Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

Guru Purnima 2014: Thank The Gurus


Guru Purnima 2014: Thank The Gurus

Guru Purnima in 2014 is on July 12. It is the birthday celebration of Ved Vyas.

 

Guru Purnima 2014 Date

12th

July 2014

(Saturday)

 

Guru Purnima in 2014 is on July 12. Also known as Vyasa Purnima, Guru Purnima in 2014 is the day to remember those teachings and ideologies. Thank and greet those special Gurus, teachers, or mentors, who believed in you and made you what you are. Read on to know more about Guru Purnima.

Guru Purnima in 2014 is on July 12. It is the birthday celebration of Ved Vyas. Guru Purnima in 2014 is the day dedicated to all the persons, teachers or things from which we all have learnt something. It is the time to express your love and warmth to all those who have believed in you and who helped you in excelling in what ever way you wished to.

As per Hindu mythology, the day of Guru Purnima is dedicated to Ved Vyas (the greatest guru of all times). That is why it is also named as Vyasa Purnima. So, this Guru Purnima or Vyasa Purnima in 2014 dont forget to thank all the people or things who have acted as a Guru. Even if a book had been the greatest mentor for you of all times, this is the day to show your gratitude toward it.

Before we go ahead and express our warmth, greetings, love and thanks on this Guru Purnima in 2014. Let’s all know what does Guru Purnima mean.

 

 

 

Meaning Of Guru Purnima

Guru Purnima or Vyasa Purnima is celebrated every year. In 2014, we will again witness the celebration. Since the beginning of the universe, a Guru is considered to be one of the most important part of one’s life. The day of Guru Purnima or Vyasa Purnima is dedicated to all the academic teachers and the spiritual teachers in one’s life.

The word Guru is divided into two parts: “Gu” & “Ru”. Both originating from the Sanskrit language. The Word “Gu” signifies darkness and “Ru” signifies the one who removes the darkness. Thus, the complete word Guru means one who is the remover of the darkness. The second word Purnima means the Full Moon day. As per the Hindu Calendar,Guru Purnima falls in the month of Ashadh (i.e June or July). This Guru Purnima or Vyasa Purnima will be celebrated in the month of July. Guru is the one who holds a very significant role throughout one’s life. We all, throughout our lifetime, learn about new things and get a new understanding of the things and this is all because of a Guru.

Since ages, Guru has been worshiped next to God. This Guru Purnima in 2014 is the time to remember all those Gurus who helped you attain what you desired for.

Ved Vyasa: The Biggest Guru Of All Times

Guru Ved Vyas has been considered as the biggest and the most knowledgeable Guru of all times. Guru Purnima or Vyasa Purnima is dedicated to Guru Ved Vyas and is celebrated as his birthday. Ved Vyasa is one of the most regarded Gurus. Ved Vyas has taught us the real values and has helped us in differentiating the wrong from right.

Ved Vyas is one of the greatest Guru of all times who wrote Mahabharata.The greatest epic of all times, Mahabharat, written by Ved Vyas, is a live example. The teachings we get from Mahabharata are still prevalent in today’s time and these teachings still guide us from all the wrongs that are prevailing in the society.

Ved Vyasa was one of those Gurus who classified the Vedas into four different texts. These Vedas in today’s time are known as Rig Veda, Yajur Veda, Kaam Veda, and Atharva Veda. Ved Vyasa also wrote the “Srimad Bhagwat Geeta”. The teachings in these texts are the biggest and bestest offering to the mankind.

Guru Purnima Rituals

The Guru is considered next to God, Guru Purnima in 2014 is the day to pay homage to our mentors.Since the medieval times, on the day of Guru Purnima or Vyasa Purnima, the students (Shishya) used to offer special Pujas and greetings to their Gurus.

All Gurus have been treated as gods. Their wish, command and advice was considered ultimate. The below mentioned Shloka signifies it all:

Sri Guru Mantra

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः।
गुरुर्साक्षात्‍ परब्रह्म तस्मै श्री गुरवेनमः॥

Meaning

Guru is Brahma, Guru is Vishnu, Guru is Lord Maheshwara | Guru is the personification of the supreme power, I bow to the holy Guru in homage ||

The Mantra clearly signifies that a Guru is trinity (Brahma-Vishnu-Mahesh), and it is believed that through a Guru one can achieve the ultimate result and reach to the supreme power.

It has been stated in Hindu mythology that a Guru is the ultimate path setter. The biggest examples of the devotion towards one’s Guru is of Eklavya. Who on the command of his Guru (Dronacharya) cut his thumb as respect and order (Guru Dakshina) to him. There have been a lot of examples which have defined the relation of a Guru and his Shishya.

Guru Purnima or Vyasa Purnima is not only an important day for Hindus, but also for Buddhists and Jains throughout the globe. This Guru Purnima or Vyasa Purnima in 2014 will again see the celebrations around.

Guru Purnima In Buddhism

As per the Buddhist community, Guru Purnima or Vyasa Purnima marks the homage or tribute to their Lord Gautam Buddha. The day of Guru Purnima is believed to be the day when Buddhism came into existence.

It is believed that on this day, Gautam Buddha delivered his first sermon at Sarnath. Hence, it is believed that on this day the spiritual teachings of Buddha were administered. Since then, Guru Purnima is a very important day in the Buddhist community.

This Guru Purnima or Vyasa Purnima in 2014 will again be dedicated to the Lord Buddha by his devotees.

Guru Purnima In Jainism

As per Jainism, Guru Purnima is an extremely important day. As on this day, Mahavira made Gautam (Indrabhuti) his first disciple and he turned himself as a Guru. Since then, this day is observed to be a very important day in the lives of Jain community.

Celebration Of Guru Purnima

Every year, Guru Purnima or Vyasa Purnima is celebrated in different religious sects. But the common aspect remains throughout, and that is tribute or thanks giving to one’s Gurus, be it Ved Vyas, Gautam Buddha or Lord Mahavira.

