Posted in रामायण - Ramayan

The Ramayana in Laos


The Ramayana in Laos

Few people know that in earliest times the land known today as Laos was called Muong Xieng Thong or Laem Thong.

Its Sanskrit name was Souvannaphoum Pathet (Suvarnabhumi Pradesha) meaning regions rich in gold. Souvannaphoum Pathet was a large peninsula situated between the Indian Ocean and the China Sea.

According to Maha sila Viravong (1905-1987) His History of Laos (‘Phongsawadan Lao’), tracing Lao history from its earliest time at Muang Lung and Muang Pa (before the year 843 BC) down to the end of the French occupation in the mid 20th century, is perhaps the best-known history of Laos written by a Laotian historian. He was the most reliable contemporary historian of Laos, this region included 2,500 years ago, parts of Burma, Malaysia, Thailand, Cambodia and Vietnam. The entire landmass comprised by Laos, Cambodia, Thailand and some parts of Malaysia had strong cultural ties with India and represents the Indian part of the larger area formerly known as Indo-China. The culture of Laos, Thailand and Cambodia is made up of the earliest forms of Hinduism and Buddhism. Consequently it shows the deep meditative and philosophic aspect of the teachings of the Buddha coupled with the aesthetic imagination and literary aspects of the Hindu mind. This entire region is dotted with temples dedicated to Buddha, decorated with figures of Hindu gods and goddesses, united and protected as if within the mother-like embrace of long rows of gilded paintings on the wall depicting the story of the Ramayana.

Indian culture began to spread in Indo-China from the 1st century AD onwards. During the next 500 years the Ramayana had gained enough popularity for its author Valmiki to be considered as incarnation of Lord Vishnu and the temples were dedicated to him describing his compassion and creativity. A stone image of Valmiki and a Sanskrit inscription have been found in a temple in Champa (modern day Vietnam) belonging to the period of King Prakashadharma (6530678 A D). The inscription read:

Yasya sokar samutpananam Slokam Brahmabhipujati
Vishnuh pumsah puranasya manushasyatmarupinah

All of Malaya, Thailand, Cambodia and Laos have their own versions of the Ramayana story, or the Chroniclers of Rama as versified by sage Valmiki. In Laos The Ramayana is present in five forms – Dance, Song, Painting and sculpture and Sacred texts to be recited on festive occasions and manuscripts, and enjoy popularity in that order. The Ramayana as dance-drama enjoys the pride of place, in the Royal Palace at Luang Prabang and the ‘Natyasala’ dance school at Vientiane. With the dance drama goes its appropriate music and song. The Ramayana in painting and sculpture is seen within the temples. In its richest forms it is found in the court-temples of Luang Prabang and Ramayana frescoes are preserved in Wat Oup Moung.

To quote Maha sila “the Khmer race is of ancient Indian descent. This race has given birth to various ethnic groups known as the Khmer, Mon, Meng, Kha, Khamu and Malay. The Khmer came to settle down in Souvannaphoum pathest even before the advent of the Buddha, 2, 500 years ago. But the largest migration took place in the reign of Ashoka Raja who ruled Pataribud (Pataliputra) from the year 218 to 228 BE. According to Mahasila Emperor Ashoka’s war in Kalinga was responsible for thousands of “Indians from the southern part of India to live in Indo-China.”

In Laos two versions of the Ramayana are known, the Luang Prabang version as found in the Royal Capital and the Vientiane version as found painted on the walls of the VAT PA KE temple.

Phonetic changes in the name of Ramayana characters:

The proper names of the classical Valmiki Ramayana have undergone great change owing to the phonetic peculiarities of the Lava language. Thus,

Rama became Lam or Lamma
Sita became Nang/ Sida
Laksmana became Lak
Hanuman became Hanumone or Hullaman
Sugriva became Sukrip
Ravana became Raphanasuane or Phommachak
Lanka became Langka.

There are 29 murals on the walls of the central hall of the Vat Oup Muong, describing the ‘Pha Lak Pha Lam’ (Beloved Lakshmana, Beloved Rama) story. Oup Muong means ‘underground hall’ or ‘tunnel.’

(source: The Ramayana Tradition in Asia – Edited by V Raghavan. The Ramayana in Laos – By Kamala Ratnam p. 257 – 281).

The Ramayana in Laos 

Few people know that in earliest times the land known today as Laos was called Muong Xieng Thong or Laem Thong. 

Its Sanskrit name was Souvannaphoum Pathet (Suvarnabhumi Pradesha) meaning regions rich in gold. Souvannaphoum Pathet was a large peninsula situated between the Indian Ocean and the China Sea. 

According to Maha sila Viravong (1905-1987) His History of Laos (‘Phongsawadan Lao’), tracing Lao history from its earliest time at Muang Lung and Muang Pa (before the year 843 BC) down to the end of the French occupation in the mid 20th century, is perhaps the best-known history of Laos written by a Laotian historian. He was the most reliable contemporary historian of Laos, this region included 2,500 years ago, parts of Burma, Malaysia, Thailand, Cambodia and Vietnam. The entire landmass comprised by Laos, Cambodia, Thailand and some parts of Malaysia had strong cultural ties with India and represents the Indian part of the larger area formerly known as Indo-China. The culture of Laos, Thailand and Cambodia is made up of the earliest forms of Hinduism and Buddhism. Consequently it shows the deep meditative and philosophic aspect of the teachings of the Buddha coupled with the aesthetic imagination and literary aspects of the Hindu mind. This entire region is dotted with temples dedicated to Buddha, decorated with figures of Hindu gods and goddesses, united and protected as if within the mother-like embrace of long rows of gilded paintings on the wall depicting the story of the Ramayana. 

Indian culture began to spread in Indo-China from the 1st century AD onwards. During the next 500 years the Ramayana had gained enough popularity for its author Valmiki to be considered as incarnation of Lord Vishnu and the temples were dedicated to him describing his compassion and creativity. A stone image of Valmiki and a Sanskrit inscription have been found in a temple in Champa (modern day Vietnam) belonging to the period of King Prakashadharma (6530678 A D). The inscription read: 

Yasya sokar samutpananam Slokam Brahmabhipujati
Vishnuh pumsah puranasya manushasyatmarupinah 

All of Malaya, Thailand, Cambodia and Laos have their own versions of the Ramayana story, or the Chroniclers of Rama as versified by sage Valmiki. In Laos The Ramayana is present in five forms – Dance, Song, Painting and sculpture and Sacred texts to be recited on festive occasions and manuscripts, and enjoy popularity in that order. The Ramayana as dance-drama enjoys the pride of place, in the Royal Palace at Luang Prabang and the ‘Natyasala’ dance school at Vientiane. With the dance drama goes its appropriate music and song. The Ramayana in painting and sculpture is seen within the temples. In its richest forms it is found in the court-temples of Luang Prabang and Ramayana frescoes are preserved in Wat Oup Moung.  

To quote Maha sila “the Khmer race is of ancient Indian descent. This race has given birth to various ethnic groups known as the Khmer, Mon, Meng, Kha, Khamu and Malay. The Khmer came to settle down in Souvannaphoum pathest even before the advent of the Buddha, 2, 500 years ago. But the largest migration took place in the reign of Ashoka Raja who ruled Pataribud (Pataliputra) from the year 218 to 228 BE. According to Mahasila Emperor Ashoka’s war in Kalinga was responsible for thousands of “Indians from the southern part of India to live in Indo-China.” 

In Laos two versions of the Ramayana are known, the Luang Prabang version as found in the Royal Capital and the Vientiane version as found painted on the walls of the VAT PA KE temple.  

Phonetic changes in the name of Ramayana characters: 

The proper names of the classical Valmiki Ramayana have undergone great change owing to the phonetic peculiarities of the Lava language. Thus, 

Rama                               became Lam or Lamma
Sita                                 became Nang/ Sida
Laksmana                          became Lak
Hanuman                           became Hanumone or Hullaman
Sugriva                             became Sukrip
Ravana                              became Raphanasuane or Phommachak
Lanka                                became Langka. 

There are 29 murals on the walls of the central hall of the Vat Oup Muong, describing the ‘Pha Lak Pha Lam’ (Beloved Lakshmana, Beloved Rama) story. Oup Muong means ‘underground hall’ or ‘tunnel.’

(source: The Ramayana Tradition in Asia  - Edited by V Raghavan. The Ramayana in Laos - By Kamala Ratnam p. 257 - 281).
 
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas, हिन्दू पतन, Rajiv Dixit

गुलामी का प्रतीक हमारा राष्ट्रगान जन गन मन


 
गुलामी का प्रतीक हमारा राष्ट्रगान जन गन मन
July 22, 2014 at 2:39pm
जन गन मन गुलामी का प्रतीक........!!
 
