दू पतन

याद रखिये :


याद रखिये :—

अपने “भूतकाल” को भूलने वाले लोगो का “भविष्य” सदा “अंधकारमय”
ही होता है | याद रहे हमारा देश भी सालों से “ईराकी आतंकियों” जैसे लोगो से ही “पीड़ित” रहा है, और आज
भी त्रस्त है …

इराक में आज जो हो रहा है, उससे भी कहीं “बर्बर हमलों” को हमारे देश ने झेला है.

(1) — मीर कासिम ने सिंध में रात को धोखे से घुस कर एक रात में 50000
से ज्यादा हिन्दुओं का कत्ले आम कर सिंध पर कब्ज़ा किया।

(2) — सोमनाथ मंदिर के अन्दर मौजूद 32500 ब्राह्मणों के खून से मुहम्मद
गजनवी ने परिसर को नहला दिया था।

(3) — सोमनाथ में लगी भगवान की मूर्तियों को मुहम्मद गजनवी ने
अपने दरबार और शोचालय के सीढियों में
लगवा दिया था ताकि वो रोज उनके पैर नीचे आती रहे।

(4) — औरंगजेब के इस्लाम कबूल करवाने के खुले आदेश के बाद सबसे
ज्यादा तबाही आई। बहुत से हिन्दुओ को जबरदस्ती से मुस्लिम बनवाया गया।

(5) — औरंगजेब ने ब्राह्मणों द्वारा इस्लाम कबूल ना करने पर उन्हें गर्म पानी में उबाल कर जिन्दा चमड़ी उतरवाने का फरमान
जारी किया। ब्राह्मणों की शिखाएं और जनेउ जलाकर औरंगजेब ने अपने नहाने
का पानी गर्म किया।

(6) — मुहम्मद जलालुदीन ने हर हिन्दू राज्य जीतने पर वहां की लडकियों को उठवा दिया जो मीना बाजार और हरम में पंहुचा दी जाती थीं.

(7) — अजयमेरु का सोमेश्वर नाथ शिव मंदिर तोड़कर अजमेर दरगाह
खड़ी की गयी साथ ही वैष्णव मंदिर तोड़ ढाई दिन का झोपड़ा तयार किया गया। इनका सबूत है वहां लगी कलाकृतियां जिस पर हिन्दू देवी देवता स्वस्तिक आदि बने हुए हैं.

(8) — अलाउदीन खिलजी की सेना से धरम और कुल की रक्षा करने के लिए
चित्तौड़ की रानी पद्मिनी और 26000 राजपूत वीरंगानो ने अग्नि कुंड में कूदकर जोहर प्रथा निभाई।

(9) — बहादुर शाह जफ़र की चित्तौड़ पर आक्रमण के बाद फिर मुगलों से धरम
और स्वाभिमान रक्षा के लिए चितौड़ की रानी कर्णावती ने 18000 राजपूत स्त्रियों के साथ अग्निकुंड में कूद जोहर करना चाहा पर लकड़ी कम
पड़ने के कारन बारूद के ढेर के साथ वीरांगनाओ ने खुद को उड़ा दिया।

(10) — मुहम्मद जलालुदीन के आक्रमण पर चित्तौड़ में फिर महारानी जयमल मेड़तिया ने 12000 राजपूत
स्त्रियों के साथ अग्निकुंड में कूद जोहर किया।

(11) बंटवारे के वक्त हुए “कत्लेआम” के आज भी “सेकड़ो गवाह” जिन्दा मिल
जायेंगे, उस वक्त हमारी माता बहिनों का क्या हाल
हुआ था और हिन्दुओ का कितना लहूँ बहा था, याद कर के ही रूह काँप जाती है | लेकिन भारतीय “हिन्दू
समाज” की “सोच” कैसी हो गई ये मै भी जानता |

(12) सिर्फ कल ही की बात है–
कश्मीर में हिन्दुओ के साथ
क्या क्या जुल्म किये गये और जुल्म सहने और आँखों से देखने वाले लोग अभी तक जिन्दा है सिर्फ हम ही उन्हें नजरंदाज कर रहे है |

एक समय था अरब के “पर्शिया से लेकर इंडोनेशिया” तक हिन्दू धरम अनुयायी थी, कितने करोड़ लाखो की लाशे बिछा दी गयी,
कितनी ही स्त्रियों ने बलिदान दिए,
कितने लाखो मन्दिर टूटे, कितने तरह के जुल्म हए तब भी आज हम कुछ हिन्दू बचे हुए है।
अपने “इतिहास” को “भूलने वाले” एक “सफल भविष्य” नहीं बना सकते।

इसलिये उठो, जागो और दहाड़ो हिँदूओँ..!!

