Posted in श्रीमद्‍भगवद्‍गीता

Srimad-Bhagavatam: As Brilliant as the Sun


Srimad-Bhagavatam: As Brilliant as the Sun

krsne sva-dhamopagate
dharma-jnanadibhih saha
kalau nasta-drsam esa
puranarko ‘dhunoditah

This Bhagavata Purana [Srimad-Bhagavatam] is as brilliant as the sun, and it has arisen just after the departure of Lord Krsna to His own abode, accompanied by religion, knowledge, and so on. Persons who have lost their vision because of the dense darkness of ignorance in the Age of Kali will get light from this Purana.

—Srimad-Bhagavatam 1.3.43

PURPORT

Lord Sri Krsna has His eternal dhama, or abode, where He eternally enjoys Himself with His eternal associates and paraphernalia. This eternal abode is a manifestation of His internal, spiritual energy, whereas the material world is a manifestation of His external, material energy.

As Lord Krsna says in the Bhagavad-gita, when He descends to the material world He displays Himself and all His paraphernalia by His internal potency, called atma-maya. His form, name, fame, paraphernalia, abode, and so on are therefore not creations of matter.

Krsna descends to reclaim the fallen souls and to reestablish codes of religion which are directly enacted by Him. Except for God, no one can establish the principles of religion. Either He or a suitable person empowered by Him can alone dictate the codes of religion.

Real religion means to know God, our relation with Him, our duties in relation with Him, and ultimately our destination after leaving this material body. The conditioned souls, who are entrapped by the material energy, know hardly anything of these principles of life. Most of the conditioned souls are like animals—engaged simply in eating, sleeping, fearing and mating. They are mostly engaged in sense enjoyment under the pretension of religiosity, knowledge or salvation.

The conditioned souls are still more blind in the present age, the Age of Quarrel, or Kali-yuga. In the Kali-yuga the population is just a royal edition of the animals. They have nothing to do with spiritual knowledge or godly religious life. They are so blind that they cannot see anything beyond the needs of the body. They have no information of the spirit soul, which is beyond the jurisdiction of the subtle mind, intelligence and ego, but they are very proud of their advancement in knowledge, science and material prosperity. Having completely lost sight of the ultimate aim of life, they risk becoming a dog or hog just after leaving their present body.

The Personality of Godhead Sri Krsna, appeared before us just a little prior to the beginning of Kali-yuga [five thousand years ago], and He returned to His eternal home practically at the commencement of Kali-yuga. While He was present, He exhibited everything by His different activities. Specifically, He spoke the Bhagavad-gita and thus eradicated all pretentious principles of religiosity. And prior to His departure from this material world, He empowered Sri Vyasadeva through Narada to compile the messages of the Srimad-Bhagavatam.

Thus the Bhagavad-gita and the Srimad-Bhagavatam are like torches for the blind people of this age. In other words, if men in this age of Kali want to see the real light of life, they must take to these two books alone. Then their aim of life will be fulfilled.

The Bhagavad-gita is the preliminary study of the Srimad-Bhagavatam. And the Srimad-Bhagavatam is the summum bonum of life, Lord Sri Krsna personified. We must therefore accept the Srimad-Bhagavatam as the direct representation of Lord Krsna. One who can see the Srimad-Bhagavatam can see also Lord Krsna in person. They are identical.

Srimad-Bhagavatam: As Brilliant as the Sun 

krsne sva-dhamopagate
dharma-jnanadibhih saha
kalau nasta-drsam esa
puranarko ‘dhunoditah

This Bhagavata Purana [Srimad-Bhagavatam] is as brilliant as the sun, and it has arisen just after the departure of Lord Krsna to His own abode, accompanied by religion, knowledge, and so on. Persons who have lost their vision because of the dense darkness of ignorance in the Age of Kali will get light from this Purana.

—Srimad-Bhagavatam 1.3.43

PURPORT

Lord Sri Krsna has His eternal dhama, or abode, where He eternally enjoys Himself with His eternal associates and paraphernalia. This eternal abode is a manifestation of His internal, spiritual energy, whereas the material world is a manifestation of His external, material energy.

As Lord Krsna says in the Bhagavad-gita, when He descends to the material world He displays Himself and all His paraphernalia by His internal potency, called atma-maya. His form, name, fame, paraphernalia, abode, and so on are therefore not creations of matter.

Krsna descends to reclaim the fallen souls and to reestablish codes of religion which are directly enacted by Him. Except for God, no one can establish the principles of religion. Either He or a suitable person empowered by Him can alone dictate the codes of religion.

Real religion means to know God, our relation with Him, our duties in relation with Him, and ultimately our destination after leaving this material body. The conditioned souls, who are entrapped by the material energy, know hardly anything of these principles of life. Most of the conditioned souls are like animals—engaged simply in eating, sleeping, fearing and mating. They are mostly engaged in sense enjoyment under the pretension of religiosity, knowledge or salvation.

The conditioned souls are still more blind in the present age, the Age of Quarrel, or Kali-yuga. In the Kali-yuga the population is just a royal edition of the animals. They have nothing to do with spiritual knowledge or godly religious life. They are so blind that they cannot see anything beyond the needs of the body. They have no information of the spirit soul, which is beyond the jurisdiction of the subtle mind, intelligence and ego, but they are very proud of their advancement in knowledge, science and material prosperity. Having completely lost sight of the ultimate aim of life, they risk becoming a dog or hog just after leaving their present body.

The Personality of Godhead Sri Krsna, appeared before us just a little prior to the beginning of Kali-yuga [five thousand years ago], and He returned to His eternal home practically at the commencement of Kali-yuga. While He was present, He exhibited everything by His different activities. Specifically, He spoke the Bhagavad-gita and thus eradicated all pretentious principles of religiosity. And prior to His departure from this material world, He empowered Sri Vyasadeva through Narada to compile the messages of the Srimad-Bhagavatam.

Thus the Bhagavad-gita and the Srimad-Bhagavatam are like torches for the blind people of this age. In other words, if men in this age of Kali want to see the real light of life, they must take to these two books alone. Then their aim of life will be fulfilled.

The Bhagavad-gita is the preliminary study of the Srimad-Bhagavatam. And the Srimad-Bhagavatam is the summum bonum of life, Lord Sri Krsna personified. We must therefore accept the Srimad-Bhagavatam as the direct representation of Lord Krsna. One who can see the Srimad-Bhagavatam can see also Lord Krsna in person. They are identical.
Posted in जीवन चरित्र

लाला लाजपत राय


कर्ज से अच्छे खजूर…… शेरे पंजाब …. शेरे हिन्द लाला लाजपत राय

एक स्कूल के छात्रों ने एक बार पिकनिक का प्रोग्राम बनाया। सभी बच्चे इसके लिए अपने घर से कुछ न कुछ खास खाने की चीज बनवाकर लाने वाले थे। स्कूल के स्टूडेंट्‍स में एक गरीब छात्र भी था। उसने घर आकर मां को सारी बात बताई।

मां ने बताया कि घर में बनाने के लिए कोई खास चीज नहीं है। बालक दुखी हो गया।

तभी मां ने कहा कि घर में कुछ खजूर रखे हैं तू उन्हें ले जा। कुछ देर बाद मां को लगा कि पिकनिक पर बाकी सभी बच्चे खाने-पीने की अच्छी चीजें लेकर आएंगे, ऐसे में बेटा खजूर ले जाएगा तो ठीक नहीं लगेगा।

मां ने तुरंत बेटे से कहा कि तुम्हारे पिताजी आने वाले हैं। जैसे ही वे आएंगे, मैं बाजार से अच्‍छी चीज मंगवा लूंगी। बच्चा निराश होकर एक तरफ बैठ गया। थोड़ी देर बाद पिता घर आए। बेटे को उदास बैठा देखकर उन्होंने अपनी पत्नी से पूछा- क्या हुआ? और पत्नी ने उन्हें सारी बात बताई। पति-पत्नी देर तक आपस में विचार कर रहे थे।

आंगन में बैठा बालक उन्हें देखता रहा, उसे दुख था कि उसके कारण उसके माता-पिता परेशानी में हैं। कुछ देर बाद बालक ने देखा कि उसके पिता चप्पल पहनकर बाहर जा रहे हैं।

बालक ने पूछा- ‘पिताजी क्या जान सकता हूं कि आप कहां जा रहे हैं।
पिता बोले- बेटा तेरी उदासी मुझसे देखी नहीं जाती, मैं अपने मित्र से कुछ पैसे उधार लेने जा रहा हूं, जिससे तू भी पिकनिक पर ‍अच्छी चीजें ले जा सकेगा।

