Posted in भारतीय उत्सव - Bhartiya Utsav

12 regions of South and SE Asia are celebrating Solar New Year or similar forms of festivals today. Have a great time!


12 regions of South and SE Asia are celebrating Solar New Year or similar forms of festivals today. Have a great time!

Posted in नहेरु परिवार - Nehru Family

Mr J Nehru


Mr J Nehru, the gem of british empire.
This is a 1950 image of him by BBC. Two years after we lost control of a third of Kashmir to Pakis.

Though we won the war and thwarted back the backstabbing Pakis, the war of 1947-’48 resulted in UN Ceasefire Line of 1949 (later became the Line of Control after the Simla Agreement of 1972).

Nehru the wimp was too busy with his frolicking ways to care about the kashmir issue.

Dr. Subramanian Swamy

Posted in भारत का गुप्त इतिहास- Bharat Ka rahasyamay Itihaas

Jallianwala Bagh


 

TODAY ……..IN 1919 …..MORE THAN 1300 PEOPLE WERE …KILLED BY BRITISH GENERAL R.E.H. DYER …and was Honoured by the BRITISH EVIL QUEEN for his act. ….

The 1919 Amritsar massacre, known alternatively as the Jallianwala Bagh massacre after the Jallianwala Bagh (Garden) in the northern Indian city of Amritsar, was ordered by General R.E.H. Dyer. On Sunday April 13, 1919, which happened to be ‘Baisakhi’, one of Punjab’s largest religious festivals, fifty British Indian Army soldiers, commanded by Brigadier-General Reginald Dyer, began shooting at an unarmed gathering of men, women, and children without warning. Dyer marched his fifty riflemen to a raised bank and ordered them to kneel and fire. Dyer ordered soldiers to reload their rifles several times and they were ordered to shoot to kill. Official British Raj sources estimated the fatalities at 379, and with 1,100 wounded. Civil Surgeon Dr Williams DeeMeddy indicated that there were 1,526 casualties. However, the casualty number quoted by the Indian National Congress was more than 1,500, with roughly 1,000 killed.

On April 13, the holiday of Baisakhi, thousands of Hindus, Sikhs and Muslims gathered in the Jallianwala Bagh (garden) near the Harmandir Sahib in Amritsar. Baisakhi is a Sikh festival, commemorating the day that Guru Gobind Singh founded the Khalsa Panth in 1699, and also known as the ‘Birth of Khalsa.’ During this time people celebrate by congregating in religious and community fairs, and there may have been a large number who were unaware of the political meeting.

Cartoon in Punch 14 July 1920, on the occasion of Montagu labelling as “frightful” General Dyer for his role in the Amritsar massacreAn hour after the meeting began as scheduled at 4:30 pm, Brigadier-General Reginald Dyer marched a group of sixty-five Gurkha and twenty-five Baluchi soldiers into the Bagh, fifty of whom were armed with rifles. Dyer had also brought two armoured cars armed with machine guns, however the vehicles were stationed outside the main gate as they were unable to enter the Bagh through the narrow entrance.

The Jallianwala Bagh was bounded on all sides by houses and buildings and had few narrow entrances, most of which were kept permanently locked. The main entrance was relatively wider, but was guarded by the troops backed by the armoured vehicles. General Dyer ordered troops to begin shooting without warning or any order to disperse, and to direct shooting towards the densest sections of the crowd. He continued the shooting, approximately 1,650 rounds in all, until ammunition was almost exhausted.

Apart from the many deaths directly from the shooting, a number of people died in stampedes at the narrow gates or by jumping into the solitary well on the compound to escape the shooting. A plaque in the monument at the site, set up after independence, says that 120 bodies were pulled out of the well.

The wounded could not be moved from where they had fallen, as a curfew had been declared – many more died during the night.

The number of deaths caused by the shooting is disputed. While the official figure given by the British inquiry into the massacre is 379 deaths, the method used by the inquiry has been subject to criticism.[by whom?] Officials were tasked with finding who had been killed during July 1919, three months after the massacre, by inviting inhabitants of the city to volunteer information about those who had died. This information was likely incomplete due to fear that those who participated would be identified as having been present at the meeting, and some of the dead may not have had close relations in the area. Additionally, a senior civil servant in the Punjab interviewed by the members of the committee admitted that the actual figure could be higher.

Since the official figures were likely flawed considering the size of the crowd (15,000-20,000), number of rounds shot and period of shooting, the politically interested Indian National Congress instituted a separate inquiry of its own, with conclusions that differed considerably from the Government’s. The casualty number quoted by the INC was more than 1,500, with approximately 1,000 killed.] Despite the Government’s best efforts to suppress information of the massacre, news spread elsewhere in India and widespread outrage ensued; however, the details of the massacre did not become known in Britain until December 1919.

As per regimental diaries kept by the Gorkha Battalion adjutants in the British Indian Army, the plan to attack the gathering in Amritsar was claimed to have been triggered by the news of a mob attack on a British school teacher Sherwood on April 9, which was later shown to be merely an excuse used by an incensed Dyer who commanded a brigade in nearby Jalandhar and the Lt Governor of Punjab Michael O’Dwyer who were convinced that they faced an imminent threat of mutiny in Punjab on the scale of 1857.

Back in his headquarters, General Dyer reported to his superiors that he had been “confronted by a revolutionary army”.

In a telegram sent to Dyer, British Lieutenant-Governor of Punjab, Sir Michael O’Dwyer wrote: “Your action is correct. Lieutenant Governor approves.”

O’Dwyer requested that martial law be imposed upon Amritsar and other areas; this was granted by the Viceroy, Lord Chelmsford, after the massacre. The “crawling order” was posted on Aug 19 under the auspices of martial law.

Dyer was messaged to appear before the Hunter Commission, a commission of inquiry into the massacre that was ordered to convene by Secretary of State for India, Edwin Montagu, during late 1919. Dyer said before the commission that he came to know about the meeting at the Jallianwala Bagh at 12:40 hours that day but did not attempt to prevent it. He stated that he had gone to the Bagh with the deliberate intention of opening fire if he found a crowd assembled there.

“I think it quite possible that I could have dispersed the crowd without firing but they would have come back again and laughed, and I would have made, what I consider, a fool of myself.” — Dyer’s response to the Hunter Commission Enquiry.

Dyer said he would have used his machine guns if he could have got them into the enclosure, but these were mounted on armoured cars. He said he did not stop the shooting when the crowd began to disperse because he thought it was his duty to keep shooting until the crowd dispersed, and that a little shooting would not do any good. In fact he continued the shooting till the ammunition was almost exhausted.

He stated that he did not make any effort to tend to the wounded after the shooting: “Certainly not. It was not my job. Hospitals were open and they could have gone there.”

The Hunter Commission did not award any penal nor disciplinary action because Dyer’s actions were condoned by various superiors (later upheld by the Army Council). However, he was finally found guilty of a mistaken notion of duty and relieved of his command.