1911 मे जॉर्ज पंचम जब भारत आए तब उनके स्वागत में ये गीत गाया गया था ।।
--------------------------------------------------------
जन-गण-मन की पूरी कहानी
* जॉर्ज पंचम का भारत मे आगमन
“ सन1911 तक भारत की राजधानी बंगाल हुआ करता था , सन 1905 में जब बंगाल विभाजन को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बंग-भंग आन्दोलन के विरोध में बंगाल के लोग उठ खड़े हुए तो अंग्रेजो ने अपने आपको बचाने के लिए के कलकत्ता से हटाकर राजधानी को दिल्ली ले गए और 1911 में दिल्ली को राजधानी घोषित कर दिया ,पूरे भारत में उस समय लोग विद्रोह से भरे हुए थे तो अंग्रेजो ने अपने इंग्लॅण्ड के राजा को भारत आमंत्रित किया ताकि लोग शांत हो जाये ,इंग्लैंड का राजा जोर्ज पंचम 1911 में भारत में आया “
* टागोर के परिवार का पैसा “ ईस्ट इंडिया कंपनी” मे लगा हुवा था
“ रविंद्रनाथ टैगोर पर दबाव बनाया गया कि तुम्हे एक गीत जोर्ज पंचम के स्वागत में लिखना ही होगा , उस समय टैगोर का परिवार अंग्रेजों के काफी नजदीक हुआ करता था, उनके परिवार के बहुत से लोग ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम किया करते थे, उनके बड़े भाई अवनींद्र नाथ टैगोर बहुत दिनों तक ईस्ट इंडिया कंपनी के कलकत्ता डिविजन के निदेशक(Director) रहे, उनके परिवार का बहुत पैसा ईस्ट इंडिया कंपनी में लगा हुआ था और खुद रविन्द्र नाथ टैगोर की बहुत सहानुभूति थी अंग्रेजों के लिए रविंद्रनाथ टैगोर ने मन से या बेमन से जो गीत लिखा उसके बोल है "जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता" ... इस गीत के सारे के सारे शब्दों में अंग्रेजी राजा जोर्ज पंचम का गुणगान है, जिसका अर्थ समझने पर पता लगेगा कि ये तो हकीक़त में ही अंग्रेजो की खुशामद में लिखा गया था “
इस राष्ट्रगान का अर्थ कुछ इस तरह से होता है
"भारत के नागरिक,भारत की जनता अपने मन से आपको भारत का भाग्य विधाता समझती है और मानती है ... हे अधिनायक(Superhero) तुम्ही भारत के भाग्य विधाता हो | तुम्हारी जय हो ! जय हो! जय हो ! तुम्हारे भारत आने से सभी प्रान्त पंजाब, सिंध, गुजरात,मराठा मतलब महारास्त्र,द्रविड़ मतलब दक्षिण भारत, उत्कल मतलब उड़ीसा, बंगाल आदि और जितनी भी नदिया जैसे यमुना और गंगा ये सभी हर्षित है, खुश है, प्रसन्न है, तुम्हारा नाम लेकर ही हम जागते है और तुम्हारे नाम का आशीर्वाद चाहते है , तुम्हारी ही हम गाथा गाते है | हे भारत के भाग्य विधाता(सुपर हीरो ) तुम्हारी जय हो जय हो जय हो | "
* 1911 मे जॉर्ज पंचम भारत आए
“ जोर्ज पंचम भारत आया 1911 में और उसके स्वागत में ये गीत गाया गया ,जब वो इंग्लैंड चला गया तो उसने उस जन गण मन का अंग्रेजी में अनुवाद करवाया , क्योंकि जब भारत में उसका इस गीत से स्वागत हुआ था तब उसके समझ में नहीं आया था कि ये गीत क्यों गाया गया और इसका अर्थ क्या है ,जब अंग्रेजी अनुवाद उसने सुना तो वह बोला कि इतना सम्मान और इतनी खुशामद तो मेरी आज तक इंग्लॅण्ड में भी किसी ने नहीं की ,वह बहुत खुश हुआ ओर उसने आदेश दिया कि जिसने भी ये गीत उसके(जोर्ज पंचम के) लिए लिखा है उसे इंग्लैंड बुलाया जाये , रविन्द्र नाथ टैगोर इंग्लैंड गए .. जोर्ज पंचम उस समय नोबल पुरस्कार समिति का अध्यक्ष भी था | “
* नोबल एवार्ड की बात इस तरहा थी
“ उसने रविन्द्र नाथ टैगोर को नोबल पुरस्कार से सम्मानित करने का फैसला किया टैगोर ने कहा की आप मुझे नोबल पुरस्कार देना ही चाहते हैं तो मैंने एक गीतांजलि नामक रचना लिखी है उस पर मुझे दे दो लेकिन इस गीत के नाम पर मत दो और यही प्रचारित किया जाये क़ि मुझे जो नोबेल पुरस्कार दिया गया है वो गीतांजलि नामक रचना के ऊपर दिया गया है ,जोर्ज पंचम मान गया और रविन्द्र नाथ टैगोर को सन 1913 में गीतांजलि नामक रचना के ऊपर नोबल पुरस्कार दिया गया |
* एक हत्याकांड ओर गांधी का खत
“ रविन्द्र नाथ टैगोर की अंग्रेजों के प्रति ये सहानुभूति ख़त्म हुई 1919 में जब जलियावाला कांड हुआ और गाँधी जी ने उनको पत्र लिखा और कहा क़ि अभी भी तुम्हारी आँखों से अंग्रेजियत का पर्दा नहीं उतरेगा तो कब उतरेगा, तुम अंग्रेजों के इतने चाटुकार कैसे हो गए, तुम इनके इतने समर्थक कैसे हो गए ? फिर गाँधीजी स्वयं रविन्द्र नाथ टैगोर से मिलने गए और कहा कि अभी तक तुम अंग्रेजो की अंध भक्ति में डूबे हुए हो ? तब जाकर रविंद्रनाथ टैगोर की नीद खुली| इस काण्ड का टैगोर ने विरोध किया और नोबल पुरस्कार अंग्रेजी हुकूमत को लौटा दिया|
रबीन्द्रनाथ टागोर ने लिखा खत ओर किया इकरार
 
“ सन1919 से पहले जितना कुछ भी रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा वो अंग्रेजी सरकार के पक्ष में था और 1919 के बाद उनके लेख कुछ कुछ अंग्रेजो के खिलाफ होने लगे थे | रविन्द्र नाथ टेगोर के बहनोई,सुरेन्द्र नाथ बनर्जी लन्दन में रहते थे और ICS ऑफिसर थे| अपने बहनोई को उन्होंने एक पत्र लिखा था (ये 1919 के बाद की घटना है) | इसमें उन्होंने लिखा है कि ये गीत 'जन गण मन' अंग्रेजो के द्वारा मुझ पर दबाव डलवाकर लिखवाया गया है ,इसके शब्दों का अर्थ अच्छा नहीं है ,इस गीत को नहीं गाया जाये तो अच्छा है ,लेकिन अंत में उन्होंने लिख दिया कि इस चिठ्ठी को किसी को नहीं दिखाए क्योंकि मैं इसे सिर्फ आप तक सीमित रखना चाहता हूँ लेकिन जब कभी मेरी म्रत्यु हो जाये तो सबको बता दे | 7 अगस्त 1941 को रबिन्द्र नाथ टैगोर की मृत्यु के बाद इस पत्र को सुरेन्द्र नाथ बनर्जी ने ये पत्र सार्वजनिक किया,और सारे देश को ये कहा क़ि ये जन गन मन गीत न गाया जाये|
...........
जन-गन-मन गाकर देश को अपमानित ना करे

गुलामी का प्रतीक हमारा राष्ट्रगान जन गन मन
July 22, 2014 at 2:39pm
जन गन मन गुलामी का प्रतीक……..!!

1911 मे जॉर्ज पंचम जब भारत आए तब उनके स्वागत में ये गीत गाया गया था ।।
——————————————————–
जन-गण-मन की पूरी कहानी
* जॉर्ज पंचम का भारत मे आगमन
“ सन1911 तक भारत की राजधानी बंगाल हुआ करता था , सन 1905 में जब बंगाल विभाजन को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बंग-भंग आन्दोलन के विरोध में बंगाल के लोग उठ खड़े हुए तो अंग्रेजो ने अपने आपको बचाने के लिए के कलकत्ता से हटाकर राजधानी को दिल्ली ले गए और 1911 में दिल्ली को राजधानी घोषित कर दिया ,पूरे भारत में उस समय लोग विद्रोह से भरे हुए थे तो अंग्रेजो ने अपने इंग्लॅण्ड के राजा को भारत आमंत्रित किया ताकि लोग शांत हो जाये ,इंग्लैंड का राजा जोर्ज पंचम 1911 में भारत में आया “
* टागोर के परिवार का पैसा “ ईस्ट इंडिया कंपनी” मे लगा हुवा था
“ रविंद्रनाथ टैगोर पर दबाव बनाया गया कि तुम्हे एक गीत जोर्ज पंचम के स्वागत में लिखना ही होगा , उस समय टैगोर का परिवार अंग्रेजों के काफी नजदीक हुआ करता था, उनके परिवार के बहुत से लोग ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम किया करते थे, उनके बड़े भाई अवनींद्र नाथ टैगोर बहुत दिनों तक ईस्ट इंडिया कंपनी के कलकत्ता डिविजन के निदेशक(Director) रहे, उनके परिवार का बहुत पैसा ईस्ट इंडिया कंपनी में लगा हुआ था और खुद रविन्द्र नाथ टैगोर की बहुत सहानुभूति थी अंग्रेजों के लिए रविंद्रनाथ टैगोर ने मन से या बेमन से जो गीत लिखा उसके बोल है “जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता” … इस गीत के सारे के सारे शब्दों में अंग्रेजी राजा जोर्ज पंचम का गुणगान है, जिसका अर्थ समझने पर पता लगेगा कि ये तो हकीक़त में ही अंग्रेजो की खुशामद में लिखा गया था “
इस राष्ट्रगान का अर्थ कुछ इस तरह से होता है
“भारत के नागरिक,भारत की जनता अपने मन से आपको भारत का भाग्य विधाता समझती है और मानती है … हे अधिनायक(Superhero) तुम्ही भारत के भाग्य विधाता हो | तुम्हारी जय हो ! जय हो! जय हो ! तुम्हारे भारत आने से सभी प्रान्त पंजाब, सिंध, गुजरात,मराठा मतलब महारास्त्र,द्रविड़ मतलब दक्षिण भारत, उत्कल मतलब उड़ीसा, बंगाल आदि और जितनी भी नदिया जैसे यमुना और गंगा ये सभी हर्षित है, खुश है, प्रसन्न है, तुम्हारा नाम लेकर ही हम जागते है और तुम्हारे नाम का आशीर्वाद चाहते है , तुम्हारी ही हम गाथा गाते है | हे भारत के भाग्य विधाता(सुपर हीरो ) तुम्हारी जय हो जय हो जय हो | “
* 1911 मे जॉर्ज पंचम भारत आए
“ जोर्ज पंचम भारत आया 1911 में और उसके स्वागत में ये गीत गाया गया ,जब वो इंग्लैंड चला गया तो उसने उस जन गण मन का अंग्रेजी में अनुवाद करवाया , क्योंकि जब भारत में उसका इस गीत से स्वागत हुआ था तब उसके समझ में नहीं आया था कि ये गीत क्यों गाया गया और इसका अर्थ क्या है ,जब अंग्रेजी अनुवाद उसने सुना तो वह बोला कि इतना सम्मान और इतनी खुशामद तो मेरी आज तक इंग्लॅण्ड में भी किसी ने नहीं की ,वह बहुत खुश हुआ ओर उसने आदेश दिया कि जिसने भी ये गीत उसके(जोर्ज पंचम के) लिए लिखा है उसे इंग्लैंड बुलाया जाये , रविन्द्र नाथ टैगोर इंग्लैंड गए .. जोर्ज पंचम उस समय नोबल पुरस्कार समिति का अध्यक्ष भी था | “
* नोबल एवार्ड की बात इस तरहा थी
“ उसने रविन्द्र नाथ टैगोर को नोबल पुरस्कार से सम्मानित करने का फैसला किया टैगोर ने कहा की आप मुझे नोबल पुरस्कार देना ही चाहते हैं तो मैंने एक गीतांजलि नामक रचना लिखी है उस पर मुझे दे दो लेकिन इस गीत के नाम पर मत दो और यही प्रचारित किया जाये क़ि मुझे जो नोबेल पुरस्कार दिया गया है वो गीतांजलि नामक रचना के ऊपर दिया गया है ,जोर्ज पंचम मान गया और रविन्द्र नाथ टैगोर को सन 1913 में गीतांजलि नामक रचना के ऊपर नोबल पुरस्कार दिया गया |
* एक हत्याकांड ओर गांधी का खत
“ रविन्द्र नाथ टैगोर की अंग्रेजों के प्रति ये सहानुभूति ख़त्म हुई 1919 में जब जलियावाला कांड हुआ और गाँधी जी ने उनको पत्र लिखा और कहा क़ि अभी भी तुम्हारी आँखों से अंग्रेजियत का पर्दा नहीं उतरेगा तो कब उतरेगा, तुम अंग्रेजों के इतने चाटुकार कैसे हो गए, तुम इनके इतने समर्थक कैसे हो गए ? फिर गाँधीजी स्वयं रविन्द्र नाथ टैगोर से मिलने गए और कहा कि अभी तक तुम अंग्रेजो की अंध भक्ति में डूबे हुए हो ? तब जाकर रविंद्रनाथ टैगोर की नीद खुली| इस काण्ड का टैगोर ने विरोध किया और नोबल पुरस्कार अंग्रेजी हुकूमत को लौटा दिया|
रबीन्द्रनाथ टागोर ने लिखा खत ओर किया इकरार