In Buddhism, the day is celebrated by performing meditation. Whereas in Hinduism, some songs and Bhajans are sung at temples.

On the day of Guru Purnima or Vyasa Purnima, everyone wishes their Gurus or loved ones in the form of greetings, special wishes and Guru Purnima SMS.

The role of a Guru has always been extremely significant. The only difference which has come is in the relation between a student and his teacher. There was a time when the command of a Guru was considered to be the final order and the disciple tried everything in order to fulfill his Guru’s command. But in the present time, this relation has changed.

It has been rightly said God cannot come and teach you everything. Hence, he created a teacher, a Guru. The child takes his first step at home and he learns his basics from his parents, but these steps are put in the best efforts by his Guru. His basics learnt are polished and well defined by a teacher or a Guru.

Guru Purnima or Vyasa Purnima is the day to remember those teachings, values and ideologies specified our Gurus.

So, this Guru Purnima or Vyasa Purnima in 2014, remember the Gurus in your life, remember the teachings offered, greet and thank them for making you what you wanted to be in your life.

AstroSage wishes all the readers who have some way or other acted as Gurus. Wish you all A Very Happy Guru Purnima or Vyasa Purnima in 2014!

Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

Guru (Vyasa) Poornima


Guru Purnima : गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः॥

Vyasji :Guru PurnimaGuru (Vyasa) Poornima : Sat, 12 July 2014

 

THE FULL moon day in the month of Ashad (July-August) is an extremely auspicious and holy day of Guru Purnima. On this day, sacred to the memory of the great sage, Bhagavan Sri Vyasa, Sannyasins settle at some place to study and discourse on the thrice-blessed Brahma Sutras composed by Maharishi Vyasa, and engage themselves in Vedantic, philosophical investigation.Sri Vyasa has done unforgettable service to humanity for all times by editing the four Vedas,writing the eighteen Puranas, the Mahabharata and the Srimad Bhagavata. We can only repay the deep debt of gratitude we owe him, by constant study of his works and practice of his teachings imparted for the regeneration of humanity in this iron age. In honour of this divine personage, all spiritual aspirants and devotees perform Vyasa Puja on this day, and disciples worship their spiritual preceptor. Saints, monks and men of God are honoured and entertained with acts of charity by all the householders with deep faith and sincerity.

 

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्‍वरः ।

गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः ॥

 

The period Chaturmas (the “four months”) begins from this day; Sannyasins stay at one place during the ensuing four rainy months,engaging in the study of the Brahma Sutras and the practice of meditation.

Live on milk and fruit on this day and practise rigorous Japa and meditation. Study the Brahma Sutras and do Japa of your Guru Mantra, during the four months following the Guru Purnima. You will be highly benefited.

The Srutis say: “To that high-souled aspirant, whose devotion to the Lord is great and whose devotion to his Guru is as great as that to the Lord,the secrets explained herein become illuminated”.

Guru is Brahman, the Absolute, or God Himself. He guides and inspires you from the innermost core of your being. He is everywhere. Have a new angle of vision. Behold the entire universe as the form of the Guru. See the guiding hand, the awakening voice, the illuminating touch of the Guru in every object in this creation. The whole world will now stand transformed before your changed vision. The world as Guru will reveal all the precious secrets of life to you, and bestow wisdom upon you. The supreme Guru, as manifested in visible nature, will teach you the most valuable lessons of life. Worship daily this Guru of Gurus, the Guru who taught even the Avadhuta Dattatreya.

Dattatreya, regarded as God and the Guru of Gurus, considered Nature Herself as His Guru, and learnt a number of lessons from Her twenty-four creatures, and hence he is said to have had twenty-four Gurus.

Remember and adore Sri Vyasa and the Gurus who are fully established in knowledge of the Self. May their blessings be upon you! May you cut asunder the knot of ignorance and shine as blessed sages shedding peace, joy and light everywhere !

A Great Bhajan Stuti

गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविन्द; गुरु मेरा पार ब्रह्म, गुरु भगवन्त्‌ ।

After bath, worship the lotus feet of your Guru, or his image or picture with flowers, fruits, incense and camphor.

Fast or take only milk and fruits the whole day. In the afternoon, sit with other devotees of your Guru and discuss with them the glories and teachings of your Guru.

Alternatively, you may observe the vow of silence and study the books or writings of your Guru, or mentally reflect upon his teachings. Take fresh resolves on this holy day, to tread the spiritual path in accordance with the precepts of your Guru. At night, assemble again with other devotees, and sing the Names of the Lord and the glories of your Guru.

The best form of worship of the Guru is to follow his teachings, to shine as the very embodiment of his teachings, and to propagate his gloryand his message.

Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

आँखों की चिकित्सा


आँखों की चिकित्सा- भाग 1 ‪#‎Ayurved‬ ‪#‎आयुर्वेद‬
जिन की आंखे कमजोर हैं, जिन्हे नजदीक या दूर का चश्मा लगा हुआ है वह यह प्रयोग करे।
ये सभी प्रयोग अनेक बार आजमाए हुए व सुरक्षित हैं। किसी को भी कोई हानी नहीं होगी। लाभ किसी को कम व किसी को अधिक हो सकता है परंतु लाभ सभी को होगा। हो सकता है किसी का चश्मा न उतरे परंतु चश्मे का नंबर जरूर कम होगा। प्रयोग करने से सिर मे दर्द नहीं होगा। बाल दोबारा काले हो जाएगे। बाल झड़ने रूक जाएगे।
खाने की दवाई- गोरखमुंडी एक एसी औषधि है जो आंखो को जरूर शक्ति देती है। अनेक बार अनुभव किया है। आयुर्वेद मे गोरखमुंडी को रसायन कहा गया है। आयुर्वेद के अनुसार रसायन का अर्थ है वह औषधि जो शरीर को जवान बनाए रखे।
प्रयोग विधि- –
1- गोरखमुंडी का पौधा यदि यह कहीं मिल जाए तो इसे जड़ सहित उखाड़ ले। इसकी जड़ का चूर्ण बना कर आधा आधा चम्मच सुबह शाम दूध के साथ प्रयोग करे । इसका चित्र गुगुल पर देखे
2- बाकी के पौधे का पानी मिलाकर रस निकाल ले। इस रस से 25% अर्थात एक चौथाई घी लेकर पका ले। इतना पकाए कि केवल घी रह जाए। यह भी आंखो के लिए बहुत गुणकारी है।
3- बाजार मे साबुत पौधा या जड़ नहीं मिलती। केवल इसका फल मिलता है। वह प्रयोग करे। – प्रयोग विधि- 100 ग्राम गोरखमुंडी लाकर पीस ले। बहुत आसानी से पीस जाती है। इसमे 50 ग्राम गुड मिला ले। कुछ बूंद पानी मिलाकर मटर के आकार की गोली बना ले।
4- यह काम लौहे कि कड़ाही मे करना चाहिए । न मिले तो पीतल की ले। यदि वह भी न मिले तो एल्योमीनियम कि ले। जो अधिक गुणकारी बनाना चाहे तो ऐसे करे। 300 ग्राम गोरखमुंडी ले आए।लाकर पीस ले । 100 ग्राम छन कर रख ले। बाकी बची 200 ग्राम गोरखमुंडी को 500 ग्राम पानी मे उबाले। जब पानी लगभग 300 ग्राम बचे तब छान ले। साथ मे ठंडी होने पर दबा कर निचोड़ ले। इस पानी को मोटे तले कि कड़ाही मे डाले। उसमे 100 ग्राम गुड कूट कर मिलाकर धीमा धीमा पकाए। जब शहद के समान गाढ़ा हो जाए तब आग बंद कर दे। जब ठंडा जो जाए तो देखे कि काफी गाढ़ा हो गया है। यदि कम गाढ़ा हो तो थोड़ा सा और पका ले। फिर ठंडा होने पर इसमे 100 ग्राम बारीक पीसी हुई गोरखमुंडी डाल कर मिला ले। अब 50 ग्राम चीनी/मिश्री मे 10 ग्राम छोटी इलायची
मिलाकर पीस ले। छान ले। हाथ को जरा सा देशी घी लगा कर मटर के आकार कि गोली बना ले। गोली बना कर चीनी इलायची वाले पाउडर मे डाल दे ताकि गोली सुगंधित हो जाए। 3 दिन छाया मे सुखाकर प्रयोग करे। इलायची केवल खुशबू के लिए है। प्रयोग विधि – 1-1 गोली 2 समय गरम दूध से हल्के गरम पानी से दिन मे 2 बार ले। सर्दी आने पर 2-2 गोली ले सकते हैं। इसका चमत्कार आप प्रयोग करके ही अनुभव कर सकते हैं। आंखे तो ठीक होंगी है रात दिन परिश्रम करके भी थकावट महसूस नहीं होगी। कील, मुहाँसे, फुंसी, गुर्दे के रोग सिर के रोग सभी मे लाभ करेगी। जिनहे पेशाब कम आता है या शरीर के किसी हिस्से से खून गिरता है तो ठंडे पानी से दे। इतनी सुरक्षित है कि गर्भवती को भी दे सकते हैं। ध्यान रहे 2-4 दिन मे कोई लाभ नहीं होगा। लंबे समय तक ले । गोली को अच्छी तरह सूखा ले। अन्यथा अंदर से फफूंद लग जाएगी।
ध्यान रहे- ये पाचन शक्ति बढ़ाती है इसलिए भोजन समय पर खाए। चाय पी कर भूख खत्म न करे। चाय पीने से यह दवाई लाभ के स्थान पर हानि करेगी।

प्रायः निम्नलिखित कारणों से नेत्ररोग उत्पन्न होते हैं –

(१) मल, मूत्र अपानवायु के वेगों को रोकना ।

(२) प्रातः और सायं दोनों समय शौच न जाना ।

(३) सूर्योदय के पश्चात् शौच जाना ।

(४) मूत्र में प्रतिविम्ब देखना ।

(५) गर्मी वा धूप से संतप्त (गर्म) होकर तुरन्त ही शीतल जल में घुसना ।

(६) उष्ण वा गन्दे जल में स्नान करना वा उष्ण (गर्म) जल सिर पर डालना ।

(७) अग्नि का अधिक सेवन तथा उसके पास बैठना वा अग्नि पर पैर तलवे आदि सेकना ।

(८) नेत्रों में धूल वा धुंआं जाना ।

(९) नींद आने पर वा समय पर न सोना वा दिन में सोना ।

(१०) सूर्य के उदय और अस्त होते समय सोना ।

(११) धूल, धुएं के स्थान वा अधिक उष्ण प्रदेशों में रहना वा सोना ।

(१२) वमन (उल्टी) का वेग रोकना वा अधिक वमन करना ।

(१३) शोक, चिन्ता और क्रोधजन्य कष्ट और सन्ताप ।

(१४) अधिक वा बहुत दिनों तक रोना ।

(१५) माथा, सिर अथवा चक्षुओं पर चोट आदि लगना ।

(१६) अधिक उपवास करना, भूखा रहना वा भूख को रोकना ।

(१७) अत्यन्त शीघ्रगामी (चलने वाले) यानों पर सवारी करना वा बैठना ।

(१८) अधिक खट्टे रसों (इमली आदि), चपरे (लाल मिर्च आदि), शुष्क पदार्थ (आलू आदि), अचार, तेल के पदार्थ, गर्म मसाले, गुड़, शक्कर, लहसुन, प्याज, बैंगन आदि उष्ण पदार्थों का सेवन ।

(१९) पतले पदार्थों को अधिक खाना अथवा गले, सड़े, दुर्गन्धयुक्त शाक, सब्जी और फल खाना ।