Posted in P N Oak

कांग्रेस के 80% मंत्री धर्मपरिवर्तित ईसाई या मुसलमान है


कांग्रेस के 80% मंत्री धर्मपरिवर्तित ईसाई या मुसलमान है बस धोखे देने को नाम ही हिन्दू की तरह है हिन्दू वोटरो को लुभाने के लिए….
• सबसे पहले सोनिया गांधी असली नाम एंटोनिया माइनो कट्टर कैथोलिक ईसाई
• राहुल गांधी असली नाम राउल विंची
• प्रियंका गांधी का पति राबर्ट वाड्रा कट्टर ईसाई
• प्रियंका के दो बच्चे रेहना और मिराया
• दिग्विजय सिंह ईसाई धर्म अपना चुका है
• छतीसगढ़ के पूर्व कांग्रेसी मुख्यमंत्री अजित जोगी और उनका पूरा परिवार ईसाई धर्म
अपना चुका है
• कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदम्बरम ईसाई बन चुके है और उनकी पत्नी नलिनी 167 ईसाई
मिशनरी एनजीओ की मालकिन है

  • पूर्व चुनाव आयुक्त नवीन चावला, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस केजी बालाकृषडन भी ईसाई धर्म अपना चुके है

• 2जी घोटाले का आरोपी ए राजा ईसाई है

  • द्रमुक प्रमुख एम के करुणानिधि व उनका पूराखानदान ईसाई बन चुका है
  • वरिष्ठ कांग्रेसी नेता प्रणव मुखर्जी, सुबोध कान्त सहाय, कपिल सिब्बल, सत्यव्रत चतुर्वेदी, अंबिका सोनी,पीवी थामस, ए के एन्टोनी, जनार्दन दिवेदी, मनीष तिवारी ये सभी ईसाई
    धर्म अपना चुके है
  • धर्म को अफीम मनाने वाले कम्युनिस्ट सीताराम येचूरी, प्रकाश करात, विनायक सेन ईसाई है
  • अरुंधति राय, स्वामी अग्निवेस, सारे कांग्रेसी पत्रकार ईसाई हो चुके है
  • आंध्र प्रदेश के 150 से ज्यादा मंत्री ईसाई बन चुके है इसलिए आंध्र प्रदेश मे सारे मंदिरो को तोड़ा जा चुका है ,
  • बाकी बचे नेता मुस्लिम है जैसे सलमान खुर्सीद, अहमद पटेल इत्यादि ।
  • आंध्र प्रदेश के वाईएसआर रेड्डी ईसाई है और उसका बेटा अनिल जो की ईसाई मिशनरी समाज का सबसे बड़ा माफिया है,इसी अनिल पर यह भी आरोप है की धर्म परिवर्तन के लिए जो कमीशन बाहर से आता है उसके लेनदेन संबंधी बँटवारे को लेकर अनिल ने वाईएसआर केआई हत्या का षड्यंत्र रचा था । इसी अनिल ने पूरे भारत के जनमानस
    को ईसाई बनाने का ठेका लिया है । इसके पास 21 निजी हेलीकाप्टर है व खरबो रुपये की संपति है इसनेकेवल हैदराबाद मे ही 100 से ज्यादा conversion workshops लगा रखी है धर्म परिवर्तन के लिए । इसका ढांचा किसी बहुत बड़ी एमएनसी कंपनी द्वारा बनाया गय जिसमे सीईओ से लेकर मार्केटिंग professionals तक भर्ती किए जाते है । प्रत्येक ईसाई मिशनरी को टार्गेट दिया जाता है की प्रति सप्ताह 10 हिन्दुओ को ईसाई बनानेका और कमीशन
    दिया जाता है । औसतन 200 हिन्दुओ को ईसाई धर्म परिवर्तन न करने के कारण जला दिया जाता है । यह सरकारी आंकड़ा है असली संख्या इससे ज्यादा हो सकती है

(( सारे आंकड़े विकिपीडिया और विभिन्न ब्लॉगर के माध्यम से एकत्रित किये गए है ))

Posted in आयुर्वेद - Ayurveda

Bye Bye, Eye Stye!


Bye Bye, Eye Stye!

Earlier tonight, Frank and I decided to go out on a date. A sushi dinner date. Man, do I LOVE me some sushi. A lot of times, we’ll make-shift some sashimi bowls at home to save money, but when we go out, it’s a real treat.

We purposefully ignore all the “unhealthy” things involved with eating out. Bad oils, cooking with aluminum…In this case, farm-raised fish (fed corn, soy, antibiotics, food coloring, etc.), soy sauce (probably GMO, although sometimes we bring our own fermented soy saucewhen we remember), pickled ginger sweetened with aspartame (which I don’t eat actually since it gives me sharp pains in my side).

I sound like I’m just falling apart, don’t I? It’s really not that bad, visibly, but I have delayed reactions later.

Generally, I hear people in the real food community say they eat “80/20″—that is, 80% real food, 20% prepared/processed food. For Frank and I, it’s really more like 95/5. No joke. The reason?

I’m a canary.

That’s what Frank calls me, at least. You know? The canary in the mine?

This is because I react to so many things, when other people don’t. I don’t know why this happens. But, in many ways, it has been a blessing because it has led me down this journey of finding true health and healing.

Anyway, so tonight, we went out to eat a nice sushi dinner. I avoided the aspartame-sweetened ginger, we requested our cooked roll NOT be baked in aluminum foil, and we only used the teensiest bit of soy sauce!

But when we got home, my right eye started poofing up.

I honestly don’t know if it was something in the food, something the food touched, a perfume someone was wearing, the nail salon we passed on the way to the restaurant that made me retch for 60 seconds. Maybe it was something I touched and then rubbed on my eye accidentally.

I DON’T KNOW. All I know is that this kind of thing happens way more often than I’d like. The last time I wore eyeliner, one eye was swollen closed for a WEEK.

Luckily, I have an entire arsenal of natural remedies just waiting in my kitchen!

Frank was quick to say, “Baby! Let’s put something on that! What do you have that can fix it???”

What did I have?

Probiotics: Milk kefir (buy here)
The Most Powerful Anti-inflammatory Ever: Turmeric (buy here)
Starch to make a paste: Arrowroot powder (buy here)
Berkey Fluoride-Free Filtered Water (buy here)

How to get rid of a stye

Very quickly, I mixed together 1/4 tsp turmeric, 1/4 tsp arrowroot powder, and 1/2 tsp of milk kefir. Stir with a very tiny utensil, like a toothpick or a chopstick. Then, I added one drop of water at a time until the mixture became a thick paste. I applied the paste to the effected area with a clean finger, and let it dry.

After it dried, it felt very tingly, but the swelling went down almost immediately. Within 5 minutes, the swelling had reduced by half, and within 20 minutes, it was completely gone.

I think it was really important that I applied the paste as soon as possible.

If you don’t have any kefir, I think the paste would work just as well with just water. It’s the turmeric that helps with the swelling. I just like the idea of using kefir where-ever possible, since it’s such a superfood!

Anyway, hope this helps you next time you get a stye! Worked wonders for me!!

P.S. Eye styes can be caused by infections or by allergic reactions. The beauty of using turmeric is that it *should* work for both! It reduces inflammation AND cleanses the blood from toxins! Yay!