“ सन1919 से पहले जितना कुछ भी रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा वो अंग्रेजी सरकार के पक्ष में था और 1919 के बाद उनके लेख कुछ कुछ अंग्रेजो के खिलाफ होने लगे थे | रविन्द्र नाथ टेगोर के बहनोई,सुरेन्द्र नाथ बनर्जी लन्दन में रहते थे और ICS ऑफिसर थे| अपने बहनोई को उन्होंने एक पत्र लिखा था (ये 1919 के बाद की घटना है) | इसमें उन्होंने लिखा है कि ये गीत ‘जन गण मन’ अंग्रेजो के द्वारा मुझ पर दबाव डलवाकर लिखवाया गया है ,इसके शब्दों का अर्थ अच्छा नहीं है ,इस गीत को नहीं गाया जाये तो अच्छा है ,लेकिन अंत में उन्होंने लिख दिया कि इस चिठ्ठी को किसी को नहीं दिखाए क्योंकि मैं इसे सिर्फ आप तक सीमित रखना चाहता हूँ लेकिन जब कभी मेरी म्रत्यु हो जाये तो सबको बता दे | 7 अगस्त 1941 को रबिन्द्र नाथ टैगोर की मृत्यु के बाद इस पत्र को सुरेन्द्र नाथ बनर्जी ने ये पत्र सार्वजनिक किया,और सारे देश को ये कहा क़ि ये जन गन मन गीत न गाया जाये|
………..
जन-गन-मन गाकर देश को अपमानित ना करे

Posted in हिन्दू पतन

Save India


 
मेरे पास  शब्द नहीं इस को बताने के लिये 
यह मिशनरी हमारे  धरम का  हमारी संस्कृति  का 
मजाक बनाने  के लिए  आयें हैं ?
यह हमारे मुहँ  पर  कलिक  पोतने का काम कर रहें  हैं?
हिन्दुओं  को ईसाई  बनाने के  लिये  क्या क्या हथकंडे  अपना  रहें हैं
जीसस  बन गया भगवन विष्णु ?
डूब मरने  की बात हैं , हम  हिन्दुओं के लिये 

I have no word to describe this, I could never imagine they will stoop to this low - JESUS is now Bhagwan Vishnu?

मेरे पास शब्द नहीं इस को बताने के लिये
यह मिशनरी हमारे धरम का हमारी संस्कृति का
मजाक बनाने के लिए आयें हैं ?
यह हमारे मुहँ पर कलिक पोतने का काम कर रहें हैं?
हिन्दुओं को ईसाई बनाने के लिये क्या क्या हथकंडे अपना रहें हैं
जीसस बन गया भगवन विष्णु ?
डूब मरने की बात हैं , हम हिन्दुओं के लिये

I have no word to describe this, I could never imagine they will stoop to this low – JESUS is now Bhagwan Vishnu?

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

जयपुर के पूर्व राजघराने


अक्सर सुनने को मिलता है कि आपातकाल में भारत सरकार ने जयपुर के पूर्व राजघराने पर छापे मारकर उनका खजाना जब्त किया था, राजस्थान में यह खबर आम है कि – चूँकि जयपुर की महारानी गायत्री देवी कांग्रेस व इंदिरा गांधी की विरोधी थी अत: आपातकाल में देश की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जयपुर राजपरिवार के सभी परिसरों पर छापे की कार्यवाही करवाई, जिनमें जयगढ़ का किला प्रमुख था, कहते कि राजा मानसिंह की अकबर के साथ संधि थी कि राजा मानसिंह अकबर के सेनापति के रूप में जहाँ कहीं आक्रमण कर जीत हासिल करेंगे उस राज्य पर राज अकबर होगा और उस राज्य के खजाने में मिला धन राजा मानसिंह का होगा| इसी कहानी के अनुसार राजा मानसिंह ने अफगानिस्तान सहित कई राज्यों पर जीत हासिल कर वहां से ढेर सारा धन प्राप्त किया और उसे लाकर जयगढ़ के किले में रखा, कालांतर में इस अकूत खजाने को किले में गाड़ दिया गया जिसे इंदिरा गाँधी ने आपातकाल में सेना की मदद लेकर खुदाई कर गड़ा खजाना निकलवा लिया|

यही आज से कुछ वर्ष पहले डिस्कवरी चैनल पर जयपुर की पूर्व महारानी गायत्री देवी पर एक टेलीफिल्म देखी थी उसमें में गायत्री देवी द्वारा इस सरकारी छापेमारी का जिक्र था साथ ही फिल्म में तत्कालीन जयगढ़ किले के किलेदार को भी फिल्म में उस छापेमारी की चर्चा करते हुए दिखाया गया| जिससे यह तो साफ़ है कि जयगढ़ के किले के साथ राजपरिवार के आवासीय परिसरों पर छापेमारी की गयी थी|

जश्रुतियों के अनुसार उस वक्त जयपुर दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग सील कर सेना के ट्रकों में भरकर खजाने से निकाला धन दिल्ली ले जाया गया, लेकिन अधिकारिक तौर पर किसी को नहीं पता कि इस कार्यवाही में सरकार के कौन कौन से विभाग शामिल थे और किले से खुदाई कर जब्त किया गया धन कहाँ ले जाया गया|

चूँकि राजा मानसिंह के इन सैनिक अभियानों व इस धन को संग्रह करने में हमारे भी कई पूर्वजों का खून बहा था, साथ ही तत्कालीन राज्य की आम जनता का भी खून पसीना बहा था| इस धन को भारत सरकार ने जब्त कर राजपरिवार से छीन लिया इसका हमें कोई दुःख नहीं, कोई दर्द नहीं, बल्कि व्यक्तिगत तौर पर मेरा मानना है कि यह जनता के खून पसीने का धन था जो सरकारी खजाने में चला गया और आगे देश की जनता के विकास में काम आयेगा| पर चूँकि अधिकारिक तौर पर यह किसी को पता नहीं कि यह धन कितना था और अब कहाँ है ?

इसी जिज्ञासा को दूर करने व जनहित में आम जनता को इस धन के बारे जानकारी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पिछले माह मैंने एक RTI के माध्यम से गृह मंत्रालय से उपरोक्त खजाने से संबंधित निम्न सवाल पूछ सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत जबाब मांगे –
1- क्या आपातकाल के दौरान केन्द्रीय सरकार द्वारा जयपुर रियासत के किलों, महलों पर छापामार कर सेना द्वारा खुदाई कर रियासत कालीन खजाना निकाला गया था ? यही हाँ तो यह खजाना इस समय कहाँ पर रखा गया है ?
2- क्या उपरोक्त जब्त किये गए खजाने का कोई हिसाब भी रखा गया है ? और क्या इसका मूल्यांकन किया गया था ? यदि मूल्यांकन किया गया था तो उपरोक्त खजाने में कितना क्या क्या था और है ?
3- उपरोक्त जब्त खजाने की जब्त सम्पत्ति की यह जानकारी सरकार के किस किस विभाग को है?
4- इस समय उस खजाने से जब्त की गयी सम्पत्ति पर किस संवैधानिक संस्था का या सरकारी विभाग का अधिकार है?
5- वर्तमान में जब्त की गयी उपरोक्त संपत्ति को संभालकर रखने की जिम्मेदारी किस संवैधानिक संस्था के पास है?
6- उस संवैधानिक संस्था या विभाग का का शीर्ष अधिकारी कौन है?
7- खजाने की खुदाई कर इसे इकठ्ठा करने के लिए किन किन संवैधानिक संस्थाओ को शामिल किया गया और ये सब कार्य किसके आदेश पर हुआ ?
8- इस संबंध में भारत सरकार के किन किन जिम्मेदार तत्कालीन जन सेवकों से राय ली गयी थी?