जय महाकाल..!!!

याद रखिये :---

अपने "भूतकाल" को भूलने वाले लोगो का "भविष्य" सदा "अंधकारमय"
ही होता है | याद रहे हमारा देश भी सालों से "ईराकी आतंकियों" जैसे लोगो से ही "पीड़ित" रहा है, और आज
भी त्रस्त है …

इराक में आज जो हो रहा है, उससे भी कहीं "बर्बर हमलों" को हमारे देश ने झेला है.

(1) -- मीर कासिम ने सिंध में रात को धोखे से घुस कर एक रात में 50000
से ज्यादा हिन्दुओं का कत्ले आम कर सिंध पर कब्ज़ा किया।

(2) -- सोमनाथ मंदिर के अन्दर मौजूद 32500 ब्राह्मणों के खून से मुहम्मद
गजनवी ने परिसर को नहला दिया था।

(3) -- सोमनाथ में लगी भगवान की मूर्तियों को मुहम्मद गजनवी ने
अपने दरबार और शोचालय के सीढियों में
लगवा दिया था ताकि वो रोज उनके पैर नीचे आती रहे।

(4) -- औरंगजेब के इस्लाम कबूल करवाने के खुले आदेश के बाद सबसे
ज्यादा तबाही आई। बहुत से हिन्दुओ को जबरदस्ती से मुस्लिम बनवाया गया।

(5) -- औरंगजेब ने ब्राह्मणों द्वारा इस्लाम कबूल ना करने पर उन्हें गर्म पानी में उबाल कर जिन्दा चमड़ी उतरवाने का फरमान
जारी किया। ब्राह्मणों की शिखाएं और जनेउ जलाकर औरंगजेब ने अपने नहाने
का पानी गर्म किया।

(6) -- मुहम्मद जलालुदीन ने हर हिन्दू राज्य जीतने पर वहां की लडकियों को उठवा दिया जो मीना बाजार और हरम में पंहुचा दी जाती थीं.

(7) -- अजयमेरु का सोमेश्वर नाथ शिव मंदिर तोड़कर अजमेर दरगाह
खड़ी की गयी साथ ही वैष्णव मंदिर तोड़ ढाई दिन का झोपड़ा तयार किया गया। इनका सबूत है वहां लगी कलाकृतियां जिस पर हिन्दू देवी देवता स्वस्तिक आदि बने हुए हैं.

(8) -- अलाउदीन खिलजी की सेना से धरम और कुल की रक्षा करने के लिए
चित्तौड़ की रानी पद्मिनी और 26000 राजपूत वीरंगानो ने अग्नि कुंड में कूदकर जोहर प्रथा निभाई।

(9) -- बहादुर शाह जफ़र की चित्तौड़ पर आक्रमण के बाद फिर मुगलों से धरम
और स्वाभिमान रक्षा के लिए चितौड़ की रानी कर्णावती ने 18000 राजपूत स्त्रियों के साथ अग्निकुंड में कूद जोहर करना चाहा पर लकड़ी कम
पड़ने के कारन बारूद के ढेर के साथ वीरांगनाओ ने खुद को उड़ा दिया।

(10) -- मुहम्मद जलालुदीन के आक्रमण पर चित्तौड़ में फिर महारानी जयमल मेड़तिया ने 12000 राजपूत
स्त्रियों के साथ अग्निकुंड में कूद जोहर किया।