बालक ने जवाब दिया- नहीं पिताजी! उधार मांगना अच्‍छी बात नहीं है। मैं पिकनिक पर यह खजूर ही ले जाऊंगा। कर्ज लेकर शान दिखाना बुरी बात है।

पिता ने पुत्र को सीने से लगा लिया। आगे जाकर यही बालक पंजाब के लाला लाजपतराय के नाम से विख्‍यात हुआ।

कर्ज से अच्छे खजूर...... शेरे पंजाब .... शेरे हिन्द लाला लाजपत राय

एक स्कूल के छात्रों ने एक बार पिकनिक का प्रोग्राम बनाया। सभी बच्चे इसके लिए अपने घर से कुछ न कुछ खास खाने की चीज बनवाकर लाने वाले थे। स्कूल के स्टूडेंट्‍स में एक गरीब छात्र भी था। उसने घर आकर मां को सारी बात बताई। 

मां ने बताया कि घर में बनाने के लिए कोई खास चीज नहीं है। बालक दुखी हो गया।

तभी मां ने कहा कि घर में कुछ खजूर रखे हैं तू उन्हें ले जा। कुछ देर बाद मां को लगा कि पिकनिक पर बाकी सभी बच्चे खाने-पीने की अच्छी चीजें लेकर आएंगे, ऐसे में बेटा खजूर ले जाएगा तो ठीक नहीं लगेगा।

मां ने तुरंत बेटे से कहा कि तुम्हारे पिताजी आने वाले हैं। जैसे ही वे आएंगे, मैं बाजार से अच्‍छी चीज मंगवा लूंगी। बच्चा निराश होकर एक तरफ बैठ गया। थोड़ी देर बाद पिता घर आए। बेटे को उदास बैठा देखकर उन्होंने अपनी पत्नी से पूछा- क्या हुआ? और पत्नी ने उन्हें सारी बात बताई। पति-पत्नी देर तक आपस में विचार कर रहे थे।

आंगन में बैठा बालक उन्हें देखता रहा, उसे दुख था कि उसके कारण उसके माता-पिता परेशानी में हैं। कुछ देर बाद बालक ने देखा कि उसके पिता चप्पल पहनकर बाहर जा रहे हैं। 

बालक ने पूछा- 'पिताजी क्या जान सकता हूं कि आप कहां जा रहे हैं। 
पिता बोले- बेटा तेरी उदासी मुझसे देखी नहीं जाती, मैं अपने मित्र से कुछ पैसे उधार लेने जा रहा हूं, जिससे तू भी पिकनिक पर ‍अच्छी चीजें ले जा सकेगा।

बालक ने जवाब दिया- नहीं पिताजी! उधार मांगना अच्‍छी बात नहीं है। मैं पिकनिक पर यह खजूर ही ले जाऊंगा। कर्ज लेकर शान दिखाना बुरी बात है। 

पिता ने पुत्र को सीने से लगा लिया। आगे जाकर यही बालक पंजाब के लाला लाजपतराय के नाम से विख्‍यात हुआ। 
-
Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

Pillars of Homage to Lord Jagannatha


Pillars of Homage to Lord Jagannatha

The Garudastambha and Arunastambha pillars of Puri by Prajna Behera.

Built in the 12th century, the temple of Lord Jagannatha at Puri has the distinction of having two unique pillars, namely, the Garudastambha (shown below) and the Arunastambha (above) . In Sanskrit, a pillar or a column is called a stambha, while in Oriya it is called khamba. The objective of this paper is to throw light on the significance and historical perspectives of these pillars.

Garudastambha

Garuda is known to be the vehicle, or vahana, of Vishnu. Lord Jagannatha is considered identical with Vishnu and Krishna, hence His Vahan-stambha is placed in the nata-mandira of the temple.

The tradition of erecting pillars in honour of Vishnu goes back to 2nd century B.C. There is a pillar in honour of Vasudeva at Basnagar (Vidisha) in Madhya Pradesh. The inscriptions state that “this Garuda column of Vasudeva (Krishna), the God of Gods is erected here by Heliodorus, his worshipper.” He was an inhabitant of Taxila and he came as Greek Ambassador from king Antialkidas to Kasiputra Bhagabhadra. It is thus evident that Heliodorous was a Vaishnava, even though he was also a Greek.

In Orissa, with the progress of Vaishnaism, Vishnu temples were erected. The Nila Madhava temple at Gandharadi of Boudh district in 9th century A.D. and the 10th century ruins of the Vishnu temple at Ganeshwarpur of Cuttack district may be cited as notable examples. Jajpur, which was primarily a Shaktapitha dedicated to Viraja, also has numerous Vishnu images. In Jajpur there is beautiful column, which according to historian James Fergusson, originally seems to have supported a figure of Garuda, the vahana of Vishnu. A detached figure of Garuda is also found in Jajpur and it is said to be an identical one. Fergusson assigned the pillar to the 10th or 11th century. This pillar, locally called Subhastambha, indicates the existence of a Vishnu temple at Jajpur.

The temple of Lord Jagannatha was constructed by Ananta Varman Chodagangadev in the middle of the 12th century. The temple complex consists of Deula, Jagamohan, Natamandira and Bhogamandapa. The presiding Deities on the Ratnabedi or Jewelleddias are the Chaturdha-darumurthi, i.e., wooden Deity forms such as Balabhadra, Subhadra, Jagannatha and Sudarshan. The images are made out of the wood of the Neem Tree (Melia azardicata). These are renewed every 12 years in a ceremony known as the Navakalebar. The Ratnabedi is said to contain Salagrama or ammonite fossils, sacred stones worshipped by the followers of Vishnu.

Salagrama means the “village where the Sal tree (Shorea robusta) grows.” Salagrama shilas are found in the bed of Gandaki River, a tributary of the Ganga, and also in the Narmada river.

In the Natamandira of the temple on the eastern side, a unique Garuda stambha is located. In the first sight it looks like an ordinary stone column surmounted by a Garuda figure on the top. But on examination its shaft seems to be a remnant of a plant of a past geological era. The shaft bears the impression or traces of a Sal tree shorn of its bark. The impression of the Sal tree is readily preserved. The total height of the column along with the pedestal and the Garuda capital is about 10 feet. The height of the shaft is about 7 feet. The column is not made of ordinary stone, but is a Salagrama stone. It is the largest known Salagrama stone, unique in the fossil record of India. This Garudastambha, made up of fossil, is quite harmonious to the chaturdha-darumurthis on the ratnavedi made of salagrama stones.

The erection of Garudastambha in Vishnu temples became quite popular in the Ganga period following the model of the Jagannatha temple. We find Garuda stambhas in later temples such as Madhavananda temple (13th century) at village Madhava in Cuttack district, and Ananta Vasudeva Temple in 1278 A.D. at Bhubaneswar.

Inside the Jagannatha temple, the Garudastambha is considered very holy. It has its own rituals and devotees usually have darshan of the Lord from this place. They used to place lamps in honour of the Lord, and the pillar became smoke-stained as a result. It will be worthwhile to discourage this practice in future.

Arunastambha

In addition to the Garuda column inside the Natamandira in front of the Singhadwar (eastern gateway Jagannatha Temple), there is a monolithic pillar of chlorite crowned by a squatting figure of Garuda. The total height of the pillar is 33 feet 8 inches. The pillar has a magnificent base carved with military scenes and other figures. The monolithic shaft of the chlorite is 16 sided. The capital, decorated by a series of lotus petals, is 2 feet 6 inches and the whole pillar is a monument of great beauty.

Aruna is the charioteer of the Sun God. Hence the pillar is called the Sun Pillar or Arunastambha. Originally this beautiful pillar was erected in honour of the Sun God at Konark. King Narasinha I built the famous temple of the Sun God at Konark in the 13th century.

The temple, consisting of the Deula and Jag Mohan was in the form of a solar chariot provided with 24 wheels. In front of the eastern gateway of Jagamohan there was the beautiful pillar called Arunastambha. In the 16th century, Abul Fazal, the court historian of Moghul Emperor Akbar, while giving the description of the Sun Temple mentioned the “octagonal column of black stone” which evidently represents the Arunastambha.

When the Konark temple was deserted and worship ceased there, this pillar was brought to Puri in the last quarter of the 18th century. The Madalapanji records that during the time of Divyasinghadev, the Maratha guru, Brahmachari Gosain brought this pillar from Konark and re-erected it at the singhadwar of Jagannatha temple. A drawing of the Arunapillar, prepared on 26th April 1815 at Puri, is now in the India Office library, London.

Andrew Sterling, a British officer who was in Orissa from 1818-1822, mentioned that the pillar had been brought from the famous “but now deserted, temple of the Sun at Konarak, about sixty years ago, by a Brahmachari inhabitant of Puri, of great wealth and influence.”