मेरे उपरोक्त प्रश्नों की RTI गृह मंत्रालय ने सूचना उपलब्ध कराने के लिए राष्ट्रीय अभिलेखागार, जन पथ, नई दिल्ली के निदेशक को भेजी, जहाँ से मुझे जबाब आया कि –आप द्वारा मांगी गयी सूचना राष्ट्रीय अभिलेखागार में उपलब्ध नहीं है| साथ इस विभाग ने कार्मिक प्रशिक्षण विभाग द्वारा दिए गये दिशा निर्देशों का हवाला देते हुए लिखा कि प्राधिकरण में उपलब्ध सामग्री ही उपलब्ध कराई जा सकती है किसी आवेदक को कोई सूचना देने के लिए अनुसंधान कार्य नहीं किया जा सकता|

जबकि मैंने अपने प्रश्नों में ऐसी कोई जानकारी नहीं मांगी जिसमें किसी अनुसंधान की जरुरत हो, लेकिन जिस तरह सरकार द्वारा सूचना मुहैया कराने के मामले में हाथ खड़े किये गये है उससे यह शक गहरा गया कि उस वक्त जयपुर राजघराने से जब्त खजाना देश के खजाने में जमा ही नहीं हुआ, यदि थोड़ा बहुत भी जमा होता तो कहीं तो कोई प्रविष्ठी मिलती या इस कार्यवाही का कोई रिकोर्ड होता| पर किसी तरह का कोई दस्तावेजी रिकॉर्ड नहीं होना दर्शाता है कि आपातकाल में उपरोक्त खजाना तत्कालीन शासकों के निजी खजानों में गया है| और सीधा शक जाहिर कर रहा कि उपरोक्त खोदा गया अकूत खजाना आपातकाल की आड़ में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने खुर्द बुर्द कर स्विस बैंकों में भेज दिया जिसे सीधे सीधे जनता के धन पर डाका है|

साथ ही यह प्रश्न भी समझ से परे है कि इस संबंध में क्या जानकारी सिर्फ राष्ट्रीय अभिलेखागार में ही हो सकती है ? किसी अन्य विभागों यथा आयकर आदि के पास नहीं हो सकती ? जबकि गृह मंत्रालय ने मेरी RTI का जबाब देने को सिर्फ राष्ट्रीय अभिलेखागार को ही लिखा|

आप के पास इस संबंध में कोई जानकारी हो, किसी अख़बार की उस वक्त छपी न्यूज की प्रति हो कृपया मेरे साथ साँझा करें | साथ ही आरटीआई कार्यकर्त्ता इस संबंध में मार्गदर्शन करें कि यह जानकारी प्राप्त करने के लिए किन किन विभागों में आरटीआई लगायी जाय तथा पहले लगायी आरटीआई की अपील कैसे व कहाँ की जाय, आपकी सुविधा के लिए आरटीआई व उसके जबाब की प्रतियाँ निम्न लिंक पर उपलब्ध है|

——Ratan singh shekhawat

RTI Copy
https://docs.google.com/file/d/0B6OQj1W6N0X4c1NzMmxSTExSbDg/edit?pli=1
RTI Reply
https://docs.google.com/file/d/0B6OQj1W6N0X4X3U5blJNRkRtclU/edit?pli=1

Photo: अक्सर सुनने को मिलता है कि आपातकाल में भारत सरकार ने जयपुर के पूर्व राजघराने पर छापे मारकर उनका खजाना जब्त किया था, राजस्थान में यह खबर आम है कि - चूँकि जयपुर की महारानी गायत्री देवी कांग्रेस व इंदिरा गांधी की विरोधी थी अत: आपातकाल में देश की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जयपुर राजपरिवार के सभी परिसरों पर छापे की कार्यवाही करवाई, जिनमें जयगढ़ का किला प्रमुख था, कहते कि राजा मानसिंह की अकबर के साथ संधि थी कि राजा मानसिंह अकबर के सेनापति के रूप में जहाँ कहीं आक्रमण कर जीत हासिल करेंगे उस राज्य पर राज अकबर होगा और उस राज्य के खजाने में मिला धन राजा मानसिंह का होगा| इसी कहानी के अनुसार राजा मानसिंह ने अफगानिस्तान सहित कई राज्यों पर जीत हासिल कर वहां से ढेर सारा धन प्राप्त किया और उसे लाकर जयगढ़ के किले में रखा, कालांतर में इस अकूत खजाने को किले में गाड़ दिया गया जिसे इंदिरा गाँधी ने आपातकाल में सेना की मदद लेकर खुदाई कर गड़ा खजाना निकलवा लिया|

यही आज से कुछ वर्ष पहले डिस्कवरी चैनल पर जयपुर की पूर्व महारानी गायत्री देवी पर एक टेलीफिल्म देखी थी उसमें में गायत्री देवी द्वारा इस सरकारी छापेमारी का जिक्र था साथ ही फिल्म में तत्कालीन जयगढ़ किले के किलेदार को भी फिल्म में उस छापेमारी की चर्चा करते हुए दिखाया गया| जिससे यह तो साफ़ है कि जयगढ़ के किले के साथ राजपरिवार के आवासीय परिसरों पर छापेमारी की गयी थी|

जश्रुतियों के अनुसार उस वक्त जयपुर दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग सील कर सेना के ट्रकों में भरकर खजाने से निकाला धन दिल्ली ले जाया गया, लेकिन अधिकारिक तौर पर किसी को नहीं पता कि इस कार्यवाही में सरकार के कौन कौन से विभाग शामिल थे और किले से खुदाई कर जब्त किया गया धन कहाँ ले जाया गया|

चूँकि राजा मानसिंह के इन सैनिक अभियानों व इस धन को संग्रह करने में हमारे भी कई पूर्वजों का खून बहा था, साथ ही तत्कालीन राज्य की आम जनता का भी खून पसीना बहा था| इस धन को भारत सरकार ने जब्त कर राजपरिवार से छीन लिया इसका हमें कोई दुःख नहीं, कोई दर्द नहीं, बल्कि व्यक्तिगत तौर पर मेरा मानना है कि यह जनता के खून पसीने का धन था जो सरकारी खजाने में चला गया और आगे देश की जनता के विकास में काम आयेगा| पर चूँकि अधिकारिक तौर पर यह किसी को पता नहीं कि यह धन कितना था और अब कहाँ है ?

इसी जिज्ञासा को दूर करने व जनहित में आम जनता को इस धन के बारे जानकारी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पिछले माह मैंने एक RTI के माध्यम से गृह मंत्रालय से उपरोक्त खजाने से संबंधित निम्न सवाल पूछ सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत जबाब मांगे -
1- क्या आपातकाल के दौरान केन्द्रीय सरकार द्वारा जयपुर रियासत के किलों, महलों पर छापामार कर सेना द्वारा खुदाई कर रियासत कालीन खजाना निकाला गया था ? यही हाँ तो यह खजाना इस समय कहाँ पर रखा गया है ?
2- क्या उपरोक्त जब्त किये गए खजाने का कोई हिसाब भी रखा गया है ? और क्या इसका मूल्यांकन किया गया था ? यदि मूल्यांकन किया गया था तो उपरोक्त खजाने में कितना क्या क्या था और है ?
3- उपरोक्त जब्त खजाने की जब्त सम्पत्ति की यह जानकारी सरकार के किस किस विभाग को है?
4- इस समय उस खजाने से जब्त की गयी सम्पत्ति पर किस संवैधानिक संस्था का या सरकारी विभाग का अधिकार है?
5- वर्तमान में जब्त की गयी उपरोक्त संपत्ति को संभालकर रखने की जिम्मेदारी किस संवैधानिक संस्था के पास है?
6- उस संवैधानिक संस्था या विभाग का का शीर्ष अधिकारी कौन है?
7- खजाने की खुदाई कर इसे इकठ्ठा करने के लिए किन किन संवैधानिक संस्थाओ को शामिल किया गया और ये सब कार्य किसके आदेश पर हुआ ?
8- इस संबंध में भारत सरकार के किन किन जिम्मेदार तत्कालीन जन सेवकों से राय ली गयी थी?

मेरे उपरोक्त प्रश्नों की RTI गृह मंत्रालय ने सूचना उपलब्ध कराने के लिए राष्ट्रीय अभिलेखागार, जन पथ, नई दिल्ली के निदेशक को भेजी, जहाँ से मुझे जबाब आया कि –आप द्वारा मांगी गयी सूचना राष्ट्रीय अभिलेखागार में उपलब्ध नहीं है| साथ इस विभाग ने कार्मिक प्रशिक्षण विभाग द्वारा दिए गये दिशा निर्देशों का हवाला देते हुए लिखा कि प्राधिकरण में उपलब्ध सामग्री ही उपलब्ध कराई जा सकती है किसी आवेदक को कोई सूचना देने के लिए अनुसंधान कार्य नहीं किया जा सकता|

जबकि मैंने अपने प्रश्नों में ऐसी कोई जानकारी नहीं मांगी जिसमें किसी अनुसंधान की जरुरत हो, लेकिन जिस तरह सरकार द्वारा सूचना मुहैया कराने के मामले में हाथ खड़े किये गये है उससे यह शक गहरा गया कि उस वक्त जयपुर राजघराने से जब्त खजाना देश के खजाने में जमा ही नहीं हुआ, यदि थोड़ा बहुत भी जमा होता तो कहीं तो कोई प्रविष्ठी मिलती या इस कार्यवाही का कोई रिकोर्ड होता| पर किसी तरह का कोई दस्तावेजी रिकॉर्ड नहीं होना दर्शाता है कि आपातकाल में उपरोक्त खजाना तत्कालीन शासकों के निजी खजानों में गया है| और सीधा शक जाहिर कर रहा कि उपरोक्त खोदा गया अकूत खजाना आपातकाल की आड़ में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने खुर्द बुर्द कर स्विस बैंकों में भेज दिया जिसे सीधे सीधे जनता के धन पर डाका है|

साथ ही यह प्रश्न भी समझ से परे है कि इस संबंध में क्या जानकारी सिर्फ राष्ट्रीय अभिलेखागार में ही हो सकती है ? किसी अन्य विभागों यथा आयकर आदि के पास नहीं हो सकती ? जबकि गृह मंत्रालय ने मेरी RTI का जबाब देने को सिर्फ राष्ट्रीय अभिलेखागार को ही लिखा|