 

Posted in जीवन चरित्र

Pritviraj Chauhan Ki samadhi


दोस्तों 2 तस्बीर आप के सामने है 
आप में से सायद अधिकतम लोगो को याद भी नहीं होगा की ये किस जगह की तस्बीर है 
ये तस्बीरे सम्राट प्रथ्वीराज सिंघ चौहान के अस्थीयो की समाधी की है जो की मैनपुरी के बुराड में है  भाइयो तस्बीरो में आपदेख ही रहे होगे कैसी दुर्दसा हो राखी है वीरो की समाधी स्थल की :'( :'( :'( :'( 
भाइयो हमारे कुछ मित्रो ने इस समाधी स्थल की जीर्ण उद्धार के लिये विडा उठाया है और में आज आप के सामने हाथ फैलाकर आप से कुछ मदत की आशा करता हु ताकी हम इस सामाधी को थोडा सा साफ़ और थोडा सा चमका सके ताकी कम से कम लोगो के देखने लायक तो हो जाए 
भाइयो कोन  कोन है जो 50 रूपए से 1000 रूपए तक दान कर सकता है
ी समाधी की है जो की मैनपुरी के बुराड में है भाइयो तस्बीरो में आपदेख ही रहे होगे कैसी दुर्दसा हो राखी है वीरो की समाधी स्थल की    
भाइयो हमारे कुछ मित्रो ने इस समाधी स्थल की जीर्ण उद्धार के लिये विडा उठाया है और में आज आप के सामने हाथ फैलाकर आप से कुछ मदत की आशा करता हु ताकी हम इस सामाधी को थोडा सा साफ़ और थोडा सा चमका सके ताकी कम से कम लोगो के देखने लायक तो हो जाए
भाइयो कोन कोन है जो 50 रूपए से 1000 रूपए तक दान कर सकता है
Posted in राजनीति भारत की - Rajniti Bharat ki, Rajiv Dixit

जन गण मन : राष्ट्र गान या गुलामी का गीत – जन गण मन की सच्चाई


जन गण मन : राष्ट्र गान या गुलामी का गीत – जन गण मन की सच्चाई


सन 1911 तक भारत की राजधानी बंगाल हुआ करता था। सन 1905 में जब बंगाल विभाजन को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बंग-भंग आन्दोलन के विरोध में बंगाल के लोग उठ खड़े हुए तो अंग्रेजो ने अपने आपको बचाने के लिए के कलकत्ता से हटाकर राजधानी को दिल्ली ले गए और 1911में दिल्ली को राजधानी घोषित कर दिया। पूरे भारत में उस समय लोग विद्रोह से भरे हुए थे तो अंग्रेजो ने अपने इंग्लॅण्ड के राजा को भारत आमंत्रित किया ताकि लोग शांत हो जाये। इंग्लैंड का राजा जोर्ज पंचम 1911 में भारत में आया। रविंद्रनाथ टैगोर पर दबाव बनाया गया कि तुम्हे एक गीत जोर्ज पंचम के स्वागत में लिखना ही होगा।

 

उस समय टैगोर का परिवार अंग्रेजों के काफी नजदीक हुआ करता था, उनके परिवार के बहुत से लोग ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम किया करते थे, उनके बड़े भाई अवनींद्र नाथ टैगोर बहुत दिनों तक ईस्ट इंडिया कंपनी के कलकत्ता डिविजन के निदेशक (Director) रहे। उनके परिवार का बहुत पैसा ईस्ट इंडिया कंपनी में लगा हुआ था। और खुद रविन्द्र नाथ टैगोर की बहुत सहानुभूति थी अंग्रेजों के लिए। रविंद्रनाथ टैगोर ने मन से या बेमन से जो गीत लिखा उसके बोल है “जन गण मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता”। इस गीत के सारे के सारे शब्दों में अंग्रेजी राजा जोर्ज पंचम का गुणगान है, जिसका अर्थ समझने पर पता लगेगा कि ये तो हकीक़त में ही अंग्रेजो की खुशामद में लिखा गया था।

 

इस राष्ट्रगान का अर्थ कुछ इस तरह से होता है “भारत के नागरिक, भारत की जनता अपने मन से आपको (इंग्लॅण्ड के राजा जार्ज पंचम को)भारत का भाग्य विधाता समझती है और मानती है। हे अधिनायक (Superhero) तुम्ही भारत के भाग्य विधाता हो। तुम्हारी जय हो ! जय हो ! जय हो ! तुम्हारे भारत आने से सभी प्रान्त पंजाब, सिंध, गुजरात, मराठा मतलब महारास्त्र, द्रविड़मतलब दक्षिण भारत, उत्कल मतलब उड़ीसा, बंगाल आदि और जितनी भी नदिया जैसे यमुना और गंगा ये सभी हर्षित है, खुश है, प्रसन्न है , तुम्हारा नाम लेकर ही हम जागते है और तुम्हारे नाम का आशीर्वाद चाहते है। तुम्हारी ही हम गाथा गाते है। हे भारत के भाग्य विधाता (सुपर हीरो ) तुम्हारी जय हो जय हो जय हो। ”

 

जोर्ज पंचम भारत आया 1911 में और उसके स्वागत में ये गीत गाया गया। जब वो इंग्लैंड चला गया तो उसने उस जन गण मन का अंग्रेजी में अनुवाद करवाया। क्योंकि जब भारत में उसका इस गीत से स्वागत हुआ था तब उसके समझ में नहीं आया था कि ये गीत क्यों गाया गया और इसका अर्थ क्या है। जब अंग्रेजी अनुवाद उसने सुना तो वह बोला कि इतना सम्मान और इतनी खुशामद तो मेरी आज तक इंग्लॅण्ड में भी किसी ने नहीं की। वह बहुत खुश हुआ। उसने आदेश दिया कि जिसने भी ये गीत उसके (जोर्ज पंचम के) लिए लिखा है उसे इंग्लैंड बुलाया जाये। रविन्द्र नाथ टैगोर इंग्लैंड गए। जोर्ज पंचम उस समय नोबल पुरस्कार समिति का अध्यक्ष भी था।

 

उसने रविन्द्र नाथ टैगोर को नोबल पुरस्कार से सम्मानित करने का फैसला किया। तो रविन्द्र नाथ टैगोर ने इस नोबल पुरस्कार को लेने से मना कर दिया। क्यों कि गाँधी जी ने बहुत बुरी तरह से रविन्द्रनाथ टेगोर को उनके इस गीत के लिए खूब डांटा था। टैगोर ने कहा की आप मुझे नोबल पुरस्कार देना ही चाहते हैं तो मैंने एक गीतांजलि नामक रचना लिखी है उस पर मुझे दे दो लेकिन इस गीत के नाम पर मत दो और यही प्रचारित किया जाये क़ि मुझे जो नोबेल पुरस्कार दिया गया है वो गीतांजलि नामक रचना के ऊपर दिया गया है। जोर्ज पंचम मान गया और रविन्द्र नाथ टैगोर को सन 1913 में गीतांजलि नामक रचना के ऊपर नोबल पुरस्कार दिया गया।

 