(11) बंटवारे के वक्त हुए "कत्लेआम" के आज भी "सेकड़ो गवाह" जिन्दा मिल
जायेंगे, उस वक्त हमारी माता बहिनों का क्या हाल
हुआ था और हिन्दुओ का कितना लहूँ बहा था, याद कर के ही रूह काँप जाती है | लेकिन भारतीय "हिन्दू
समाज" की "सोच" कैसी हो गई ये मै भी जानता |

(12) सिर्फ कल ही की बात है--
कश्मीर में हिन्दुओ के साथ
क्या क्या जुल्म किये गये और जुल्म सहने और आँखों से देखने वाले लोग अभी तक जिन्दा है सिर्फ हम ही उन्हें नजरंदाज कर रहे है |

एक समय था अरब के "पर्शिया से लेकर इंडोनेशिया" तक हिन्दू धरम अनुयायी थी, कितने करोड़ लाखो की लाशे बिछा दी गयी,
कितनी ही स्त्रियों ने बलिदान दिए,
कितने लाखो मन्दिर टूटे, कितने तरह के जुल्म हए तब भी आज हम कुछ हिन्दू बचे हुए है। 
अपने "इतिहास" को "भूलने वाले" एक "सफल भविष्य" नहीं बना सकते। 

इसलिये उठो, जागो और दहाड़ो हिँदूओँ..!!

जय महाकाल..!!!
Posted in नहेरु परिवार - Nehru Family

महात्मा गांधी


महात्मा गांधी तो दूसरों की बीवियों को छीना करते थे अपने ब्रहमचर्य प्रयोग के लिए। जयप्रकाश नारायण की पत्नी प्रभावती से लेकर अपने सचिव मुन्नालाल शाह की पत्नी कंचन तक को उन्होंने अपने साथ नग्न सोने के लिए मजबूर किया था।

जवाहर लाल नेहरू तो एडविना माउंटबेटन के साथ नाजायज संबंध केलिए भारत-पाकिस्तान के बंटवारे तकको मान लिया था जबकि वह जानते थे किजिन्ना की मौत कैंसर से कभी भी हो सकती है और फिर उसके बाद पाकिस्तान की मांग करने वाला कोई भी बडा मुस्लिम नेता नहीं था।

इंदिरा गांधी का फिरोज गांधी से अलगाव हो चुका था, उसके बाद संजय गांधी का जन्म हुआ, जिसे लेकर संजय-इंदिरा में काफी तकरार रहा करता था। संजय को लगता था कि वह अपने पिता की संतान नहीं, बल्कि इंदिरा जी के सचिव के बेटे हैं।

सोनिया गांधी की जो जन्म तिथि उनके प्रमाण पत्र में अंकित है, उस वक्त उनके पिता हिटलर के नाजी पार्टी के सदस्य होने के कारण रूस की जेल में बंद थे। खुद सोनिया गांधी का इतिहास संदिग्ध है।

राहुल गांधी की विदेशी गर्लफ्रेंड से अवैध रिश्तों की बात तस्वीर सहित सामने आ चुकी है।

ये संदिग्ध और दोहरे चरित्र के कांग्रेसी नरेंद्र मोदी के चरित्र पर सवाल उठाएंगे ठीक से पता कर लो, कहीं तुममे से किसी को नारायणदत्त तिवारी जैसे बुड्ढे कांग्रेसी के खिलाफ अदालत में पहुंचकर बाप-बाप न कहना पड़े। gopal kanda, babulal nagar, PJ Kurian (Suryanelli rape case), महेपाल मदेरणा और अभिषेक मनु सिंघवी की पार्टी की औलादों अपने बाप और अपने डीएनए की जांच करा लो, कांग्रेसियों के तो खून में ही शुरू से मिलावट रही है…।

और ऐसी महानीच, चरित्रहीन, भ्रष्ट, ऐय्याश पार्टी की बोटियों पे पलने वाले भांड मीडिया नरेंद्र मोदी जी और यशोदाबेन की देश सेवा के लिए किये गए सच्चे त्याग पे ऊँगली उठा रहे हैं…. पैसों की लालच में ये हरामी के पिल्ले, तथाकथित पत्रकार ऐय्याशी और निःस्वार्थ त्याग में फ़र्क़ करना भी भूल चुके हैं……

अखबार की फोटो ► सावरकर टाइम्स दिल्ली से लिया गया हैं….