The placing of Arunastambha in front of the temple of Lord Jagannatha is quite appropriate as from the Vedic times, the Sun God is considered identical with Vishnu.

Pillars of Homage to Lord Jagannatha

The Garudastambha and Arunastambha pillars of Puri by Prajna Behera.

Built in the 12th century, the temple of Lord Jagannatha at Puri has the distinction of having two unique pillars, namely, the Garudastambha (shown below) and the Arunastambha (above) . In Sanskrit, a pillar or a column is called a stambha, while in Oriya it is called khamba. The objective of this paper is to throw light on the significance and historical perspectives of these pillars.

Garudastambha

Garuda is known to be the vehicle, or vahana, of Vishnu. Lord Jagannatha is considered identical with Vishnu and Krishna, hence His Vahan-stambha is placed in the nata-mandira of the temple.

The tradition of erecting pillars in honour of Vishnu goes back to 2nd century B.C. There is a pillar in honour of Vasudeva at Basnagar (Vidisha) in Madhya Pradesh. The inscriptions state that "this Garuda column of Vasudeva (Krishna), the God of Gods is erected here by Heliodorus, his worshipper." He was an inhabitant of Taxila and he came as Greek Ambassador from king Antialkidas to Kasiputra Bhagabhadra. It is thus evident that Heliodorous was a Vaishnava, even though he was also a Greek.

In Orissa, with the progress of Vaishnaism, Vishnu temples were erected. The Nila Madhava temple at Gandharadi of Boudh district in 9th century A.D. and the 10th century ruins of the Vishnu temple at Ganeshwarpur of Cuttack district may be cited as notable examples. Jajpur, which was primarily a Shaktapitha dedicated to Viraja, also has numerous Vishnu images. In Jajpur there is beautiful column, which according to historian James Fergusson, originally seems to have supported a figure of Garuda, the vahana of Vishnu. A detached figure of Garuda is also found in Jajpur and it is said to be an identical one. Fergusson assigned the pillar to the 10th or 11th century. This pillar, locally called Subhastambha, indicates the existence of a Vishnu temple at Jajpur.

The temple of Lord Jagannatha was constructed by Ananta Varman Chodagangadev in the middle of the 12th century. The temple complex consists of Deula, Jagamohan, Natamandira and Bhogamandapa. The presiding Deities on the Ratnabedi or Jewelleddias are the Chaturdha-darumurthi, i.e., wooden Deity forms such as Balabhadra, Subhadra, Jagannatha and Sudarshan. The images are made out of the wood of the Neem Tree (Melia azardicata). These are renewed every 12 years in a ceremony known as the Navakalebar. The Ratnabedi is said to contain Salagrama or ammonite fossils, sacred stones worshipped by the followers of Vishnu.

Salagrama means the "village where the Sal tree (Shorea robusta) grows." Salagrama shilas are found in the bed of Gandaki River, a tributary of the Ganga, and also in the Narmada river.

In the Natamandira of the temple on the eastern side, a unique Garuda stambha is located. In the first sight it looks like an ordinary stone column surmounted by a Garuda figure on the top. But on examination its shaft seems to be a remnant of a plant of a past geological era. The shaft bears the impression or traces of a Sal tree shorn of its bark. The impression of the Sal tree is readily preserved. The total height of the column along with the pedestal and the Garuda capital is about 10 feet. The height of the shaft is about 7 feet. The column is not made of ordinary stone, but is a Salagrama stone. It is the largest known Salagrama stone, unique in the fossil record of India. This Garudastambha, made up of fossil, is quite harmonious to the chaturdha-darumurthis on the ratnavedi made of salagrama stones.

The erection of Garudastambha in Vishnu temples became quite popular in the Ganga period following the model of the Jagannatha temple. We find Garuda stambhas in later temples such as Madhavananda temple (13th century) at village Madhava in Cuttack district, and Ananta Vasudeva Temple in 1278 A.D. at Bhubaneswar.

Inside the Jagannatha temple, the Garudastambha is considered very holy. It has its own rituals and devotees usually have darshan of the Lord from this place. They used to place lamps in honour of the Lord, and the pillar became smoke-stained as a result. It will be worthwhile to discourage this practice in future. 

Arunastambha

In addition to the Garuda column inside the Natamandira in front of the Singhadwar (eastern gateway Jagannatha Temple), there is a monolithic pillar of chlorite crowned by a squatting figure of Garuda. The total height of the pillar is 33 feet 8 inches. The pillar has a magnificent base carved with military scenes and other figures. The monolithic shaft of the chlorite is 16 sided. The capital, decorated by a series of lotus petals, is 2 feet 6 inches and the whole pillar is a monument of great beauty.

Aruna is the charioteer of the Sun God. Hence the pillar is called the Sun Pillar or Arunastambha. Originally this beautiful pillar was erected in honour of the Sun God at Konark. King Narasinha I built the famous temple of the Sun God at Konark in the 13th century.

The temple, consisting of the Deula and Jag Mohan was in the form of a solar chariot provided with 24 wheels. In front of the eastern gateway of Jagamohan there was the beautiful pillar called Arunastambha. In the 16th century, Abul Fazal, the court historian of Moghul Emperor Akbar, while giving the description of the Sun Temple mentioned the "octagonal column of black stone" which evidently represents the Arunastambha.

When the Konark temple was deserted and worship ceased there, this pillar was brought to Puri in the last quarter of the 18th century. The Madalapanji records that during the time of Divyasinghadev, the Maratha guru, Brahmachari Gosain brought this pillar from Konark and re-erected it at the singhadwar of Jagannatha temple. A drawing of the Arunapillar, prepared on 26th April 1815 at Puri, is now in the India Office library, London.

Andrew Sterling, a British officer who was in Orissa from 1818-1822, mentioned that the pillar had been brought from the famous "but now deserted, temple of the Sun at Konarak, about sixty years ago, by a Brahmachari inhabitant of Puri, of great wealth and influence."

The placing of Arunastambha in front of the temple of Lord Jagannatha is quite appropriate as from the Vedic times, the Sun God is considered identical with Vishnu.
Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

एक युवक था।


एक युवक था। पिछले कई महीनों से उसे एक
महंगी स्पोर्ट्स
कार पसंद थी। वह जानता था कि उसके
पापा उसके लिए वह
कार आसानी से खरीद सकते हैं, इसलिए उसने
पापा को अपनी पसंद बता दी। उसे उम्मीद
थी कि जिस दिन
वह ग्रैजुएशन की डिग्री लेकर पापा के पास
जाएगा,
पापा उसे गिफ्ट में वह कार देंगे। आखिर वह दिन

गया और वह खुशी-खुशी पापा के पास पहुंचा।
उसने
देखा कि पापा के हाथों में एक गिफ्ट पैक था।
उसे
थोड़ी निराशा हुई। फिर भी उसने वह पैक खोला।
उसमें एक
“गीता”थी, जिसका पर युवक का नाम गुदा था।
युवक को बहुत गुस्सा आया। उसने कहा-
इतनी सारी दौलत
होने के बावजूद आपने मेरे लिए यह “गीता ”
ही खरीदी। गुस्से
में “गीता ” वहीं छोड़ वह निकल गया। फिर वह
घर
नहीं लौटा। बरसों बीत गए। युवक काफी कामयाब
कारोबारी बन गया। उसने पास अच्छा घर-
परिवार
सब कुछ
था। एक दिन उसे अहसास हुआ कि उसके
पापा काफी बूढ़े
हो गए होंगे और उसे जाकर उनसे मिलना चाहिए।
ग्रैजुशन
वाले दिन से उसने उन्हें नहीं देखा था। अभी वह
पापा के पास
जाने की सोच ही रहा था कि उसे पापा की मौत
का मेसेज
मिला।
दुखी मन से वह पिताजी के घर पहुंचा। फिर वह
जरूरी कागजात की तलाश में इधर-उधर सामान
पलट
रहा था कि वही “गीता” उसे दिखी। बिल्कुल
वैसी ही नई,
जैसी वह छोड़कर गया था। नम आंखों से उसने
“गीता” के
पन्ने पलटने शुरू किए कि अचानक एक कार
की चाबी किताब
से निकलकर गिर गई। उसके साथ ही एक बिल
भी था, जिस
पर लिखा था कि पूरा पेमेंट हो चुका है। बिल
उसी कार
का था, जो उसे पसंद थी। उसकी आंखों से आंसू
बहने लगे।
नोट: हम न जाने कितनी बार अपने पैरंट्स के
आशीर्वाद और
दुआओं को नजरअंदाज कर देते हैं क्योंकि वे उस
तरह
नहीं आतीं, जैसा हमने उम्मीद की होती है।
Posted in Ghandhi