(२०) मांस, मछली, अण्डे आदि अभक्ष्य पदार्थों को खाना ।

(२१) मद्य (शराब), सिगरेट, हुक्का, बीड़ी, चाय, पान, भांग आदि मादक

(२३) छोटे-छोटे अक्षरों की वा अंग्रेजी भाषा की पुस्तकें रात्रि वा दिन में भी अधिक पढ़ना ।

(२४) सूर्य उदय व अस्त होते समय पढ़ना ।

(२५) सूर्यास्त के बाद बिना दीपक आदि के प्रकाश के पढ़ना अथवा सूई से सीना आदि बारीक कार्य करना ।

(२६) चन्द्रमा के प्रकाश में पढ़ना अथवा कपड़े आदि सीने का बारीक काम करना ।

(२७) रात्रि में लिखाई का काम करना ।

(२८) फैशन के कारण (सुन्दर बनने के लिए) आंखों पर नयनक वा चश्मे धारण करना ।

(२९) दुखती हुई आंखों से पढ़ना और सूर्य की ओर देखना ।

(३०) सुलाने के लिए बच्चों को अफीम खिलाना ।

(३१) बिजली, बैट्री, अग्नि, पानी, शीशे की चमक को देखना ।

(३२) सूर्य के प्रतिबिम्ब को शीशे में देखना ।

(३३) अधिक भोजन करना ।

(३४) जुराब पहनकर या बन्द मकान में सोना ।

(३५) दुखती हुई आंखों में चने चबाना अथवा अग्नि के सम्मुख बैठना वा देखना, धूल व धूएं में तथा धूप में (हल आदि का) कठिन काम करना ।

(३६) सूर्यग्रहण के समय सूर्य की ओर देखना ।

(३७) इन्द्रधनुष की ओर देखना ।

(३८) ऋतुओं और अपनी प्रकृति के प्रतिकूल आहार वयवहार (भोजन-छादन) करना ।

गृहस्थ ध्यान से पढ़ें

(३९) दुखती हुई आंखों में विषय भोग (वीर्यनाश) करने से आंखें सदा के लिए बिगड़ जाती हैं । यहां तक कि अन्धा हो जाने तक का भय है ।

(४०) रजस्वला स्त्री के शीशे में मुख देखने तथा आंखों में सुर्मा, स्याही, अञ्जन आदि डालने से अन्धा बालक उत्पन्न होता है ।

(४१) गर्भवती स्त्री के उष्ण, चरपरे, शुष्क, मादक (नशीले) पदार्थों के सेवन तथा विषयभोग से उत्पन्न होने वाले बालक की आंखें बहुत दुखती हैं तथा उसे अन्य रोग भी हो जाते हैं ।

४. नेत्र-रक्षा के साधन

यदि आंखों से प्यार है तो पूर्वलिखित निषिद्ध आहार व्यवहार से सदैव बचे रहो तथा निम्नलिखित नेत्र-रक्षा के उपायों (साधनों) का श्रद्धा से सेवन करो । प्रत्येक उपाय हितकर है किन्तु यदि सभी उपायों का एक साथ प्रयोग करें तो सोने पर सुहागा है ।
चक्षु स्नान

प्रातःकाल चार बजे उठकर ईश्वर का चिन्तन करो । फिर शुद्ध जल, जो ताजा और वस्त्र से छना हुआहो, लेकर इससे मुख को इतना भर लो कि उसमें और जल न आ सके अर्थात् पूरा भर लो । इस जल को मुख में ही रखना

है, साथ ही दूसरे शुद्ध जल से दोनों आंखों में बार-बार छींटे दो जिससे रात्रि में शयन समय जो मैल अथवा उष्णता आंखों में आ जाती है वह सर्वथा दूर हो जाय । इस प्रकार इस क्रिया से अन्दर और बाहर दोनों ओर से चक्षु इन्द्रिय को ठंडक पहुंचती है । निरर्थक मल और उष्णता दूर होकर दृष्टि बढ़ती है । इस क्रिया को प्रतिदिन करना चाहिये ।

उषः पान

इसके पश्चात् कुल्ली करके मुख नाक आदि को साफ कर लो और नाक के एक वा दोनों छिद्रों द्वारा ही आठ दस घूंट जल पी लो और लघुशंका करके शौच चले जाओ । नाक के द्वारा जल पीने से जहां अजीर्ण (कोष्ठबद्धता) दूर होकर शौच साफ होता है वहां यह क्रिया अर्श (बवासीर), प्रमेह, प्रतिश्याय (जुकाम) आदि रोगों से बचाती और आंखों की ज्योति को बढ़ाती है ।
अन्य उपाय सं० १

(१) शौच प्रतिदिन दूर जंगल में प्रातःकाल ब्राह्ममुहूर्त में नंगे पैर (बिना जूते पहने) जाओ । भ्रमण वा शौच के समय जूता, जुराब, खड़ाऊं और चप्पल आदि कुछ भी न पहनो । शीत, ग्रीष्म, वर्षा सभी ऋतुओं में नंगे पैरों भ्रमण करने से सब प्रकार के नेत्ररोग नष्ट होकर नेत्रज्योति बढ़ती है । किन्तु भ्रमण से अभिप्राय गन्दी गलियों से नहीं है । भ्रमण का स्थान शुद्ध हो । नंगे पैर ओस पड़ी हुई घास पर घूमना तो अत्यन्त ही लाभदायक है । सायंकाल सूर्यास्त के पश्चात् भी नंगे पैर जंगल में भ्रमण करना आंखों के लिए लाभदायक है ।