रविन्द्र नाथ टैगोर की ये सहानुभूति ख़त्म हुई 1919 में जब जलिया वाला कांड हुआ और गाँधी जी ने लगभग गाली की भाषा में उनको पत्र लिखा और कहा क़ि अभी भी तुम्हारी आँखों से अंग्रेजियत का पर्दा नहीं उतरेगा तो कब उतरेगा,तुम अंग्रेजों के इतने चाटुकार कैसे हो गए, तुम इनके इतने समर्थक कैसे हो गए ? फिर गाँधी जी स्वयं रविन्द्र नाथ टैगोर से मिलने गए और बहुत जोर से डाटा कि अभी तक तुम अंग्रेजो की अंध भक्ति में डूबे हुए हो ? तब जाकर रविंद्रनाथ टैगोर की नीद खुली। इस काण्ड का टैगोर ने विरोध किया और नोबल पुरस्कार अंग्रेजी हुकूमत को लौटा दिया। सन 1919 से पहले जितना कुछ भी रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा वो अंग्रेजी सरकार के पक्ष में था और 1919के बाद उनके लेख कुछ कुछ अंग्रेजो के खिलाफ होने लगे थे।

 

रविन्द्र नाथ टेगोर के बहनोई, सुरेन्द्र नाथ बनर्जी लन्दन में रहते थे और ICS ऑफिसर थे। अपने बहनोई को उन्होंने एक पत्र लिखा था (ये 1919 के बाद की घटना है) । इसमें उन्होंने लिखा है कि ये गीत ‘जन गण मन’ अंग्रेजो के द्वारा मुझ पर दबाव डलवाकर लिखवाया गया है। इसके शब्दों का अर्थ अच्छा नहीं है। इस गीत को नहीं गाया जाये तो अच्छा है। लेकिन अंत में उन्होंने लिख दिया कि इस चिठ्ठी को किसी को नहीं दिखाए क्योंकि मैं इसे सिर्फ आप तक सीमित रखना चाहता हूँ लेकिन जब कभी मेरी म्रत्यु हो जाये तो सबको बता दे। 7 अगस्त 1941 को रबिन्द्र नाथ टैगोर की मृत्यु के बाद इस पत्र को सुरेन्द्र नाथ बनर्जी ने ये पत्र सार्वजनिक किया, और सारे देश को ये कहा क़ि ये जन गन मन गीत न गाया जाये।

 

1941 तक कांग्रेस पार्टी थोड़ी उभर चुकी थी। लेकिन वह दो खेमो में बट गई। जिसमे एक खेमे के समर्थक बाल गंगाधर तिलक थे और दुसरे खेमे में मोती लाल नेहरु थे। मतभेद था सरकार बनाने को लेकर। मोती लाल नेहरु चाहते थे कि स्वतंत्र भारत की सरकार अंग्रेजो के साथ कोई संयोजक सरकार (Coalition Government) बने। जबकि गंगाधर तिलक कहते थे कि अंग्रेजो के साथ मिलकर सरकार बनाना तो भारत के लोगों को धोखा देना है। इस मतभेद के कारण लोकमान्य तिलक कांग्रेस से निकल गए और उन्होंने गरम दल बनाया। कोंग्रेस के दो हिस्से हो गए। एक नरम दल और एक गरम दल।

 

गरम दल के नेता थे लोकमान्य तिलक जैसे क्रन्तिकारी। वे हर जगह वन्दे मातरम गाया करते थे। और नरम दल के नेता थे मोती लाल नेहरु (यहाँ मैं स्पष्ट कर दूँ कि गांधीजी उस समय तक कांग्रेस की आजीवन सदस्यता से इस्तीफा दे चुके थे, वो किसी तरफ नहीं थे, लेकिन गाँधी जी दोनों पक्ष के लिए आदरणीय थे क्योंकि गाँधी जी देश के लोगों के आदरणीय थे)। लेकिन नरम दल वाले ज्यादातर अंग्रेजो के साथ रहते थे। उनके साथ रहना, उनको सुनना, उनकी बैठकों में शामिल होना। हर समय अंग्रेजो से समझौते में रहते थे। वन्देमातरम से अंग्रेजो को बहुत चिढ होती थी। नरम दल वाले गरम दल को चिढाने के लिए 1911 में लिखा गया गीत “जन गण मन” गाया करते थे और गरम दल वाले “वन्दे मातरम”।

 

नरम दल वाले अंग्रेजों के समर्थक थे और अंग्रेजों को ये गीत पसंद नहीं था तो अंग्रेजों के कहने पर नरम दल वालों ने उस समय एक हवा उड़ा दी कि मुसलमानों को वन्दे मातरम नहीं गाना चाहिए क्यों कि इसमें बुतपरस्ती (मूर्ति पूजा) है। और आप जानते है कि मुसलमान मूर्ति पूजा के कट्टर विरोधी है। उस समय मुस्लिम लीग भी बन गई थी जिसके प्रमुख मोहम्मद अली जिन्ना थे। उन्होंने भी इसका विरोध करना शुरू कर दिया क्योंकि जिन्ना भी देखने भर को (उस समय तक) भारतीय थे मन,कर्म और वचन से अंग्रेज ही थे उन्होंने भी अंग्रेजों के इशारे पर ये कहना शुरू किया और मुसलमानों को वन्दे मातरम गाने से मना कर दिया। जब भारत सन 1947 में स्वतंत्र हो गया तो जवाहर लाल नेहरु ने इसमें राजनीति कर डाली। संविधान सभा की बहस चली। संविधान सभा के 319 में से 318 सांसद ऐसे थे जिन्होंने बंकिम बाबु द्वारा लिखित वन्देमातरम को राष्ट्र गान स्वीकार करने पर सहमति जताई।

 

बस एक सांसद ने इस प्रस्ताव को नहीं माना। और उस एक सांसद का नाम था पंडित जवाहर लाल नेहरु। उनका तर्क था कि वन्दे मातरम गीत से मुसलमानों के दिल को चोट पहुचती है इसलिए इसे नहीं गाना चाहिए (दरअसल इस गीत से मुसलमानों को नहीं अंग्रेजों के दिल को चोट पहुंचती थी)। अब इस झगडे का फैसला कौन करे, तो वे पहुचे गाँधी जी के पास। गाँधी जी ने कहा कि जन गन मन के पक्ष में तो मैं भी नहीं हूँ और तुम (नेहरु ) वन्देमातरम के पक्ष में नहीं हो तो कोई तीसरा गीत तैयार किया जाये। तो महात्मा गाँधी ने तीसरा विकल्प झंडा गान के रूप में दिया “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा झंडा ऊँचा रहे हमारा”। लेकिन नेहरु जी उस पर भी तैयार नहीं हुए।

 

नेहरु जी का तर्क था कि झंडा गान ओर्केस्ट्रा पर नहीं बज सकता और जन गन मन ओर्केस्ट्रा पर बज सकता है। उस समय बात नहीं बनी तो नेहरु जी ने इस मुद्दे को गाँधी जी की मृत्यु तक टाले रखा और उनकी मृत्यु के बाद नेहरु जी ने जन गण मन को राष्ट्र गान घोषित कर दिया और जबरदस्ती भारतीयों पर इसे थोप दिया गया जबकि इसके जो बोल है उनका अर्थ कुछ और ही कहानी प्रस्तुत करते है,और दूसरा पक्ष नाराज न हो इसलिए वन्दे मातरम को राष्ट्रगीत बना दिया गया लेकिन कभी गया नहीं गया। नेहरु जी कोई ऐसा काम नहीं करना चाहते थे जिससे कि अंग्रेजों के दिल को चोट पहुंचे, मुसलमानों के वो इतने हिमायती कैसे हो सकते थे जिस आदमी ने पाकिस्तान बनवा दिया जब कि इस देश के मुसलमान पाकिस्तान नहीं चाहते थे,जन गण मन को इस लिए तरजीह दी गयी क्योंकि वो अंग्रेजों की भक्ति में गाया गया गीत था और वन्देमातरम इसलिए पीछे रह गया क्योंकि इस गीत से अंगेजों को दर्द होता था।