आप के पास इस संबंध में कोई जानकारी हो, किसी अख़बार की उस वक्त छपी न्यूज की प्रति हो कृपया मेरे साथ साँझा करें | साथ ही आरटीआई कार्यकर्त्ता इस संबंध में मार्गदर्शन करें कि यह जानकारी प्राप्त करने के लिए किन किन विभागों में आरटीआई लगायी जाय तथा पहले लगायी आरटीआई की अपील कैसे व कहाँ की जाय, आपकी सुविधा के लिए आरटीआई व उसके जबाब की प्रतियाँ निम्न लिंक पर उपलब्ध है|

------Ratan singh shekhawat

RTI Copy
https://docs.google.com/file/d/0B6OQj1W6N0X4c1NzMmxSTExSbDg/edit?pli=1
RTI Reply
https://docs.google.com/file/d/0B6OQj1W6N0X4X3U5blJNRkRtclU/edit?pli=1
Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

“दादू दुनिया बावरी कबरे पूजे ऊत, जिनको कीड़े खा चुके उनसे मांगे पूत”


“दादू दुनिया बावरी कबरे पूजे ऊत, जिनको कीड़े खा चुके उनसे मांगे पूत”

“कब्र मे मुर्दे को खाने वाले कीड़े भी कुछ सालो मे नष्ट हो जाते हैं। परन्तु हिन्दू उनपर सिर रगड़ते हैं।”

पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक शहर है,बहराइच । बहराइच में हिन्दू समाज का मुख्य पूजा स्थल है गाजी बाबा की मजार। मूर्ख हिंदू लाखों रूपये हर वर्ष इस पीर पर चढाते है।
इतिहास का जानकार हर व्यक्ति जानता है,कि महमूद गजनवी के उत्तरी भारत को १७ बार लूटने व बर्बाद करने के कुछ समय बाद उसका भांजा सलार गाजी भारत को दारूल इस्लाम बनाने के उद्देश्य से भारत पर चढ़ आया । वह पंजाब ,सिंध, आज के उत्तर प्रदेश को रोंद्ता हुआ बहराइच तक जा पंहुचा। रास्ते में उसने लाखों हिन्दुओं का कत्लेआम कराया, लाखों हिंदू औरतों के बलात्कार हुए, हजारों मन्दिर तोड़ डाले।
राह में उसे एक भी ऐसा हिन्दू वीर नही मिला जो उसका मान मर्दन कर सके। इस्लाम की जेहाद की आंधी को रोक सके। परंतु बहराइच के राजा सुहेल देव पासी ने उसको थामने का बीडा उठाया । वे अपनी सेना के साथ सलार गाजी के हत्याकांड को रोकने के लिए जा पहुंचे। महाराजा व हिन्दू वीरों ने सलार गाजी व उसकी दानवी सेना को मूली गाजर की तरह काट डाला । सलार गाजी मारा गया। उसकी भागती सेना के एक एक हत्यारे को काट डाला गया। हिंदू ह्रदय राजा सुहेल देव पासी ने अपने धर्म का पालन करते हुए, सलार गाजी को इस्लाम के अनुसार कब्र में दफ़न करा दिया।

कुछ समय पश्चात् तुगलक वंश के आने पर फीरोज तुगलक ने सलारगाजी को इस्लाम का सच्चा संत सिपाही घोषित करते हुए उसकी मजार बनवा दी। आज उसी हिन्दुओं के हत्यारे, हिंदू औरतों के बलातकारी ,मूर्ती भंजन दानव को हिंदू समाज एक देवता की तरह पूजता है। सलार गाजी हिन्दुओं का गाजी बाबा हो गया है और
हिंदू वीर शिरोमणि सुहेल देव पासी सिर्फ़ पासी समाज का हीरो बनकर रह गएँ है और सलार गाजी हिन्दुओं का भगवान बनकर हिन्दू समाज का पूजनीय हो गया है। अब गाजी की मजार पूजने वाले ,ऐसे हिन्दुओं को मूर्ख न कहे तो क्या कहें ।

ख्वाजा गरीब नवाज़, अमीर खुसरो, निजामुद्दीन औलिया की दरगाह पर जाकर मन्नत मांगने वाले सनातन धर्मी (हिन्दू) लोगो के लिए विशेष :–
पूरे देश में स्थान स्थान पर बनी कब्रों,मजारों या दरगाहों पर हर वीरवार को जाकर शीश झुकाने व मन्नत करने वालों से कुछ प्रश्न :-

1.क्या एक कब्र जिसमे मुर्दे की लाश मिट्टी में बदल चुकी है वो किसी की मनोकामना पूरी कर सकती हैं?

2. ज्यादातर कब्र या मजार उन मुसलमानों की हैं जो हमारे पूर्वजो से लड़ते हुए मारे गए थे, उनकी कब्रों पर जाकर मन्नत मांगना क्या उन वीर पूर्वजो का अपमान नहीं हैं जिन्होंने अपने प्राण धर्म की रक्षा करते हुए बलि वेदी पर समर्पित कर दियें थे?

3. क्या हिन्दुओ के राम, कृष्ण अथवा ३३ प्रकार देवी देवता शक्तिहीन हो चुकें हैं
जो मुसलमानों की कब्रों पर सर पटकने के लिए जाना आवश्यक हैं?

4. जब गीता में श्री कृष्ण जी महाराज ने कहाँ हैं की कर्म करने से ही सफलता प्राप्त होती हैं तो मजारों में दुआ मांगने से क्या हासिल होगा?
“यान्ति देवव्रता देवान्
पितृन्यान्ति पितृव्रताः
भूतानि यान्ति भूतेज्या यान्ति
मद्याजिनोऽपिमाम्”
श्री मद भगवत गीता में भी भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि भूत प्रेत, मुर्दा, पितृ
(खुला या दफ़नाया हुआ अर्थात् कब्र,मजार अथवा समाधि) को सकामभाव से पूजने वाले स्वयं मरने के बाद भूत- प्रेत व पितृ की योनी में ही विचरण करते हैं व उसे ही प्राप्त करते हैं l

5. भला किसी मुस्लिम देश में वीर शिवाजी, महाराणा प्रताप, हरी सिंह नलवा आदि वीरो की स्मृति में कोई स्मारक आदि बनाकर उन्हें पूजा जाता हैं तो भला हमारे
ही देश पर आक्रमण करनेवालो की कब्र पर हम क्यों शीश झुकाते हैं?

6. क्या संसार में इससे बड़ी मूर्खता का प्रमाण आपको मिल सकता हैं?

7. हिन्दू कौनसी ऐसी अध्यात्मिक प्रगति मुसलमानों की कब्रों की पूजा कर प्राप्त
कर रहे हैं जो वेदों- उपनिषदों में कहीं नहीं गयीं हैं?

8. कब्र, मजार पूजा को हिन्दू मुस्लिम सेकुलरता की निशानी बताना हिन्दुओ को अँधेरे में रखना नहीं तो क्या हैं ?

आशा हैं इस लेख को पढ़ कर आपकी बुद्धि में कुछ प्रकाश हुआ होगा l अगर आप आर्य
राजा श्री राम और श्री कृष्ण जी महाराज की संतान हैं तो तत्काल इस मुर्खता पूर्ण
अंधविश्वास को छोड़ दे और अन्य हिन्दुओ को भी इस बारे में बता कर उनका अंधविश्वास दूर करे | अपने धर्म को जानिए l इस अज्ञानता के चक्र में से बाहर
निकलिए l

कभी कभी तो हिन्दुओं की मूर्खता और अन्धविश्वास देख कर काफी दुःख होता है और उन पर गुस्सा भी आता है!

अगर मेरा बस चलता तो मैं ऐसे मूखों को समझाने के बजाए… उनके पिछवाड़े पर जमा कर दो लात मारना ज्यादा पसंद करता !

आखिर हो क्या गया है हम हिन्दुओं को…..?????

क्या हिन्दुओं में अन्धविश्वास आज इस कदर हावी हो चुका है कि उन्हें आज दोस्त और दुशमनों तक को पहचानना भूल चुका है…?????

अरे….. जागो हिन्दुओं……अगर इसी तरह….. बेहोश रहे और अपने कातिलों को पूजते रहे तो ……. कल को कोई तुम्हारा नामलेवा तक नहीं बचेगा……!

जय महाकाल

नोट : पृथ्वी राज चौहान की समाधि पर कंधार अफगानिस्तान में जुतिया झाडी जाती थी ।
उचित लगे तो जनजागरण हेतू शेयर करें ।।
Jaychand Bhosle

"दादू दुनिया बावरी कबरे पूजे ऊत, जिनको कीड़े खा चुके उनसे मांगे पूत"

"कब्र मे मुर्दे को खाने वाले कीड़े भी कुछ सालो मे नष्ट हो जाते हैं। परन्तु हिन्दू उनपर सिर रगड़ते हैं।"

पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक शहर है,बहराइच । बहराइच में हिन्दू समाज का मुख्य पूजा स्थल है गाजी बाबा की मजार। मूर्ख हिंदू लाखों रूपये हर वर्ष इस पीर पर चढाते है।
इतिहास का जानकार हर व्यक्ति जानता है,कि महमूद गजनवी के उत्तरी भारत को १७ बार लूटने व बर्बाद करने के कुछ समय बाद उसका भांजा सलार गाजी भारत को दारूल इस्लाम बनाने के उद्देश्य से भारत पर चढ़ आया । वह पंजाब ,सिंध, आज के उत्तर प्रदेश को रोंद्ता हुआ बहराइच तक जा पंहुचा। रास्ते में उसने लाखों हिन्दुओं का कत्लेआम कराया, लाखों हिंदू औरतों के बलात्कार हुए, हजारों मन्दिर तोड़ डाले।
राह में उसे एक भी ऐसा हिन्दू वीर नही मिला जो उसका मान मर्दन कर सके। इस्लाम की जेहाद की आंधी को रोक सके। परंतु बहराइच के राजा सुहेल देव पासी ने उसको थामने का बीडा उठाया । वे अपनी सेना के साथ सलार गाजी के हत्याकांड को रोकने के लिए जा पहुंचे। महाराजा व हिन्दू वीरों ने सलार गाजी व उसकी दानवी सेना को मूली गाजर की तरह काट डाला । सलार गाजी मारा गया। उसकी भागती सेना के एक एक हत्यारे को काट डाला गया। हिंदू ह्रदय राजा सुहेल देव पासी ने अपने धर्म का पालन करते हुए, सलार गाजी को इस्लाम के अनुसार कब्र में दफ़न करा दिया।