(२) प्रातःकाल और सायंकाल हरी घास देखो । फसल, वृक्षों तथा पादपों को देखने से चक्षुदृष्टि बढ़ती है । हरे भरे उद्यानों में यदि कोई दुखती हुई आंखों में भी भ्रमण करे तो उनमें भी लाभ होता है । हरी वस्तुओं को देखने से चक्षुविकार नष्ट होकर नेत्रज्योति बढ़ती है यह बात साधारण लोग भी जानते हैं । प्राचीन महर्षियों की यह बात कितनी रहस्यपूर्ण है ! ब्रह्मचारी के लिए प्रत्येक ऋतु में नंगे सिर रहना यही सिद्ध करता है कि प्रकृति माता की गोद में ब्रह्मचारी के

सब अंग-प्रत्यंगों की, सब ज्ञानेन्द्रियों और कर्मेन्द्रियों की स्वाभाविक दृष्टि (उन्नति) होकर वह आजीवन रोगरहित और स्वस्थ रहे ।
दन्तधावन

शौच से निवृत होकर दातुन अवश्य करो । यही नहीं कि दातुन से दांत ही निर्मल, दृढ़ और स्वस्थ होते हैं अपितु प्रतिदिन दन्तधावन करनेवालों की आंखें सौ वर्ष तक रोगरहित रहती हैं । जब मुख में दातुन डालकर मुख साफ करते हैं तो उसी समय आंखों में से जल के रूप में मल निकलता है जिससे आंखों की ज्योति बढ़ती है ।

चक्षुधावन

दातुन के पश्चात् कुल्ला करके एक खुले मुंह का जलपात्र लें और उसको ऊपर तक शुद्ध जल में भर लें । उसमें अपनी दोनों आंखों को डुबोवें और बार-बार आंखों को जल के अन्दर खोलें और बन्द करें । इस प्रकार कुछ देर तक चक्षुस्नान करने से आंखों को बहुत ही लाभ होगा । इस चक्षुस्नान की क्रिया को किसी शुद्ध और निर्मल जल वाले सरोवर में भी किया जा सकता है । यह ध्यान रहे कि मिट्टी, धूल आदि मिले हुए जल में यह क्रिया कभी न करें, नहीं तो लाभ के स्थान पर हानि ही होगी ।

जलनेति सं० १

शुद्ध, शीतल और ताजा जल लेकर शनैः शनैः नासिका के दोनों द्वारों से पीयें और मुंह से निकाल दें । दो-चार बार इस क्रिया को करके नाक और मुंह को साफ कर लो ।

जलनेति सं० २

किसी तूतरीवाले (टूटीदार) पात्र में जल लें और टूटी को बायें नाक में लगायें । बायें नाक को थोड़ा सा ऊपर को कर लें और दायें को नीचे को झुकायें और मुख से श्वास लें । बायें नासिका द्वार में डाला हुआ जल दक्षिण नासिका
के छिद्र से स्वयं निकलेगा । इसी प्रकार दायें नाक में डालकर बायें से निकालो । यह ध्यान रहे कि बासी और शीतल जल से नेति कभी न करें । उष्ण जल का भी प्रयोग नेति में कभी न करें । आरम्भ में इस क्रिया को थोड़ी देर करो, फिर शनैः शनैः बढ़ाते चले जाओ । यह क्रिया आंखों की ज्योति के लिये इतनी लाभदायक है कि इसका निरन्तर श्रद्धापूर्वक दीर्घकाल तक अभ्यास करने से ऐनकों की आवश्यकता नहीं रहती । चश्मे उतारकर फेंक दिये जाते हैं । कोई सुरमा, अंजन आदि औषध इससे अधिक लाभदायक नहीं । जहां यह क्रिया चक्षुओं के लिए अमृत संजीवनी है, वहां यह प्रतिश्याय (जुकाम) को भी दूर भगा देती है । जो भी इसे जितनी श्रद्धापूर्वक करेगा उतना ही लाभ उठायेगा और ऋषियों के गुण गायेगा ।

जलनेति से किसी प्रकार की हानि नहीं होती । यह मस्तिष्क की उष्णता और शुष्कता को भी दूर करती है । सूत्रनेति (धागे से नेति करना) शुष्कता लाती है किन्तु जलनेति से शुष्कता दूर होती है । सूत्रनेति इतनी लाभदायक नहीं जितनी कि जलनेति । जलनेति से तो मस्तिष्क अत्यन्त शुद्ध, निर्मल और हल्का हो जाता है । इससे और भी अनेक लाभ हैं ।

जलनेति सं० ३

जलनेति का एक दूसरा प्रकार भी है –

मुख को जल से पूर्ण भर लो और खड़े होकर सिर को थोड़ा सा आगे झुकाओ और शनैः शनैः नासिका द्वारा श्वास को बाहर निकालो । वायु के साथ जल भी नाक के द्वारा निकलने लगेगा । जिह्वा के द्वारा भी थोड़ा सा जल को धक्का दें । इस प्रकार अभ्यास से जल दो-चार दिन में नाक से निकलने लगेगा । इस क्रिया से भी उपरोक्त जलनेति वाले सारे लाभ होंगे । किसी प्रकार का मल भी मस्तिष्क में न रहेगा । आंखों के सब प्रकार के रोग दूर होकर ज्योति दिन-प्रतिदिन बढ़ती चली जावेगी । इसके पश्चात् शुद्ध शीतल जल से

स्नान करें । पहले जल सिर पर डालें । जब सिर खूब भीग जाय तो फिर अन्य अंगों पर डालें । नदी में स्नान करना हो तो भी पहले सिर धो लें ।
अन्य उपाय सं० २

(१) स्नान के समय सिर से पहले पैरों को शीतल जल से कभी न धोवो । यदि स्नान करते समय पांवों को पहले भिगोवोगे तो नीचे की उष्णता मस्तिष्क में चढ़ जायेगी । यह ध्यान रक्खो कि सदैव शीतल जल से स्नान करो और सिर पर शीतल जल खूब डालो । यदि दुर्भाग्यवश रुग्णावस्था में उष्ण जल से नहाना पड़े तो पहले पैरों पर डालो । सिर को ठंडे जल से ही धोवो । नाभि के नीचे मसाने और मूत्रेन्द्रिय पर भी उष्ण जल कभी मत डालो