 

बीबीसी ने एक सर्वे किया था। उसने पूरे संसार में जितने भी भारत के लोग रहते थे, उनसे पुछा कि आपको दोनों में से कौन सा गीत ज्यादा पसंद है तो 99 % लोगों ने कहा वन्देमातरम। बीबीसी के इस सर्वे से एक बात और साफ़ हुई कि दुनिया के सबसे लोकप्रिय गीतों में दुसरे नंबर पर वन्देमातरम है। कई देश है जिनके लोगों को इसके बोल समझ में नहीं आते है लेकिन वो कहते है कि इसमें जो लय है उससे एक जज्बा पैदा होता है।

 

तो ये इतिहास है वन्दे मातरम का और जन गण मन का। अब ये आप को तय करना है कि आपको क्या गाना है ?

 

इतने लम्बे पत्र को आपने धैर्यपूर्वक पढ़ा इसके लिए आपका धन्यवाद्। और अच्छा लगा हो तो इसे फॉरवर्ड कीजिये, आप अगर और भारतीय भाषाएँ जानते हों तो इसे उस भाषा में अनुवादित कीजिये ।

 

वन्दे मातरम !!!

जय हिंद !!!

जय भारत !!!

 

Posted in भारतीय मंदिर - Bharatiya Mandir

A Hindu temple on Volcanic mountains , Java ,Indonesia


A Hindu temple on Volcanic mountains , Java ,Indonesia

.
Tag Your Best friend ...
#SpreadHinduism #| Save Hinduism in Kashmir |.. Share please 
 Like ►►► # [ World Hindus Updates ] Page ►►►

A Hindu temple on Volcanic mountains , Java ,Indonesia

Posted in Uncategorized

HIGH AND LOW BLOOD PRESSURE TREATMENT – RAJIV DIXIT


HIGH AND LOW BLOOD PRESSURE TREATMENT – RAJIV DIXIT

bhelthy

View original post

Posted in जीवन चरित्र

सरदार पटेल


सरदार पटेल

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
सरदार पटेल
Sardar-Vallabh-Bhai-Patel.jpg
पूरा नाम सरदार वल्लभ भाई पटेल
अन्य नाम सरदार पटेल, लौहपुरुष, भारत का बिस्मार्क
जन्म 31 अक्टूबर1875
जन्म भूमि नाडियाडगुजरात
मृत्यु 15 दिसंबर1950 (उम्र- 75)
मृत्यु स्थान मुम्बईमहाराष्ट्र
मृत्यु कारण दिल का दौरा
अविभावक झवेरभाई पटेल, लाड़बाई
पति/पत्नी झवेरबा[1]
संतान पुत्र- दहयाभाई पटेल, पुत्री- मणिबेन पटेल
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि भारत के लौहपुरुष
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पद उप प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, सूचना मंत्री और राज्य मंत्री
कार्य काल 15 अगस्त1947 से 15 दिसंबर,1950
जेल यात्रा (1930), जनवरी 1932अक्टूबर1940
शिक्षा वक़ालत
भाषा हिंदी
पुरस्कार-उपाधि भारत रत्न
विशेष योगदान देशी रियासतों का विलय स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से सरदार पटेल का इसमें विशेष योगदान था। नीतिगत दृढ़ता के लिए ‘राष्ट्रपिता’ ने उन्हें सरदार और ‘लौह पुरुष’ की उपाधि दी।
आंदोलन नमक सत्याग्रह
अन्य जानकारी वास्तव में सरदार पटेल आधुनिक भारत के शिल्पी थे। उनके कठोर व्यक्तित्व में विस्मार्क[2] जैसी संगठन कुशलता, कौटिल्य जैसी राजनीति सत्ता तथा राष्ट्रीय एकता के प्रति अब्राहम लिंकन जैसी अटूट निष्ठा थी।

सरदार वल्लभ भाई पटेल (अंग्रेज़ीSardar Vallabhbhai Patel; जन्म- 31 अक्टूबर1875; मृत्यु- 15 दिसंबर1950) का उपनाम ‘सरदार पटेल’ है। सरदार पटेल भारतीय बैरिस्टर और प्रसिद्ध राजनेता थे। भारत के स्वाधीनता संग्राम के दौरान ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस‘ के नेताओं में से वे एक थे।1947 में भारत की आज़ादी के बाद पहले तीन वर्ष वे उप प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, सूचना मंत्री और राज्य मंत्री रहे थे। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद क़रीब पाँच सौ से भी ज़्यादा देसी रियासतों का एकीकरण सबसे बड़ी समस्या थी। कुशल कूटनीति और जरूरत पड़ने पर सैन्य हस्तक्षेप के जरिए उन्होंने उन अधिकांश रियासतों को तिरंगे के तले लाने में सफलता प्राप्त की। इसी उपलब्धि के चलते सरदार पटेल को लौह पुरुष या भारत का बिस्मार्क की उपाधि से सम्मानित किया गया। उन्हें मरणोपरांत वर्ष 1991 में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न‘ दिया गया।

[सम्पादन]जीवन परिचय

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875नाडियाड गुजरातभारत में हुआ था। सरदार पटेल का जन्म लेवा पट्टीदार जाति के एक समृद्ध ज़मींदार परिवार में हुआ था। वे झवेरभाई पटेल एवं लाड़बाई की चौथी संतान थे। सोमभाई, नरसीभाई और विट्ठलदास झवेरभाई पटेल उनके अग्रज थे। पारम्परिक हिन्दू माहौल में पले-बढ़े पटेल ने करमसद में प्राथमिक विद्यालय और पेटलाद स्थित उच्च विद्यालय में शिक्षा प्राप्त की, लेकिन उन्होंने अधिकांश ज्ञान स्वाध्याय से अर्जित किया। 16 वर्ष की आयु में उनका विवाह हो गया, 22 साल की उम्र में उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा पास की और ज़िला अधिवक्ता की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए, जिससे उन्हें वक़ालत करने की अनुमति मिली। 1900 में उन्होंने गोधरा में स्वतंत्र ज़िला अधिवक्ता कार्यालय की स्थापना की और दो साल बाद खेड़ा ज़िले के बोरसद नामक स्थान पर चले गए।