शहीद-ए-आजम भगतसिंह


23 मार्च 1931 को शहीद-ए-आजम भगतसिंह
को फांसी के तख्ते पर ले जाने
वाला पहला जिम्मेवार सोहनलाल वोहरा हिन्दू
की गवाही थी ।
यही गवाह बाद में इंग्लैण्ड भाग गया और वहीं पर
मरा । शहीदे आजम भगतसिंह को फांसी दिए जाने
पर अहिंसा के महान पुजारी गांधी ने कहा था, ‘‘हमें
ब्रिटेन के विनाश के बदले

अपनी आजादी नहीं चाहिए ।’’ और आगे कहा,
‘‘भगतसिंह की पूजा से देश को बहुत हानि हुई और
हो रही है । वहीं इसका परिणाम
गुंडागर्दी का पतन है । फांसी शीघ्र दे दी जाए
ताकि 30 मार्च से करांची में होने वाले कांग्रेस
अधिवेशन में
कोई बाधा न आवे ।” अर्थात् गांधी की परिभाषा में
किसी को फांसी देना हिंसा नहीं थी ।
इसी प्रकार एक ओर महान्
क्रान्तिकारी जतिनदास को जो आगरा में अंग्रेजों ने
शहीद किया तो गांधी आगरा में ही थे और जब
गांधी को उनके पार्थिक शरीर पर माला चढ़ाने
को कहा गया तो उन्होंने साफ इनकार कर
दिया अर्थात् उस नौजवान द्वारा खुद को देश के
लिए कुर्बान करने पर भी गांधी के दिल में
किसी प्रकार की दया और सहानुभूति नहीं उपजी,
ऐसे थे हमारे अहिंसावादी गांधी । जब सन् 1937 में
कांग्रेस
अध्यक्ष के लिए नेताजी सुभाष और
गांधी द्वारा मनोनीत सीताभिरमैया के मध्य
मुकाबला हुआ तो गांधी ने कहा यदि रमैया चुनाव
हार गया तो वे राजनीति छोड़ देंगे लेकिन उन्होंने
अपने मरने तक
राजनीति नहीं छोड़ी जबकि रमैया चुनाव हार गए
थे। इसी प्रकार गांधी ने कहा था, “पाकिस्तान
उनकी लाश पर बनेगा” लेकिन पाकिस्तान उनके
समर्थन से ही बना । ऐसे थे हमारे
सत्यवादी गांधी । इससे भी बढ़कर गांधी और
कांग्रेस ने दूसरे विश्वयुद्ध में अंग्रेजों का समर्थन
किया तो फिर क्या लड़ाई में हिंसा थी या लड्डू बंट
रहे थे ? पाठक स्वयं बतलाएं ? गांधी ने अपने जीवन
में तीन आन्दोलन
(सत्याग्रहद्) चलाए और तीनों को ही बीच में
वापिस ले लिया गया फिर भी लोग कहते हैं
कि आजादी गांधी ने दिलवाई ।इससे भी बढ़कर जब
देश के महान सपूत उधमसिंह ने इंग्लैण्ड में माईकल
डायर को मारा तो गांधी ने उन्हें पागल
कहा इसलिए नीरद चौ० ने
गांधी को दुनियां का सबसे बड़ा सफल
पाखण्डी लिखा है । इस आजादी के बारे में
इतिहासकार सी. आर. मजूमदार लिखते हैं – “भारत
की आजादी का सेहरा गांधी के सिर बांधना सच्चाई
से मजाक होगा । यह कहना उसने सत्याग्रह व चरखे
से आजादी दिलाई बहुत बड़ी मूर्खता होगी ।
इसलिए गांधी को आजादी का ‘हीरो’ कहना उन
सभी क्रान्तिकारियों का अपमान है जिन्होंने देश
की आजादी के लिए अपना खून
बहाया ।”
जो मित्र सहमत हों वो कृपया लाइक और शेयर
अवश्य करें और जो मित्र सहमत
ना हो वो कृपया टिप्पणी करने का कष्ट ना करें ।
धन्यवाद ।
जय हिन्द ।
Posted in Tejomahal

ताजमहल के हिन्दू शिवमन्दिर होने के पक्ष में तर्क


ताजमहल के हिन्दू शिवमन्दिर होने के पक्ष में तर्क

पी०एन० ओक अपनी पुस्तक “ताजमहल ए हिन्दू टेम्पल” में सौ से भी अधिक कथित प्रमाण एवं तर्क देकर दावा करते हैं कि ताजमहल वास्तव में शिव मन्दिर था जिसका असली नाम ‘तेजोमहालय’ हुआ करता था। ओक साहब यह भी मानते हैं कि इस मन्दिर को जयपुर के राजा मानसिंह (प्रथम) ने बनवाया था जिसे तोड़ कर ताजमहल बनवाया गया।
इस सम्बन्ध में उनके निम्न तर्क विचारणीय हैं:
1.किसी भी मुस्लिम इमारत के नाम के साथ कभी महल शब्‍द प्रयोग नहीं हुआ है।

2.’ताज’ और ‘महल’ दोनों ही संस्कृत मूल के शब्द हैं।

3.संगमरमर की सीढ़ियाँ चढ़ने के पहले जूते उतारने की परम्परा चली आ रही है जैसी मन्दिरों में प्रवेश पर होती है जब कि सामान्यतः किसी मक़बरे में जाने के लिये जूता उतारना अनिवार्य नहीं होता।

4.संगमरमर की जाली में 108 कलश चित्रित हैं तथा उसके ऊपर 108 कलश आरूढ़ हैं, हिंदू मन्दिर परम्परा में (भी) 108 की संख्या को पवित्र माना जाता है।

5.ताजमहल शिव मन्दिर को इंगित करने वाले शब्द ‘तेजोमहालय’ शब्द का अपभ्रंश है। तेजोमहालय मन्दिर में अग्रेश्वर महादेव प्रतिष्ठित थे।

6.ताज के दक्षिण में एक पुरानी पशुशाला है। वहाँ तेजोमहालय के पालतू गायों को बाँधा जाता था। मुस्लिम कब्र में गौशाला होना एक असंगत बात है।

7.ताज के पश्चिमी छोर में लाल पत्थरों के अनेक उपभवन हैं जो कब्र की तामीर के सन्दर्भ में अनावश्यक हैं.

8.संपूर्ण ताज परिसर में 400 से 500 कमरे तथा दीवारें हैं। कब्र जैसे स्थान में इतने सारे रिहाइशी कमरों का होना समझ से बाहर की बात है।

ताजमहल के हिन्दू शिवमन्दिर होने के पक्ष में तर्क

पी०एन० ओक अपनी पुस्तक "ताजमहल ए हिन्दू टेम्पल" में सौ से भी अधिक कथित प्रमाण एवं तर्क देकर दावा करते हैं कि ताजमहल वास्तव में शिव मन्दिर था जिसका असली नाम 'तेजोमहालय' हुआ करता था। ओक साहब यह भी मानते हैं कि इस मन्दिर को जयपुर के राजा मानसिंह (प्रथम) ने बनवाया था जिसे तोड़ कर ताजमहल बनवाया गया।
इस सम्बन्ध में उनके निम्न तर्क विचारणीय हैं:
1.किसी भी मुस्लिम इमारत के नाम के साथ कभी महल शब्‍द प्रयोग नहीं हुआ है।

2.'ताज' और 'महल' दोनों ही संस्कृत मूल के शब्द हैं।

3.संगमरमर की सीढ़ियाँ चढ़ने के पहले जूते उतारने की परम्परा चली आ रही है जैसी मन्दिरों में प्रवेश पर होती है जब कि सामान्यतः किसी मक़बरे में जाने के लिये जूता उतारना अनिवार्य नहीं होता।

4.संगमरमर की जाली में 108 कलश चित्रित हैं तथा उसके ऊपर 108 कलश आरूढ़ हैं, हिंदू मन्दिर परम्परा में (भी) 108 की संख्या को पवित्र माना जाता है।

5.ताजमहल शिव मन्दिर को इंगित करने वाले शब्द 'तेजोमहालय' शब्द का अपभ्रंश है। तेजोमहालय मन्दिर में अग्रेश्वर महादेव प्रतिष्ठित थे।

6.ताज के दक्षिण में एक पुरानी पशुशाला है। वहाँ तेजोमहालय के पालतू गायों को बाँधा जाता था। मुस्लिम कब्र में गौशाला होना एक असंगत बात है।

7.ताज के पश्चिमी छोर में लाल पत्थरों के अनेक उपभवन हैं जो कब्र की तामीर के सन्दर्भ में अनावश्यक हैं.