महात्मा गांधी तो दूसरों की बीवियों को छीना करते थे अपने ब्रहमचर्य प्रयोग के लिए। जयप्रकाश नारायण की पत्नी प्रभावती से लेकर अपने सचिव मुन्नालाल शाह की पत्नी कंचन तक को उन्होंने अपने साथ नग्न सोने के लिए मजबूर किया था। 

जवाहर लाल नेहरू तो एडविना माउंटबेटन के साथ नाजायज संबंध केलिए भारत-पाकिस्तान के बंटवारे तकको मान लिया था जबकि वह जानते थे किजिन्ना की मौत कैंसर से कभी भी हो सकती है और फिर उसके बाद पाकिस्तान की मांग करने वाला कोई भी बडा मुस्लिम नेता नहीं था।

इंदिरा गांधी का फिरोज गांधी से अलगाव हो चुका था, उसके बाद संजय गांधी का जन्म हुआ, जिसे लेकर संजय-इंदिरा में काफी तकरार रहा करता था। संजय को लगता था कि वह अपने पिता की संतान नहीं, बल्कि इंदिरा जी के सचिव के बेटे हैं। 

सोनिया गांधी की जो जन्म तिथि उनके प्रमाण पत्र में अंकित है, उस वक्त उनके पिता हिटलर के नाजी पार्टी के सदस्य होने के कारण रूस की जेल में बंद थे। खुद सोनिया गांधी का इतिहास संदिग्ध है। 

राहुल गांधी की विदेशी गर्लफ्रेंड से अवैध रिश्तों की बात तस्वीर सहित सामने आ चुकी है। 

ये संदिग्ध और दोहरे चरित्र के कांग्रेसी नरेंद्र मोदी के चरित्र पर सवाल उठाएंगे ठीक से पता कर लो, कहीं तुममे से किसी को नारायणदत्त तिवारी जैसे बुड्ढे कांग्रेसी के खिलाफ अदालत में पहुंचकर बाप-बाप न कहना पड़े। gopal kanda, babulal nagar, PJ Kurian (Suryanelli rape case), महेपाल मदेरणा और अभिषेक मनु सिंघवी की पार्टी की औलादों अपने बाप और अपने डीएनए की जांच करा लो, कांग्रेसियों के तो खून में ही शुरू से मिलावट रही है...।

और ऐसी महानीच, चरित्रहीन, भ्रष्ट, ऐय्याश पार्टी की बोटियों पे पलने वाले भांड मीडिया नरेंद्र मोदी जी और यशोदाबेन की देश सेवा के लिए किये गए सच्चे त्याग पे ऊँगली उठा रहे हैं.... पैसों की लालच में ये हरामी के पिल्ले, तथाकथित पत्रकार ऐय्याशी और निःस्वार्थ त्याग में फ़र्क़ करना भी भूल चुके हैं...... 

अखबार की फोटो ► सावरकर टाइम्स दिल्ली से लिया गया हैं....
Posted in जीवन चरित्र

कर्म बाई


 
 