कुछ समय पश्चात् तुगलक वंश के आने पर फीरोज तुगलक ने सलारगाजी को इस्लाम का सच्चा संत सिपाही घोषित करते हुए उसकी मजार बनवा दी। आज उसी हिन्दुओं के हत्यारे, हिंदू औरतों के बलातकारी ,मूर्ती भंजन दानव को हिंदू समाज एक देवता की तरह पूजता है। सलार गाजी हिन्दुओं का गाजी बाबा हो गया है और
हिंदू वीर शिरोमणि सुहेल देव पासी सिर्फ़ पासी समाज का हीरो बनकर रह गएँ है और सलार गाजी हिन्दुओं का भगवान बनकर हिन्दू समाज का पूजनीय हो गया है। अब गाजी की मजार पूजने वाले ,ऐसे हिन्दुओं को मूर्ख न कहे तो क्या कहें ।

ख्वाजा गरीब नवाज़, अमीर खुसरो, निजामुद्दीन औलिया की दरगाह पर जाकर मन्नत मांगने वाले सनातन धर्मी (हिन्दू) लोगो के लिए विशेष :--
पूरे देश में स्थान स्थान पर बनी कब्रों,मजारों या दरगाहों पर हर वीरवार को जाकर शीश झुकाने व मन्नत करने वालों से कुछ प्रश्न :-

1.क्या एक कब्र जिसमे मुर्दे की लाश मिट्टी में बदल चुकी है वो किसी की मनोकामना पूरी कर सकती हैं?

2. ज्यादातर कब्र या मजार उन मुसलमानों की हैं जो हमारे पूर्वजो से लड़ते हुए मारे गए थे, उनकी कब्रों पर जाकर मन्नत मांगना क्या उन वीर पूर्वजो का अपमान नहीं हैं जिन्होंने अपने प्राण धर्म की रक्षा करते हुए बलि वेदी पर समर्पित कर दियें थे?

3. क्या हिन्दुओ के राम, कृष्ण अथवा ३३ प्रकार देवी देवता शक्तिहीन हो चुकें हैं
जो मुसलमानों की कब्रों पर सर पटकने के लिए जाना आवश्यक हैं?

4. जब गीता में श्री कृष्ण जी महाराज ने कहाँ हैं की कर्म करने से ही सफलता प्राप्त होती हैं तो मजारों में दुआ मांगने से क्या हासिल होगा?
"यान्ति देवव्रता देवान्
पितृन्यान्ति पितृव्रताः
भूतानि यान्ति भूतेज्या यान्ति
मद्याजिनोऽपिमाम्"
श्री मद भगवत गीता में भी भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि भूत प्रेत, मुर्दा, पितृ
(खुला या दफ़नाया हुआ अर्थात् कब्र,मजार अथवा समाधि) को सकामभाव से पूजने वाले स्वयं मरने के बाद भूत- प्रेत व पितृ की योनी में ही विचरण करते हैं व उसे ही प्राप्त करते हैं l

5. भला किसी मुस्लिम देश में वीर शिवाजी, महाराणा प्रताप, हरी सिंह नलवा आदि वीरो की स्मृति में कोई स्मारक आदि बनाकर उन्हें पूजा जाता हैं तो भला हमारे
ही देश पर आक्रमण करनेवालो की कब्र पर हम क्यों शीश झुकाते हैं?

6. क्या संसार में इससे बड़ी मूर्खता का प्रमाण आपको मिल सकता हैं?

7. हिन्दू कौनसी ऐसी अध्यात्मिक प्रगति मुसलमानों की कब्रों की पूजा कर प्राप्त
कर रहे हैं जो वेदों- उपनिषदों में कहीं नहीं गयीं हैं?

8. कब्र, मजार पूजा को हिन्दू मुस्लिम सेकुलरता की निशानी बताना हिन्दुओ को अँधेरे में रखना नहीं तो क्या हैं ?

आशा हैं इस लेख को पढ़ कर आपकी बुद्धि में कुछ प्रकाश हुआ होगा l अगर आप आर्य
राजा श्री राम और श्री कृष्ण जी महाराज की संतान हैं तो तत्काल इस मुर्खता पूर्ण
अंधविश्वास को छोड़ दे और अन्य हिन्दुओ को भी इस बारे में बता कर उनका अंधविश्वास दूर करे | अपने धर्म को जानिए l इस अज्ञानता के चक्र में से बाहर
निकलिए l

कभी कभी तो हिन्दुओं की मूर्खता और अन्धविश्वास देख कर काफी दुःख होता है और उन पर गुस्सा भी आता है!

अगर मेरा बस चलता तो मैं ऐसे मूखों को समझाने के बजाए... उनके पिछवाड़े पर जमा कर दो लात मारना ज्यादा पसंद करता !

आखिर हो क्या गया है हम हिन्दुओं को.....?????

क्या हिन्दुओं में अन्धविश्वास आज इस कदर हावी हो चुका है कि उन्हें आज दोस्त और दुशमनों तक को पहचानना भूल चुका है...?????

अरे..... जागो हिन्दुओं......अगर इसी तरह..... बेहोश रहे और अपने कातिलों को पूजते रहे तो ....... कल को कोई तुम्हारा नामलेवा तक नहीं बचेगा......!

जय महाकाल

नोट : पृथ्वी राज चौहान की समाधि पर कंधार अफगानिस्तान में जुतिया झाडी जाती थी ।
उचित लगे तो जनजागरण हेतू शेयर करें ।।
Jaychand Bhosle
Posted in नहेरु परिवार - Nehru Family, राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki

इंदिरा गाँधी ने मुस्लिम तुस्टीकरण के लिए सबसे पहले फिलिस्तीन को मान्यता दी


आखिर हम फिलिस्तीन का समर्थन क्यों करे ?? हर एक अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर फिलिस्तीन द्वारा कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बताया गया है….
मित्रो जब आतंकवादी यासिर अराफात ने फिलिस्तीन राष्ट्र की घोषणा की तो फिलिस्तीन को… सबसे पहले मान्यता देने वाला देश कौन था ?
सउदी अरब — नहीं
पाकिस्तान —- नहीं
अफगानिस्तान — नहीं
भारत ——- जी हाँ

इंदिरा गाँधी ने मुस्लिम तुस्टीकरण के लिए सबसे पहले फिलिस्तीन को मान्यता दी और यासिर अराफात जैसे आतंकवादी को नेहरु शांति पुरस्कार [5 करोड़ रूपये ] दिया, और राजीव गाँधी ने उसको इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय शांति पुरस्कार दिया.. राजीव गाँधी ने तो उसको पुरे विश्व में घूमने के लिए बोईंग 747 गिफ्ट में दिया था..

अब आगे सुनिए —-
इसी खुराफात अराफात ने OIC [ Organisation of islamic countries ] में कश्मीर को पाकिस्तान का अभिन्न भाग बताया और बोला कि पाकिस्तान जब चाहे तब मेरे लड़ाके कश्मीर की आज़ादी के लिए लड़ेंगे.. इतना ही नही जिस व्यक्ति को दुनिया के १०३ देशों ने आतंकवादी घोषित किया हो और जिसने ८ विमानों का अपहरण किया हो और जिसने दो हज़ार निर्दोष लोगो को मारा हो.. ऐसे आतंकवादी यासिर अराफात को सबसे पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने किसी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा…

जी हाँ.. इंदिरा गाँधी ने इसे नेहरु शांति पुरस्कार दिया जिसमे एक 2 करोड़ रूपये नगद और 200 ग्राम सोने से बना एक शील्ड होता है.. आप सोचिये 1983 मे मतलब आज से करीब 31 साल पहले 2 करोड रूपये की क्या वैल्यू होगी ?

फिर राजीव गाँधी ने इसे इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय शांति पुरस्कार से नवाजा.. फिर बाद मे यही यासिर अराफात कश्मीर के मामले पर खुलकर पाकिस्तान के साथ हो गया और इसने घूम घूमकर पूरे इस्लामीक देशो मे कहा की फिलिस्तीन और कश्मीर दोनों जगहों के मुसलमान गैर मुसलमानों के हाथो मारे जा रहे है इसलिए पूरे मुस्लिम जगत को इन दोनों मामलो पर एकजुट होना चाहिए……

हाय रे कांग्रेस की सत्ता के लिए वोट बैंक की गंदी और घटिया राजनीती ?????
_____________________________________________________________
कल इजराइल ने पाकिस्तान को ‘हथियार’ बेचने से इनकार कर ‘व्यापारिक घाटा’ सहना मंज़ूर किया क्यों?

United Nation हो या कोई और अन्तर्राष्ट्रीय संस्था इजराइल ने हमेशा भारत का साथ दिया क्यों? कश्मीर स्टैंड पर भारत का समर्थन करने वाले देशों में इजराइल अग्रिम पंक्ति में क्यों है ?

इजराइल अपनी तकनीकी को विश्व में बेंचने से पहले भारत को ही क्यों देता है ?

दूसरी तरफ फिलिस्तीन है जिसे भारत की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने पैसा/विमान ही नहीं वरन विश्व में सबसे पहले फिलिस्तीन को एक राष्ट्र का दर्जा दिया जबकि अरब देश इसके खिलाफ थे लेकिन फिलिस्तीन ने बदले में क्या दिया?

कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बताया, भारत के खिलाफ पाकिस्तान को युद्ध के लिए सहायता का आश्वासन दिया | अब ऐसे में कुछ राष्ट्रद्रोही मानवाधिकार के नाम पर इजराइली दूतावास के सामने प्रदर्शन करने सिर्फ यही साबित करना चाहते है की वो आतंकवाद, दगाबाजों एवं देशद्रोहियों का समर्थन करते है ना की भारत का !