(२) सिर में किसी प्रकार का मैल न रहने पाये ।

(३) निरर्थक फैशन के पागलपन में सिर पर बड़े-बड़े बाल न रक्खो । इनमें धूल आदि मैल जम जाता है और स्नान भी भली-भांति नहीं हो सकता । बालों से मस्तिष्क, बुद्धि और आंखें खराब होती हैं । उष्ण प्रदेश और उष्णकाल में बाल अत्यन्त हानिकारक हैं । अतः इस बला से बचे रहो जिससे कि स्नान का लाभ शरीर और चक्षुओं को पूर्णतया पहुंच सके ।

(४) शुद्ध सरोवर वा नदी में नहाने वा तैरने से भी चक्षुओं को बड़ा ही लाभ होता है । स्नान का स्नान और व्यायाम का व्यायाम । पर्याप्‍त समय शुद्ध जल में प्रतिदिन तैरने से चक्षु और वीर्यसम्बन्धी सभी रोग दूर हो जाते हैं । तैरने के समय चक्षुस्नान के लिए भी बड़ी सुविधा है । किन्तु जल निर्मल हो । यदि नदी और सरोवर सुलभ न हो तो कूप पर पर्याप्त जल से शीतकाल में न्यून से न्यून एक बार और उष्ण ऋतु में दो बार अवश्य स्नान करो । जल के निकालने और बर्तने में आलस्य और लोभ न करो । जल की महिमा वेद भगवान् ने भी खूब गाई है –
अप्स्वन्तरमृतमप्सु भेजसम्
-अथर्ववेद १।४।४

जल में अमृत और औषध है इसीलिए तो जल का नाम जीवन भी है ।
यदि प्रभु-प्रदत्त इस जलरूपी अमृत और औषध का सदुपयोग करोगे तो अनेक प्रकार के लाभ उठाओगे और सब प्रकार से स्वस्थ और रोगमुक्त हो जावोगे ।

(५) सदैव खूब रगड़-रगड़कर घर्षण स्नान करना चाहिए । पैरों और पैरों के तलवों को खूब धोना और साफ करना चाहिए । पैरों के ऊपर नीचे तलवों पर तथा उंगलियों पर किसी प्रकार का मैल न लगा रहे ।

(६) पैरों को साफ रखने से आंखों की ज्योति बढ़ती और रोग दूर होते हैं । विशेषतया इसके साथ कभी-कभी सप्ताह में एक-दो बार पैरों के तलवों की शुद्ध सरसों के तेल से मालिश करना चक्षुओं के लिए बड़ा हितकर है ।

(७) जब कभी तेल की मालिश की जावे तो उस समय शिर और पैर के तलवों की मालिश अवश्य करें ।

(८) प्रतिदिन सोते समय सरसों का तेल थोड़ा गर्म करके एक दो बूंद कानों में डालने से आंखों को बहुत ही लाभ पहुंचता है तथा आंखें कभी नहीं दुखती, साथ ही कानों को लाभ होता है ।
व्यायाम और ब्रह्मचर्य

प्रतिदिन व्यायाम करने से भोजन ठीक पचता है और मलबद्ध (कब्ज) कभी नहीं होता । वीर्य शरीर का अंग बन जाता है जो नष्ट नहीं होता और वीर्य ही सारे शरीर और विशेषतया ज्ञानेन्द्रियों को शक्ति देता है । जब व्यायाम से वीर्य की गति ऊर्ध्व हो जाती है और वह मस्तिष्क में पहुंच जाता है तब चक्षु आदि इन्द्रियों को निरन्तर शक्ति प्रदान करता है और स्वस्थ रखता है । वैसे तो ब्रह्मचर्य सभी लोगों के लिए परमौषध है जैसा कि परम वैद्य महर्षि धन्वन्तरि जी ने कहा भी है –

मृत्युव्याधिजरनाशि पीयूषं प्रमौषधम् ॥

ब्रह्मचर्यं महद्यरत्‍नं सत्यमेव वदाम्यहम् ॥

किन्तु आंखों के लिये तो ब्रह्मचर्य पालन ऐसा ही है जैसा कि दीपक के लिए तेल । जैसे तेल के अभाव में दीपक बुझ जाता है वैसे ही वीर्यरूपी तेल के अभाव वा नाश से नेत्ररूपी दीपक बुझ जाते हैं । वीर्यनाश का प्रभाव सर्वप्रथम नेत्रों पर ही पड़ता है । वीर्यनाश करने वालों की आंखें अन्दर को धंस जाती हैं

और उसे उठते-बैठते अंधेरी आती है । आंखों के चारों ओर तथा मुख पर काले-काले धब्बे हो जाते हैं । आंखों का तेज वीर्य के साथ-साथ बाहर निकल जाता है । वीर्यरक्षा के बिना चक्षुरक्षा के अन्य सब साधन व्यर्थ ही हैं । अतः जिसे अपने आंखों से प्यार है वह कभी भूलकर भी किसी भी अवस्था में वीर्य का नाश नहीं करता और वीर्यरक्षा के लिये नियमपूर्वक अन्य साधनों के साथ-साथ प्रतिदिन व्यायाम भी करता है ।

वैसे तो वीर्यरक्षा तथा आंखों के लिये सब प्रकार के व्यायाम से लाभ पहुंचता है परन्तु शीर्षासन, वृक्षासन, मयूरचाल, सर्वांगासन तो वीर्यरक्षा में परम सहायक तथा आंखों के लिये सब प्रकार के व्यायामों में मुख्य हैं तथा आंखों के लिये गुणकारी हैं

निष्कर्ष यह है कि विद्यार्थी आदि मस्तिष्क से काम करने वाले लोगों को शीर्षासनादि व्यायाम से
जहां अनेक लाभ होते हैं वहां उनकी आंखों के रोग और विकार दूर होते हैं । अतः चक्षुप्रेमियों को प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए ।
अन्य उपाय सं० ३