[सम्पादन]परिवार

सरदार पटेल के पिता झबेरभाई एक धर्मपरायण व्यक्ति थे। गुजरात में सन् 1829 में स्वामी सहजानन्द द्वारा स्थापित स्वामी नारायण पंथ के वे परम भक्त थे। 55 वर्ष की अवस्था के उपरान्त उन्होंने अपना जीवन उसी में अर्पित कर दिया था। वल्लभभाई ने स्वयं कहा है : ‘‘मैं तो साधारण कुटुम्ब का था। मेरे पिता मन्दिर में ही ज़िन्दगी बिताते थे और वहीं उन्होंने पूरी की।’’ वल्लभभाई की माता लाड़बाई अपने पति के समान एक धर्मपरायण महिला थी। वल्लभभाई पाँच भाई व एक बहन थे। भाइयों के नाम क्रमशः सोभाभाई, नरसिंहभाई, विट्ठलभाई, वल्लभभाई और काशीभाई थे। बहन डाबीहा सबसे छोटी थी। इनमें विट्ठलभाई तथा वल्लभभाई ने राष्ट्रीय आन्दोलन में भाग लेकर इतिहास में महत्त्वपूर्ण स्थान ग्रहण किया। माता-पिता के गुण संयम, साहस, सहिष्णुता, देश-प्रेम का प्रभाव वल्लभभाई के चरित्र पर स्पष्ट था।[3]

[सम्पादन]वक़ालत

वकील के रूप में पटेल ने कमज़ोर मुक़दमे को सटीकता से प्रस्तुत करके और पुलिस के गवाहों तथा अग्रेज़ न्यायाधीशों को चुनौती देकर विशेष स्थान अर्जित किया। 1908 में पटेल की पत्नी की मृत्यु हो गई। उस समय उनके एक पुत्र और एक पुत्री थी। इसके बाद उन्होंने विधुर जीवन व्यतीत किया। वक़ालत के पेशे में तरक़्क़ी करने के लिए कृतसंकल्प पटेल ने मिड्ल टेंपल के अध्ययन करने के लिए अगस्त 1910 में लंदन की यात्रा की। वहाँ उन्होंने मनोयोग से अध्ययन किया और अंतिम परीक्षा में उच्च प्रतिष्ठा के साथ उत्तीर्ण हुए।

सरदार वल्लभ भाई पटेल

[सम्पादन]अग्रणी बैरिस्टर

फ़रवरी 1913 में भारत लौटकर वह अहमदाबाद में बस गए और तेज़ी से उन्नति करते हुए अहमदाबाद अधिवक्ता बार में अपराध क़ानून के अग्रणी बैरिस्टर बन गए। गम्भीर और शालीन पटेल अपने उच्चस्तरीय तौर-तरीक़ों और चुस्त, अंग्रेज़ी पहनावे के लिए जाने जाते थे। वह अहमदाबाद के फ़ैशनपरस्त गुजरात क्लब में ब्रिज के चैंपियन होने के कारण भी विख्यात थे। 1917 तक वह भारत की राजनीतिक गतिविधियों के प्रति उदासीन रहे।

[सम्पादन]सार्वभौमिक रूप

1917 में मोहनदास करमचन्द गांधी से प्रभावित होने के बाद पटेल ने पाया कि उनके जीवन की दिशा बदल गई है। पटेल गांधी के सत्याग्रह (अंहिसा की नीति) के साथ तब तक जुड़े रहे, जब तक वह अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ भारतीयों के संघर्ष में क़ारगर रहा। लेकिन उन्होंने कभी भी खुद को गांधी के नैतिक विश्वासों व आदर्शों के साथ नहीं जोड़ा और उनका मानना था कि उन्हें सार्वभौमिक रूप से लागू करने का गांधी का आग्रह, भारत के तत्कालीन राजनीतिक, आर्थिक व सामाजिक परिप्रेक्ष्य में अप्रासंगिक है। फिर भी गांधी के अनुसरण और समर्थन का संकल्प करने के बाद पटेल ने अपनी शैली और वेशभूषा में परिवर्तन कर लिया। उन्होंने गुजरात क्लब छोड़ दिया, भारतीय किसानों के समान सफ़ेद वस्त्र पहनने लगे और उन्होंने भारतीय खान-पान को अपना लिया।

[सम्पादन]भारतीय निगम आयुक्त के रूप में

1917 से 1924 तक पटेल ने अहमदनगर के पहले भारतीय निगम आयुक्त के रूप में सेवा प्रदान की और 1924 से 1928 तक वह इसके निर्वाचित नगरपालिका अध्यक्ष रहे। 1918 में पटेल ने अपनी पहली छाप छोड़ी, जब भारी वर्षा से फ़सल तबाह होने के बावज़ूद बम्बई सरकार द्वारा पूरा सालाना लगान वसूलने के फ़ैसले के विरुद्ध उन्होंने गुजरात के कैरा ज़िले में किसानों और काश्तकारों के जनांदोलन की रूपरेखा बनाई। 1928 में पटेल ने बढ़े हुए करों के ख़िलाफ़ बारदोली के भूमिपतियों के संघर्ष का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया। बारदोली आन्दोलन के कुशल नेतृत्व के कारण उन्हें सरदार की उपाधि मिली और उसके बाद देश भर में राष्ट्रवादी नेता के रूप में उनकी पहचान बन गई। उन्हें व्यावहारिक, निर्णायक और यहाँ तक कि कठोर भी माना जाता था तथा अंग्रेज़ उन्हें एक ख़तरनाक शत्रु मानते थे।

[सम्पादन]राजनीतिक दर्शन

पटेल क्रान्तिकारी नहीं थे, 1928 से 1931 के बीच इंडियन नेशनल कांग्रेस के उद्देश्यों पर हो रही महत्त्वपूर्ण बहस में पटेल का विचार था (गांधी और मोतीलाल नेहरू के समान, लेकिन जवाहरलाल नेहरूऔर सुभाषचन्द्र बोस के विपरीत) कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का लक्ष्य स्वाधीनता नहीं, बल्कि ब्रिटिश राष्ट्रकुल के भीतर अधिराज्य का दर्जा प्राप्त करने का होना चाहिए। जवाहरलाल नेहरू के विपरीत, जो स्वतंत्रता के लिए संघर्ष में हिंसा की अनदेखी करने के पक्ष में थे, पटेल नैतिक नहीं, व्यावहारिक आधार पर सशस्त्र आन्दोलन को नकारते थे। पटेल का मानना था कि यह विफल रहेगा और इसका ज़बरदस्त दमन होगा। गांधी की भाँति पटेल भी भविष्य में ब्रिटिश राष्ट्रकुल में स्वतंत्र भारत की भागीदारी में लाभ देखते थे। बशर्ते भारत को एक बराबरी के सदस्य के रूप में शामिल किया जाए। वह भारत में आत्मनिर्भरता और आत्मविश्वास क़ायम करने पर ज़ोर देते थे, लेकिन गांधी के विपरीत, वह हिन्दू-मुस्लिम एकता को स्वतंत्रता की पूर्व शर्त नहीं मानते थे।

[सम्पादन]सामाजिक बदलाव

बलपूर्वक आर्थिक और सामाजिक बदलाव लाने की आवश्यकता के बारे में पटेल जवाहरलाल नेहरू से असहमत थे। पारम्परिक हिन्दू मूल्यों से उपजे रूढ़िवादी पटेल ने भारत की सामाजिक और आर्थिक संरचना में समाजवादी विचारों को अपनाने की उपयोगिता का उपहास किया। वह मुक्त उद्यम में यक़ीन रखते थे। इस प्रकार, उन्हें रूढ़िवादी तत्वों का विश्वास प्राप्त हुआ तथा उनसे प्राप्त धन से ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की गतिविधियाँ संचालित होती रहीं।