अब देश को फैसला लेना होगा की ऐसे देशद्रोहियों का देश में स्थान होना भी चाहिए या नहीं ? इन प्रदर्शनकारियों से पूंछा जाना चाहिए की ये भारत की विदेश नीति में रोड़ा क्यों डालने की कोशिश कर रहे है ?

अगर इन्हें फिलिस्तीन की इतनी ही चिंता हो रही है तो इन्हें फिलिस्तीन का वीजा मुहैया कराके सीधा फिलिस्तीन ही क्यों नहीं भिजवा दिया जाये ताकि ये फिलिस्तीन के प्रति अपनी आस्था को लेकर इजराइल के खिलाफ लड़ाई लड़ सकें !

आखिर हम फिलिस्तीन का समर्थन क्यों करे ?? हर एक अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर फिलिस्तीन द्वारा कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बताया गया है....
मित्रो जब आतंकवादी यासिर अराफात ने फिलिस्तीन राष्ट्र की घोषणा की तो फिलिस्तीन को... सबसे पहले मान्यता देने वाला देश कौन था ?
सउदी अरब --- नहीं
पाकिस्तान ---- नहीं
अफगानिस्तान --- नहीं
भारत ------- जी हाँ

इंदिरा गाँधी ने मुस्लिम तुस्टीकरण के लिए सबसे पहले फिलिस्तीन को मान्यता दी और यासिर अराफात जैसे आतंकवादी को नेहरु शांति पुरस्कार [5 करोड़ रूपये ] दिया, और राजीव गाँधी ने उसको इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय शांति पुरस्कार दिया.. राजीव गाँधी ने तो उसको पुरे विश्व में घूमने के लिए बोईंग 747 गिफ्ट में दिया था..

अब आगे सुनिए ----
इसी खुराफात अराफात ने OIC [ Organisation of islamic countries ] में कश्मीर को पाकिस्तान का अभिन्न भाग बताया और बोला कि पाकिस्तान जब चाहे तब मेरे लड़ाके कश्मीर की आज़ादी के लिए लड़ेंगे.. इतना ही नही जिस व्यक्ति को दुनिया के १०३ देशों ने आतंकवादी घोषित किया हो और जिसने ८ विमानों का अपहरण किया हो और जिसने दो हज़ार निर्दोष लोगो को मारा हो.. ऐसे आतंकवादी यासिर अराफात को सबसे पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने किसी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा...

जी हाँ.. इंदिरा गाँधी ने इसे नेहरु शांति पुरस्कार दिया जिसमे एक 2 करोड़ रूपये नगद और 200 ग्राम सोने से बना एक शील्ड होता है.. आप सोचिये 1983 मे मतलब आज से करीब 31 साल पहले 2 करोड रूपये की क्या वैल्यू होगी ?

फिर राजीव गाँधी ने इसे इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय शांति पुरस्कार से नवाजा.. फिर बाद मे यही यासिर अराफात कश्मीर के मामले पर खुलकर पाकिस्तान के साथ हो गया और इसने घूम घूमकर पूरे इस्लामीक देशो मे कहा की फिलिस्तीन और कश्मीर दोनों जगहों के मुसलमान गैर मुसलमानों के हाथो मारे जा रहे है इसलिए पूरे मुस्लिम जगत को इन दोनों मामलो पर एकजुट होना चाहिए......

हाय रे कांग्रेस की सत्ता के लिए वोट बैंक की गंदी और घटिया राजनीती ?????
_____________________________________________________________
कल इजराइल ने पाकिस्तान को 'हथियार' बेचने से इनकार कर 'व्यापारिक घाटा' सहना मंज़ूर किया क्यों? 

United Nation हो या कोई और अन्तर्राष्ट्रीय संस्था इजराइल ने हमेशा भारत का साथ दिया क्यों? कश्मीर स्टैंड पर भारत का समर्थन करने वाले देशों में इजराइल अग्रिम पंक्ति में क्यों है ? 

इजराइल अपनी तकनीकी को विश्व में बेंचने से पहले भारत को ही क्यों देता है ?

दूसरी तरफ फिलिस्तीन है जिसे भारत की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने पैसा/विमान ही नहीं वरन विश्व में सबसे पहले फिलिस्तीन को एक राष्ट्र का दर्जा दिया जबकि अरब देश इसके खिलाफ थे लेकिन फिलिस्तीन ने बदले में क्या दिया? 

कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बताया, भारत के खिलाफ पाकिस्तान को युद्ध के लिए सहायता का आश्वासन दिया | अब ऐसे में कुछ राष्ट्रद्रोही मानवाधिकार के नाम पर इजराइली दूतावास के सामने प्रदर्शन करने सिर्फ यही साबित करना चाहते है की वो आतंकवाद, दगाबाजों एवं देशद्रोहियों का समर्थन करते है ना की भारत का !

अब देश को फैसला लेना होगा की ऐसे देशद्रोहियों का देश में स्थान होना भी चाहिए या नहीं ? इन प्रदर्शनकारियों से पूंछा जाना चाहिए की ये भारत की विदेश नीति में रोड़ा क्यों डालने की कोशिश कर रहे है ? 

अगर इन्हें फिलिस्तीन की इतनी ही चिंता हो रही है तो इन्हें फिलिस्तीन का वीजा मुहैया कराके सीधा फिलिस्तीन ही क्यों नहीं भिजवा दिया जाये ताकि ये फिलिस्तीन के प्रति अपनी आस्था को लेकर इजराइल के खिलाफ लड़ाई लड़ सकें !
Posted in आयुर्वेद - Ayurveda, हिन्दू पतन

boost is secret of my energy


सचिन तेंदुलकर एक विज्ञापन करता है !
boost is secret of my energy
अगर सचिन तेंदुलकर की शक्ति boost है !
तो आप एक काम कीजिये ! सचिन तेंदुलकर
की अम्मा को एक चिठी लिखिए !
क्या सचिन तेंदुलकर boost पीकर सचिन
बना है ????!
हर साल इस देश के लोग 1500 करोड़ रूपये के
विदेशी कंपनियो के health tonic खा जाते है !!
जिसमे हैल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है !!
______________________________
_______________
health tonic !
भारत की सबसे बड़ी लैब है ! delhi all india
institute मे वहाँ के head है doctor जैन !
उन्होने test करके बताया इन सब हैल्थ tonic
मे क्या है !!
________________________________
हमारे देश में हेल्थ टॉनिक के नाम पर कई
विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पाद बेचती हैं, जैसे
होर्लिक्स, मालटोवा, बोर्नविटा,
कॉम्प्लान,बूस्ट, प्रोटिनेक्स और खूबी की बात
है कि इनमे हेल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है |
कैसे ?
ये कंपनियाँ इन हेल्थ सप्लीमेंट में मिलाती क्या हैं
वो भी आप जान लीजिये | मालटोवा, बोर्नविटा,
कॉम्प्लान और बूस्ट बनता है
मूंगफली की खली से | खली समझते हैं आप ?
मूंगफली, सरसों, आदि का तेल निकालने के बाद
जो उसका कचरा (waste)निकलता है,
उसी को खली कहते है और आप गावों मे जाकर
देखो तेल निकालने के बाद बची हुई इस
खली को गाय, बैल,भैंस जैसे जानवरों को खिलाने
के लिए प्रयोग किया जाता है |
ये मालटोवा, बोर्नविटा, कॉम्प्लान और बूस्ट
इसी मूंगफली की खली से बनाया जाता है,
जो खली हमारे देश में
जानवरों को खिलाया जाता है वही इस देश में
अपने को पढ़े-लिखे-ग्वार educated idiots बढ़े
शौंक से खाते हैं !
बाजार में आप चले जाइये, ये
मूंगफली की खली 20 -25 रूपये प्रति किलो के
हिसाब से मिल जाएगी आपको | आप सौ डब्बे
भी इन हेल्थ टोनिकों के खा लीजिये या अपने
बच्चों को खिला दीजिये, कुछ नहीं होने
वाला उससे | और इसके बदले आप सीधे
मूंगफली/सिंघदाना दीजिये गुड के साथ
तो जितना प्रोटीन इससे मिलता है,
जितनी कार्बोहाईड्रेट इससे मिलती है, या और
भी जितनी स्वास्थ्यवर्धक तत्व इससे मिलती है,
उतना 100 पैकेट आप boost horlics खाने से
भी नहीं मिल सकती |
ये अपने डब्बे पर लिखते है कि इससे विटामिन
मिलता है, प्रोटीन मिलता है, कैल्सियम
मिलता है, वगैरह वगैरह, लिखने में
क्या जाता है ? किसी ने कभी टेस्ट कर के कोई
समान ख़रीदा है क्या ? अरे मिटटी में भी 18
तरह के Micro Nutrients होते हैं तो क्या हम
मिटटी खायेंगे ? ??
ऐसा ही एक और हेल्थ टॉनिक है - हॉर्लिक्स -
हॉर्लिक्स में क्या है ? हॉर्लिक्स में है गेंहूँ
का आटा, चने का सत्तू, जौ का सत्तू | बिहार में
हम लोग उसको कहते हैं सत्तू और अंग्रेजी में
कहते हैं - हॉर्लिक्स | आप किसी से पूछिये
कि सत्तू खाओगे ? तो कहेगा कि - क्या फालतू
की बात कर रहे हो और पूछेंगे कि हॉर्लिक्स
खाओगे तो कहेगा -हाँ हाँ खायेंगे |
क्यूँ खाएँगे ??? http://www.youtube.com/
watch?v=9qKhqlS1_LY
क्योंकि अंग्रेजी का नाम है, और बड़ा भारी नाम
है horlics | सुनने मे लगता है जैसे कुछ
imported जैसी चीज है इसमे !! उस पर साफ़-
साफ़ लिखा है "It's malted " और malted
का मतलब ही होता है| जौ का सत्तू, चने
का सत्तू !इसे बाजार से खरीद लीजिये 50 -60
रूपये किलो मिल जायेगा और और हॉर्लिक्स बिक
रहा है 400 रूपये किलो के हिसाब से!
अपना दिमाग तो हमने कभी प्रयोग नहीं करना !
बस जो tv मे दिखाया जाये उठा के उसे घर ले
आओ बेशक वो कचरा ही क्यूँ न बेचते हो !
टेनिस का एक खिलाड़ी है boris becker ! जब
सर्विस करता है और गेंद को मारता है
तो उसकी गेंद की रफ्तार होती है 160
किलो मीटर प्रति घंटा ! मतलब ट्रेन भी जिस
रफ्तार से नहीं जाती ! उस रफ्तार से
उसकी मारी हुई गेंद जाती है ! और आप देख
लीजिये जब भी खेल 5-10 मिनट के किए
रुकता है बैग मे से केला निकाल निकाल कर
खाता रहता है !
तो boris becker को शक्ति मिलती है
केला खाने से ! सचिन तेंदुलकर कहता है हमे
शाकित मिलती है boost पीने से !
भारतीय बाजार में जितने हेल्थ टोनिक मिल रहे हैं
उनसे एक पैसे का हेल्थ नहीं मिलता और भारत
के लोग हर साल 1500 करोड़ का हेल्थ टोनिक
खरीद कर पैसा विदेश भेज रहे हैं | सिर्फ
mental satisfaction है कि हम बहुत
बढ़िया चीज खा रहे है और अपने
बच्चो को खिला रहे हैं और कुछ नहीं ?
हमारे देश के लोग अजीब किस्म के निराशावाद में
जी रहे है | ये इग्नोरेंस अनपढ़ लोगों में
होता तो मुझे समझ में भी आता लेकिन भारत के
पढ़े लिखे लोगों में ये सबसे ज्यादा है | इनमे
मिलाये हुए तत्वों की सूचि नीचे दी गयी है
जो कि इनके UK की वेबसाइट से ली गयी है,
भारत के वेबसाइट पर ये उपलब्ध नहीं है|
क्यूंकि इन्हे भारत के लोगो को बेफ़्कूफ
बनना है !!
Ingredients of Horlicks : Wheat Flour
(55%), Malted Barley (15%), Dried
Whey, Sugar, Calcium Carbonate,
Vegetable Fat, Dried Skimmed Milk,
Salt, Vitamins (C, Niacin, E,
Pantothenic Acid, B6, B2, B1, Folic
Acid, A , Biotin, D, B12), Ferric
Pyrophosphate, Zinc Oxide.May
contain traces of soyabeans..
ये उसका link है !
http://www.horlicks.co.uk/downloads/
Horlicks-Traditional-2011.pdf
____________________________________
आपने पूरी post पढ़ी बहुत बहुत धन्यवाद !!
सिर्फ एक बार यहाँ जरूर जरूर click करे
http://www.youtube.com/watch?
v=9qKhqlS1_LY
वन्देमातरम ! अमर शहीद राजीव दीक्षित
जी की जय !