(१) भोजन से पूर्व हाथ, पैर और सिर धोने से चक्षुओं को लाभ पहुंचता है ।

(२) भोजन के पश्चात् कुल्ला करके हाथ धोकर गीले हाथ आंखों और सिर
पर फेरने से आंखों को लाभ पहुंचता है । (५) सदैव सीधे बैठकर ही पढ़ो । पुस्तक को पढ़ते समय अपने हाथ में आंखों से एक फुट दूर रखो । भूमि वा ऐसे स्थान पर पुस्तक को कभी न रखो जिससे आपको झुकना पड़े । लिखने वा पढ़ने का कार्य कभी झुककर न करो । झुककर लिखने और पढ़ने से आंखें और फेफड़े दोनों ही खराब होते हैं ।

७) रात्रि में दस बजे से पहले सो जाओ । यदि परीक्षा के कारण ज्यादा पढ़ना ही पड़े तो प्रातः तीन वा चार बजे उठकर पढ़ो ।

(८) रात्रि में देर तक पढ़ते रहना और प्रातःकाल देर तक सोते रहना दोनों ही आंखों के लिए अत्यन्त हानिकारक हैं ।

 
Posted in Mera Bharat Mahan

प्राचीन काल मे इस देश में ”विमान शास्त्र”


प्राचीन काल मे इस देश में ”विमान शास्त्र” , अलग अलग महर्षियो द्वारा लिखा गया है ! भारद्धाज जी प्रथम विमान – अविस्कारक थे !

मुग़ल काल और अंग्रेजो के समय हमारी ज्यादातर तकनिकी शोध या तो जला दी गयी या फिर लूट ली गयी ! १८०० के बाद प्रथम बार वेदो के मंत्रो को समझ कर उसकी दुबारा व्याख्या केवल ”महर्षि दयानंद जी” ही कर पाये थे ! यह बेहद तकनीकी जानकारी होती है सभी लोग सही व्याख्या नहीं कर पते है !

वेदो में ”मन्त्र” होते है और उनके उच्चारण से तकनीक व् अन्य शोध लिखी जाती थी , यह काम देश के हमारे महर्षि और ऋषि करते आये है ! १९२० के बाद बाद यह तकनिकी शोध प्रणाली बंद हो गयी , उसका कारण अंग्रेज और जर्मन थे ! हमारे नेहरू टाइप के लोगो ने इनका पूरा साथ दिया !

आज भी नेहरू की ”भारत एक खोज” विश्व मैं हमारी पहचान मानी जाती है !
यह विदेशी तकनिकी लूट कर ले गए और आधिकारिक रूप से हमको विश्व में ”सपेरों का देश” घोषित कर दिया !

********************
जर्मनी 1900 के आस पास ही सारे विभिन्न प्रकार के विमान कैसे बना पाया ,जबकि कोई तकनीकी शोध यूरोप के किसी भी देश के पास 1850 से पहले नही थी ! ”व्रिल डिस्क्स” (उडन तस्तरी ) टाइप के विकसित जहाज भी विश्व युद्ध में जर्मन सेना द्वारा इस्तिमाल किये गये थे

यहूदी तकनीकी रूप से हिटलर को चुनौती दे रहे थे !
”हिटलर” की ”यहूदियो” से केवल तकनीकी और ”राजनैतिक वर्चस्व” की लड़ाई थी ! इस राजनैतिक प्रतिस्पर्धा के चलते ही हिटलर ने भारत के वैदिक ”गुरुकुलो की मदद” से एकत्रित की गयी शोध को अपनी ”जर्मन प्रयोगशाला” में तेजी से ”तकनीकी रूप” देना शुरु कर दिया था !

विश्वयुद्ध का अंत यहूदियो (अमेरिका) ने किया, जबकि शुरुआत पनडुब्बियो और आधुनिक वैदिक जहाजो के दम पर हिटलर ने की थी !

प्राचीन काल मे इस देश में ''विमान शास्त्र'' , अलग अलग महर्षियो द्वारा लिखा गया है ! भारद्धाज जी प्रथम विमान - अविस्कारक थे !

मुग़ल काल और अंग्रेजो के समय हमारी ज्यादातर तकनिकी शोध या तो जला दी गयी या फिर लूट ली गयी ! १८०० के बाद प्रथम बार वेदो के मंत्रो को समझ कर उसकी दुबारा व्याख्या केवल ''महर्षि दयानंद जी'' ही कर पाये थे ! यह बेहद तकनीकी जानकारी होती है सभी लोग सही व्याख्या नहीं कर पते है !

वेदो में ''मन्त्र'' होते है और उनके उच्चारण से तकनीक व् अन्य शोध लिखी जाती थी , यह काम देश के हमारे महर्षि और ऋषि करते आये है ! १९२० के बाद बाद यह तकनिकी शोध प्रणाली बंद हो गयी , उसका कारण अंग्रेज और जर्मन थे ! हमारे नेहरू टाइप के लोगो ने इनका पूरा साथ दिया !

आज भी नेहरू की ''भारत एक खोज'' विश्व मैं हमारी पहचान मानी जाती है !
यह विदेशी तकनिकी लूट कर ले गए और आधिकारिक रूप से हमको विश्व में ''सपेरों का देश'' घोषित कर दिया !

********************
जर्मनी 1900 के आस पास ही सारे विभिन्न प्रकार के विमान कैसे बना पाया ,जबकि कोई तकनीकी शोध यूरोप के किसी भी देश के पास 1850 से पहले नही थी ! ''व्रिल डिस्क्स'' (उडन तस्तरी ) टाइप के विकसित जहाज भी विश्व युद्ध में जर्मन सेना द्वारा इस्तिमाल किये गये थे

यहूदी तकनीकी रूप से हिटलर को चुनौती दे रहे थे !
''हिटलर'' की ''यहूदियो'' से केवल तकनीकी और ''राजनैतिक वर्चस्व'' की लड़ाई थी ! इस राजनैतिक प्रतिस्पर्धा के चलते ही हिटलर ने भारत के वैदिक ''गुरुकुलो की मदद'' से एकत्रित की गयी शोध को अपनी ''जर्मन प्रयोगशाला'' में तेजी से ''तकनीकी रूप'' देना शुरु कर दिया था !