8.संपूर्ण ताज परिसर में 400 से 500 कमरे तथा दीवारें हैं। कब्र जैसे स्थान में इतने सारे रिहाइशी कमरों का होना समझ से बाहर की बात है।
Posted in Rajiv Dixit

संस्कृत भाषा की वैज्ञानिकता और महत्व को विस्तार से जानना चाहते है तो


मित्रो जर्मनी देश की विमान सेवा का नाम लुप्तहन्सा है जिसका अर्थ होता है
जो हंस लुप्त हो गए हैं यहाँ लुप्त और हंस दोनों ही संस्कृत के शब्द हैं !

वही भारत की विमान सेवा मे AIR और INDIA दोनों शब्द अँग्रेजी के हैं कितने शर्म की
बात सभी भाषाओ की जननी संस्कृत जैसी समृद्ध भाषा मे से हमारी सरकार 
को दो शब्द नहीं मिले !
.
मित्रो बात दो विमान सेवाओ के नाम की नहीं है बात सरकार की मानसिकता की है , आजादी के बाद जो लोग सत्ता की तरह लपलपाती जीभ लेकर खड़े हुए थे उन लोगो के अंग्रेजी के प्रति लगाव को पुरे देश पर थोपा जा रहा है और कहा जा रहा है की अंग्रेजी ही आपका उधार कर सकती है !!

आज जर्मनी मे विश्वविद्यालयो की शिक्षा मे संस्कृत की पढ़ाई पर और संस्कृत के शास्त्रो की पढ़ाई पर सबसे अधिक पैसा खर्च हो रहा है !

जर्मनी भारत के बाहर का पहला देश है जिसने अपनी एक यूनिवर्सिटी संस्कृत साहित्य के लिए समर्पित किया हुआ है !

हमारे देश मे आयुर्वेद के जो जनक माने जाते है उनका नाम है महाऋषि चरक ! जर्मनी ने इनके नाम पर ही एक विभाग बनाया है उसका नाम ही है चरकोलजी !!

अंत मित्रो बात यही है जो व्यवस्था आजादी के 67 साल बाद भी भारत को विदेशी भाषा की गुलामी से मुक्त नहीं करवा पाई उस व्यवस्था के लिए भारतवासियो को गरीबी ,अन्याय ,शोषण से मुक्त करवाना असंभव है !
_______________

संस्कृत भाषा की वैज्ञानिकता और महत्व को विस्तार से जानना चाहते है तो
यहाँ click कर देखे !

https://www.youtube.com/watch?v=zmpEa7cLo8c

अधिक से अधिक share करें !

मित्रो जर्मनी देश की विमान सेवा का नाम  लुप्तहन्सा है जिसका अर्थ होता है 
जो हंस लुप्त हो गए हैं यहाँ लुप्त और हंस दोनों ही संस्कृत के शब्द हैं ! 

वही भारत की विमान सेवा मे AIR और INDIA  दोनों शब्द अँग्रेजी के हैं कितने शर्म की 
बात सभी भाषाओ की जननी संस्कृत  जैसी समृद्ध भाषा मे से हमारी सरकार  
को दो शब्द नहीं मिले ! 
 .
मित्रो बात दो विमान सेवाओ के नाम की नहीं है बात सरकार की मानसिकता की है , आजादी के बाद जो लोग सत्ता की तरह लपलपाती जीभ लेकर खड़े हुए थे उन  लोगो के अंग्रेजी के प्रति लगाव को पुरे देश पर थोपा जा रहा है और कहा जा रहा है की अंग्रेजी ही आपका उधार कर सकती है !! 

आज जर्मनी मे विश्वविद्यालयो  की शिक्षा मे संस्कृत की  पढ़ाई पर और संस्कृत के शास्त्रो की पढ़ाई पर सबसे अधिक पैसा खर्च हो रहा है !

जर्मनी भारत के बाहर का पहला देश है जिसने अपनी एक यूनिवर्सिटी संस्कृत साहित्य के लिए समर्पित किया हुआ है !

हमारे देश मे आयुर्वेद के जो जनक माने जाते है उनका नाम है महाऋषि  चरक ! जर्मनी ने इनके नाम पर ही एक विभाग बनाया है उसका नाम ही है चरकोलजी !!

अंत मित्रो बात यही है जो व्यवस्था आजादी के 67 साल बाद भी भारत को विदेशी भाषा की गुलामी से मुक्त नहीं करवा पाई उस व्यवस्था के लिए भारतवासियो को गरीबी ,अन्याय ,शोषण  से मुक्त करवाना असंभव है !
_______________

संस्कृत भाषा की वैज्ञानिकता और महत्व को विस्तार से जानना चाहते है तो
 यहाँ click कर देखे !

https://www.youtube.com/watch?v=zmpEa7cLo8c

अधिक से अधिक share करें !
Posted in काश्मीर - Kashmir

सेकुलर बुद्धिजीवी गैंग का नकाब


मीडिया की आंखों में छाये “मोतियाबिन्द” का यह हाल है कि उन्हें जम्मू में तिरंगा लहराते युवक और श्रीनगर में बीते 20 सालों से पाकिस्तानी झंडा लहराते युवकों में कोई फ़र्क नहीं दिखता… लानत है ऐसी बुद्धिजीवी मानसिकता पर जो “राष्ट्रवाद” और “शर्मनिरपेक्षता” में भी अन्तर नहीं कर पाती।

कश्मीर नामक बिगडैल औलाद को पालने-पोसने और उसे लाड़-प्यार करके सिर पर बैठाने के चक्कर में जम्मू और लद्दाख नाम के दो होनहार, आज्ञाकारी और “संयुक्त परिवार” के हामी दो बेटों के साथ साठ साल में जो अन्याय हुआ है, यह आंदोलन उसी का नतीजा है, इतनी आसान सी बात सत्ता में बैठे नेता-अधिकारी समझ नहीं पा रहे हैं। अंग्रेजी मीडिया में यह सवाल उठाये जा रहे हैं कि “कश्मीर किस रास्ते पर जा रहा है?”, “कश्मीर का हल क्या होना चाहिये?” आदि-आदि। कोई भी सरकार हो यह अंग्रेजी मीडिया लगभग हमेशा सत्ता प्रतिष्ठान के नज़दीकी होते हैं, अपनी “नायाब” नीतियाँ सरकार को सुझाते रहते हैं और सरकारें भी अक्सर इन्हीं की सुनती हैं और उसी अनुरूप उनकी नीति तय होती है चाहे वह आर्थिक नीति हो या कोई और…पहले भी लिखा जा चुका है कि कश्मीर समस्या के सिर्फ़ दो ही हल हैं, या तो उसे पूरी तरह से सेना के हवाले कर दिया जाये और आंदोलन को बेरहमी से कुचला जाये (जैसा चीन ने तिब्बत में किया), या फ़िर दूसरा रास्ता है कश्मीर को आज़ाद कर दो। आज जो कश्मीरी फ़ल व्यापारी मुज़फ़्फ़राबाद जाकर अपने फ़ल बेचना चाहते हैं उन्हें अपने मन की कर लेने दो। यदि “आर्थिक भाषा” में ही उन्हें समझना है तो ऐसा ही सही। कानूनी रूप से कश्मीरियों को पाकिस्तान में फ़ल बेचने की अनुमति दी जाये, वे भी यह जान सकें कि उभरती हुई आर्थिक शक्ति और एक खुली अर्थव्यवस्था में धंधा करना ज्यादा फ़ायदेमन्द है या एक “भिखारीनुमा” पाकिस्तान के साथ। बहुत जल्दी उन्हें पता चल जायेगा कि किसके साथ रहने में ज्यादा फ़ायदा है। लेकिन शर्तें ये होना चाहिये कि, 1) कश्मीरी लोग साठ साल से मिल रही भारत सरकार की “खैरात” नहीं लेंगे, कोई सब्सिडी नहीं, कोई योजना नहीं, कोई विशेष पैकेज नहीं, किसी प्रकार की “खून-चुसाई” नहीं… 2) सैयद शाह गिलानी और मीरवाइज़ उमर फ़ारुक जैसे लोग जिन्हें कश्मीरी अपना नेता मानते हैं, भारतीय सेना द्वारा उनको मिल रहा सुरक्षा कवच हटा लिया जाये… 3) आतंकवादियों के रहनुमा मुफ़्ती मुहम्मद और उनकी बिटिया की तमाम सुविधायें कम कर दी जायें…4) यदि भारतीय व्यक्ति कश्मीर में कोई सम्पत्ति नहीं खरीद सकता है तो कश्मीरी भी भारत में कुछ न खरीदें… देखते हैं कि यह “शर्तों का ये पैकेज” वे लोग स्वीकारते हैं या नहीं? मुफ़्ती, फ़ारुक, गिलानी और मीर जैसों को साफ़-साफ़ यह बताने की जरूरत है कि हम आपको यह अत्यधिक मदद देकर आज तक अहसान कर रहे थे, नहीं चाहिये हो तो अब भाड़ में जाओ… विश्वास कीजिये, जिसे “मुफ़्तखोरी” की आदत लग जाती है, वह भिखारी आपकी सब शर्तें मान लेगा लेकिन कोई काम नहीं करेगा, कश्मीरियों को भी लौटकर भारत के पास ही आना है, सिर्फ़ हमें कुछ समय के लिये संयम रखना होगा। हमें ही यह संयम रखना होगा कि जब भी कोई भारतीय वैष्णो देवी तक जाये तो आगे कश्मीर न जाये, हमें अपनी धार्मिक भावनाओं पर नियन्त्रण रखना होगा कि सिर्फ़ पाँच साल (जी हाँ सिर्फ़ 5 साल) तक कोई भी भारतवासी अमरनाथ न जाये, पर्यटन का इतना ही शौक है तो लद्दाख जाओ, हिमाचल जाओ कहीं भी जाओ, लेकिन कश्मीर न जाओ… विदेशियों को भी वहाँ मत जाने दो… न वहाँ के सेब खाओ, न वहाँ की पश्मीना शॉल खरीदो (नहीं खरीदोगे तो मर नहीं जाओगे), कश्मीर में एक फ़ूटी कौड़ी भी भारतवासियों द्वारा खर्च नहीं की जाना चाहिये… हमारे पैसों पर पलने वाले कश्मीरी पिस्सुओं के होश ठिकाने लगाने के लिये एक आर्थिक चाबुक की भी जरूरत है… सारा आतंकवाद हवा हो जायेगा, सारी धार्मिक कट्टरता पेट की आग में घुल जायेगी… वे लोग खुद होकर कहेंगे कि भारतीयों कश्मीर आओ… धारा 370 हटाओ, यहाँ आकर बसो और हमें भूखों मरने से बचाओ… आतंकवाद का हल आम जनता ही खोज सकती है। जैसा उसने पंजाब में किया था, वैसे ही कश्मीर में भी इन फ़र्जी नेताओं को जनता लतियाने लगेगी… बस कुछ कठोर कदम और थोड़ा संयम हमें रखना होगा…