[सम्पादन]जेल

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के 1929 के लाहौर अधिवेशन में पटेल, गांधी के बाद अध्यक्ष पद के दूसरे उम्मीदवार थे। गांधी ने स्वाधीनता के प्रस्ताव को स्वीकृत होने से रोकने के प्रयास में अध्यक्ष पद की दावेदारी छोड़ दी और पटेल पर भी नाम वापस लेने के लिए दबाव डाला। इसका प्रमुख कारण मुसलमानों के प्रति पटेल की हठधर्मिता थी। अंतत: जवाहरलाल नेहरू अध्यक्ष बने। 1930 में नमक सत्याग्रहके दौरान पटेल को तीन महीने की जेल हुई। मार्च 1931 में पटेल ने इंडियन नेशनल कांग्रेस के करांची अधिवेशन की अध्यक्षता की। जनवरी 1932 में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया। जुलाई 1934 में वह रिहा हुए और 1937 के चुनावों में उन्होंने कांग्रेस पार्टी के संगठन को व्यवस्थित किया। 1937-38 में वह कांग्रेस के अध्यक्ष पद के प्रमुख दावेदार थे। एक बार फिर गांधी के दबाव में पटेल को अपना नाम वापस लेना पड़ा और जवाहर लाल नेहरू निर्वाचित हुए। अक्टूबर 1940 में कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ पटेल भी गिरफ़्तार हुए और अगस्त 1941 में रिहा हुए। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, जब जापानी हमले की आशंका हुई, तो पटेल ने गांधी की अहिंसा की नीति को अव्यावहारिक बताकर ख़ारिज कर दिया। सत्ता के हस्तान्तरण के मुद्दे पर भी पटेल का गांधी से इस बात पर मतभेद था कि उपमहाद्वीप का हिन्दू भारत तथा मुस्लिम पाकिस्तान के रूप में विभाजन अपरिहार्य है। पटेल ने ज़ोर दिया कि पाकिस्तान दे देना भारत के हित में है।

[सम्पादन]गृह मंत्री कार्यकाल

19451946 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए पटेल एक प्रमुख उम्मीदवार थे। लेकिन गांधी ने एक बार फिर हस्तक्षेप करके नेहरू को अध्यक्ष बनवा दिया। कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में नेहरू को ब्रिटिश वाइसरॉय ने अंतरिम सरकार के गठन के लिए आमंत्रित किया। इस प्रकार, यदि घटनाक्रम सामान्य रहता, तो पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री होते। स्वतंत्र भारत के पहले तीन वर्ष पटेल उप-प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, सूचना मंत्री और राज्य मंत्री रहे। इस सबसे भी बढ़कर उनकी ख्याति भारत के रजवाड़ों को शान्तिपूर्ण तरीक़े से भारतीय संघ में शामिल करने तथा भारत के राजनीतिक एकीकरण के कारण है।

[सम्पादन]एकीकरण में पटेल की भूमिका

5 जुलाई 1947 को सरदार पटेल ने रियासतों के प्रति नीति को स्पष्ट करते हुए कहा कि ‘रियासतों को तीन विषयों – सुरक्षा, विदेश तथा संचार व्यवस्था के आधार पर भारतीय संघ में शामिल किया जाएगा।’ धीरे धीरे बहुत सी देसी रियासतों के शासक भोपाल के नवाब से अलग हो गये और इस तरह नवस्थापित रियासती विभाग की योजना को सफलता मिली। भारत के तत्कालीन गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भारतीय संघ में उन रियासतों का विलय किया था जो स्वयं में संप्रभुता प्राप्त थीं। उनका अलग झंडा और अलग शासक था। सरदार पटेल ने आज़ादी के ठीक पूर्व (संक्रमण काल में) ही पी.वी. मेनन के साथ मिलकर कई देसी राज्यों को भारत में मिलाने के लिये कार्य आरम्भ कर दिया था। पटेल और मेनन ने देसी राजाओं को बहुत समझाया कि उन्हें स्वायत्तता देना सम्भव नहीं होगा। इसके परिणामस्वरूप तीन को छोडकर शेष सभी राजवाडों ने स्वेच्छा से भारत में विलय का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। 15 अगस्त 1947 तक हैदराबादकश्मीर और जूनागढ़ को छोड़कर शेष भारतीय रियासतें ‘भारत संघ’ में सम्मिलित हो गयीं। जूनागढ़ के नवाब के विरुद्ध जब बहुत विरोध हुआ तो वह भागकर पाकिस्तान चला गया और जूनागढ भी भारत में मिल गया। जब हैदराबाद के निजाम ने भारत में विलय का प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया तो सरदार पटेल ने वहाँ सेना भेजकर निजाम का आत्मसमर्पण करा लिया।

[सम्पादन]सरदार पटेल का योगदान

भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन को वैचारिक एवं क्रियात्मक रूप में एक नई दिशा देने के कारण सरदार पटेल ने राजनीतिक इतिहास में एक गौरवपूर्ण स्थान प्राप्त किया। वास्तव में वे आधुनिक भारत के शिल्पी थे। उनके कठोर व्यक्तित्व में विस्मार्क[4] जैसी संगठन कुशलता, कौटिल्य जैसी राजनीति सत्ता तथा राष्ट्रीय एकता के प्रति अब्राहम लिंकन जैसी अटूट निष्ठा थी। जिस अदम्य उत्साह असीम शक्ति से उन्होंने नवजात गणराज्य की प्रारम्भिक कठिनाइयों का समाधान किया, उसके कारण विश्व के राजनीतिक मानचित्र में उन्होंने अमिट स्थान बना लिया। भारत के राजनीतिक इतिहास में सरदार पटेल के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। सरदार पटेल के ऐतिहासिक कार्यों और किये गये राजनीतिक योगदान निम्नवत हैं-