सचिन तेंदुलकर एक विज्ञापन करता है !
boost is secret of my energy
अगर सचिन तेंदुलकर की शक्ति boost है !
तो आप एक काम कीजिये ! सचिन तेंदुलकर
की अम्मा को एक चिठी लिखिए !
क्या सचिन तेंदुलकर boost पीकर सचिन
बना है ????!
हर साल इस देश के लोग 1500 करोड़ रूपये के
विदेशी कंपनियो के health tonic खा जाते है !!
जिसमे हैल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है !!
______________________________
_______________
health tonic !
भारत की सबसे बड़ी लैब है ! delhi all india
institute मे वहाँ के head है doctor जैन !
उन्होने test करके बताया इन सब हैल्थ tonic
मे क्या है !!
________________________________
हमारे देश में हेल्थ टॉनिक के नाम पर कई
विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पाद बेचती हैं, जैसे
होर्लिक्स, मालटोवा, बोर्नविटा,
कॉम्प्लान,बूस्ट, प्रोटिनेक्स और खूबी की बात
है कि इनमे हेल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है |
कैसे ?
ये कंपनियाँ इन हेल्थ सप्लीमेंट में मिलाती क्या हैं
वो भी आप जान लीजिये | मालटोवा, बोर्नविटा,
कॉम्प्लान और बूस्ट बनता है
मूंगफली की खली से | खली समझते हैं आप ?
मूंगफली, सरसों, आदि का तेल निकालने के बाद
जो उसका कचरा (waste)निकलता है,
उसी को खली कहते है और आप गावों मे जाकर
देखो तेल निकालने के बाद बची हुई इस
खली को गाय, बैल,भैंस जैसे जानवरों को खिलाने
के लिए प्रयोग किया जाता है |
ये मालटोवा, बोर्नविटा, कॉम्प्लान और बूस्ट
इसी मूंगफली की खली से बनाया जाता है,
जो खली हमारे देश में
जानवरों को खिलाया जाता है वही इस देश में
अपने को पढ़े-लिखे-ग्वार educated idiots बढ़े
शौंक से खाते हैं !
बाजार में आप चले जाइये, ये
मूंगफली की खली 20 -25 रूपये प्रति किलो के
हिसाब से मिल जाएगी आपको | आप सौ डब्बे
भी इन हेल्थ टोनिकों के खा लीजिये या अपने
बच्चों को खिला दीजिये, कुछ नहीं होने
वाला उससे | और इसके बदले आप सीधे
मूंगफली/सिंघदाना दीजिये गुड के साथ
तो जितना प्रोटीन इससे मिलता है,
जितनी कार्बोहाईड्रेट इससे मिलती है, या और
भी जितनी स्वास्थ्यवर्धक तत्व इससे मिलती है,
उतना 100 पैकेट आप boost horlics खाने से
भी नहीं मिल सकती |
ये अपने डब्बे पर लिखते है कि इससे विटामिन
मिलता है, प्रोटीन मिलता है, कैल्सियम
मिलता है, वगैरह वगैरह, लिखने में
क्या जाता है ? किसी ने कभी टेस्ट कर के कोई
समान ख़रीदा है क्या ? अरे मिटटी में भी 18
तरह के Micro Nutrients होते हैं तो क्या हम
मिटटी खायेंगे ? ??
ऐसा ही एक और हेल्थ टॉनिक है – हॉर्लिक्स –
हॉर्लिक्स में क्या है ? हॉर्लिक्स में है गेंहूँ
का आटा, चने का सत्तू, जौ का सत्तू | बिहार में
हम लोग उसको कहते हैं सत्तू और अंग्रेजी में
कहते हैं – हॉर्लिक्स | आप किसी से पूछिये
कि सत्तू खाओगे ? तो कहेगा कि – क्या फालतू
की बात कर रहे हो और पूछेंगे कि हॉर्लिक्स
खाओगे तो कहेगा -हाँ हाँ खायेंगे |
क्यूँ खाएँगे ??? http://www.youtube.com/
watch?v=9qKhqlS1_LY
क्योंकि अंग्रेजी का नाम है, और बड़ा भारी नाम
है horlics | सुनने मे लगता है जैसे कुछ
imported जैसी चीज है इसमे !! उस पर साफ़-
साफ़ लिखा है “It’s malted ” और malted
का मतलब ही होता है| जौ का सत्तू, चने
का सत्तू !इसे बाजार से खरीद लीजिये 50 -60
रूपये किलो मिल जायेगा और और हॉर्लिक्स बिक
रहा है 400 रूपये किलो के हिसाब से!
अपना दिमाग तो हमने कभी प्रयोग नहीं करना !
बस जो tv मे दिखाया जाये उठा के उसे घर ले
आओ बेशक वो कचरा ही क्यूँ न बेचते हो !
टेनिस का एक खिलाड़ी है boris becker ! जब
सर्विस करता है और गेंद को मारता है
तो उसकी गेंद की रफ्तार होती है 160
किलो मीटर प्रति घंटा ! मतलब ट्रेन भी जिस
रफ्तार से नहीं जाती ! उस रफ्तार से
उसकी मारी हुई गेंद जाती है ! और आप देख
लीजिये जब भी खेल 5-10 मिनट के किए
रुकता है बैग मे से केला निकाल निकाल कर
खाता रहता है !
तो boris becker को शक्ति मिलती है
केला खाने से ! सचिन तेंदुलकर कहता है हमे
शाकित मिलती है boost पीने से !
भारतीय बाजार में जितने हेल्थ टोनिक मिल रहे हैं
उनसे एक पैसे का हेल्थ नहीं मिलता और भारत
के लोग हर साल 1500 करोड़ का हेल्थ टोनिक
खरीद कर पैसा विदेश भेज रहे हैं | सिर्फ
mental satisfaction है कि हम बहुत
बढ़िया चीज खा रहे है और अपने
बच्चो को खिला रहे हैं और कुछ नहीं ?
हमारे देश के लोग अजीब किस्म के निराशावाद में
जी रहे है | ये इग्नोरेंस अनपढ़ लोगों में
होता तो मुझे समझ में भी आता लेकिन भारत के
पढ़े लिखे लोगों में ये सबसे ज्यादा है | इनमे
मिलाये हुए तत्वों की सूचि नीचे दी गयी है
जो कि इनके UK की वेबसाइट से ली गयी है,
भारत के वेबसाइट पर ये उपलब्ध नहीं है|
क्यूंकि इन्हे भारत के लोगो को बेफ़्कूफ
बनना है !!
Ingredients of Horlicks : Wheat Flour
(55%), Malted Barley (15%), Dried
Whey, Sugar, Calcium Carbonate,
Vegetable Fat, Dried Skimmed Milk,
Salt, Vitamins (C, Niacin, E,
Pantothenic Acid, B6, B2, B1, Folic
Acid, A , Biotin, D, B12), Ferric
Pyrophosphate, Zinc Oxide.May
contain traces of soyabeans..
ये उसका link है !
http://www.horlicks.co.uk/downloads/
Horlicks-Traditional-2011.pdf
____________________________________
आपने पूरी post पढ़ी बहुत बहुत धन्यवाद !!
सिर्फ एक बार यहाँ जरूर जरूर click करे
http://www.youtube.com/watch?
v=9qKhqlS1_LY
वन्देमातरम ! अमर शहीद राजीव दीक्षित
जी की जय !

Posted in Uncategorized

Video: During Muslim occupation of India, Sikh heads were cut off and sold for money for not converting to Islam