मीडिया की आंखों में छाये “मोतियाबिन्द” का यह हाल है कि उन्हें जम्मू में तिरंगा लहराते युवक और श्रीनगर में बीते 20 सालों से पाकिस्तानी झंडा लहराते युवकों में कोई फ़र्क नहीं दिखता… लानत है ऐसी बुद्धिजीवी मानसिकता पर जो “राष्ट्रवाद” और “शर्मनिरपेक्षता” में भी अन्तर नहीं कर पाती।

कश्मीर नामक बिगडैल औलाद को पालने-पोसने और उसे लाड़-प्यार करके सिर पर बैठाने के चक्कर में जम्मू और लद्दाख नाम के दो होनहार, आज्ञाकारी और “संयुक्त परिवार” के हामी दो बेटों के साथ साठ साल में जो अन्याय हुआ है, यह आंदोलन उसी का नतीजा है, इतनी आसान सी बात सत्ता में बैठे नेता-अधिकारी समझ नहीं पा रहे हैं। अंग्रेजी मीडिया में यह सवाल उठाये जा रहे हैं कि “कश्मीर किस रास्ते पर जा रहा है?”, “कश्मीर का हल क्या होना चाहिये?” आदि-आदि। कोई भी सरकार हो यह अंग्रेजी मीडिया लगभग हमेशा सत्ता प्रतिष्ठान के नज़दीकी होते हैं, अपनी “नायाब” नीतियाँ सरकार को सुझाते रहते हैं और सरकारें भी अक्सर इन्हीं की सुनती हैं और उसी अनुरूप उनकी नीति तय होती है चाहे वह आर्थिक नीति हो या कोई और…पहले भी लिखा जा चुका है कि कश्मीर समस्या के सिर्फ़ दो ही हल हैं, या तो उसे पूरी तरह से सेना के हवाले कर दिया जाये और आंदोलन को बेरहमी से कुचला जाये (जैसा चीन ने तिब्बत में किया), या फ़िर दूसरा रास्ता है कश्मीर को आज़ाद कर दो। आज जो कश्मीरी फ़ल व्यापारी मुज़फ़्फ़राबाद जाकर अपने फ़ल बेचना चाहते हैं उन्हें अपने मन की कर लेने दो। यदि “आर्थिक भाषा” में ही उन्हें समझना है तो ऐसा ही सही। कानूनी रूप से कश्मीरियों को पाकिस्तान में फ़ल बेचने की अनुमति दी जाये, वे भी यह जान सकें कि उभरती हुई आर्थिक शक्ति और एक खुली अर्थव्यवस्था में धंधा करना ज्यादा फ़ायदेमन्द है या एक “भिखारीनुमा” पाकिस्तान के साथ। बहुत जल्दी उन्हें पता चल जायेगा कि किसके साथ रहने में ज्यादा फ़ायदा है। लेकिन शर्तें ये होना चाहिये कि, 1) कश्मीरी लोग साठ साल से मिल रही भारत सरकार की “खैरात” नहीं लेंगे, कोई सब्सिडी नहीं, कोई योजना नहीं, कोई विशेष पैकेज नहीं, किसी प्रकार की “खून-चुसाई” नहीं… 2) सैयद शाह गिलानी और मीरवाइज़ उमर फ़ारुक जैसे लोग जिन्हें कश्मीरी अपना नेता मानते हैं, भारतीय सेना द्वारा उनको मिल रहा सुरक्षा कवच हटा लिया जाये… 3) आतंकवादियों के रहनुमा मुफ़्ती मुहम्मद और उनकी बिटिया की तमाम सुविधायें कम कर दी जायें…4) यदि भारतीय व्यक्ति कश्मीर में कोई सम्पत्ति नहीं खरीद सकता है तो कश्मीरी भी भारत में कुछ न खरीदें… देखते हैं कि यह “शर्तों का ये पैकेज” वे लोग स्वीकारते हैं या नहीं? मुफ़्ती, फ़ारुक, गिलानी और मीर जैसों को साफ़-साफ़ यह बताने की जरूरत है कि हम आपको यह अत्यधिक मदद देकर आज तक अहसान कर रहे थे, नहीं चाहिये हो तो अब भाड़ में जाओ… विश्वास कीजिये, जिसे “मुफ़्तखोरी” की आदत लग जाती है, वह भिखारी आपकी सब शर्तें मान लेगा लेकिन कोई काम नहीं करेगा, कश्मीरियों को भी लौटकर भारत के पास ही आना है, सिर्फ़ हमें कुछ समय के लिये संयम रखना होगा। हमें ही यह संयम रखना होगा कि जब भी कोई भारतीय वैष्णो देवी तक जाये तो आगे कश्मीर न जाये, हमें अपनी धार्मिक भावनाओं पर नियन्त्रण रखना होगा कि सिर्फ़ पाँच साल (जी हाँ सिर्फ़ 5 साल) तक कोई भी भारतवासी अमरनाथ न जाये, पर्यटन का इतना ही शौक है तो लद्दाख जाओ, हिमाचल जाओ कहीं भी जाओ, लेकिन कश्मीर न जाओ… विदेशियों को भी वहाँ मत जाने दो… न वहाँ के सेब खाओ, न वहाँ की पश्मीना शॉल खरीदो (नहीं खरीदोगे तो मर नहीं जाओगे), कश्मीर में एक फ़ूटी कौड़ी भी भारतवासियों द्वारा खर्च नहीं की जाना चाहिये… हमारे पैसों पर पलने वाले कश्मीरी पिस्सुओं के होश ठिकाने लगाने के लिये एक आर्थिक चाबुक की भी जरूरत है… सारा आतंकवाद हवा हो जायेगा, सारी धार्मिक कट्टरता पेट की आग में घुल जायेगी… वे लोग खुद होकर कहेंगे कि भारतीयों कश्मीर आओ… धारा 370 हटाओ, यहाँ आकर बसो और हमें भूखों मरने से बचाओ… आतंकवाद का हल आम जनता ही खोज सकती है। जैसा उसने पंजाब में किया था, वैसे ही कश्मीर में भी इन फ़र्जी नेताओं को जनता लतियाने लगेगी… बस कुछ कठोर कदम और थोड़ा संयम हमें रखना होगा…

Posted in P N Oak

वर्ण व्यवस्था


मुस्लिम और उनके सरपरस्त सेक्यूलरों द्वारा अक्सर ही यह अफवाह उड़ाई जाती है कि.... हमारा हिन्दू धर्म..... पूर्व काल में ....वर्ण व्यवस्था एवं छुआ-छूत जैसी कुरीतियों से भरा पड़ा था ... इसीलिए, बहुत से दलित हिन्दू ... पहले बौद्ध और फिर इस्लाम की ओर आकर्षित हो गए....!