विश्वयुद्ध का अंत यहूदियो (अमेरिका) ने किया, जबकि शुरुआत पनडुब्बियो और आधुनिक वैदिक जहाजो के दम पर हिटलर ने की थी !
 
Posted in Hindu conspiracy

Chutiye Hindu


Just introspect what makes us feel so inferior . 
Why have we lost our self esteem ?
Your thoughts welcome

No long lecture... 
------------------------
Just introspect what makes us feel so inferior . 
Why have we lost our self esteem ?
Your thoughts welcome
 
Posted in Hindu conspiracy

प्राचीन कल से चले आरहे


प्राचीन कल से चले आरहे ,३ सतर के मंदिर को तोड़ कर बांयी गयी थी बाबरी मस्जिद . बाबर के सेनापति मीर बाकी ने मुस्लिम संत फजले अब्बास / मूसा अशिखान के कहने पर तोड़ी थी | 
यह माजिद मूल निवासियों के दमन के प्रतीक के तोर पे बनायीं गयी थी , जैसे अंग्रेजों के जाने के बाद उनके पुतले हटा दिए गए वैसे ही इस ढांचे को भी हटाना रष्ट्र की स्मिता के लिए आवश्यक है 
लेकिन इसके बाद किया गया हर आतंकी हमला “बाबरी मस्जिद ” के ध्वस्त करने के गुस्से के नाम पे जायज ठेराया गया 
लेकिन आज इराक में सेक्रों मस्जिदें उड़ाई जा रहीं हैं जो लोगों की आस्था का प्रतेक है लेकिन किसी भी बुद्धिजीवी और सेचुला मुस्लिम के तरफ से कोइ विरोध नहीं किया गया ?
ऐसा दोगलापन क्यूँ ?

प्राचीन कल से चले आरहे ,३ सतर के मंदिर को तोड़ कर बांयी गयी थी बाबरी मस्जिद . बाबर के सेनापति मीर बाकी ने मुस्लिम संत फजले अब्बास / मूसा अशिखान के कहने पर तोड़ी थी | 
यह माजिद मूल निवासियों के दमन के प्रतीक के तोर पे बनायीं गयी थी , जैसे अंग्रेजों के जाने के बाद उनके पुतले हटा दिए गए वैसे ही इस ढांचे को भी हटाना रष्ट्र की स्मिता के लिए आवश्यक है 
लेकिन इसके बाद किया गया हर आतंकी हमला "बाबरी मस्जिद " के ध्वस्त करने के गुस्से के नाम पे जायज ठेराया गया 
लेकिन आज इराक में सेक्रों मस्जिदें उड़ाई जा रहीं हैं जो लोगों की आस्था का प्रतेक है लेकिन किसी भी बुद्धिजीवी और सेचुला मुस्लिम के तरफ से कोइ विरोध नहीं किया गया ?
ऐसा दोगलापन क्यूँ ?
Posted in Secular

125 countries


 
125 countries in the world are Christian dominated and though the majority claim to be secular, it' a common knowledge in those nations that Christianity is the law of the land.
Same goes for over 50 Islam dominated nations of the world.
However, there is just one country in the world which has Hindus as its majority population - still the world expects it to be Secular.
(e.g. Nepal was a Hindu nation until a few years back but thanks to the growing Chinese and Pakistani influence, Nepal is now a 'secular nation'.)
And India - the last refuge of HIndus has been made secular ever since the Colonial rule ended. 
What's the problem with being a Secular nation, you may ask. Afterall it's 21st century and with so much of science and technology, why should we care about religion in the first place ?

Be it 21st century or the 1st or the 51st... religion, was is and will continue to dominate the world politically, socially and economically. it's the coarsest level of a belief system and a means of awarding allegiances across nationalities and boundaries. Because religion is not simply about whom you worship and how and where. It's a way of political association for the monotheistic faiths - Islam, Judaism, Christianity etc. 

And which is why, a major chunk of world history has been shaped by religious conflicts , be it holy crusades or Jihad.

And this is not going to change anytime soon.
Live with it

_______________
http://en.wikipedia.org/wiki/Islam_by_country
http://en.wikipedia.org/wiki/Christianity_by_country

125 countries in the world are Christian dominated and though the majority claim to be secular, it’ a common knowledge in those nations that Christianity is the law of the land.
Same goes for over 50 Islam dominated nations of the world.
However, there is just one country in the world which has Hindus as its majority population – still the world expects it to be Secular.
(e.g. Nepal was a Hindu nation until a few years back but thanks to the growing Chinese and Pakistani influence, Nepal is now a ‘secular nation’.)
And India – the last refuge of HIndus has been made secular ever since the Colonial rule ended. 
What’s the problem with being a Secular nation, you may ask. Afterall it’s 21st century and with so much of science and technology, why should we care about religion in the first place ?

Be it 21st century or the 1st or the 51st… religion, was is and will continue to dominate the world politically, socially and economically. it’s the coarsest level of a belief system and a means of awarding allegiances across nationalities and boundaries. Because religion is not simply about whom you worship and how and where. It’s a way of political association for the monotheistic faiths – Islam, Judaism, Christianity etc.

And which is why, a major chunk of world history has been shaped by religious conflicts , be it holy crusades or Jihad.

And this is not going to change anytime soon.
Live with it

_______________
http://en.wikipedia.org/wiki/Islam_by_country
http://en.wikipedia.org/wiki/Christianity_by_country

 
LikeLike ·