कर्म बाई जी भगवान को बाल भाव से भजती थी.बिहारी जी से रोज बाते किया करती थी. एक दिन बिहारी जी से बोली - तुम मेरी एक बात मानोगे.---------------------------------------------------------------------------भगवान ने कहा- कहो ! क्या बात है?कर्म बाई जी ने कहा- मेरी एक इच्छा है कि एक बार अपने हाथो से आपको कुछ बनाकर खिलाऊ.बिहारी जी ने कहा- ठीक है! अगले दिन कर्माबाई जी ने खिचड़ी बनायीं और बिहारी जी को भोग लगाया,जब बिहारी जी ने खिचड़ी खायी, तो उन्हे इतनी अच्छी लगी, कि वे रोज आने लगे. कर्मा बाई जी रोज सुबह उठकर सबसे पहले खिचड़ी बनाती बिहारी जी भी सुबह होते ही दौड़कर आते और दरवाजे से ही आवाज लगाते, माँ में आ गया जल्दी से खिचड़ी लाओ कर्मा बाई जी लाकर सामने रख देती भगवान भोग लगाते और चले जाते.---------------------------------------------------------------------------एक बार एक संत कर्माबाई जी के पास आये और उन्होंने सब देखा तो वे बोले आप सर्वप्रथम सुबह उठाकर खिचड़ी क्यों बनाती है, ना स्नान किया, ना रसोई घर साफ की, आप को ये सब करके फिर भगवान के लिये भोग बनाना चाहिये,अगले दिन कर्माबाई जी ने ऐसा ही किया.जैसे ही सुबह हुई भगवान आये और बोले माँ में आ गया, खिचड़ी लाओ.कर्मा बाई जी ने कहा-अभी में स्नान कर रही हूँ, थोडा रुको! थोड़ी देर बाद भगवान ने आवाज लगाई, जल्दी कर माँ, मेरे मंदिर के पट खुल जायेगे मुझे जाना है. वे फिर बोली - अभी में सफाई कर रही हूँ, भगवान ने सोचा आज मेरी माँ को क्या हो गया. ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ. भगवान ने झटपट जल्दी-जल्दी खिचड़ी खायी, आज खिचड़ी में भी वो भाव, स्वाद नहीं आया और बिना पानी पिए ही भागे, बाहर संत को देखा तो समझ गये जरुर इसी संत ने कुछ पट्टी पढाई होगी. पुजारी जी ने जैसे ही मंदिर के पट खोले तो देखा भगवान के मुख से खिचड़ी लगी थी. वे बोले- प्रभु! ये खिचड़ी कैसे आप के मुख में लग गयी.भगवान ने कहा-पुजारी जी आप उस संत के पास जाओ और उसे समझाओ, मेरी माँ को कैसी पट्टी पढाई. पुजारी जी ने संत से सारी बात कही और संत घवराए और तुरंत कर्मा बाई जी के पास जाकर कहा- कि ये नियम धरम तो हम संतो के लिये है आप तो जैसे बनाते थी वैसे ही बनाये. अगले दिन से फिर उन्होंने वैसे ही बनाना शुरु कर दियाऔर भगवान बड़े प्रेम से प्रतिदिन आते और खिचड़ी खाते.एक दिन कर्मा बाई जी मर गयी तो भगवान बहुत रोये. जो पुजारी जी ने पट खोला भगवान रो रहे थे. पुजारी जी ने पूछा - आप क्यों रो रहे हो, तो भगवान बोले - पुजारी जी! आज मेरी माँ मर गयी. अब मुझे कौन खिचड़ी बनाकर खिलायेगा पुजारी जी बोले प्रभु आज से आप को सबसे पहले रोज खिचड़ी का भोग लगेगा इस तरह आज भी जगन्नाथ भगवान को खिचड़ी का भोग लगता है