लेकिन... ऐसा कहने वालों के पास इस बात का जबाब नहीं होता है कि..... अगर ऐसा ही था.... तो, 

हिन्दुओं के आराध्य भगवान राम ..... ब्राह्मण ना होकर एक क्षत्रिय थे.... और, भगवान कृष्ण भी यदुवंशी थे..... जिन्हे आज OBC में ही गिना जाता है..... 

फिर अगर , उस समय के समाज मे छुआ-छूत  मौजूद होते तो,  ..... गैर-ब्राह्मणों को भगवान के रूप में मान्यता कैसे मिल गयी ...???

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि.... महर्षि व्यास, बाल्मीकि इत्यादि तो अति पिछड़े वर्ग के होते हुए भी .... ब्राह्मणों तक के लिए पूजनीय थे...

कहने का तात्पर्य है कि..... मुस्लिम और सेक्यूलरों द्वारा कहने जाने वाली कहानी में कहीं न कहीं कोई बड़ा झोल जरूर है... तभी वे तर्कसंगत जबाब नहीं दे पाते हैं...!

और वो झोल ये है कि.... हम हिन्दुओं में वर्ण व्यवस्था तो जरूर थी.... लेकिन, छुआ-छूत जैसी कुरीतियां नहीं थी..... क्योंकि, इसका कोई कारण ही नहीं था....!

जबकि .. इसके उलट .... अरब में .... इस्लाम का प्रादुर्भाव होने के उपरान्त.... वहां कबीलाई झगड़ा अपने चरम पर था.... और, एक कबीले के लोगों द्वारा ..... दूसरे कबीले के अनाज, पशु और औरत को लूट लाना आम बात थी....!

इसीलिए..... अरब में मुस्लिमों  ने .... अपनी औरतों को दूसरे कबीले के लुटेरों से बचाने के लिए.... उन्हें घर में ही रखना शुरू कर दिया  ..... और, उनके दैनिक कार्यों की व्यवस्था घर के अंदर ही कर दी.... जिसे बाद में परिवार के ही किसी "अन्य सदस्य द्वारा"... घर के बाहर फेंका अथवा फिंकवा दिया जाता था... (प्रारंभिक मेहतर प्रथा ).

कालांतर में... जब उन तुर्क मुस्लिम लुटेरों ने .... हमारे हिंदुस्तान पर आक्रमण किया तो... उन्होंने अपनी ये कुरीतियां अपने साथ हमारे हिंदुस्तान में ले आयीं  .... और, वे हिंदुस्तान में अपने युद्धबंदियों ( जो कि हिन्दू थे ) से ये काम करवाने लगे ....!

उसके बाद .... जब हमारे हिंदुस्तान में मुगलों का शासन हो गया तो..... वे यहाँ के बहुसंख्यक हिन्दुओं को .... तलवार के जोर पर ....इस्लाम ग्रहण करने के लिए दबाव बनाने लगे ... साथ ही उन्हें लोभ देने लगे....!

जिससे कायर हिन्दुओं की एक बड़ी संख्या .... मुस्लिम हो गयी....

परन्तु... जिन हिन्दुओं को अपनी आन प्यारी थी.... उन्होंने मुगलों की बात मानने से इंकार दिया ... और, उन मुगलों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया...!

मुगलों के साथ इस लड़ाई में ..... युद्ध हार जाने के बाद .... उन्हें अपमानित करने के लिए..... मुगलों ने उन सैनिकों और सेनापतियों को ..... अपने हरम में..... मैला उठाने के काम में लगा दिया ...... जिसमे उस समय ... युद्ध बंदियों की पत्नियों और बहन बेटियों को .... मुग़ल सुल्तान ..... जबरन अपनी रखैल बना कर रखा करते थे...!

चूँकि.... हमारे हिंदुस्तान में मुगलों का शासन काफी समय तक रह गया.... इसीलिए, कुछ समय बाद ये कुरीति .... राजमहल के बाहर भी फ़ैल गयी और....  अमीर लोग .... उन ""राजकीय दास"" से...... "पैसे के बदले ये सेवा".... लेने लगे....!

और, चूँकि...... इस काम की शुरआत ही .....हिन्दू  युद्धवीरों और जांबाजों को अपमानित  करने के लिए किया गया था.... इसीलिए, उनकी बस्तियां और खाने-पीने का प्रबंध भी शहर से बाहर कर दिया गया ताकि, वे घबरा कर इस्लाम कबूल कर लें...!

परन्तु.... हम सभी को ..... अपने उन  हिन्दू  युद्धवीरों और जांबाजों के दृढ संकल्प के आगे नतमस्तक होना चाहिए कि.... उन्होंने सारे अपमान और दुःख को सहते हुए भी..... अपना धर्म नहीं छोड़ा और इस्लाम को दुत्कार दिया...!

उसके बाद... तरीके से ..... मुग़ल सल्तनत के कमजोर पड़ते ही.... हिन्दुओं को .... उन  अपमान झेलते हिन्दू  युद्धवीरों और जांबाजों को गले लेना चाहिए था और उन्हें हिन्दू धर्म के प्रति दी गयी इस बलिदान के लिए सम्मानित किया जाना चाहिए था....!

लेकिन... हम हिन्दुओं से एक बड़ी गलती फिर हो गयी..... और, हिन्दुओं ने उन्हें गले लगाने की जगह .... उसे वंशवादी कार्य बना दिया... और, अपने ही संगठित समाज में जहर का बीज बो दिया.... जिससे आगे चलकर ... एकीकृत और मजबूत हिन्दू समाज .... छोटी-छोटी जातियों में विभक्त होकर .... आपस में ही लड़ने लगे .... जो आज भी जारी है...!

इस तरह.... अरबी मुस्लिमों की एक कुरीति ..... हम हिन्दुओं की बेवकूफी और अदूरदर्शिता के कारण..... हम हिन्दुओं के विनाश का कारण बन गयी...!

जय महाकाल...!!!

नोट : यह लेख किसी भी समुदाय की भावना को आहत करने के लिए नहीं लिखा गया है.... बल्कि, यह लेख जात-पात और छुआ-छूत  जैसी कुरीतियों के विरुद्ध लिखी गयी है...!

लेख के साथ प्रयुक्त फोटो... महज लेख को समझाने के लिए डाला गया है... और, उसका उद्देश्य किसी भी समुदाय अथवा व्यक्ति या संगठन को अपमानित करना कदापि नहीं है...!!

मुस्लिम और उनके सरपरस्त सेक्यूलरों द्वारा अक्सर ही यह अफवाह उड़ाई जाती है कि…. हमारा हिन्दू धर्म….. पूर्व काल में ….वर्ण व्यवस्था एवं छुआ-छूत जैसी कुरीतियों से भरा पड़ा था … इसीलिए, बहुत से दलित हिन्दू … पहले बौद्ध और फिर इस्लाम की ओर आकर्षित हो गए….!

लेकिन… ऐसा कहने वालों के पास इस बात का जबाब नहीं होता है कि….. अगर ऐसा ही था…. तो,

हिन्दुओं के आराध्य भगवान राम ….. ब्राह्मण ना होकर एक क्षत्रिय थे…. और, भगवान कृष्ण भी यदुवंशी थे….. जिन्हे आज OBC में ही गिना जाता है…..

फिर अगर , उस समय के समाज मे छुआ-छूत मौजूद होते तो, ….. गैर-ब्राह्मणों को भगवान के रूप में मान्यता कैसे मिल गयी …???

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि…. महर्षि व्यास, बाल्मीकि इत्यादि तो अति पिछड़े वर्ग के होते हुए भी …. ब्राह्मणों तक के लिए पूजनीय थे…

कहने का तात्पर्य है कि….. मुस्लिम और सेक्यूलरों द्वारा कहने जाने वाली कहानी में कहीं न कहीं कोई बड़ा झोल जरूर है… तभी वे तर्कसंगत जबाब नहीं दे पाते हैं…!

और वो झोल ये है कि…. हम हिन्दुओं में वर्ण व्यवस्था तो जरूर थी…. लेकिन, छुआ-छूत जैसी कुरीतियां नहीं थी….. क्योंकि, इसका कोई कारण ही नहीं था….!