  • देशी राज्यों के एकीकरण की समस्या को पटेल ने बिना खून-खराबे के बड़ी खूबी से हल किया, देशी राज्यों में राजकोटजूनागढ़, वहालपुर, बड़ौदाकश्मीर, हैदराबाद को भारतीय महासंघ में सम्मिलित करना में सरदार को कई पेचीदगियों का सामना करना पड़ा। जब चीन के प्रधानमंत्री चाऊ एन लाई ने नेहरू को पत्र लिखा कि वे तिब्बत को चीन का अंग मान लें तो पटेल ने नेहरू से आग्रह किया कि वे तिब्बत पर चीन का प्रभुत्व क़तई न स्वीकारें अन्यथा चीन भारत के लिए खतरनाक सिद्ध होगा। नेहरू नहीं माने बस इसी भूल के कारण हमें चीन से पिटना पड़ा और चीन ने हमारी सीमा की 40 हजार वर्ग गज भूमि पर कब्जा कर लिया।
  • सरदार पटेल के ऐतिहासिक कार्यों में सोमनाथ मंदिर का पुनर्निमाण, गांधी स्मारक निधि की स्थापना, कमला नेहरू अस्पताल की रूपरेखा आदि कार्य सदैव स्मरण किए जाते रहेंगे। उनके मन मेंगोआ को भी भारत में विलय करने की इच्छा कितनी बलवती थी, इसका उद्धहरण ही काफ़ी है।[5] जब एक बार वे भारतीय युद्धपोत द्वारा बंबई से बाहर यात्रा पर था तो गोआ के निकट पहुंचने पर उन्होंने कमांडिंग अफसरों से पूछा इस युद्धपोत पर तुम्हारे कितने सैनिक हैं जब कप्तान ने उनकी संख्या बताई, तो पटेल ने फिर पूछा क्या वह गोआ पर अधिकार करने के लिए पर्याप्त है। सकारात्मक उत्तर मिलने पर पटेल बोले- अच्छा चलो जब तक हम यहां हैं गोआ पर अधिकार कर लो। किंकर्तव्यविमूढ़ कप्तान ने उनसे लिखित आदेश देने की विनती की तब तक पटेल चौंके फिर कुछ सोचकर बोले-ठीक है चलो हमें वापस लौटना होगा।[5]
  • लक्षद्वीप समूह को भारत के साथ मिलाने में भी पटेल की महत्त्वपूर्ण भूमिका थी। इस क्षेत्र के लोग देश की मुख्यधारा से कटे हुए थे और उन्हें भारत की आजादी की जानकारी 15 अगस्त 1947 के बाद मिली। हालांकि यह क्षेत्र पाकिस्तान के नजदीक नहीं था लेकिन पटेल को लगता था कि इस पर पाकिस्तान दावा कर सकता है। इसलिए ऐसी किसी भी स्थिति को टालने के लिए पटेल ने लक्षद्वीप में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए भारतीय नौसेना का एक जहाज भेजा। इसके कुछ घंटे बाद ही पाकिस्तानी नौसेना के जहाज लक्षद्वीप के पास मंडराते देखे गए लेकिन वहां भारत का झंडा लहराते देख वे वापस कराची चले गए।[5]

[सम्पादन]सरदार पटेल, जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गाँधी

महात्मा गाँधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल औरजवाहरलाल नेहरू

सरदार पटेल भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में वह कई बार जेल के अंदर बाहर हुए, हालांकि जिस चीज के लिए इतिहासकार हमेशा सरदार वल्लभ भाई पटेल के बारे में जानने के लिए इच्छुक रहते हैं वह थी उनकी और जवाहरलाल नेहरू की प्रतिस्पर्द्धा। सब जानते हैं 1929 के लाहौर अधिवेशन में सरदार पटेल ही गांधी जी के बाद दूसरे सबसे प्रबल दावेदार थे पर मुसलमानों के प्रति पटेल की हठधर्मिता की वजह से गांधीजी ने उनसे उनका नाम वापस दिलवा दिया। 19451946 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए भी पटेल एक प्रमुख उम्मीदवार थे। लेकिन गांधीजी के नेहरू प्रेम ने उन्हें अध्यक्ष नहीं बनने दिया। कई इतिहासकार यहां तक मानते हैं कि यदि सरदार पटेल को प्रधानमंत्री बनने दिया गया होता तो चीन औरपाकिस्तान के युद्ध में भारत को पूर्ण विजय मिलती परंतु गांधी के जगजाहिर नेहरू प्रेम ने उन्हें प्रधानमंत्री बनने से रोक दिया।[6]

गाँधीजी से रिश्ता

महात्मा गाँधी के प्रति सरदार पटेल की अटूट श्रद्धा थी। गाँधीजी की हत्या से कुछ क्षण पहले निजी रूप से गाँधीजी से बात करने वाले पटेल अंतिम व्यक्ति थे। उन्होंने सुरक्षा में चूक को गृह मंत्री होने के नाते अपनी ग़लती माना। उनकी हत्या के सदमे से वे उबर नहीं पाये। गाँधीजी की मृत्यु के दो महीने के भीतर ही पटेल को दिल का दौरा पड़ा था।

नेहरूजी से संबंध

जवाहरलाल नेहरू कश्मीरी ब्राह्मण थे, जबकि सरदार पटेल गुजरात के कृषक समुदाय से ताल्लुक रखते थे। दोनों ही गाँधीजी के निकट थे। नेहरू समाजवादी विचारों से प्रेरित थे। पटेल बिजनेस के प्रति नरम रुख रखने वाले खांटी हिंदू थे। नेहरू से उनके सम्बंध मधुर थे, लेकिन कई मसलों पर दोनों के मध्य मतभेद भी थे। कश्मीर के मसले पर दोनों के विचार भिन्न थे। कश्मीर मसले पर संयुक्त राष्ट्र को मध्यस्थ बनाने के सवाल पर पटेल ने नेहरू का कड़ा विरोध किया था। कश्मीर समस्या को सरदर्द मानते हुए वे भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय आधार पर मामले को निपटाना चाहते थे। इस मसले पर विदेशी हस्तक्षेप के ख़िलाफ़ थे।

[सम्पादन]संघ से नाता

गाँधीजी की हत्या में हिंदू चरमपंथियों का नाम आने पर सरदार पटेल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को प्रतिबंधित कर दिया और सरसंघचालक एमएस गोलवरकर को जेल में डाल दिया गया। रिहा होने के बाद गोलवरकर ने उनको पत्र लिखे। 11 सितम्बर1948 को पटेल ने जवाब देते हुए संघ के प्रति अपना नजरिया स्पष्ट करते हुए लिखा कि संघ के भाषण में जहर होता है… उसी विष का नतीजा है कि देश को गाँधीजी के अमूल्य जीवन का बलिदान सहना पड़ रहा है।

[सम्पादन]लौह पुरुष

सरदार पटेल को भारत का ‘लौह पुरुष’ कहा जाता है। गृहमंत्री बनने के बाद भारतीय रियासतों के विलय की ज़िम्मेदारी उनको ही सौंपी गई। उन्होंने अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए छह सौ छोटी बड़ी रियासतों का भारत में विलय कराया। देशी रियासतों का विलय स्वतंत्र भारत की पहली उपलब्धि थी और निर्विवाद रूप से पटेल का इसमें विशेष योगदान था। नीतिगत दृढ़ता के लिए ‘राष्ट्रपिता’ ने उन्हें सरदार और ‘लौह पुरुष’ की उपाधि दी। बिस्मार्क ने जिस तरह जर्मनी के एकीकरण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई उसी तरह वल्लभ भाई पटेल ने भी आजाद भारत को एक विशाल राष्ट्र बनाने में उल्लेखनीय योगदान दिया। बिस्मार्क को जहां जर्मनी का ‘आयरन चांसलर’ कहा जाता है वहीं पटेल भारत के लौह पुरुष कहलाते हैं।[6]

[सम्पादन]सम्मान और पुरस्कार

  • सन 1991 में मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित
  • अहमदाबाद के हवाई अड्डे का नामकरण सरदार वल्लभभाई पटेल अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डा रखा गया है।
  • गुजरात के वल्लभ विद्यानगर में सरदार पटेल विश्वविद्यालय है।

[सम्पादन]निधन

सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसंबर1950 को मुंबई महाराष्ट्र में हुआ था।

http://hi.bharatdiscovery.org/india/%E0%A4%B8%E0%A4%B0%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%B0_%E0%A4%AA%E0%A4%9F%E0%A5%87%E0%A4%B2