कर्म बाई जी भगवान को बाल भाव से भजती थी.बिहारी जी से रोज बाते किया करती थी. एक दिन बिहारी जी से बोली – तुम मेरी एक बात मानोगे.———————————-—————————————–भगवान ने कहा- कहो ! क्या बात है?कर्म बाई जी ने कहा- मेरी एक इच्छा है कि एक बार अपने हाथो से आपको कुछ बनाकर खिलाऊ.बिहारी जी ने कहा- ठीक है! अगले दिन कर्माबाई जी ने खिचड़ी बनायीं और बिहारी जी को भोग लगाया,जब बिहारी जी ने खिचड़ी खायी, तो उन्हे इतनी अच्छी लगी, कि वे रोज आने लगे. कर्मा बाई जी रोज सुबह उठकर सबसे पहले खिचड़ी बनाती बिहारी जी भी सुबह होते ही दौड़कर आते और दरवाजे से ही आवाज लगाते, माँ में आ गया जल्दी से खिचड़ी लाओ कर्मा बाई जी लाकर सामने रख देती भगवान भोग लगाते और चले जाते.—————————————————————————एक बार एक संत कर्माबाई जी के पास आये और उन्होंने सब देखा तो वे बोले आप सर्वप्रथम सुबह उठाकर खिचड़ी क्यों बनाती है, ना स्नान किया, ना रसोई घर साफ की, आप को ये सब करके फिर भगवान के लिये भोग बनाना चाहिये,अगले दिन कर्माबाई जी ने ऐसा ही किया.जैसे ही सुबह हुई भगवान आये और बोले माँ में आ गया, खिचड़ी लाओ.कर्मा बाई जी ने कहा-अभी में स्नान कर रही हूँ, थोडा रुको! थोड़ी देर बाद भगवान ने आवाज लगाई, जल्दी कर माँ, मेरे मंदिर के पट खुल जायेगे मुझे जाना है. वे फिर बोली – अभी में सफाई कर रही हूँ, भगवान ने सोचा आज मेरी माँ को क्या हो गया. ऐसा तो पहले कभी नहीं हुआ. भगवान ने झटपट जल्दी-जल्दी खिचड़ी खायी, आज खिचड़ी में भी वो भाव, स्वाद नहीं आया और बिना पानी पिए ही भागे, बाहर संत को देखा तो समझ गये जरुर इसी संत ने कुछ पट्टी पढाई होगी. पुजारी जी ने जैसे ही मंदिर के पट खोले तो देखा भगवान के मुख से खिचड़ी लगी थी. वे बोले- प्रभु! ये खिचड़ी कैसे आप के मुख में लग गयी.भगवान ने कहा-पुजारी जी आप उस संत के पास जाओ और उसे समझाओ, मेरी माँ को कैसी पट्टी पढाई. पुजारी जी ने संत से सारी बात कही और संत घवराए और तुरंत कर्मा बाई जी के पास जाकर कहा- कि ये नियम धरम तो हम संतो के लिये है आप तो जैसे बनाते थी वैसे ही बनाये. अगले दिन से फिर उन्होंने वैसे ही बनाना शुरु कर दियाऔर भगवान बड़े प्रेम से प्रतिदिन आते और खिचड़ी खाते.एक दिन कर्मा बाई जी मर गयी तो भगवान बहुत रोये. जो पुजारी जी ने पट खोला भगवान रो रहे थे. पुजारी जी ने पूछा – आप क्यों रो रहे हो, तो भगवान बोले – पुजारी जी! आज मेरी माँ मर गयी. अब मुझे कौन खिचड़ी बनाकर खिलायेगा पुजारी जी बोले प्रभु आज से आप को सबसे पहले रोज खिचड़ी का भोग लगेगा इस तरह आज भी जगन्नाथ भगवान को खिचड़ी का भोग लगता है

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

सुभाषचंद्र बोस


मित्रों इस समय सुभाषचंद्र बोस और अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न की चर्चाओं पर हंगामा मचा हुआ है। Narender Modi Fans Club नेताजी के परिजन का कहना है कि सरकार जब नेताजी की मौत को स्वीकार ही नहीं कर रही है तो फिर उन्हें मरणोपरांत सम्मान क्यों दे रही है? नेताजी का पड़पोते सुगाता बोस ने कहा है कि ‘राजीव गांधी समेत 43 लोगों को भारत रत्न दिया जा चुका है। उनके बाद उन्हें यह सम्मान कैसे दिया जा सकता है, नेताजी का कद भारत रत्न से काफी ऊंचा है।’

वहीं, यह बात शायद बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि नेताजी की अस्थियां जापान के एनकोजी मंदिर में 68 साल से संभाल कर रखी गई हैं। यह दावा जापान में रहने वाले भारतीय मूल के नागरिक बीएस देशमुख ने हाल ही में अहमदाबाद की यात्रा के दौरान किया था।