जबकि .. इसके उलट …. अरब में …. इस्लाम का प्रादुर्भाव होने के उपरान्त…. वहां कबीलाई झगड़ा अपने चरम पर था…. और, एक कबीले के लोगों द्वारा ….. दूसरे कबीले के अनाज, पशु और औरत को लूट लाना आम बात थी….!

इसीलिए….. अरब में मुस्लिमों ने …. अपनी औरतों को दूसरे कबीले के लुटेरों से बचाने के लिए…. उन्हें घर में ही रखना शुरू कर दिया ….. और, उनके दैनिक कार्यों की व्यवस्था घर के अंदर ही कर दी…. जिसे बाद में परिवार के ही किसी “अन्य सदस्य द्वारा”… घर के बाहर फेंका अथवा फिंकवा दिया जाता था… (प्रारंभिक मेहतर प्रथा ).

कालांतर में… जब उन तुर्क मुस्लिम लुटेरों ने …. हमारे हिंदुस्तान पर आक्रमण किया तो… उन्होंने अपनी ये कुरीतियां अपने साथ हमारे हिंदुस्तान में ले आयीं …. और, वे हिंदुस्तान में अपने युद्धबंदियों ( जो कि हिन्दू थे ) से ये काम करवाने लगे ….!

उसके बाद …. जब हमारे हिंदुस्तान में मुगलों का शासन हो गया तो….. वे यहाँ के बहुसंख्यक हिन्दुओं को …. तलवार के जोर पर ….इस्लाम ग्रहण करने के लिए दबाव बनाने लगे … साथ ही उन्हें लोभ देने लगे….!

जिससे कायर हिन्दुओं की एक बड़ी संख्या …. मुस्लिम हो गयी….

परन्तु… जिन हिन्दुओं को अपनी आन प्यारी थी…. उन्होंने मुगलों की बात मानने से इंकार दिया … और, उन मुगलों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया…!

मुगलों के साथ इस लड़ाई में ….. युद्ध हार जाने के बाद …. उन्हें अपमानित करने के लिए….. मुगलों ने उन सैनिकों और सेनापतियों को ….. अपने हरम में….. मैला उठाने के काम में लगा दिया …… जिसमे उस समय … युद्ध बंदियों की पत्नियों और बहन बेटियों को …. मुग़ल सुल्तान ….. जबरन अपनी रखैल बना कर रखा करते थे…!

चूँकि…. हमारे हिंदुस्तान में मुगलों का शासन काफी समय तक रह गया…. इसीलिए, कुछ समय बाद ये कुरीति …. राजमहल के बाहर भी फ़ैल गयी और…. अमीर लोग …. उन “”राजकीय दास”” से…… “पैसे के बदले ये सेवा”…. लेने लगे….!

और, चूँकि…… इस काम की शुरआत ही …..हिन्दू युद्धवीरों और जांबाजों को अपमानित करने के लिए किया गया था…. इसीलिए, उनकी बस्तियां और खाने-पीने का प्रबंध भी शहर से बाहर कर दिया गया ताकि, वे घबरा कर इस्लाम कबूल कर लें…!

परन्तु…. हम सभी को ….. अपने उन हिन्दू युद्धवीरों और जांबाजों के दृढ संकल्प के आगे नतमस्तक होना चाहिए कि…. उन्होंने सारे अपमान और दुःख को सहते हुए भी….. अपना धर्म नहीं छोड़ा और इस्लाम को दुत्कार दिया…!

उसके बाद… तरीके से ….. मुग़ल सल्तनत के कमजोर पड़ते ही…. हिन्दुओं को …. उन अपमान झेलते हिन्दू युद्धवीरों और जांबाजों को गले लेना चाहिए था और उन्हें हिन्दू धर्म के प्रति दी गयी इस बलिदान के लिए सम्मानित किया जाना चाहिए था….!

लेकिन… हम हिन्दुओं से एक बड़ी गलती फिर हो गयी….. और, हिन्दुओं ने उन्हें गले लगाने की जगह …. उसे वंशवादी कार्य बना दिया… और, अपने ही संगठित समाज में जहर का बीज बो दिया…. जिससे आगे चलकर … एकीकृत और मजबूत हिन्दू समाज …. छोटी-छोटी जातियों में विभक्त होकर …. आपस में ही लड़ने लगे …. जो आज भी जारी है…!

इस तरह…. अरबी मुस्लिमों की एक कुरीति ….. हम हिन्दुओं की बेवकूफी और अदूरदर्शिता के कारण….. हम हिन्दुओं के विनाश का कारण बन गयी…!

जय महाकाल…!!!

नोट : यह लेख किसी भी समुदाय की भावना को आहत करने के लिए नहीं लिखा गया है…. बल्कि, यह लेख जात-पात और छुआ-छूत जैसी कुरीतियों के विरुद्ध लिखी गयी है…!

लेख के साथ प्रयुक्त फोटो… महज लेख को समझाने के लिए डाला गया है… और, उसका उद्देश्य किसी भी समुदाय अथवा व्यक्ति या संगठन को अपमानित करना कदापि नहीं है…!!

Posted in छोटी कहानिया - १०,००० से ज्यादा रोचक और प्रेरणात्मक

पृश्न- गब्बर सिंह का चरित्र चित्रण कीजिये


पृश्न- गब्बर सिंह का चरित्र
चित्रण कीजिये ।
१०वीं कक्षा के छात्र द्वारा दिया
गया उत्तर-
1. सादा जीवन, उच्च विचार:
उसके जीने का ढंग बड़ा सरल था. पुराने और मैले कपड़े,
बढ़ी हुई दाढ़ी, महीनों से जंग खाते दांत और पहाड़ों पर
खानाबदोश जीवन. जैसे मध्यकालीन भारत का फकीर हो.
जीवन में अपने लक्ष्य की ओर इतना समर्पित कि ऐशो-
आराम और विलासिता के लिए एक पल की भी फुर्सत
नहीं. और विचारों में उत्कृष्टता के क्या कहने! ‘जो डर
गया, सो मर गया’ जैसे संवादों से उसने जीवन
की क्षणभंगुरता पर प्रकाश डाला था.
२. दयालु प्रवृत्ति:
ठाकुर ने उसे अपने हाथों से पकड़ा था. इसलिए उसने
ठाकुर के सिर्फ हाथों को सज़ा दी. अगर
वो चाहता तो गर्दन भी काट सकता था. पर उसके
ममतापूर्ण और करुणामय ह्रदय ने उसे ऐसा करने से रोक
दिया.
3. नृत्य-संगीत का शौकीन:
‘महबूबा ओये महबूबा’ गीत के समय उसके कलाकार
ह्रदय का परिचय मिलता है. अन्य डाकुओं की तरह
उसका ह्रदय शुष्क नहीं था. वह जीवन में नृत्य-संगीत
एवं कला के महत्त्व को समझता था. बसन्ती को पकड़ने
के बाद उसके मन का नृत्यप्रेमी फिर से जाग उठा था.
उसने बसन्ती के अन्दर छुपी नर्तकी को एक पल में
पहचान लिया था. गौरतलब यह कि कला के प्रति अपने
प्रेम को अभिव्यक्त करने का वह कोई अवसर
नहीं छोड़ता था.
4. अनुशासनप्रिय :
जब कालिया और उसके दोस्त अपने प्रोजेक्ट से नाकाम
होकर लौटे तो उसने कतई ढीलाई नहीं बरती. अनुशासन
के प्रति अपने अगाध समर्पण को दर्शाते हुए उसने उन्हें
तुरंत सज़ा दी.
5. हास्य-रस का प्रेमी:
उसमें गज़ब का सेन्स ऑफ ह्यूमर था. कालिया और उसके
दो दोस्तों को मारने से पहले उसने उन तीनों को खूब
हंसाया था. ताकि वो हंसते-हंसते दुनिया को अलविदा कह
सकें. वह आधुनिक युग का ‘लाफिंग बुद्धा’ था.
6. नारी के प्रति सम्मान:
बसन्ती जैसी सुन्दर नारी का अपहरण करने के बाद उसने
उससे एक नृत्य का निवेदन किया. आज-कल
का खलनायक होता तो शायद कुछ और करता.
7. भिक्षुक जीवन:
उसने हिन्दू धर्म द्वारा दिखाए गए जीवन के रास्ते
को अपनाया था. रामपुर, रामगढ़ और अन्य गाँवों से उसे
जो भी सूखा-कच्चा अनाज मिलता था, वो उसी से
अपनी गुजर-बसर करता था. बिरयानी या चिकन मलाई
टिक्का की उसने कभी इच्छा ज़ाहिर नहीं की.
8. सामाजिक कार्य:
डकैती के पेशे के अलावा वो छोटे बच्चों को सुलाने
का भी काम करता था.