वे अपने संगठन ‘नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेमोरियल इंडो-जापान फाउन्डेशन’ के बैनर तले देशमुख चार साल से नेताजी की अस्थियां स्वदेश लाने के लिए प्रयासरत हैं। अहमदाबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान देशमुख ने कहा था कि ‘नेताजी की मृत्यु के बारे में भारत में अफवाएं फैलाई गई हैं। हकीकत में 1945 में ताईवान के हवाई हादसे में नेताजी का निधन हो गया था। उनकी अस्थियां जापान के एनकोजी मंदिर में 68 साल से संभाल कर रखी गई हैं।’
https://www.facebook.com/NarenderModiFansClub
उन्होंने यह भी कहा था कि ‘नेहरू एवं इंदिरा जब जापान गए थे, तब भी उनके समक्ष नेताजी की अस्थियां भारत ले जाने का मुद्दा उठाया गया था। इसके अलावा भारत केंद्रीय मंत्री जब भी जापान दौरे पर आए। उनके सामने भी मामला उठाया गया था। बावजूद कोई प्रयास भारत सरकार ने नहीं किया।’

देशमुख के अनुसार, इस मामले में वे अब तक भारत के राष्ट्रपति, केंद्र सरकार, ममता बेनर्जी, नरेंद्र मोदी सहित अनेक लोगों को पत्र लिख चुके हैं, लेकिन इसका जवाब सिर्फ नरेंद्र मोदी, आरएएस के सरसंघचालक मोहन भागवत और उद्योगपति रतन टाटा ने ही दिया है। मोदी ने पत्र लिखकर यह विश्वास भी दिलाया था कि वे नेताजी की अस्थियां भारत लाने के प्रयास करेंगे।
https://www.facebook.com/NarenderModiFansClub

मित्रों इस समय सुभाषचंद्र बोस और अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न की चर्चाओं पर हंगामा मचा हुआ है। Narender Modi Fans Club  नेताजी के परिजन का कहना है कि सरकार जब नेताजी की मौत को स्वीकार ही नहीं कर रही है तो फिर उन्हें मरणोपरांत सम्मान क्यों दे रही है? नेताजी का पड़पोते सुगाता बोस ने कहा है कि ‘राजीव गांधी समेत 43 लोगों को भारत रत्न दिया जा चुका है। उनके बाद उन्हें यह सम्मान कैसे दिया जा सकता है, नेताजी का कद भारत रत्न से काफी ऊंचा है।’
 
वहीं, यह बात शायद बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि नेताजी की अस्थियां जापान के एनकोजी मंदिर में 68 साल से संभाल कर रखी गई हैं। यह दावा जापान में रहने वाले भारतीय मूल के नागरिक बीएस देशमुख ने हाल ही में अहमदाबाद की यात्रा के दौरान किया था।
 
वे अपने संगठन ‘नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेमोरियल इंडो-जापान फाउन्डेशन’ के बैनर तले देशमुख चार साल से नेताजी की अस्थियां स्वदेश लाने के लिए प्रयासरत हैं। अहमदाबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान देशमुख ने कहा था कि ‘नेताजी की मृत्यु के बारे में भारत में अफवाएं फैलाई गई हैं। हकीकत में 1945 में ताईवान के हवाई हादसे में नेताजी का निधन हो गया था। उनकी अस्थियां जापान के एनकोजी मंदिर में 68 साल से संभाल कर रखी गई हैं।’
 https://www.facebook.com/NarenderModiFansClub
उन्होंने यह भी कहा था कि ‘नेहरू एवं इंदिरा जब जापान गए थे, तब भी उनके समक्ष नेताजी की अस्थियां भारत ले जाने का मुद्दा उठाया गया था। इसके अलावा भारत केंद्रीय मंत्री जब भी जापान दौरे पर आए। उनके सामने भी मामला उठाया गया था। बावजूद कोई प्रयास भारत सरकार ने नहीं किया।’
 
देशमुख के अनुसार, इस मामले में वे अब तक भारत के राष्ट्रपति, केंद्र सरकार, ममता बेनर्जी, नरेंद्र मोदी सहित अनेक लोगों को पत्र लिख चुके हैं, लेकिन इसका जवाब सिर्फ नरेंद्र मोदी, आरएएस के सरसंघचालक मोहन भागवत और उद्योगपति रतन टाटा ने ही दिया है। मोदी ने पत्र लिखकर यह विश्वास भी दिलाया था कि वे नेताजी की अस्थियां भारत लाने के प्रयास करेंगे।
https://www.facebook.com/NarenderModiFansClub